डिप्रेशन से बचने के उपाय, आसानी से लड़ सकेंगे इस परेशानी से

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आज के समय में ऐसा कौन है, जिसने डिप्रेशन के बारे में नहीं सुना होगा। अक्सर कई लोग कहते हैं कि मैं डिप्रेशन से गुजर रहा हूं, तो हम जानकारी के अभाव में सोचते हैं कि बस इस व्यक्ति को थोड़ी टेंशन होगी, लेकिन वास्तव में डिप्रेशन व्यक्ति को जिंदगी से दूर मौत के करीब तक पहुंचाने वाली मानसिक समस्या है। इसलिए आइंदा से अगर कोई आपसे कहें कि वह डिप्रेशन में हैं तो उसे डिप्रेशन से बचने के उपाय बताएं। आपको जान कर हैरानी होगी अगर व्यक्ति आशावादी है तो खुद से ही डिप्रेशन से बचने के उपाय ढूंढ सकता है। क्योंकि डिप्रेशन से बचने के उपाय कहीं और नहीं बल्कि हमारे पास, हमारे दिन की शुरुआत के साथ मिलने लगते हैं।

और पढ़ें: डिप्रेशन रोगी को कैसे डेट करें?

डिप्रेशन (Depression) क्या है?

डिप्रेशन एक मेडिकल कंडीशन है जिसमें व्यक्ति दिमागी रूप से थका, उदास, संवेदनहीन और उत्साह की कमी महसूस करता है। यूं तो इसके कई लक्षण होते हैं पर उदासी का भाव सबसे ज्यादा हावी होता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार भारत में अवसादग्रस्त लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है। भारत की कुल जनसंख्या में 6.5 प्रतिशत लोग डिप्रेशन का शिकार हैं। डब्लूएचओ की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि साल 2020 के अंत तक ये संख्या बढ़कर 20 प्रतिशत तक हो सकती है। 

अक्सर डिप्रेशन कई महीनों तक रहता है या फिर कभी-कभी जल्द ही ठीक भी हो जाता है। इसे डिप्रेशन एपिसोड कहा जाता है। ज्यादातर लोग जो डिप्रेशन के दौर से गुजरते हैं, उन्हें उस दौरान कई परिस्थितियों का अनुभव करना पड़ सकता है। डिप्रेशन को अक्सर मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर कहा जाता है। आमतौर पर एक नकारात्मक घटना (जैसे किसी प्रियजन की हानि, या गंभीर और लंबे समय तक तनाव) डिप्रेशन का कारण बन सकती है। जीवन के सामान्य तनाव के कारण डिप्रेशन नहीं होता है। 

और पढ़ें: डिप्रेशन (Depression) होने पर दिखाई ​देते हैं ये 7 लक्षण

डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं?

जिस व्यक्ति को डिप्रेशन होता है, वह अक्सर इसे पहचान नहीं पाता है। अगर पहचान भी लेता है तो स्वीकार नहीं कर पाता है। ऐसे में उसके करीबियों की जिम्मेदारी है कि वे डिप्रेशन के लक्षण देखकर उसको पहचानकर जल्द से जल्द उसे ट्रीटमेंट दें। डिप्रेशन के लक्षण निम्न हो सकते हैं :

व्यवहारिक (Behavioral)

  • खूब सोना या बिलकुल न सोना
  • किसी से मिलने से बचना
  • निगेटिव बातें करना
  • खुशी के मौकों पर भी दुखी रहना
  • चिढ़कर या झल्लाकर जवाब देना
  • लोगों से अलग-थलग रहना 

और पढ़ें: ये 5 बातें बताती हैं डिप्रेशन और उदासी में अंतर

सायकोलॉजिकल (Psychological)

  • उदास रहना 
  • खुद को कोसते रहना
  • निराशाजनक होना 
  • चिड़चिड़ापन 
  • आत्मविश्वास में कमी 
  • दुविधा में पड़े रहना 

और पढ़ें: कैसे स्ट्रेस लेना बन सकता है इनफर्टिलिटी की वजह?

फिजिकल (Physical)

डिप्रेशन से बचने के उपाय क्या हैं?

हैलो स्वास्थ्य ने डिप्रेशन से बचने के उपाय के बारे में वाराणसी (उत्तर प्रदेश) के सर सुंदरलाल हॉस्पिटल के मनोचिकित्सक डॉ. जयसिंह यादव से बात की। डॉ. जयसिंह यादव बताते हैं कि “डिप्रेशन होना आजकल आम बात हो गई है। हर चार में से एक किशोर डिप्रेशन का शिकार है। जब खेलने-कूदने की उम्र में बच्चे ही डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं तो बड़े लोग तो जिम्मेदारियों के तले दबे हैं। डिप्रेशन के लक्षण नजर आने पर व्यक्ति को किसी मनो चिकित्सक के पास लेकर जाना चाहिए। क्योंकि डिप्रेशन के लक्षणों के आधार पर एक साइकोलॉजिस्ट पहले इलाज करते हैं। इसके बाद जब लक्षणों पर काबू पा लिया जाता है तो व्यक्ति खुद ही डिप्रेशन से बचने के उपाय अपनी पसंदीदा कामों को करके कर सकता है।”

और पढ़ें: पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

हर सुबह को ‘थैंक यू’ कहें

डॉ. जयसिंह यादव बताते हैं कि डिप्रेशन से निकलना आसान नहीं होता है, लेकिन अगर ठान लिया जाए तो मुश्किल भी नहीं है। डिप्रेशन में किसी भी चीज से इंटरेस्ट खत्म हो जाता है। बस इसी खोए हुए इंटरेस्ट को वापस लाने के लिए हर नई सुबह को आप ‘थैंक यू’ कहें। इस बात के पीछे का लॉजिक यह है कि आप सुबह को जब धन्यवाद देंगे तो आपके मन में ये सोच आएगी कि आज आप जो भी है एक नई सुबह के कारण हैं। इसेक अलावा आप अपने से जुड़े सभी लोगों के प्रति भी कृतज्ञा दिखा सकते हैं, जिनके कारण आपकी जिंदगी आसान हुई है। इससे आपको अंदर से अच्छा लगेगा। 

हर सुबह सिर्फ एक गोल सेट करें

एक आम व्यक्ति पूरे दिन के लिए कई काम करने का गोल सेट करता है। ऐसे में डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति के लिए एक साथ कई कामों के लिए गोल सेट करना कठिन हो सकता है। इससे वह और भी ज्यादा डिप्रेस्ड हो सकता है। इस तरह के डिप्रेशन से बचने के उपाय में आप पूरे दिन में सिर्फ एक ही काम करें, इसलिए किसी एक मुख्य काम का गोल सुबह ही सेट कर लें। फिर पूरे दिन उसी गोल को पूरा करने की कोशिश करें। ये गोल कुछ भी हो सकता है, जैसे- किताबें पढ़ना, खाना बनाना, सफाई करना आदि।

और पढ़ेंः क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

खुद को कहें ‘आई लव माइसेल्फ’

खुद से प्यार करना और खुद पर भरोसा करना सबसे जरूरी है, जो कि डिप्रेशन से बचने के उपाय में से एक है। यदि आपको खुद से ही प्यार नहीं होगा और आप अपने पर भरोसा नहीं करेंगे तो कोई भी दूसरा व्यक्ति आप पर कैसे भरोसा करेगा? इसलिए खुद को दूसरों से कम आंकना बंद करें। डिप्रेशन से बचने के उपाय का महत्वपूर्ण बिंदु है कि खुद को काबिल समझें और लगातार बेहतर बनाने की कोशिश करें। सुसाइड या अपने आप को नुकसान पहुंचाने वाले विचार दिमाग में न लाएं। इसके लिए आप खुद से ही खुद को कहें ‘आई लव माइसेल्फ’।

अपने दोस्त के साथ बनाएं मॉर्निंग प्लान

दोस्त हर मर्ज की दवा है, ऐसा तो सुना ही होगा, लेकिन अब इस बात को आजमाने का वक्त आ गया है। क्योंकि डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति खुद को आइसोलेट और दुनिया से अलग कर लेता है। लोगों से मिलेंगे तो डिप्रेशन कम होगा। आपके करीबी दोस्त डिप्रेशन से बचने के उपाय हैं। रोज शाम को अपने दोस्त के साथ अगली सुबह का प्लान बनाएं और कुछ क्रिएटिव करें। अपने दोस्त के साथ मॉर्निंग वॉक पर जाएं। किसी स्पोर्ट्स में हिस्सा लें या दोस्त के साथ खेलें। 

सोशल एक्टिविटी में भाग लें

जब आप डिप्रेशन में होते हैं तो हर किसी से हर तरह की दूरी बनाना पसंद करते हैं। सोशल एक्टिविटी आपकी डिप्रेशन से निकलने में मदद कर सकती है। अकेले-अकेले रहकर आप और भी गंभीर मानसिक विकारों से ग्रसित हो सकते हैं। इसलिए कोशिश करें कि लोगों के बीच में रहें और अपने दिमाग को व्यस्त रखें। इसलिए डिप्रेशन से बचने के उपाय को अपनाएं।

सुबह की धूप में है डिप्रेशन से बचने के उपाय

सुबह की धूप से ब्रेन में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ाती हैं, जिससे आपका मूड अच्छा होता है। इसलिए जब भी समय मिले सुबह की धूप में समय बिताएं। कम से कम 15 मिनट धूप में रहें। धूप भी डिप्रेशन से बचने के उपाय में मददगार हो सकती है।

इस तरह आप डिप्रेशन से लड़ सकते हैं या इस परेशानी से जूझ रहे व्यक्ति की मदद कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फास्टिंग के दौरान डायबिटीज के मरीज रखें इन बातों का रखें ध्यान

डायबिटीज के मरीजों के लिए उपवास रखना थोड़ा रिस्की होता है, यह ब्लड शुगर लेवल को असंतुलित कर सकता है। इसलिए उन्हें उपवास में बहुत सावधानी बरतने की जरूरत है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन अगस्त 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Eliwel Tablet : एलिवेल टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एलिवेल टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एलिवेल टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Eliwel Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

डिप्रेशन से बचना है आसान, बस अपनाएं यह घरेलू उपाय

डिप्रेशन क्या है, डिप्रेशन, डिप्रेशन से बचने के घरेलू उपाय, डिप्रेशन के लक्षण, कैसे दूर रहें डिप्रेशन से, depression in hindi, home remedies for depression

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन जुलाई 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्यों और किसे है ऑस्टियो सार्कोमा कैंसर का खतरा ज्यादा?

सुशांत सिंह राजपूत एवं संजना स्टारर फिल्म 'दिल बेचारा' में Osteosarcoma cancer से पीड़ित हैं सुशांत। ऑस्टियो सार्कोमा कैंसर का खतरा किसे होता है सबसे ज्यादा?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लाफ्टर थेरेपी

लाफ्टर थेरेपी : हंसो, हंसाओं और डिप्रेशन को दूर भगाओं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
डूजेला 20 कैप्सूल

Duzela 20 Capsule : डूजेला 20 कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
LGBT community challenges,एलजीबीटी कम्यूनिटी चैलेंजेस

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
ओलिआंज प्लस Oleanz Plus

Oleanz Plus : ओलिआंज प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 19, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें