9 आसान इनडायजेशन के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सारी बीमारियों का जड़, खराब पाचन (डाइजेशन) होता है। अगर आपका पाचन तंत्र सही नहीं है तो खाना सही से हज्म (डाइजेस्ट) नहीं होता है। हम जो भी खाना खाते हैं उसे पाचन तंत्र शरीर में पहुंचाता है। पाचन तंत्र भोजन को ऊर्जा में बदल कर शरीर में पोषण और शक्ति देता है। जब हमारे शरीर को खाने से पोषण और ऊर्जा मिलता है। तब हमारे शरीर में इम्यूनिटी पावर भी बढ़ती है।

हमारा डायजेशन सिस्टम तभी खराब होता है, जब हम खराब और असंतुलित आहार लेते हैं। डायजेशन सिस्टम खराब होने की वजह से पेट में गैस बनना, बार-बार कब्ज होना, अल्सर, मोटापा, दुबलेपन, बदहजमी, पेट और लिवर की बीमारियां होने लगती हैं। अगर आपको भी इनडायजेशन यानी अपच की समस्या है, तो नीचे बताए गए इनडायजेशन के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

इनडायजेशन के घरेलू उपाय समझने से पहले समझने की कोशिश करते हैं कि इसके लक्षण क्या हैं?

  • पेट में दर्द होना
  • पेट के ऊपरी हिस्से में जलन महसूस होने के साथ-साथ परेशानी महसूस होना
  • खाना खाने के बाद अच्छा महसूस न होना
  • पेट में सूजन होना
  • बार-बार डकार आना

इन लक्षणों के अलावा अन्य लक्षण भी हो सकते हैं। जैसे-

  • पेट में गैस बनना
  • मतली होना

ये भी पढ़ें: हेल्दी स्किन के लिए नए साल में नए टिप्स, इन्हें जरूर आजमाएं

इनडायजेशन के घरेलू उपाय क्या हैं?

इनडायजेशन के घरेलू उपाय निम्नलिखित हैं। जैसे-

1. खाने को सही तरीके से चबाएं

अगर आपको डायजेशन सिस्टम को सही रखना है, तो आप खाना को अच्छी तरह से चबाकर खाएं। जब आप भोजन को चबा-चबाकर खाते हैं, तो डायजेशन सिस्टम को डायजेस्ट करने में आसानी होती है। खाते समय आराम-आराम से खाएं। खाते वक्त हड़बड़ी बिल्कुल न करें। इससे बदहजमी हो सकती है।

2. फाइबर युक्त खाना

फाइबर डायजेशन सिस्टम को मजबूत करता है। दोनों ही तरह से घुलनशील और अघुलनशील फाइबर को उपयोग में लाना बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि ये दोनों ही तरह से डायजेशन सिस्टम को मदद करता है। फाइबर के स्त्रोतों में फल, सब्जियां, गेहूं का चोकर, साबुत अनाज, जई का चोकर, बीज और फलियां शामिल हैं। इनडायजेशन के घरेलू उपाय में फाइबर काफी महत्वपूर्ण है।

3. हाइड्रेटेड रहें

डायजेशन सिस्टम को सही रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। पूरे दिन खुद को हाइड्रेटेड रखें। फ्रेश फ्रूट जूस पिएं, नींबू पानी और नारियल पानी पिएं। इनडायजेशन के घरेलू उपाय ढूंढ रहे हैं, तो खुद को हाइड्रेट रखना जरूरी है।

4. एक्सरसाइज और जॉगिंग करें

स्वस्थ शरीर के लिए एक्सरसाइज और जॉगिंग बहुत जरूरी है। आप सुबह या शाम के वक्त समय मिलने पर जॉगिंग के लिए अवश्य जाएं। डायजेशन सिस्टम को सही रखने के लिए आप स्विमिंग, योगा, साइकलिंग करें।

यह भी पढ़ें: Lady Fern: लेडी फर्न क्या है?

5. हेल्दी फैट

जब शरीर में फैट की मात्रा बढ़ती है, तब डायजेशन सिस्टम आसानी से खाने को डाइजेस्ट कर पाता है। आप डायजेशन सिस्टम को सही रखने के लिए अपनी डाइट में पनीर, जैतून के तेल, अंडे, नट्स, एवोकाडो और फैटी फिश को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा ओमेगा-3 फैटी एसिड भी सूजन को कम करता है।

6. स्ट्रेस से बचें

मेंटली स्ट्रेस भी कई बीमारियों की जड़ रहा है। बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेने पर आप खाना-पीना ठीक से नहीं कर पाते हैं। मेंटली स्ट्रेस से पेट में अल्सर, दस्त, कब्ज और आईबीएस होता है। आप मेंटली स्ट्रेस को कम करने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज, मेडिटेशन और योग कर सकते हैं। स्ट्रेस से बचना भी इनडायजेशन के घरेलू उपाय करने में मददगार होता है।

7. नींद पूरी लें

नींद पूरी नहीं होने की वजह से भी डायजेशन सिस्टम बिगड़ता है। जब आप ठीक से नहीं सो पाते हैं, तब आपका शरीर असंतुलित रहता है। आप ठीक से खाना-पीना नहीं कर पाते हैं। आपका ध्यान नींद और तनाव पर रहता है, जिसका प्रभाव डायजेशन सिस्टम पर भी पड़ता है।

8. एक ही जगह काफी देर बैठे न रहें

खाना खाने के बाद कुछ देर टहलना चाहिए। खाना खाते ही तुरंत बैठना या सोना नहीं चाहिए। आपके पास जितना भी समय है, उसमें से कुछ समय निकालकर आप खाना खाने के बाद कुछ मिनट टहलें। इससे आपका खाना अच्छे से डाइजेस्ट हो जाता है। एक ही जगह पर काफी देर बैठे रहने से गैस और बदहजमी की शिकायत हो सकती है। अगर आप इनडायजेशन के घरेलू उपाय ढूंढ रहे हैं, तो इस बात पर भी ध्यान दें।

9. सब्जियों का सेवन

हरी पत्तेदार सब्जियां, पालक, मेथी, टमाटर व नींबू बेहतर पाचन तंत्र के लिए सर्वोत्तम हैं। ये कब्ज जैसी समस्या को जड़ से खत्म करने का काम करते हैं और शरीर में आवश्यक पोषक तत्वों की भरपाई भी करते हैं। अंकुरित चना, मूंग, गेहूं और जौ के आटे से बनी रोटियां खाने से फायदा होगा। सब्जियां भी इनडायजेशन के घरेलू उपाय में बेहतरीन उपाय है।

ये भी पढ़ें: ज्वार के फायदे: कब्ज और ह्रदय रोग वालों के लिए वरदान है ज्वार

इनडायजेशन के घरेलू उपाय के साथ-साथ फॉलो करें ये टिप्स

  • इसके अलावा, खाने को सही से पचाने के लिए खाने में सलाद का प्रयोग करें। सलाद में टमाटर, काला नमक और नीबू का सेवन करना फायदेमंद रहेगा।
  • अपच होने पर अजवाइन, जीरा और काला नमक बराबर मात्रा में मिला कर एक चम्मच पानी के साथ लेने से फायदा होता है।
  • अजवाइन को पानी में उबाल कर उसका पानी पीने से भी पाचन तंत्र सही रहता है।
  • अदरक के टुकड़े को नींबू में भिगोकर चूसने से पाचन दुरुस्त रहता है।
  • सौंफ और काली मिर्च का खाने में सेवन करना भी फायदेमंद रहता है।
  • वजन संतुलित रखें। इसलिए पौष्टिक आहार का सेवन करें।
  • ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जिससे परेशानी महसूस हो। ध्यान रखें तला-भुना, जंक फूड या अत्यधिक मिर्च-मसाला वाला खाना न खायें।
  • एक दिन में दो कप से ज्यादा चाय, कॉफी या हर्बल टी का सेवन न करें।
  • स्मोकिंग की वजह से भी डायजेशन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए स्मोकिंग न करें।
  • रोजाना सात से आठ घंटे की नींद लें। ध्यान रखें ठीक तरह से नहीं सोने के कारण भी डायजेशन बिगड़ सकता है।

ये भी पढ़ें: नींद न आने की समस्या से हैं परेशान तो आजमाएं ये 6 नेचुरल तरीके

इनडाइजेशन के घरेलू उपाय के बावजूद अगर परेशानी ठीक न हो तो ऐसी स्थिति में जल्द से जल्द इलाज के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

तो ये थे इनडायजेशन के घरेलू उपाय, जो आपकी अपच की समस्या से राहत दिलाने में मदद करेंगे। आप ऐसी समस्या होने पर ऊपर बताए गए घरेलू उपाय अपना सकते हैं। लेकिन अगर आपको लगे कि यह समस्या ज्यादा बढ़ रही है, तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी मेडिकल एडवाइज, निदान या उपचार की सलाह खुद से नहीं देता।

और पढ़ें:

स्तनपान के दौरान पेट में ऐंठन क्यों होती है?

जानिए किस तरह व्यायाम डालता है पाचन तंत्र पर असर

Stomach flu: पेट का फ्लू क्या है?

फ्लैट एब्स पाना चाहते हैं? ट्राई करें ये 10 पिलाटे व्यायाम

पेट की एसिडिटी को कम करने वाली इस दवा से हो सकता है कैंसर

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Drotin-M Tablet : ड्रोटिन-एम टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ड्रोटिन-एम टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, ड्रोटावेरिन और मेफेनैमिक एसिड दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Drotin-M Tablet

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Drotin Plus Tablet : ड्रोटिन प्लस टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ड्रोटिन प्लस टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, ड्रोटावेरिन और पैरासिटामोल दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Drotin Plus Tablet

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Digene Tablet : डाइजीन टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

डाइजीन टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, डाइजीन टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Digene Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से हैं परेशान? ये घरेलू उपाय ट्राई कीजिए।

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय में किन-किन को आजमाकर हम समस्या से पा सकते हैं निजात, कितना सेफ है, कितने समय में मिलता है आराम, जानें आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बिसाकोडिल दिला सकती है कब्ज से राहत

जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
पाचन तंत्र सुधारने वाले खाद्य पदार्थ

डाइजेशन को बेहतर बनाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 15 फूड्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
पाचन के लिए आयुर्वेद

पाचन तंत्र को करना है मजबूत तो अपनाइए आयुर्वेद के ये सरल नियम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 17, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
पाचन तंत्र सुधारने के प्राकृतिक तरीके

पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए जरूरी हैं ये टिप्स फॉलो करना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें