मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर किसी के लिए मन को शांत करने के उपाय जरूर जानने चाहिए। बिजी शेड्यूल के चलते हर किसी के आप अपने लिए समय निकाल पाना बहुत मुश्किल हो गया है। जब मन में हमेशा ये दुविधा रहती है कि क्या करें या क्या न करें, मन शांत नहीं रह पाता है। मन अशांत रहने के कारण हम कई बार बड़े फैसले नहीं ले पाते हैं और छोटी-छोटी बातों में गलतियां करते हैं। इन्हीं गलतियों से बचने और मन को शांत करने में मन को शांत करने के उपाय काफी लाभकारी हो सकते हैं। इसके लिए आपको सिर्फ अपने दिन भर का सिर्फ 15 से 30 मिनट का समय निकालने की जरूरत होती है।

मन को शांत करने के उपाय कैसे हैं लाभकारी?

शालिनी (बदला हुआ नाम) काफी समय से अपनी जिंदगी में अस्थिरता महसूस कर रही थीं। मन अप्रसन्न था और अच्छी जॉब में भी खतरा मडरा रहा था। शालिनी रात में सो नहीं पा रही थीं और किसी काम को करने में मन भी नहीं लग रहा था। स्ट्रेस और डिप्रेशन का लेवल भी बढ़ता जा रहा था। सिरदर्द, चेस्ट पेन और पेट में खराबी की समस्या शुरू हो गई। शालिनी ने डॉक्टर को दिखाया। जहां पर उनके डॉक्टर ने उन्हें मन को शांत करने के उपाय के बारे में बताया और उन्होनें स्ट्रेस मैनेजमेंट थेरिपी और योगा सेशन लेने की सलाह दी। कुछ ही समय बाद 20 मिनट का समय देकर शालिनी ने करीब 3 हफ्तों तक ब्रीथिंग टेक्निक और जप (chanting) की सहायता से अपनी समस्या का समाधान किया।

मन को शांत करने के उपाय क्यों बन गए हैं जरूरी?

हावी होता तनाव

आज के समय में तनाव होना एक आम बात बन गई है। यदि तनाव थोड़ा है तो उसे मैनेज किया जा सकता है, लेकिन जब तनाव अपने चरम पर होता है, तो शारीरिक समस्याओं के साथ-साथ मानसिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। इन समस्याओं को अपने ऊपर हावी होने देने से पहले ही हमें मन को शांत करने के उपाय अपनाकर इसका निदान कर लेना चाहिए। लंबे समय तक तनाव होने के कारण अनिद्रा, थकान, ध्यान की कमी, स्मृति हानि, शरीर में गंभीर दर्द, ज्यादा भोजन करना आदि जैसे समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ेंः डिप्रेशन ही नहीं ये भी बन सकते हैं आत्महत्या के कारण, ऐसे बचाएं किसी को आत्महत्या करने से

क्या होता है ध्यान या जाप (Chanting) करना?

ध्यान या जप को विश्व भर में अपनाया जा रहा है। ये तनाव से निपटने का कारगर तरीका है। जप या ध्यान का मतलब सिर्फ मंत्रों का उच्चारण करना नहीं होता है। यदि आप तनाव से छुटकारा पाना चाहते हैं तो ध्यान जरूर करें । तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें। एक नियम बना लें और उस नियम का पालन करें। अगर आपके पास ज्यादा समय नहीं है तो कुछ ही समय में ध्यान करें और इसे रेगुलर करें। मन में आए नकारात्मक विचार को भी ध्यान या जप की सहायता से दूर किया जा सकता है। जप करने के दौरान एकांत स्थांन चुनें। सांसों को कुछ समय के अंतराल में अंदर करें फिर बाहर छोड़े।

प्राचीन भारत की देन

मन को शांत करने के उपाय में ध्यान या जाप करने का तरीका प्राचीन भारत की देन मानी जाती है। भारतीय ग्रंथों और बेद-पुराणों में ध्यान और जाप के सहारे न सिर्फ अशांत मन को शांत किया जाता था, बल्कि इसे उच्च विद्या पाने का सबसे अच्छा स्त्रोत भी माना जाता था। ऋषि-मुनि ध्यान औप जाप के सहारे कई क्रूर राजाओं को उदार बनाते थे। जिनका एक उदाहरण खुद भगवान गौतम बुध्द को माना जाता है। जिन्होंने मन की शांति पाने के लिए अपने परिवार का भी मोह त्याग दिया था।

यह भी पढ़ेंः एडीएचडी का प्राकृतिक इलाज: इस तरह पेरेंट्स दूर कर सकते हैं बच्चों की यह बीमारी

ऐसे करें ध्यान

मन को शांत करने के उपाय करने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • जाप या ध्यान किसी पार्क, ध्यान केंद्र, मंदिर या अपने घर पर भी किया जा सकता है।
  • जाप या जप करने के लिए कम से कम 15 से 30 मिनट की आवश्यकता हो सकती है।
  • जाप का सही तरीका है कि आप अपनी रीढ़ की हड्डी के साथ पद्मासन मुद्रा में बैठें। इस दौरान शरीर को बिल्कुल सीधा रखें और दिमाग को स्थिर करने का प्रयास करें।
  • अब सिर को सामने की तरफ सीधा करें और आंखें बंद करें।
  • ध्यान रखें कि आप जिस भी कमरे या स्थान में ध्यान लगाने का प्रयास कर रहे हैं, वो एकदम शांत होना चाहिए। अगर आस-पास शोर-शराबे का माहौल होगा, तो आपको ध्यान लगाने में परेशानी हो सकती है। साथ ही, आपको इस दौरान अपने आस-पास की सभी नकारात्मक वस्तुओं और मन के विचारों को भी दूर करना होगा।
  • जाप करते समय आपको कुछ शब्दों या मंत्रों को मन में या धीरे-धीरे स्वर में बोलना होता है। जिससे आपका मन धीरे-धीरे शांत होने लगता है।
  • मंत्रों के अलावा आप सिर्फ “ओम” शब्द का भी जाप कर सकते हैं जो सार्वभौमिक एकता के साथ जुड़ा हुआ है और वर्षों से विभिन्न अध्ययनों में एक प्रभावी मंत्र बताया गया है।

विकल्प के तौर पर आप कोई भी मंत्र भी चुन सकते हैं। अपनी समस्याओं के हिसाब से भी मंत्र का चुनाव किया जा सकता है। यहां मन को शांत करने के उपाय के लिए कुछ मंत्र दिए गए हैं, जिन्हें भी आप जाप करते करते समय जप कर सकते हैंः

मन को शांत करने के उपाय वाले मंत्र

यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्माभ्यन्तरः शुचिः।

यह भी पढ़ेंः ओसीडी एंग्जायटी डिसऑर्डर के कारण क्या हैं?

कब करें जाप (Chanting)

ऐसा माना जाता है कि सुबह उठ कर जाप करना सही रहता है, लेकिन कई बार समय न मिलने पर जाप को शाम के समय भी किया जा सकता है। तनाव को जीवन से छूमंतर करने के लिए जप के लिए जरूर समय निकालें। बिना किसी डॉक्टर के ये कई बीमारियां (बीपी की समस्या, तनाव आदि) को जड़ से खत्म कर देता है।

एक्सपर्ट एडवाइज

हैलो स्वास्थ्य से ‘योग प्रयास ‘ की योगा एक्सपर्ट शुचि बंसल कहती हैं कि ध्यान करने से नकारात्मक विचार दूर होते हैं। जप आपके मन और दिमाग में आ रहे बुरे भावों को रिफ्लेक्ट कर देता है। बिजी लाइफ में थोड़ा सा समय निकाल कर सभी को ध्यान करना चाहिए। इसके फायदें आप कुछ ही समय बाद महसूस करेंगे। तानव की समस्या बढ़ने पर दवा लेने की सलाह दी जा सकती है। 

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर मन को शांत करने के उपाय या इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

बच्चा बार-बार छूता है गंदी चीजों को, हो सकता है ऑब्सेसिव-कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD)

क्या है अब्लूटोफोबिया, इस बीमारी से पीड़ित लोगों को क्यों लगता है डर?

पल में खुशी पल में गम, इशारा है बाइपोलर विकार का (बाइपोलर डिसऑर्डर)

छोटी से बात पर बेतहाशा खुशी हो सकती है मेनिया (उन्माद) का लक्षण

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

मानसिक मंदता (Mental Retardation) के कारण, लक्षण और निदान

मानसिक मंदता के कारण क्या हैं? बच्चों में मानसिक विकलांगता का एकमात्र उपचार काउंसलिंग है। बौद्धिक मंदता (mental disability) का इलाज रोगी की क्षमता को पूरी तरह विकसित करना है। Mental Retardation causes in hindi,

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

युवाओं में आत्महत्या के बढ़ते स्तर का कारण क्या है?

15 से 29 साल के युवाओं में आत्महत्या के कारण मौत को गले लगा लेते हैं। युवाओं में सुसाइड के कारण और निदान क्या है? खुदकुशी से निपटने के टिप्स के लिए पढें।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कैसे बचें वर्कप्लेस स्ट्रेस से?

वर्कप्लेस स्ट्रेस से आपकी मेंटल हेल्थ पर बुरा असर पड़ता है। ऑफिस स्ट्रेस के कारण, ऑफिस स्ट्रेस दूर करने के लिए म्यूजिकल ब्रेक लें। कार्यस्थल पर तनाव के कारण, stress at work causes in hindi, how to manage workplace stress in hindi

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मानसिक तनाव के प्रकार को समझकर करें उसका इलाज

मानसिक तनाव क्या है? स्ट्रेस के प्रकार और कारण को जानिए, क्रोनिक तनाव, तीव्र तनाव, एपिसोडिक तीव्र तनाव, के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं.....types of stresss in hindi

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Stress : स्ट्रेस

Stress : स्ट्रेस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
निगेटिव थॉट्स-Negative Thoughts

निगेटिव थॉट्स से कैसे बच सकते हैं?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
स्ट्रेस के फायदे

सिर्फ विलेन ही नहीं हीरो का भी रोल करता है स्ट्रेस, जानें स्ट्रेस के फायदे

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
तनाव दूर करने का उपाय

जीवन में आगे बढ़ने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट है जरूरी, जानें इसके उपाय

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
Published on मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें