home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इन लक्षणों से पता चलता है कि आपकी नींद पूरी नहीं हुई है

इन लक्षणों से पता चलता है कि आपकी नींद पूरी नहीं हुई है

अच्छी नींद अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है,नींद पूरी न होने पर बहुत से हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं। इस आर्टिकल में जानें उन लक्षणों के बारे में जिनसे साफ पता चलता है कि आप की नींद पूरी नहीं हो रही है या आप पर्याप्त नींद नहीं ले रहे हैं। इन लक्षणों को जानकर आप अपनी नींद को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर सकते हैं या किसी मेडिकल एक्सपर्ट की मदद ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें: क्या आप भी नींद भगाने के लिए पीते हैं कॉफी? आज से शायद बदल जाए आपका नजरिया !

नींद पूरी न होना का लक्षण है दिन भर की थकान

अगर आप रात को नहीं सोते हैं तो संभव है कि आपको दिनभर थकान का एहसास होगा। साथ ही आपको किसी भी काम में ध्यान केंद्रित करने में भी परेशानी हो सकती है। नींद पूरी नहीं होने का यह प्रमुख लक्षण है।

नींद पूरी न होना का लक्षण है अवसाद, एंजाइटी और चिड़चिड़ापन

एक्सपर्ट्स मानते हैं कि सही मात्रा और सही समय पर नींद न लेने से शरीर में हॉर्मोन्स की मात्रा में असंतुलन आ जाता है। इसकी वजह से अवसाद, एंग्जाइटी और चिड़चिड़ापन हो सकता है।

यह भी पढ़ें – क्यों हमारी नींद जल्दी नहीं खुलती? जानें कैसे इससे बचा जा सकता है

नींद पूरी न होना का लक्षण है दैनिक जीवनशैली में बहुत सी गलतियां होना और किसी भी काम में ध्यान न लगा पाना

जाहिर सी बात है अगर आपका दिमाग थका हुआ है तो कहीं भी ध्यान केंद्रित कर पाना बहुत ही मुश्किल काम है। आप चाहकर भी किसी काम में ध्यान केंद्रित नहीं कर पाएंगे।

नींद पूरी न होना का लक्षण है बहुत अधिक गुस्सा आना

कई बार ऐसा होता है कि न सोने से आपका मूड खराब रहता है और जिन बातों पर आप आमतौर से ध्यान नहीं देते हैं आपको उन बातों पर भी गुस्सा आता है और आप बेवजह चिड़चिड़े रहते हैं।

नींद पूरी न होना का लक्षण है तनाव बढ़ना

न सोने से मानसिक एवं शारीरिक दोनों तनावों में वृद्धि होती है। एक्सपर्ट्स तो ये भी मानते हैं कि न सोने से आपके शरीर का मेटाबॉलिज्म बिगड़ जाता है जिसकी वजह से बहुत सी समस्याएं जैसे पाचन प्रक्रिया में विकार, सिर दर्द या अवसाद भी हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें : दोपहर में क्यों आती है नींद? क्या दोपहर में सोने के फायदे भी हैं?

नींद पूरी न होना का लक्षण है बहुत अधिक भूख लगना या भूख न लगना

मेटाबॉलिज्म बिगड़ने की वजह से आपको कई बार बहुत अधिक भूख लगेगी और कभी-कभी आपको कुछ भी खाने का मन नहीं करेगा। इस तरह की स्थिति में आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और स्लीप साइकिल सुधारने की भी कोशिश करनी चाहिए।

नींद पूरी न होना का लक्षण है हार्ट अटैक, डायबिटीज और स्ट्रोक होने की संभावनाओं का बढ़ना

हार्ट संबंधी बीमारियों का एक मुख्य कारण बढ़ा हुआ तनाव भी है। जब आप कम सोते हैं तो मानसिक तनाव बढ़ता है, जिसकी वजह से बहुत सी परेशानियां आ सकती हैं। साथ ही मेटाबॉलिज्म खराब होने से शुगर की मात्रा में भी बदलाव आ जाता है, जिससे डायबिटीज हो सकता है।

अच्छी सेहत के लिए नींद बहुत ही महत्त्वपूर्ण है इसलिए अगर आप नींद से जुड़ी किसी समस्या से जूझ रहें हैं तो एक्सपर्ट से सलाह लें और इसका समाधान करें जिससे आगे चलकर कोई बड़ी समस्या न हो।

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि नींद पूरी न होने के कारण कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप बेहतर नींद लें और अच्छे से सोएं। अगर आपको नींद न आने की समस्या है तो नीचे बताए गए तरीके आजमा सकते हैं, जिससे आपको अच्छी नींद आएगी और आप अच्छी नींद ले सकेंगे।

सोने से पहले गर्म पानी से शॉवर लें

आप सोने से पहले गर्म पानी से शॉवर लें। गर्म पानी से शॉवर लेने से आपकी दिन की सारी थकान उतर जाएगी और आपको अच्छी नींद आने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें : इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

दिन में ज्यादा न सोएं

दिन में एक पावर नैप लेना अच्छा होता है, लेकिन आप ज्यादा देर के लिए दिन में न सोएं। दिन में देर तक सोने से आपकी रात की नींद प्रभावित हो सकती है और आप रात भर नींद न आने के कारण परेशान हो सकते हैं।

एक्सरसाइज करें

जी हां, एक्सरसाइज आपके नींद के पैटर्न में काफी सकारात्मक बदलाव ला सकती है। अगर आप चाहते हैं कि आप बेहतर नींद लें, तो नियमित रूप से व्यायाम करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आप चाहें तो जिम जॉइन करें, योगा करें या फिर घर में ही एक्सरसाइज करना भी आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है।

अच्छा म्यूजिक सुनें

रात को सोने से पहले आप कोई सॉफ्ट म्यूजिक लगाकर सुन सकते हैं। इससे आपके दिमाग को शांति मिलेगी और आप अच्छी नींद ले पाएंगे। आप चाहें तो कोई हल्का सा म्यूजिक लगा लें या चाहें तो कुछ भक्ति से संबंधित गीत भी सुन सकते हैं। आपको बेहतर महसूस होगा।

यह भी पढ़ें : जानें क्या है गहरी नींद की परिभाषा, इस तरह से पाएं गहरी नींद और रहें हेल्दी

इलेक्ट्रॉनिक उपकरण दूर रखें

आपको बता दें कि आपके आसपास मौजूद इलेक्ट्रॉनिक उपकर से हानिकारक रेज निकलती हैं, जो आपके शरीर और लाइफस्टाइल को बुरी तरह से प्रभावित कर सकती हैं। इसलिए इस बात का खास ख्याल रखें कि आप जब भी सोएं, तो लैपटॉप, मोबाइल जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण खुद से काफी दूर रखें। इसके लिए आप चाहें तो इन्हें अलमारी में लॉक कर के भी रख सकते हैं।

गर्म दूध पीकर सोएं

आप रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध पीकर सो सकते हैं। इससे भी आपको अच्छी नींद आने में मदद मिलेगी। आप चाहें तो एक गिलास दूध में थोड़ी-सी हल्दी डालकर पिएं, आपको अच्छा महसूस होगा।

कमरे में अच्छी तरह अंधेरा कर लें

कई लोगों को नींद इसलिए भी नहीं आती, क्योंकि उनके कमरे की लाइट बंद नहीं होती। कारण चाहे कुछ भी हो, अगर आप कमरे में अच्छी तरह अंधेरा करके सोएंगे, तो आपको अच्छी नींद आने में मदद मिलेगी। इस तरीके को अपनाकर भी अच्छी नींद ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें:-

ऑफिस मे नींद से बचने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय

नींद और सपने से जुड़ी मजेदार बातें

जानें क्या है गहरी नींद की परिभाषा, इस तरह से पाएं गहरी नींद और रहें हेल्दी

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Suniti Tripathy द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/07/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x