home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने से पहले जान लें कि इसके साइड इफेक्ट्स को कैसे डील करें...

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने से पहले जान लें कि इसके साइड इफेक्ट्स को कैसे डील करें...

अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए बर्थ कंट्रोल पिल्स के इस्तेमाल के बारे में सभी को पता है। बर्थ कंट्रोल पिल्स यानि कि गर्भ निरोधक गोलियां, जाेकि ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन हॉर्मोन्स के कॉम्बिनेशन से बनी होती हैं, जिससे प्रेग्नेंसी को रोका जा सकता है। ये ओव्यूलेशन की प्रक्रिया (Process of ovulation) को रोकता है, जिससे ओवरी से एग रिलीज (Egg release from ovary) नहीं हो पाते हैं और कंसीव करने की संभावना न के बराबर होती है। यह हॉर्मोन कॉम्बिनेशन पिल्स, शरीर के अंदर ऑव्यूलेशन प्रॉसेज को बंद कर देती है। तो आएइ हम जानते हैं कि ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव (Oral contraceptive) है क्या‌? और ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव (Oral contraceptive) पिल्स किस तरह से काम करती हैं।

और पढ़ें: हेल्थ इश्यू के साथ प्रेग्नेंसी को कैसे किया मैनेज, शेयर किया आंचल ने अपना अनुभव हमारे साथ

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव क्या है? (what is Oral contraceptive)

गर्भावस्था को रोकने के लिए ओरल कॉट्रासेप्टिव पिल्स का इस्तेमाल किया जाता है। ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन, दो महिला सेक्स हाॅर्मोन होते हैं। ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन के कॉम्बिनेशन से ओव्यूलेशन यानि कि एग रिलीज को रोका जा सकता है। यह ओरल कॉट्रासेप्टिव, पुरूष के स्पर्म के शुक्राणु को प्रवेश करने से रोकने के लिए गर्भाशय ग्रीवा को गाढ़ें कफ के रूप में बदल देती है। यह बर्थ कंट्रोल पिल्स (Birth Control Pills) अनवांटेड प्रेग्नेंसी से बचने का एक कारगर उपाय है। इसके अलावा जिन महिलाओं की पीरियड साइकिल बिगड़ रखी है या पीसीओडी की समस्या की वजह से पीरियड प्रॉब्लम हो रही है, तो उसमें सुधार के लिए भी कई बार डॉक्टर मेडिकेशन के रूप में भी ओरल कॉट्रासेप्टिव पिल्स की सलाह देते हैं। लेकिन इन स्थितियों के लिए यह हमेशान डॉक्टर की सलाह पर ही लें।

और पढ़ें: टॉप 9 वजायनल टाइटनिंग पिल्स और क्रीम की है पूरी जानकारी, लेकिन इस्तेमाल से पहले डॉक्टर से कंसल्टेशन है जरूरी!

क्या ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेना सुरक्षित है? (Is it safe to take oral contraceptive pills)

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (oral contraceptive pills) एक हॉर्मोन होता है ,जो पहले से ही एक महिला के शरीर में होता है। ये आमतौर पर सुरक्षित माना जाता है ,लेकिन फिर भी इसका इस्तेमाल डॉक्टर के सलाह पर ही किया जाना चाहिए। हालांकि अगर आपको ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स प्रस्क्राइब किया गया है, तो उसे डॉक्टर द्वारा बताए गए दिन से ही शुरू करें। कई बार पीसीओडी के इलाज के लिए भी गर्भनिरोधक गालियां डॉक्टर दे सकते हैं। इसमें मौजूद ईस्ट्रोजन हॉर्मोन पीसीओडी की समस्या (PCOD Problem) को कंट्रोल करने में मदद करते हैं।

और पढ़ें:बर्थ कंट्रोल पिल्स से हेयर लॉस का खतरा भी बढ़ सकता है,अपनाएं पहले से ही ये उपाय!

इस दवा का क्या दुष्प्रभाव हो सकता है? (What side effects can this medication cause?)

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के कई दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। अपने चिकित्सक को बताएं, यदि इनमें से कोई भी लक्षण आपमें भी नजर आ रहे हैं :

  • जी मिचलाना (Getting nausea)
  • उल्टी होना (vomiting)
  • पेट में ऐंठन या सूजन (Stomach cramps)
  • दस्त होना (Diarrhea)
  • कब्ज की समस्या (Constipation problem)
  • मसूड़ों में सूजन (swelling in gums)
  • भूख में वृद्धि या कमी (Increase or decrease in appetite)
  • वजन तेजी से बढ़ना या घटना (Weight Problem)
  • त्चचा में ब्लैक स्पॉट्स (Black Spots)
  • मुंहासे की समस्या होना (Acne Problem)
  • मासिक धर्म के बीच रक्तस्राव या स्पॉटिंग (Periods Problem)
  • मासिक धर्म प्रवाह में परिवर्तन (Periods Changes)
  • पीरियड्स का मिस्ड होना (Missed Period)
  • योनि में सूजन होना या लालिमा होना (Swelling)
  • यौनि में जलन या खुजली (Itching)
  • व्हाइट डिस्चार्ज होना (White Discharge)

और पढ़ें: हेल्थ इश्यू के साथ प्रेग्नेंसी को कैसे किया मैनेज, शेयर किया आंचल ने अपना अनुभव हमारे साथ

कुछ दुष्प्रभाव गंभीर हो सकते हैं। निम्नलिखित लक्षण असामान्य हैं, लेकिन यदि आप उनमें से किसी का अनुभव करते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को बुलाएं:

  • तेज सिर दर्द होना
  • उल्टी होना
  • चक्कर आना या बेहोशी
  • हाथ या पैर की कमजोरी या सुन्नता
  • सीने में दर्द या सीने में भारीपन महसूस होना
  • खूनी खांसी आना
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • पैरों में दर्द की समस्या
  • तेज पेट दर्द
  • आंखों का पीला पड़ना
  • भूख में कमी
  • अत्यधिक थकान, कमजोरी
  • बुखार

और पढ़ें:टॉप 9 वजायनल टाइटनिंग पिल्स और क्रीम की है पूरी जानकारी, लेकिन इस्तेमाल से पहले डॉक्टर से कंसल्टेशन है जरूरी!

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने वाली महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है कि उन्हें इसकी डोज निर्धारित साइकिल के दौरान एक भी दिन मिस नहीं करनी है। हर दिन लगभग एक ही समय पर, इसकी एक टैबलेट लेनी होती है। यह भी माना गया है कि 35 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को कॉम्बिनेशन ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव नहीं दिया जाना चाहिए। खासतौर पर उन्हें, जो धूम्रपान भी करती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन महिलाओं में रक्त के थक्कों का खतरा अधिक बढ़ जाता है। इसके अलावा जिन महिलाओं को हाय ब्लड प्रेशर, हृदय रोग, लिवर या माइग्रेन की समस्या (Migraine problem)होती है, उनमें रक्त के थक्कों का रिस्क बढ़ जाता है। जिनकी हाय कोलेस्ट्रॉल (High cholesterol), ब्लड कॉटिंग (Blood Clotting), स्ट्रोक या स्तन कैंसर (Breast Cancer) की हिस्ट्री रह चुकी हो, उनमें भी इसका खतरा ज्यादा रहता है।

और पढ़ें: ओरल मेलिग्नेंट मेलेनोमा (Oral Malignant Melanoma) : कैंसर के इस प्रकार के बारे में जानते हैं आप?

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के काॅमन साइड इफेक्ट्स (Common Side Effects of Oral Contraceptive Pills)

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के कुछ ऐसे साइडइफेक्ट्स भी होते हैं, जो कॉमन लक्षण होने के साथ महिलाओं में देखे जा सकते हैं। कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के साइड इफेक्ट के अलावा यह और भी कई कारणों से देखने को मिल सकते हैं। ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के काॅमन साइड इफेक्ट्स में शामिल हैं:

​सिरदर्द (Headache)

ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के साइड इफेक्ट में सिर दर्द की समस्या भी शामिल है। कई महिलाओं को बहुत ज्यादा सिर दर्द की समस्या (Headache) बनी रहती है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि गोलियों में मौजूद हॉर्मोन्स सिरदर्द का कारण बन सकता है। कुछ महिलाओं के शुरूआत के कुछ दिन चक्कर जैसे लक्षण देखने को मिल सकते हैं। लेकिन साथ में यह भी ध्यान रखना चाहिए कि सिर दर्द केवल ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने के कारण नहीं होता है। इसके और भी कई कारण हो सकते हैं।

और पढ़ें:जब सिर दर्द, सर्दी, बुखार कह सकते हैं, तो पीरियड्स को पीरियड्स क्यों नहीं?

​मेन्स्ट्रुअल स्पॉटिंग (Menstrual spotting)

मेन्स्ट्रुअल स्पॉटिंग की समस्या पिल्स लेने के दौरान हो सकती है। यानि कि जब कोई महिला ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का सेवन शुरू करती हैं, तो उन्हें 2 पीरियड्स साइकल के बीच वजाइनल स्पॉटिंग या हल्की ब्लीडिंग (Bleeding) हो सकती है। हालांकि गोली लेने के 3 महीने तक ऐसा होने की संभावना हो सकती है। बाद में धीरे-धीरे यह समस्या ठीक हो जाती है।

और पढ़ें: ओरल और ओरोफैरिंजीयल कैंसर में टारगेटेड ड्रग थेरेपी : कितनी कारगर, कितनी नहीं?

जी मिचलाना (Getting nausea)

कुछ महिलाओं में गर्भनिरोधक गोलियां लेने के दौरान जी मिचलाना जैसी समस्या भी हो सकती हैं। । हालांकि यह लक्षण भी कुछ समय बाद धीरे-धीरे ठीक हो जाता है। लेकिन इसे खाली पेट लेने की गलती न करें। राेजाना एक निर्धारित समय पर नाश्ते या खाने के बाद लें। आप इसे रोजाना रात के खाने के बाद ले सकती हैं। यह लक्षण शुरूआत के 3 महीने तक नजर आ सकते हैं। यदि यह दिक्कत तीन महिने के बाद लंबे समय तक बनी रहे, तो डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें:एंटी-स्लीपिंग पिल्स : सर्दी-जुकाम की दवा ने आपकी नींद तो नहीं उड़ा दी?

​पीरियड्स मिस हो जाना (Period Problem)

नियमित रूप से गोली का सेवन करने के बावजूद कई बार ऐसा होता है कि महिलाओं का रेग्यूलर पीरिडय (Regular Period) नहीं होता है। जिस वजह से उनकी पीरियड प्रॉब्लम शुरू हो जाती है। इसका कारण स्ट्रेस, कोई क्रॉनिक डिजीज और हॉर्मोनल प्रॉब्लम आदि हो सकती है। हालांकि अगर दवा लेने के बाद भी पीरियड्स मिस हो जाएं तो एक बार प्रेग्नेंसी टेस्ट भी करवा लेना चाहिए। क्योंकि कई बार इसका कारण प्रेग्नेंसी भी हो सकती है।
और पढ़ें: ओरल और ओरोफैरिंजीयल कैंसर में टारगेटेड ड्रग थेरेपी : कितनी कारगर, कितनी नहीं?

​सेक्स की इच्छा में कमी (Decreased desire for sex)

कुछ महिलाओं में बर्थ कंट्रोल पिल्स के सेवन के साथ शरीर में कई हॉर्मोनल बदलाव देखने को मिलते हैं, जो सेक्स की इच्छा में कमी का कारण भी हो सकता है। हॉर्मोन्स में उतार-चढ़ाव की वजह से बहुत सी महिलाओं में सेक्स ड्राइव या लिबिडो में कमी देखने को मिलती है। अगर ये लक्षण भी लंबे समय तक जारी रहे और सेक्स की इच्छा में कमी आपको परेशान कर रही है, तो एक बार डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

इसके अलावा अन्य कई लक्षण भी नजर आ सकते हैं। ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का सेवन प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए किया जाता है। प्रेग्नेंट महिलाएं इसका सेवन न करें और सामान्य महिलाएं इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करें। इसके भी शुरू करने की साइकिल होती है। यदि इसके कोई गंभीर साइफ इफेक्ट आ रहे हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Oral Contraceptives: https://medlineplus.gov/druginfo/meds/a601050.html Accessed 15 September, 2021

Oral Contraceptives: https://nhm.gov.in/images/pdf/programmes/family-planing/guidelines/Reference_Manual_Oral_Pills.pdf Accessed 15 September, 2021

Oral Contraceptives: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK441576/ Accessed 15 September, 2021

Oral Contraceptives: https://www.kff.org/womens-health-policy/fact-sheet/oral-contraceptive-pills/ Accessed 15 September, 2021

Oral Contraceptives : https://medlineplus.gov/birthcontrol.htm Accessed 15 September, 2021

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/09/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड