home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

क्या आपने कभी किया एनल सेक्स? शरमाएं या हिचकिचाएं नहीं जानिए इसके फायदे

द्वारा प्रायोजित:

क्या आपने कभी किया एनल सेक्स? शरमाएं या हिचकिचाएं नहीं जानिए इसके फायदे

अगर कोई सवाल करे कि “क्या आपको एनल सेक्स पसंद है?” तो शायद आप हिचकिचाएं या थोड़ा-सा शरमाएं। लेकिन, आपको बता दें कि पिछले एक दशक में, गुदा सेक्स के बारे में लोग काफी बात करने लगे हैं। इंडियाना यूनिवर्सिटी के 2012 के एक अध्ययन के अनुसार, अब ज्यादा लोग एनल सेक्स कर रहे हैं। यह अब कोई टैबू नहीं रहा है क्योंकि शायद आज समाज भी अब सेक्स को लेकर एक पॉजिटिव सोच रखने लगा है। बात करें एनल सेक्स की तो एनल सेक्स बॉडी और माइंड दोनों के लिए बेनेफिशियल है। एनल सेक्स के फायदे और कौन-कौन से हैं? जानते हैं “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में

[mc4wp_form id=”183492″]

गुदा सेक्स क्या है? (What is Anal sex)

एनल सेक्स का मतलब पेनिस-एनस इंटरकोर्स (penis anal intercourse) है। कुछ लोग गुदा सेक्स का आनंद लेते हैं, और कुछ लोग इसे बिल्कुल पसंद नहीं करते हैं। लोग आमतौर पर गुदा सेक्स के बारे में सोचते हैं जब पेनिस गुदा में इंसर्ट करता है, उसे ही एनल सेक्स (anal sex) कहते हैं। लेकिन, ऐसा नहीं है सेक्स टॉयज (sex toys) या फिंगर्स का उपयोग करना भी एनल सेक्स में ही शामिल है। कोई भी गुदा सेक्स का प्लेजर ले सकता है, चाहे वह पुरुष, महिला, समलैंगिक (gay), बाइसेक्सुअल (bisexual) या स्ट्रेट हों।

और पढ़ें : बोल्ड अंदाज में हों पार्टनर के सामने न्यूड, तो सेक्स लाइफ में आएगा रोमांच

एनल सेक्स के फायदे क्या हैं? (Benefits of anal sex)

जो लोग गुदा सेक्स करने से हिचकिचाते हैं, वे एनल सेक्स के फायदे जान लें। इसके निम्नलिखित फायदे हैं-

एनल सेक्स के फायदे : ऑर्गेज्म मिलने में आसानी (Ease of getting an orgasm)

एनल पेनेट्रेशन (anal penetration) सभी स्पॉट्स को उत्तेजित करता है, विशेष रूप से जी-स्पॉट (g-spot) से जुड़ा इरेक्टाइल टिश्यू। जब इन नसों को उत्तेजित किया जाता है, तो शरीर ऑर्गेज्म के साथ संभोग के लिए तैयार हो जाता है। हालांकि, कुछ महिलाओं में गुदा सेक्स के दौरान क्लिटोरियल स्टिमुलेशन की भी जरूरत होती है। जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में प्रकाशित 2010 के एक शोध में पाया गया कि सर्वे में शामिल 31 प्रतिशत महिलाओं में से 94 प्रतिशत महिलाओं ने एनल सेक्स के दौरान ऑर्गेज्म फील किया। इसके विपरीत, ज्यादातर महिलाएं वजाइनल सेक्स (vaginal sex) के दौरान ऑर्गेज्म प्राप्त करने के लिए जूझती रहती हैं। एक स्टडी में पाया गया कि केवल 25 प्रतिशत को योनि सेक्स के दौरान ऑर्गेज्म मिला। तो ऐसे में एनल सेक्स ऑर्गेज्म पाने का एक बेहतरीन तरीका साबित होता है।

और पढ़ें : First time Sex: महिलाओं के पहली बार सेक्स के दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव

एनल सेक्स के फायदे : प्रेग्नेंसी का डर नहीं

एनल सेक्स के फायदे की बात हो तो इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि गुदा मैथुन से गर्भवती होने की संभावना नहीं रहती है। जब तक पुरुष साथी का स्पर्म महिला की वजाइनल कैनाल के संपर्क में नहीं आता है तब तक गर्भधारण की संभावना नहीं रहती है। अगर आप भी बिना प्रेग्नेंसी के डर के सेक्स का मजा लेना चाहती हैं तो एनल सेक्स का ऑप्शन बुरा नहीं है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी और सेक्स: प्रेग्नेंसी में सेक्स को लेकर हैं सवाल तो पढ़ें ये आर्टिकल

सेक्स लाइफ में एक्ससाइटमेंट भरे

एनल सेक्स के फायदे

वजाइनल सेक्स अच्छा और आरामदायक महसूस होता है। लेकिन कभी-कभी पार्टनर्स को कुछ और ऑप्शंस भी चाहिए होते हैं ताकि बोरिंग होती सेक्सुअल लाइफ को थोड़ा मजेदार बनाया जा सके। ऐसे में गुदा सेक्स एक-दूसरे पार्टनर में शारीरिक संबंध बनाने के लिए एक नई उत्तेजना भर देता है। ओरल और वजाइनल सेक्स अद्भुत होते हैं, लेकिन सही तरीके से लुब्रिकेंट्स के इस्तेमाल से एनल सेक्स भी सेटिस्फैक्टरी साबित हो सकता है। वहीं, एनल सेक्स के फायदे में यह भी है कि ऐसे कपल्स जो पीरियड्स के दौरान भी यौन-संबंध स्थापित करना चाहते हैं तो यह एक शानदार विकल्प है।

और पढ़ें : जिंदगी भर बना रहेगा रोमांस, कपल्स अपनाएं बस ये 7 रोमांटिक बेडरूम टिप्स

रिलेशनशिप में आती है मजबूती

यदि आप कभी ऐसा महसूस करते हैं कि आपका यौन जीवन ऊबाऊ हो गया है, तो गुदा मैथुन आपकी आपके यौन जीवन में कुछ नयापन लाने का सबसे अच्छा तरीका है। यह चीजों को नया और अधिक सुखद बना सकता है। हालांकि, कई महिलाएं एनल सेक्स के दौरान असुरक्षित और नर्वस महसूस करती हैं। लेकिन, जब दोनों पार्टनर्स की सहमति से गुदा सेक्स होता है तो उन दोनों के बीच में इंटिमेसी भी बहुत होती है।

और पढ़ें : A-Z सेक्स टर्मिनोलॉजी: सेक्स टर्म करते हैं परेशान तो ये डिक्शनरी आ सकती है काम

गुदा मैथुन (Anal sex) पुरुषों के लिए अधिक आनंददायक होता है

एनस, वजाइना की तुलना में ज्यादा टाइट होता है। इसलिए, कई पुरुष योनि सेक्स की तुलना में गुदा सेक्स को अधिक आनंददायक पाते हैं। वहीं, कुछ महिलाएं भी एनल सेक्स को खूब एन्जॉय करती हैं।

एनल सेक्स के खतरे क्या हैं? (What are the dangers of anal sex?)

गुदा सेक्स में सिर्फ पेनिस द्वारा ही एनल पेनिट्रेशन नहीं होता है। सेक्सुअल प्लेजर के लिए पार्टनर्स इसमें सेक्स टॉय, बट प्लग्स, वाइब्रेटर्स आदि का भी इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए, एनल सेक्स में बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। इससे होने वाले कुछ खतरे-

यौन संचारित संक्रमण STD (एसटीआई)

सीडीसी (Centers for Disease Control and Prevention) के अनुसार एनल सेक्स से यौन संचारित रोग फैलने का काफी खतरा रहता है। इससे क्लैमाइडिया, एचआईवी, हर्पीस और गोनोरिया जैसे कई यौन संचारित रोग हो सकते हैं। दरअसल, गुदा सेक्स के दौरान रिसिविंग एंड पर मौजूद पार्टनर को यौन संचारित रोग होने की संभावना 13 गुणा ज्यादा होती है।

और पढ़ें : शावर सेक्स टिप्स : ऐसे करें तैयारी, ताकि भारी न पड़े रोमांस

कोलोन में क्षति

हालांकि, यह काफी दुर्लभ है। लेकिन, असावधानी से किया गया गुदा पेनिट्रेशन से कोलोन इंजर्ड हो सकता है। अगर एनल सेक्स के बाद आपको गंभीर पेट दर्द या रेक्टल ब्लीडिंग (rectal bleeding) हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

बवासीर को कर सकता है बदतर

बवासीर काफी दर्दनाक होता है। गुदा मैथुन कुछ लोगों के लिए मौजूदा बवासीर की समस्या को बदतर कर सकता है। हालांकि, एनल सेक्स खुद बवासीर का कारण नहीं बनता है। लेकिन, पाइल्स की समस्या अगर है तो एनल सेक्स के दौरान मामूली रक्तस्राव और कभी-कभी दर्द का कारण बन सकता है।

और पढ़ें : एलजीबीटीक्यू सेक्स गाइड, एलजीबीटी सेक्स के बारे में जानें सबकुछ

बैक्टीरियल इंफेक्शन

अगर पेनिस-एनल इंटरकोर्स के दौरान सही से हाइजीन न मेंटेन किया जाए तो हानिकारक बैक्टीरिया फैल सकते हैं। परिणामस्वरूप, कोली और हेपेटाइटिस ए (hepatitis A) और ई जैसे जीवाणु एक से दूसरे शरीर में फैलने का खतरा रहता है।

एनस-टिश्यू हो सकते हैं इंजर्ड

वजायना की तरह एनस में ल्यूब्रिकेशन नहीं होता है। इसलिए, गुदा सेक्स के दौरान ल्यूब्रिकेंट न करने से गुदा के अंदर के नाजुक टिश्यू को नुकसान पहुंचता है। नतीजन, ब्लीडिंग और दर्द की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : ऑस्टॉमी सर्जरी के बाद सेक्स कर सकते हैं या नहीं?

एनस सेक्स के लिए बेस्ट सेक्स पोजिशन (Best sex position for anus sex)

गुदा सेक्स को और मजेदार बनाने के लिए अपनाई जाने वाली सेक्स पोजीशन

  • डॉगी सेक्स पोजीशन
  • काऊ सेक्स पोजीशन
  • फेस डाउन सेक्स पोजीशन

और पढ़ें : स्लीप सेक्स क्या है? जानें इसके बारे में सबकुछ

गुदा सेक्स के दौरान बरतें ये सावधानियां (Take these precautions during anal sex)

एनस सेक्स, ओरल और वजाइनल सेक्स की तुलना में ज्यादा संवेदनशील होता है। इस दौरान कई तरह के बैक्टीरियल इंफेक्शन और अन्य यौन संचारित रोग होने का खतरा रहता है। इसलिए, गुदा सेक्स के दौरान नीचे बताई गई सावधानियां अपनाई जानी चाहिए ताकि आप एनल के फायदे भरपूर उठा सके।

ल्यूब है जरूरी

वजाइना की तरह गुदा खुद से लुब्रिकेशन नहीं करता है, इसलिए एनल सेक्स के फायदे लेने के लिए जरूरी है कि उसे अधिक से अधिक आरामदायक बनाया जाए और गुदा को नुकसान पहुंचने से बचाया जा सके। इसके लिए लुब्रिकेशंस का उपयोग करना जरूरी है। लुब्रिकेंट के रूप में पार्टनर का सीमेन इस्तेमाल न करें। हमेशा वाटर बेस्ड लुब्रिकेट का उपयोग करें जो विशेष रूप से सेक्स के लिए डिजाइन किया गया हो। ऑइल आधारित स्नेहक (जैसे कि बेबी ऑयल और वैसलीन) कॉन्डम को कमजोर कर सकते हैं जिससे उनके टूटने की अधिक संभावना रहती है।

और पढ़ें : कॉन्डम के प्रकार हैं इतने सारे, कॉन्डम कैसे चुनें क्या जानते हैं आप?

आराम से करें सफाई

कुछ लोग गुदा सेक्स से पहले अपने एनस को साफ करते हैं क्योंकि वे यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि पूप न लगा हो। यदि आप ऐसा करने का सोच रहे हैं, तो केवल पानी या माइल्ड साबुन का ही उपयोग करें। न ही तो गुदा में आई खरोंच या स्क्रैच से एसटीआई (STI-sexually transmitted infection) का खतरा ज्यादा रहता है।

और पढ़ें : सेक्स और डेटिंग को लेकर है कुछ कंफ्यूजन तो ये आर्टिकल कर सकता है आपकी मदद

प्रोटेक्शन का उपयोग करें (Use protection)

एनल सेक्स के दौरान इंटरनल कॉन्डम (फीमेल कॉन्डम) या तो एक्सटर्नल कॉन्डम (मेल कॉन्डम) का उपयोग जरूर करें। कुछ लोग गुदा मैथुन के लिए एक्स्ट्रा थिक कॉन्डम का उपयोग करते हैं, वे इससे और ज्यादा सेफ महसूस करते हैं। साथ ही एनल सेक्स के दौरान, सेक्स टाइप के बीच स्विच करते समय सावधान रहें। गुदा मैथुन करने से आपके एचआईवी और अन्य यौन संचारित संक्रमणों (एसटीआई) का खतरा बढ़ जाता है जिसमें क्लैमाइडिया (chlamydia), जेनिटल हर्पीस (genital herpes), जेनिटल वार्ट, गोनोरिया और सिफलिस शामिल हैं। असुरक्षित यौन संबंधों से कई अन्य प्रकार के सेक्स की तुलना में एसटीआई और एचआईवी का खतरा अधिक होता है।

PrEP पर विचार करें

प्री-एक्सपोजर प्रोफिलैक्सिस (PrEP) लेना एचआईवी संक्रमण को रोकने का एक अच्छा तरीका है। अगर आपको लगता है कि आप एचआईवी के उच्च जोखिम में हैं, तो आपके लिए PrEP एक अच्छा विकल्प हो सकता है, लेकिन याद रखें कि यह केवल एचआईवी से बचाता है अन्य एसटीआई से नहीं।

और पढ़ें : पुराने सेक्स के तरीकों को बदलें अब ट्राई करें सेक्स के नए तरीके

रखें पर्सनल हाइजीन (Keep personal hygiene)

गुदा सेक्स करने से पहले पार्टनर्स को चाहिए कि उनके नाखून अच्छी तरह से कटे और साफ-सुथरे हों। इससे साथी के गुदा के आसपास की त्वचा और टिश्यू में खरोंच आने की संभावना कम हो जाती है। एनल सेक्स के पहले और बाद में अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं ताकि हानिकारक जीवाणु के फैलने का खतरा एकदम खत्म हो जाए।

कम्फर्टेबल हो सेक्स

एनल सेक्स के फायदे तभी मिलते हैं जब यौन संबंध बनाते समय साथी आरामदायक महसूस करता है। रिसिविंग पार्टनर के गुदा में मौजूद टिश्यू पेनिट्रेशन के लिए तैयार हो पाएं। इसके लिए एनल मसल्स को आराम पहुंचाने के लिए गर्म पानी से नहाएं और सेक्स से पहले फोरप्ले को खास तरजीह दें।

और पढ़ें : फोरप्ले से हाइजीन तक: जानिए फर्स्ट नाइट रोमांस करने के लिए टिप्स

मदद लें

यदि आपने असुरक्षित यौन संबंध बनाए हैं और संभावित एचआईवी संक्रमण के बारे में चिंतित हैं, तो डॉक्टर की मदद लें। एचआईवी (HIV) संक्रमण को रोकने के लिए आप पोस्ट-एक्सपोज़र प्रोफिलैक्सिस (पीईपी) लेने में सक्षम हो सकते हैं, लेकिन इसे काम करने के लिए 72 घंटों के भीतर लिया जाना चाहिए। याद रखें पीईपी कॉन्डम का रिप्लेसमेंट नहीं है और यह हर जगह उपलब्ध नहीं है।

और पढ़ें : सेक्स हाइजीन टिप्स : यौन संबंध बनाने से पहले और बाद में जरूर करें इन नियमों का पालन

जांच करवाएं

यदि आप अपनी स्थिति जानते हैं तो आप अपनी और दूसरों की रक्षा कर सकते हैं। एचआईवी और अन्य एसटीआई के लिए नियमित परीक्षण कराएं ताकि आप अपना इलाज करवा सकें और अपने पार्टनर की सुरक्षा के लिए सावधानी बरत सकें।

एनल सेक्स से आपकी बोरिंग होती मैरिड लाइफ को एक डाइमेंशन तो मिलता है लेकिन, गुदा सेक्स के दौरान अपने पार्टनर की सुविधा का ध्यान रखना आपकी प्रायोरिटी है। एनल सेक्स के फायदे उठाने के लिए इसके लिए कम्फर्टेबल एनल सेक्स पोजीशन चुनें। पहली बार गुदा सेक्स कुछ असुविधा हो सकती है, लेकिन समस्या अगर लगातार बनी रहे और ज्यादा समस्या हो तो, तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और एनल सेक्स के फायदे से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Anal Intercourse and Fecal Incontinence: Evidence from the 2009–2010 National Health and Nutrition Examination Survey. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5231615/.Accessed On 22 June 2020

Anal Sex and HIV Risk. https://www.cdc.gov/hiv/risk/analsex.html. Accessed On 22 June 2020

Safe sex. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/safe-sex. Accessed On 22 June 2020

All About Sex. https://www.plannedparenthood.org/learn/teens/sex/all-about-sex.Accessed On 22 June 2020

HOW TO HAVE ANAL SEX. https://www.avert.org/sex-stis/how-to-have-sex/anal-sex. Accessed On 22 June 2020

 

लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड