क्या होती है बेबी ड्रॉपिंग? प्रेग्नेंसी के दौरान कब होता है इसका अहसास?

Medically reviewed by | By

Update Date नवम्बर 29, 2019 . 3 मिनट में पढ़ें
Share now

बेबी ड्रॉपिंग को लाइटनिंग भी कहा जाता है। यह लेबर का संकेत होता है। शिशु का सिर खिसकर नीचे पेल्विस में आ जाता है। ऐसा होने पर यह प्यूबिक बोन्स से इंगेज हो जाता है। डिलिवरी से कुछ हफ्तों पहले बेबी ड्रॉपिंग शुरू हो जाती है। लेकिन, कुछ मामलों में यह डिलिवरी के कुछ घंटों पहले ही होती है। बेबी के सिर का प्यूबिक बोन्स से इंगेज होने पर महिला को डाइफ्राम में राहत मिलती है और उसे रिबकेज में हल्कापन महसूस होता है। हालांकि कुछ दुर्लभ मामलों में महिलाओं को बेबी ड्रॉपिंग का अहसास नहीं होता है।

ये भी पढ़ें- शिशु के सिर से क्रैडल कैप निकालने का सही तरीका

स्टेशन्स में बंटी होती है बेबी ड्रॉपिंग

गर्भाशय में शिशु की पुजिशन को -3 से लेकर +3 तक स्टेशन्स में बांटा गया है। -3 सबसे ऊंचा स्टेशन है, जब शिशु हिप्स के सबसे ऊपर रहता है। इस अवधि के दौरान वह पेल्विक में नहीं आता है। उसका सिर पेल्विक के ऊपर होता है। +3 स्टेशन में शिशु सीधे बर्थ कैनाल में होता है।

इस दौरान शिशु का सिर दिखने लगता है। वहीं, 0 स्टेशन यह संकेत देता है कि शिशु का सिर पेल्विक के नीचे आ गया है। इस शिशु का दबाव प्यूबिक बोन्स पर पड़ता है। महिलाएं इस स्थिति को आसानी से महसूस कर सकती हैं। जैसे-जैसे लेबर में प्रोग्रेस बढ़ती है शिशु इन स्टेशन्स में नीचे की तरफ आता है। जुड़वा बच्चों के मामले में वे जल्दी नीचे आ जाते हैं।

ये भी पढ़ें- वर्किंग मदर्स की परेशानियां होंगी कम अपनाएं ये Tips

कब होती है बेबी ड्रॉपिंग?

प्रेग्नेंसी के 34वें और 36वें हफ्ते में बेबी ड्रॉपिंग होती है। जैसा कि पहले ही बता दिया गया है कि कुछ मामलों में यह लेबर पेन उठने के वक्त ही होती है। हालांकि, पहली प्रेग्नेंसी के मामले में बेबी ड्रॉपिंग सामान्य होती है। बेबी ड्रॉपिंग का अहसास होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, जिससे शिशु की सही पुजिशन का पता चल सके।

बेबी ड्रॉपिंग के संकेत

सांस लेने में आसानी

शिशु के पेल्विक में आने से महिलाओं के डाइफ्राम और रिबकेज पर दबाव कम हो जाता है। इस स्थिति में उन्हें सांस लेने में आसानी होती है। शिशु के पेल्विक के ऊपर रहने की स्थिति में रिबकेज पर भारी दबाव रहता है, जिससे महिलाओं को अक्सर सांस लेने में दिक्कत होती है।

पेल्विक पर प्रेशर बढ़ना

बेबी की ड्रॉपिंग पेल्विक में होने से प्यूबिक बोन्स और पेल्विक पर दबाव बढ़ जाता है। अक्सर महिलाओं को बाउल मूवमेंट की फीलिंग आती है। ऐसा होने पर महिलाएं अक्सर पैरों को फैलाकर चलती हैं। जिसे पेंग्विन वॉल्क भी कहा जाता है।

डिस्चार्ज का बढ़ना

शिशु के नीचे आने पर उसके सिर का दबाव गर्भाशय ग्रीवा पर पड़ने लगता है। इससे गर्भाशय ग्रीवा पतली और खुलने लगती है। यहीं से लेबर की शुरुआत होती है। म्यूकस प्लग गर्भाशय ग्रीवा को खुलने से रोकता है। इस स्थिति में यह म्यूकस प्लग अलग हो जाता है और गर्भाशय ग्रीवा खुलने के लिए पतली होने लगती है। ऐसा होने पर प्रेग्नेंसी के आखिरी हफ्ते में डिस्चार्ज की मात्रा बढ़ जाती है। यह दिखने में म्यूकस के समान ही होता है।

पेट का लटकना

शिशु जब पेल्विक के ऊपर रहता है तो पेट उठा हुआ नजर आता है। बेबी ड्रॉपिंग होने पर बच्चा गर्भाशय के निचले हिस्से में आ जाता है। ऐसे में महिलाओं का पेट नीचे की तरफ लटकता हुआ नजर आता है। पेट के आकार में हुए इस परिवर्तन को बाहर से आसानी से देखा जा सकता है।

बार-बार यूरिन पास करना

बेबी ड्रॉपिंग होने पर शिशु का सिर प्यूबिक बोन्स से इंगेज हो जाता है। ऐसा होने पर शिशु का दबाव ब्लैडर पर बढ़ जाता है, जिससे महिला को बार-बार यूरिन के लिए जाना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें- Urine Test : यूरिन टेस्ट क्या है?

बता दें कि बेबी ड्रॉपिंग से परेशान होने की जरूर नहीं है। इससे यह पता चलता है कि कि बेबी बाहरी दुनिया में आने के लिए तैयार हो रहा है। ज्यादातर मामलों में यह सामान्य बात है। अगर गर्भवती महिला इस दौरान सहज नहीं है और उसे दूसरी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

ये भी पढ़ें-प्रेग्नेंसी के दौरान योग और व्यायाम किस हद तक है सही, जानें यहां

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    35 साल की उम्र के बाद बढ़ सकती है केमिकल प्रेग्नेंसी की समस्या!

    जानिए केमिकल प्रेग्नेंसी क्या है in hindi. केमिकल प्रेग्नेंसी किन कारणों से हो सकता है? chemical pregnancy से कैसे बचें?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 4, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

    प्रेग्नेंसी और आर्थिक स्थिति का गहरा रिश्ता है, प्रेग्नेंसी और आर्थिक स्थिति कैसे है जुड़े हुए, प्रेग्नेंसी के लिए पहले से क्या तैयारी करना है जरूरी,जानें

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी नवम्बर 17, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    बाइकॉर्नुएट यूट्रस प्रेग्नेंसी क्या होती है?

    बाइकॉर्नुएट यूट्रस प्रेग्नेंसी क्या है, बाइकॉर्नुएट यूट्रस प्रेग्नेंसी की परेशानी क्यों होती है, जानें इसके लक्षण, इस तरह की प्रेग्नेंसी के इलाज, पढ़ें

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अक्टूबर 31, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    डिलिवरी के लक्षण जो बताते हैं कि शिशु का जन्म करीब है

    डिलिवरी के लक्षण in hindi. डिलिवरी के लक्षण की सही जानकारी आपकी डिलिवरी को आसान बना सकती है। इन लक्षणों को पहचानकर आप शिशु के जन्म के लिए अपने आपको तैयार कर सकती हैं। जानिए क्या हैं वे लक्षण

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Sunil Kumar
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अगस्त 23, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन

    प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के कारण और इसको दूर करने के 5 घरेलू उपचार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nikhil Kumar
    Published on जनवरी 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    प्रेग्नेंसी का डर

    प्रेग्नेंसी का डर यानी टोकोफोबिया क्या है और कैसे पाएं इससे छुटकारा?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on जनवरी 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    प्रेग्नेंसी में इयर इंफेक्शन

    प्रेग्नेंसी में इयर इंफेक्शन का कारण और इससे राहत दिलाने वाले घरेलू उपाय

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on जनवरी 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    फ्रीक्वेंट यूरिनेशन

    प्रेग्नेंसी में फ्रीक्वेंट यूरिनेशन क्यों होता है?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    Published on दिसम्बर 30, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें