छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स करने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके

    छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स करने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके

    अगर पुरुषों से उनकी सेक्स लाइफ से जुड़े सवालों या शंकाओं के बारे में बात की जाए, तो पीनस के साइज और पार्टनर के ऑर्गेज्म को लेकर सवाल जरूर सामने आएंगें। दरअसल, पुरुष अपने पीनस के साइज (लिंग के आकार) को लेकर काफी पजेसिव रहते हैं।

    वहीं, महिलाओं में भी इस बात पर कुछ हद तक यकीन किया जाता है कि छोटे लिंग यानी स्मॉल पीनस से सेक्स करने पर ऑर्गेज्म पर फर्क पड़ सकता है। लेकिन यहां सबसे बड़ी बात यह आती है कि आखिर किस साइज का पीनस छोटा होता है और किस साइज का सामान्य होता है। पीनस का साइज आपके जीन्स, क्षेत्र, खानपान और शारीरिक बनावट पर निर्भर करता है।

    सामान्य पीनस साइज की बात करें, तो 15,000 से अधिक लोगों पर हुई एक स्टडी के मुताबिक पता चलता है कि पीनस की औसतन लंबाई 3.6 इंच (9.1 सेमी) होती है जबकि इरेक्ट होने के बाद इसकी लंबाई 5.2 इंच (13.1 सेमी) होती है। वहीं, 9.1 सेंटीमीटर या 3.66 इंच से कम साइज की इरेक्टेड पीनस को माइक्रोपीनस की कैटेगरी में गिना जाता है।

    अब आते हैं इस सवाल पर कि क्या छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स नहीं किया जा सकता है या जिन पुरुषों का पीनस साइज छोटा है, उनकी सेक्शुअल लाइफ सेटिस्फायिंग नहीं होती है? जानते हैं ‘हैलो स्वास्थ्य’ के इस आर्टिकल में कि कैसे आप छोटे लिंग के साथ भी बेहतर सेक्स कर सकते हैं?

    और पढ़ें: सेक्स के बारे में सोचते रहना नहीं है कोई बीमारी, ऐसे कंट्रोल में रख सकते हैं अपनी फीलिंग्स

    महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को होती है पीनस साइज की चिंता?

    औसत लिंग के आकार पर सभी का अनुमान अलग-अलग है। बहुत से लोग मानते हैं कि एक सामान्य पीनस 6 इंच लंबी होती है। लेकिन यह गलत और वहम पैदा करने वाली जानकारी है। इससे पुरुषों में चिंता पैदा होती है, जिसे सेक्स एंग्जायटी कहा जाता है। खासकर उन पुरुषों को सेक्स एंग्जायटी (sex anxiety) का सामना ज्यादा करना पड़ता है, जिनको स्मॉल पीनस सिंड्रोम (small penis syndrome) की समस्या होती है। एक स्टडी के अनुसार-

    • औसतन नॉन-इरेक्टेड पीनस का साइज 9.16 सेमी या 3.61 इंच होता है।
    • औसतन इरेक्टेड पीनस का साइज 13.12 सेमी या 5.17 इंच होता है।
    • इरेक्टेड पीनस जिसका साइज 6 इंच हो, ऐसा दुर्लभ है।

    इसके अलावा, 52,000 से अधिक हेट्रोसेक्शुअल पुरुषों और महिलाओं पर हुए शोध में पाया गया कि 85 प्रतिशत महिलाएं अपने पार्टनर के पीनस साइज से संतुष्ट थीं। इसकी तुलना में, केवल 55 प्रतिशत पुरुष अपने लिंग के आकार से संतुष्ट थे।

    और पढ़ें: Peyronies : लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    क्या छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स नहीं किया जा सकता है?

    पीनस का साइज छोटा होने पर भी आप सामान्य पीनस साइज वाले लोगों की तरह ही सेक्स का आनंद ले सकते हैं। छोटे लिंग से हस्तमैथुन या सेक्शुअल रिलेशन बनाने की क्षमता प्रभावित नहीं होती है लेकिन अगर आपको लगता है कि छोटे लिंग के साथ सेक्स को पूरी तरह से एंजॉय नहीं कर पा रहे हैं तो आप सेक्स करने के दौरान कुछ टिप्स अपना सकते हैं।

    पीनस-इन-वजायना सेक्स के साथ अपनाएं ये टिप्स

    यहां कुछ ऐसी सेक्स पुजिशन के बारे में बताया जा रहा है जिनकी मदद से आप छोटे लिंग के साथ भी वजायनल सेक्स को बेहतर बना सकते हैं। ये सेक्स पुजिशन इस प्रकार हैं :

    छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स के लिए लेग-अप पुजिशन

    इस सेक्स पुजिशन में पेनिट्रेशन अच्छी तरह से होता है। इसके साथ ही ज्यादा से ज्यादा सेक्शुअल प्लेजर के लिए पार्टनर का क्लिट तक पहुंचना आसान हो जाता है। इस सेक्स पुजिशन को अपनाते समय फीमेल पार्टनर अपने कूल्हों के नीचे एक तकिया भी रख सकती है ताकि पीनस को एंट्री करने में आसानी हो।

    और पढ़ें: लेस्बियन सेक्स कैसे होता है? जानें शुरू से लेकर अंत तक

    डॉगी स्टाइल

    जब बात डीप पेनिट्रेशन की हो, तो डॉगी स्टाइल सेक्स पुजिशन सबसे अच्छी साबित होती है। यह एनल सेक्स के लिए भी बेस्ट पुजिशन मानी जाती है। छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स करने के लिए आप भी इस स्टाइल को अपना सकते हैं। इस पुजिशन की मदद से फीमेल पार्टनर की वजायना में पीनस डीप पेनिट्रेशन कर पाएगा और आप आसानी से ऑर्गेज्म प्राप्त कर सकते हैं।

    और पढ़ें: ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

    काउगर्ल पुजिशन (cowgirl sex position)

    इस सेक्स पुजिशन में भी आप डीप पेनिट्रेशन का आनंद ले सकते हैं। इस पुजिशन का बोनस पॉइंट यह है कि इसमें क्लिटोरियल स्टिमुलेशन (Clitorial Stimulation) भी किया जा सकता है।

    और पढ़ें: पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स: जानें हेल्दी सेक्स लाइफ के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं?

    पाइल ड्राइवर (Pile driver)

    इसके लिए फीमेल पार्टनर को पीठ के बल लेटकर पैरों को हवा में ऊपर उठाते हुए सिर के पीछे ले जाकर जमीन को छूना होता है। इस स्थिति में मेल पार्टनर आसानी से इंटरकोर्स कर सकते हैं और दोनों पार्टनर को ऑर्गेज्म भी मिल सकता है। इस तरह छोटे लिंग के साथ भी आप दोनों सेक्स को पूरा एंजॉय कर सकते हैं।

    और पढ़ें: Penicillin : पेनिसिलिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    फेस टू फेस (Face to Face)

    फेस टू फेस पुजिशन से भी सेक्स का आनंद ले सकते हैं। इस पुजिशन के लिए मेल पार्टनर को कुर्सी पर और फीमेल पार्टनर को उनकी गोद में बैठना होता है। इस पुजिशन में आप दोनों इंटरकोर्स कर सकते हैं। यह पुजिशन आप दोनों को एक दूसरे के और करीब लेकर आएगी क्योंकि इस पुजिशन में दोनों पार्टनर का आई कॉन्टैक्ट होता है, जो कि इमोशनल बॉन्डिंग बढ़ाने में मदद कर सकता है।

    और पढ़ें: ये 7 बातें बताती हैं सेक्स की लत के शिकार हैं आप

    यदि आप पीनस-इन-एनस सेक्स का प्लान बना रहे हैं

    एनस बेहद ही सेंसिटिव हिस्सा होता है। इसमें काफी संवेदनशील नर्व्स और टिश्यू होते हैं और छोटे पीनस से भी एनस में अंदरुनी चोटें लग सकती हैं। छोटे लिंग के साथ बेहतर एनल सेक्स के लिए सेक्स ल्यूब्रिकेंट्स का उपयोग जरूर करें। इसके साथ ही कुछ पुजिशन आपके सेक्शुअल प्लेजर को बढ़ा सकती हैं, जैसे –

    डॉगी स्टाइल (doggy style)

    यह गुदा मैथुन के लिए सबसे आसान पुजिशन है और शुरुआती एनल सेक्स के लिए सबसे सही भी। वजायनल सेक्स की ही तरह इसमें भी सेक्स स्नेहक (sex lubricants) और कॉन्डोम का इस्तेमाल जरूरी है।

    सेक्स करने के लिए यह स्टाइल लोगों को बहुत पसंद आता है। यह ना सिर्फ कम्फर्टेबल पुजिशन है बल्कि इसमें आप यौन सुख भी ले सकते हैं। हालांकि, इसे करने से पहले आपको कई बातों का ध्यान रखना होगा।

    इस पुजिशन में सेक्स करते समय सेक्शुअल हाइजीन का पूरा ख्याल रखें क्योंकि एनल सेक्स से यौन संचारित संक्रमण (sexually transmitted infections) होने का खतरा ज्यादा रहता है।

    और पढ़ें: डॉगी स्टाइल सेक्स करते वक्त इन बातों का रखें ध्यान, सेक्स लाइफ होगी बेहतर

    प्लैंक पुजिशन (plank sex position)

    यह सेक्स पुजिशन काफी हद तक मिशनरी सेक्स पुजिशन (missionary sex position) से मिलती जुलती है। इसमें पीनस को पुश करने के लिए एक टाइट स्पेस मिलता है। इससे दोनों ही पार्टनर्स को यौन सुख मिलता है। इस पुजिशन की मदद से आप स्मॉल पीनस के साथ भी सेक्स का आनंद ले सकते हैं।

    मिशनरी एनल (missionary anal)

    यह क्लासिक सेक्स पुजिशन बहुत बट-फ्रेंडली है। इससे ए-स्पॉट को उत्तेजित करना आसान होता है। नीचे एक पिलो का उपयोग करके बॉटम को और भी ऊंचा उठाने में मदद मिल सकती है जिससे डीप पेनिट्रेशन (deep penetration) की संभावना बढ़ जाती है।

    और पढ़ें: जिंदगी भर बना रहेगा रोमांस, कपल्स अपनाएं बस ये 7 रोमांटिक बेडरूम टिप्स

    छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स के लिए इन बातों पर ध्यान दें –

    यदि आप अपने लिंग के आकार के बारे में चिंतित हैं, तो आपके लिए अगले सेक्स सेशन के दौरान कुछ बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। जैसे-

    • दूसरों से अपनी तुलना न करें। खुद पर विश्वास रखें। पीनस साइज के बारे में ज्यादा चिंता करने से आपकी सेक्शुअल परफॉर्मेंस और खराब हो सकती है।
    • सेक्स टॉयज और प्रॉप्स का उपयोग करने से हिचकिचाएं नहीं। सेक्शुअल एक्टिविटीज में इनके इस्तेमाल से आप बेडरूम में और अच्छा परफॉर्म कर सकते हैं।
    • अपने कूल्हे के लचीलेपन (hip flexibility) में सुधार करें। यह डीप पेनिट्रेशन के लिए अच्छा माना जाता है। इसके लिए सिंपल हिप स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज (hip stretching exercise) करें।

    और पढ़ें: क्या होता है निप्पल ऑर्गैज्म? पार्टनर को स्पेशल फील कराने के लिए अपनाएं ये टिप्स

    पार्टनर का लिंग छोटा है तो क्या करें

    कई बार अपने पार्टनर की शारीरिक कमी की वजह से हम उनसे दूर होने लगते हैं या उन्हें इस कमी का एहसास करवाने लगते हैं, जो कि बिल्कुल गलत है। ऐसी स्थिति में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना है, जैसे कि:

    मजाक बनाना : सेक्स के दौरान अपने पार्टनर के छोटे पीनस का मजाक उड़ाने से बचें। पीनस को लेकर ऐसी कोई बात ना कहें जिससे आपके मेल पार्टनर को लगे कि उनका लिंग नॉर्मल साइज का नहीं है या छोटा है। आपका ऐसा करना आपके रिश्ते को खराब कर सकता है।

    धैर्य रखें : अन्य शारीरिक कमियों की तरह पीनस एंग्जायटी भी होती है, जिसे नकारा नहीं जा सकता है। अपनी इस कमी को स्वीकारने और आपके साथ मिलकर इसे अपनाने में उन्हें थोड़ा समय लग सकता है।

    दिखावा ना करें : ऑर्गेज्म का दिखावा करने से बात नहीं बनेगी। सेक्स करने का फायदा तभी है जब आप दोनों इससे संतुष्ट हों। यौन सुख पाने के लिए आप अलग-अलग टेक्निक ट्राय कर सकते हैं। एक दूसरे से खुलकर बात करें कि आप दोनों के लिए क्या काम कर पा रहा है और क्या नहीं।

    और पढ़ें: कॉन्डोमलेस सेक्स के क्या होते हैं रिस्क, बीमारियों से बचाव के लिए यह जानना है जरूरी

    छोटे लिंग के साथ बेहतर सेक्स के लिए उपचार

    • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) का भी सहारा ले सकते हैं। इस प्रकार की थेरेपी से यह समझने में मदद मिलती है कि स्मॉल पीनस साइज के विचार उनके यौन-संबंध और मैरिड लाइफ को कैसे प्रभावित करते हैं। सीबीटी छोटे पीनस की वजह से होने वाली चिंता को कम करने के तरीके खोजने में मदद कर सकती है।
    • सेक्स थेरेपी (sex therapy) या कपल्स काउंसलिंग : जब लिंग के आकार की चिंताएं किसी व्यक्ति के रिश्ते या सेक्स करने की क्षमता को प्रभावित करती हैं, तो चिंता को दूर करने के लिए थेरेपी कारगर साबित हो सकती है।

    आप ओरल सेक्स से भी संभोग का आनंद ले सकते हैं। एक दूसरे के करीब रहने का ये तरीका भी कारगर होता है। सेक्स को और ज्यादा मजेदार बनाने के लिए फोरप्ले और ओरल सेक्स आपकी मदद कर सकता है।

    यह कमी किसी में भी हो सकती है लेकिन यहां पर यह बात महत्वपूर्ण है कि आप अपने पार्टनर की इस कमी के साथ कैसे डील करते हैं। अपने पार्टनर को गलती से भी इस कमी का एहसास ना करवाएं वरना आप दोनों के रिश्ते में खटास तो पड़ेगी ही साथ ही उनका आत्मविश्वास भी डगमगा जाएगा।

    पीनस साइज का ज्यादा संबंध यौन संतुष्टि से नहीं है और आपको इसे लेकर परेशान होने या चिंता करने की बजाय इसी परिस्थिति में रहकर अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने पर ध्यान देना चाहिए। ऐसे कई तरीके हैं जिनकी मदद से छोटे पीनस साइज से भी सेक्स लाइफ को एंजॉय किया जा सकता है। उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इस विषय से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Shikha Patel द्वारा लिखित · अपडेटेड 16/06/2021

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement