home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्यों आते हैं खर्राटे? जानिए इसके घरेलू उपाय

क्यों आते हैं खर्राटे? जानिए इसके घरेलू उपाय

दिनभर की थकान के बाद जब रात को सोने का समय आता है, तो इससे ज्यादा अच्छा और कोई पल नहीं होता है। लेकिन, ऐसे में जब आपको खर्राटे की आवाज सुनाई दे, तो कैसा महसूस करेंगे? जाहिर सी बात है, आपकी नींद टूट जाएगी, आप ठीक से सो नहीं पाएंगे। ऐसे में आप तुरंत खर्राटों से राहत के बारे में सोचने लगेंगे। खर्राटों की वजह से नींद पूरी न होने के कारण चिड़चिड़ेपन के साथ-साथ आपकी सेहत पर भी काफी असर पड़ता है। लेकिन, सवाल ये उठता है कि आखिर खर्राटे क्यों आते हैं? इसके अलावा, खर्राटों का इलाज क्या है आदि।

तो, इस आर्टिकल में खर्रोटों के कारण के साथ-साथ खर्राटों के घरेलू इलाज जानेंगे। सबसे पहले जानते हैं कि खर्राटे क्यों आते हैं।

और पढ़ेंः नींद में खर्राटे आते हैं, मुझे क्या करना चाहिए?

खर्राटे क्यों आते हैं?

सोते समय सांस लेने में आने वाली रुकावट की वजह से एक ध्वनि आती है, इसी आवाज को ही खर्राटे कहते हैं। ज्यादातर लोगों को ऐसा लगता है कि थकावट की वजह से खर्राटे आते हैं लेकिन, यह धारणा गलत है।

खर्राटे आने का क्या कारण है?

  • कई लोगों की गर्दन छोटी होती और कभी-कभी इस वजह से भी लोग खर्राटे लेने लगते हैं।
  • नाक की हड्डी बढ़ जाना या मांस बढ़ जाने की वजह से भी सांस लेने में परेशानी होती है और फिर सोने के समय खर्राटे की आवाज आने लगती है।
  • मुंह के जबड़े के निचले हिस्से का छोटा होना भी खर्राटे की वजह बनता है।
  • जरूरत से ज्यादा वजन बढ़ने की वजह से भी सोने के समय खर्राटे आने लगते हैं।
  • जब युवुला (मुंह के अंदर पिछले हिस्से में लटका हुआ छोटा-सा हिस्सा) तक का हिस्सा संकरा हो जाता है, तो सांस लेने पर यह युवला वाइब्रेशन पैदा करता। इससे वायुमार्ग भी अवरुद्ध हो जाता है, जिस कारण खर्राटे आने लगते हैं।

खर्राटे की वजह से सेहत को क्या नुकसान होते हैं?

खर्राटों के कारण नीचे बताई गई समस्याए हो सकती हैं :

  • साइनस या नाक से जुड़ी परेशानी हो सकती है।
  • अगर खर्राटों की ओर ध्यान न दिया जाए, तो यह अब्स्ट्रक्टिव स्लीप एप्निया (obstructive sleep apnea (OSA)) की समस्या शुरू हो सकती है।
  • टाइप-2 डायबिटीज की समस्या हो सकती है।
  • कई बार खर्राटों की वजह से दिमाग पर भी असर पड़ता है। शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम होने और कार्बनडाईऑक्साइड की मात्रा बढ़ने से मस्तिष्क पर दबाव बढ़ जाता है, जिससे स्ट्रोक्स की आशंका काफी बढ़ जाती है।
  • रात में ठीक से न सोने के कारण आपको अगले दिन थकान महसूस होती है, जिससे आपका लाइफस्टाइल बिगड़ सकता है।

और पढ़ेंः नींद की गोलियां (Sleeping Pills): किस हद तक सही और कब खतरनाक?

खर्राटेों के घरेलू उपाय क्या हैं?

खर्राटों से राहत पाने के लिए आप नीचे बताए गए घरेलू उपाय अपना सकते हैं :

खर्राटों से राहत के लिए अतिरिक्त तकिए का इस्तेमाल

खर्राटों से राहत के लिए आप अपने बेडरूम में कुछ नई चीजें जोड़ सकते हैं। अपने लिए आपको कुछ अतिरिक्त तकिए खरीदने और अपनी पीठ के बल सोने से पहले कुछ प्रॉप्स का इस्तेमाल करें। आप अपने गले के टिशु को अपने एयर-पैसेज के बीच में आने से रोक सकते हैं।

अपने बिस्तर के सिर को ऊपर उठाना देगा खर्राटों से राहत

ऐसा करने का एक आसान तरीका यह है कि अपने बिस्तर के टॉप-एंड के नीचे कई फ्लैट बोर्ड रखें। बेड के दोनों पैर के नीचे दो-बाय-आठ या दो-बाय-दस की छोटी लंबाई के फ्लैट बोर्ड रखें। बिस्तर को उठाने के लिए यह पर्याप्त होना चाहिए। इसके अलावा खर्राटों से राहत के लिए आप कोई और तरीका अपना सकते हैं।

और पढ़ेंः जानें क्या है गहरी नींद की परिभाषा, इस तरह से पाएं गहरी नींद और रहें हेल्दी

अपनी तरफ से सोएं

बेशक इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आप रात भर उसी पुजिशन रहेंगे लेकिन कम से कम अपनी बाहों के साथ एक तकिया के चारों ओर लिपटे हुए रहेंगे। एक अच्छा कारण है कि आप अपनी पीठ पर सोना नहीं चाहते हैं क्योंकि वो खर्राटे का कारण बनता है। अपनी साइड में सोने की वजह से आपकी जीभ और आपके गले के पीछे नरम तालू आराम करते हैं और इससे आपका एयर-पैसेज भी ब्लॉक नहीं होता। ऐसा करना से भी बहुत से लोगों को खर्राटों से राहत मिलती है।

खर्राटों से राहत के लिए टेनिस बॉल ट्रिक आजमाएं

अगर आपको एक तकिया को गले लगाना मदद नहीं करता है तो आप एक टेनिस गेंद की मदद से समस्या का समाधान कर सकते हैं। कई बार आपका तकिया आपको खर्राटों से राहत नहीं देता है। ऐसे में एक से दो टेनिस बॉल को एक छोटे कपड़े के पाउच में सिलें। इस पाउच को अपने पजामें के पीछे कमर के पास लगा दें। ऐसा करने से आप जब भी पीठ के बल सोने की कोशिश करेंगे टेनिस बॉल को आपको डिस्टर्ब करेंगे जिससे आप फिर अपनी साइड पुजिशन में आ जाएंगे और आपको इससे खर्राटों से राहत मिल सकती है।

और पढ़ेंः ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

अपनी नाक को नोजल स्ट्रिप से चिपकाएं

ये देखने में अजीब लग सकते हैं, लेकिन कौन देख रहा है? पैकेज पर दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए, सोने से पहले स्ट्रिप्स में से एक को अपनी नाक के बाहर टेप करें। वे एयरफ्लो बढ़ाने के लिए आपके नॉस्ट्रिल उठाते और खोलते हैं।

और अगर नेजल कंजेशन आपके खर्राटों का कारण बन रही है तो नेजल स्ट्रिप लगाने से पहले एक डिकॉन्गेस्टेंट या एंटीहिस्टामाइन लें।

मिंट माउथवॉश से गार्गल करें

यह विशेष रूप से प्रभावी है अगर आपके खर्राटे एक अस्थायी स्थिति है जो सिर की सर्दी या एलर्जी के कारण होती है। हर्बल गार्निश को मिलाने के लिए एक गिलास ठंडे पानी में एक बूंद पेपरमिंट ऑयल मिलाएं। (लेकिन केवल गार्गल करें – निगले नहीं।)

एक गर्दन ब्रेस का उपयोग करें

यह अधिक लग सकता है, लेकिन कुछ लोगों के लिए गर्दन के ब्रेस का उपयोग किया जाता है। जिस तरह के व्हिपलैश पहनने वाले लोग हैं – उनके खर्राटों को रोकने के लिए। यह आपकी ठोड़ी को बढ़ाकर काम करता है ताकि आपका गला न झुक जाए और आपका एयर-पैसेज खुला रहे। हालांकि आपको एक कठोर प्लास्टिक ब्रेस का उपयोग नहीं करना होगा। एक नरम फोम एक जो आपको डॉक्टर निर्देश देगा या वो लेना फायदेमंद हो सकता है।

अपनी एलर्जी पर ध्यान दें

बेडरूम की एलर्जी (धूल, पालतू जानवरों की रूसी, मोल्ड) को कम करें ताकि फर्श और ड्रेप्स द्वारा नाक के सामान को कम किया जा सके, और अक्सर चादरें और तकिए को बदल दें।

और पढ़ेंः Restless Leg Syndrome : रातों की नींद और दिन का चैन उड़ाने में माहिर है रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम

खर्राटों से राहत के लिए चाय पीएं

अगर आपका खर्राटे एक मौसमी समस्या है और आपको पता है कि आपको पॉलेन से एलर्जी है तो जड़ी बूटी से बनी तीन कप चाय पीने की कोशिश करें। पॉलेन एलर्जी के कारण होने वाली सुखदायक सूजन के लिए हर्बलिस्ट इसकी सलाह देते हैं।

खर्राटों से राहत के लिए ऊपर बताए गए किसी भी घरेलू उपाय को आजमाएं। आपको इससे तुरंत आराम मिलेगा। लेकिन अगर इसके बाद भी आपको खर्राटों से राहत नहीं मिलती है तो आप अपने डॉक्टर से इसके बारे में पूछ सकते हैं। खर्राटों से राहत के लिए डॉक्टर द्वारा बताई हुई पुजिशन में सोएं और कुछ उपायों को अपने रूटिन में शामिल करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 10/07/2019
x