home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानिए कितने तरह के होते हैं सेक्शुअल बिहेवियर?

जानिए कितने तरह के होते हैं सेक्शुअल बिहेवियर?

नकारात्मकता की भावना वह है जो हम भारतीयों में हम तब पाते हैं जब हम सेक्स के बारे में बात करते हैं या चर्चा करते हैं। वहीं बहुत से लोगों को प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स को लेकर कई तरह के सवाल होते हैं। यह कहा जाता है कि हम भारतीय ‘लज्जा’ में विश्वास करते हैं, इसलिए इस पर चर्चा करना एक निषेध माना जाता है। आज के समय में भी सेक्स बारे में बात करना लोगों असहज कर देता है। लेकिन, प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स को समझना बेहद जरूरी है।

ज्यादातर लोग अगर सेक्स के बारे में बात करते हैं, तो यह केवल अपने साथी के साथ अंतरंग होकर यौन सुख का आनंद लेने के बारे में है। विभिन्न प्रकार के यौन झुकावों के लिए, सेक्स का मतलब अलग है। तो आइए आज जानते हैं सेक्शुअल बिहेवियर कितने प्रकार के होते हैं।

और पढ़ें : Amitriptyline : एमिट्रिप्टीलिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

सेक्स क्या है?

सेक्स का मतलब विभिन्न लोगों के लिए अलग-अलग हो सकता है। सेक्स आपके विश्वास, आपकी कामुकता और यहां तक कि आपके गुप्तांगो पर भी प्रभाव डालता हैं। एक यौन क्रिया में वजाईनल सेक्स के अलावा कई चीजें शामिल होती हैं। सेक्स को मुख्यतः दो प्रकार में बाटा जाता है, प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स ।

जानिए प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर: प्राकृतिक सेक्स (Natural Sex)

जिस यौन क्रिया से प्रजनन संभव है उस क्रिया को प्राकृतिक सेक्स कहते हैं। प्राकृतिक सेक्स में वह सब कुछ शामिल है जो करने में नेचुरल लगता है, जैसे कि गले लगाना, चुंबन, किसी भी स्पर्श जो आपकी यौन उत्तेजना को बढ़ा दे, ओरल सेक्स, इत्यादि। प्राकृतिक सेक्स के मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं :

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर: वजाईनल सेक्स

यह विषमलैंगिक, सीधा सेक्स है, जहां एक पीनस का वजाइना में पेनेट्रेशन होता है। यह सबसे आम प्रकार का सेक्स है। इस प्रकार के सेक्स से ही गर्भधारण और प्रजनन होताहै।

और पढ़ें : Amlodipine : एम्लोडीपिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर: ओरल सेक्स

ओरल सेक्स जिसे हिंदी में मौखिक संभोग कहा जाता है वह यौन क्रिया है जिसमें पार्टनर को एक्साइट करने के लिए उसके गुप्तांगो पर होंठ, जीभ या दांत का उपयोग किया जाता है।

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर: हस्तमैथुन

सेक्स के इस रूप में पेनेट्रेशन नहीं होता। इसमें आप अपने साथी के सामने हस्तमैथुन करते है या हस्तमैथुन करने में उनकी मदद करते है। यह यौन गतिविधि का सबसे सुरक्षित रूप है क्योंकि इसमें एसटीडी, गर्भावस्था या संक्रमण का जोखिम न के बराबर है।

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स में अंतर: अप्राकृतिक सेक्स (Unnatural Sex)

समलैंगिक यौन संबंध, जानवरों के साथ या सेक्स टॉयज का उपयोग से की जानेवाली की गयी यौन क्रिया को अप्राकृतिक सेक्स की श्रेणी में रखा जाता है। लोग इस विषय पर कोई बात नहीं करना चाहते, इसलिए यह अपराध को भी जन्म देता है। समलैंगिक संबंधों में एचआईवी के संक्रमण का खतरा सामान्य कपल्स की तुलना में 28 गुना ज्यादा होता है। एनल सेक्स भी अप्राकृतिक माना जाता है। इसकी वजह से हैपिटाइटिस और एचआईवी जैसे यौन रोग हो सकते हैं।

दरअसल, अप्राकृतिक सेक्स मनोवैज्ञानिक और शारीरिक दोनों रूप से आपको प्रभावित करता है और जब यह एक आदत बन जाती है तो और भी गंभीर समस्या बन सकती है। होमोफोबिस समलैंगिकता को ‘अप्राकृतिक’ के रूप में माना जाता है। कुछ विशेषज्ञ एनल और ओरल सेक्स को भी अप्राकृतिक मानते हैं।

प्राकृतिक और अप्राकृतिक सेक्स का निष्कर्ष:

कभी भी हम सेक्स के महत्व को कम नहीं मान सकते। यह तनाव को कम करने से लेकर इम्यून सिस्टम को बेहतर और रिश्तों को मज़बूत करता है। यदि आप अपनी सेक्शूअल प्रेफरेंस को लेकर कन्फूजन हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर या किसी यौन रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित
अपडेटेड 08/07/2019
x