क्या सचमुच शारीरिक मेहनत हमारी नींद तय करता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कई बार हमें लगता है कि शारीरिक गतिविधियों को बढ़ाने पर शरीर थक जाएगा और अच्छी नींद आएगी। लेकिन शायद आप नहीं जानते कि आपकी शारीरिक मेहनत आपकी नींद से सुधे जुड़ी हुई है। नेशनल स्लीप फाउंडेशन की रिपोर्ट के आधार पर अगर आप कंस्ट्रक्शन, फिटनेस या फिर शारीरिक तनाव से जुड़े किसी पेशे में हैं तो आपको बाकी लोगों के मुकाबले अधिक स्लीप डिस्टर्बेंस के होने की संभावना है। ऐसे में यह कहा जाना कि जी-तोड़ शारीरिक मेहनत करने से नींद अच्छी आती है तो यह सही नहीं होगा। क्योंकि हर व्यक्ति का शरीर अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया देता है।

यह भी पढ़ेंः ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

जरूरत से ज्यादा कोई भी चीज सही नहीं है

हर चीज जरूरत से अधिक मात्रा में शरीर के लिए और शरीर से जुड़ी किसी भी गतिविधि के लिए हानिकारक है। बहुत अधिक मात्रा में शारीरिक मेहनत नींद डिस्टर्ब कर सकती है, लेकिन बहुत अधिक बैठे रहना ओबेसिटी(Obesity) और डायबिटीज (Diabetes) पैदा कर सकता है। इसलिए बैलेंस बनाना बहुत जरूरी है। हालांकि, कई एक्सपर्ट्स इस बात को मानते हैं कि शारीरिक क्षमता की सीमा में किया गया परिश्रम शरीर में हॉर्मोन्स को सक्रिय रखने में मदद करता है और इस वजह से अच्छी नींद आती है।

यह भी पढ़ें – इन लक्षणों से पता चलता है कि आपकी नींद पूरी नहीं हुई है

शारीरिक मेहनत किस स्तर तक सही है

बाहर घूमना, शारीरिक मेहनत आपके शरीर और दिमाग के लिए बहुत अच्छा है और यह आपको रात की अच्छी नींद लेने में भी मदद कर सकता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए दिन में बहुत देर तक एक्सरसाइज करना या अधिक शारीरिक मेहनत रात में आराम करने के साथ हस्तक्षेप कर सकता है।

कैसे शारीरिक मेहनत सोने में मदद कर सकता है

शोधकर्ताओं ने पूरी तरह से यह नहीं समझा कि शारीरिक गतिविधि कैसे नींद में सुधार करती है। वह कहते हैं कि हम कभी भी उस बात को साफ नहीं कर पाएं है कि दोनों कैसे संबंधित हैं।

हालांकि हम जानते हैं कि मीडियम एरोबिक एक्सरसाइज से मिलने वाली धीमी तरंग आपकी नींद को बढ़ाता है। धीमी लहर नींद आपकी गहरी नींद को बताता है जहां मस्तिष्क और शरीर को फिर से जीवंत होने का मौका मिलता है। गेमाल्डो कहते हैं कि, ”अगर आप व्यायाम करते हैं इसका मतलब आप शारीरिक मेहनत कर रहे हैं। यह आपके मनोदशा को स्थिर करने और मन को रिजुविनेट करने में मदद कर सकता है। यह एक कॉगनेटिव प्रोसेस है जो स्वाभाविक रूप से नींद के लिए जरूरी है।”

यह भी पढ़ेंः एक्सरसाइज के बारे में ये फैक्ट्स पढ़कर कल से ही शुरू कर देंगे कसरत

शारीरिक मेहनत की टाइमिंग हैं जरुरी

गमाल्डो कहते हैं कि कुछ लोगों को लग सकता है कि सोने के समय के पास एक्सरसाइज करने से उन्हें रात में नींद नहीं आती है। वर्कआउट करने से दिमाग पर क्या असर पड़ता है?

एरोबिक एक्सरसाइज शरीर से एंडोर्फिन रिलीज करता हैः ये केमिकल दिमाग में एक्टिविटी का एक स्तर बना सकते हैं जो कुछ लोगों को जगाकर रखता है। वह कहती हैं कि इन व्यक्तियों को बिस्तर पर जाने से कम से कम 1 से 2 घंटे पहले एक्सरसाइज या शारीरिक मेहनत करनी चाहिए जिससे एंडोर्फिन के स्तर को नॉर्मल होने का समय मिले और दिमाग को सोने में आसानी हो।

व्यायाम आपके शरीर के तापमान को भी बढ़ाता हैः “कुछ लोगों में शारीरिक मेहनत का प्रभाव एक हॉट बाथ लेने जैसा है जो आपको सुबह उठाता है।” गेमाल्डो कहते हैं शरीर के तापमान में बढ़त शरीर की घड़ी को बताता है कि यह जागने का समय है। लगभग 30 से 90 मिनट के बाद, शरीर का तापमान गिरने लगता है। गिरावट नींद लाने के लिए मदद करती है।

व्यायाम करने के लिए इन बायोलॉजिकल रिस्पॉन्स के बावजूद लोगो को लगता है कि दिन के किस समय वे व्यायाम करते है या नहीं करते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। गामाल्डो कहते हैं चाहे वह सुबह की शुरुआत हो या सोने के समय के करीब वे हो शारीरिक मेहनत का असर वो अपनी नींद में देखेंगे। अपने शरीर को जानें और अपने आप को जानें और समझें कि किस समय एक्सरसाइज करना आपके शरीर के लिए बेहतर है और किस समय एक्सरसाइज करना आपके शरीर के लिए नुकसानदायक।

यह भी पढ़ेंः फिटनेस के बारे में कितना जानते हैं, इस क्विज को खेलें और जानें।

बेहतर नींद के लिए शारीरिक मेहनत कितना चाहिए

रोगी अक्सर पूछते हैं कि बेहतर नींद के लिए उन्हें कितने शारीरिक मेहनत की जरुरत है और इस लाभ का अनुभव करने में उन्हें कितने सप्ताह महीने या साल लगेंगे।

अच्छी खबर: जो लोग कम से कम 30 मिनट के मीडियम एरोबिक व्यायाम या शारीरिक मेहनत करते है उन्हें उसी रात नींद की गुणवत्ता में अंतर दिखाई दे सकता है। डॉक्टर कहते हैं आम तौर पर इसके लाभ को देखने के लिए महीनों या सालों का समय नहीं लगता है। इसके अलावा लोगों को यह भी नहीं लगना चाहिए कि उन्हें बेहतर नींद के लिए किसी मैराथन या बहुत अधिक शारीरिक मेहनत की जरुरत है। बेहतर स्लीपर बनने के लिए आपको किसी ट्रेनिंग की जरूरत नहीं होती। शारीरिक मेहनत किसी भी तरह की हो सकती है चाहें वह एरोबिक्स हो या रनिंग हो या साइकलिंग हो।

इसके अलावा जबकि कई शोध एरोबिक एक्टिविटी और नींद पर फोकस करते हैं। गेमाल्डो कहते हैं कि आप जो व्यायाम पसंद करते हैं वह आपको साथ रहने में मदद करेगा। उदाहरण के लिए, पावर लिफ्टिंग या एक एक्टिव योगा क्लास आपके दिल की दर को बढ़ा सकती है जो दिमाग और शरीर में बायोलॉजिकल प्रोसेस को बनाने में मदद करती है जो बेहतर गुणवत्ता वाली नींद में मदद करती है। डॉक्टर कहते हैं कि हम वास्तव में लोगों को व्यायाम करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहते हैं बस समय का ध्यान रखें और नींद की गुणवत्ता अच्छी करने के लिए यह आपकी क्षमता को प्रभावित करता है।

यह भी पढ़ेंः पुश अप वर्कआउट फिटनेस के साथ बढ़ाता है टेस्टोस्टेरॉन, जानें इसके फायदे

क्या है निष्कर्ष?

अंततः ये माना जा सकता है कि हर शरीर की अपनी क्षमता होती है। अगर उस क्षमता से अधिक काम किया जाता है तो मांसपेशियों में अकड़न आ जाती है, जिसकी वजह से समस्याएं हो सकती है। यह समस्याएं आपकी सामान्य नींद को भी प्रभावित कर सकती हैं। इसके विपरीत अगर आप अत्यधिक सुस्त हैं तो भी आपकी नींद पर गलत प्रभाव पड़ सकता है।

शारिरीक मेहनत के निम्नलिखत फायदे होते हैं

  • बढ़ा हुआ कॉन्सेंट्रेशन
  • हॉर्मोनल बैलेंस का बना रहना।
  • मोटापा घटने से शरीर हल्का रहता है और अच्छी नींद आती है।
  • शरीर को सुगठित रखने के लिए भी सक्रिय रहना और शारीरक लेबर बहुत जरूरी है।
  • बहुत अधिक श्रम आपको परेशानी में डाल सकता है लेकिन सीमित मात्रा में श्रम निश्चित ही आरामदायक नींद प्रदान कर सकता है।

सक्रिय रहें, स्वस्थ रहें!

यह भी पढ़ें: किन वजहों से हमें रातों को नींद नहीं आती है?

बेहतर नींद के लिए नहाना है कितना फायदेमंद ?

अच्छी नींद के जरूरी है जानना ये बातें, खेलें और जानें

लेबर के दौरान मूवमेंट से क्या लाभ होता है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

स्लीप हिप्नोसिस क्या है, स्लीप हिप्नोसिस कैसे किया जाता है, गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कैसे करें, deep sleep hypnosis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
स्लीप, स्वस्थ जीवन अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Quiz : बच्चों की नींद के लिए क्या है जरूरी?

बच्चों को अच्छी नींद ऐसे में माता-पिता क्या करें?

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
क्विज फ़रवरी 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

ज्यादा सोने के नुकसान (Oversleeping) क्या हैं, क्या आपको भी है ज्यादा सोने की आदत? ज्यादा सोने से हो सकते हैं ये नुकसान, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। ज्यादा सोने के नुकसान in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

स्लीप हाइजीन को भी समझें, हाइपर एक्टिव बच्चों के लिए है जरूरी

स्लीप हाइजीन क्या है, स्लीप हाइजीन के लिए जरुरी टिप्स, Sleep hygiene in kids, कैसे करें बच्चों की नींद को ठीक से मैनेज, बच्चों के लिए जरुरी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग दिसम्बर 5, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
नींद की गोली

इंसोम्निया में मददगार साबित हो सकती हैं नींद की गोली!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
प्रकाशित हुआ मई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न

महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न क्यों होते हैं अलग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें