सोशल मीडिया और टीनएजर्स का उससे अधिक जुड़ाव मेंटल हेल्थ के लिए खतरनाक

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सोशल मीडिया और टीनएज का उसके प्रति अत्यधिक लगाव एक समस्या बनता जा रहा है। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ब्रिटिश साइकोलॉजिकल सोसाइटी ने इस बारे में जानकारी दी है। जी हां ! ब्रिटिश साइकोलॉजिकल सोसाइटी के अनुसार करीब 90 प्रतिशत टीनएज इस वक्त सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं। इसका मतलब साफ है कि बड़ी संख्या में टीनएज अपना अधिकांश वक्त गैजेट्स और ऑनलाइन रहने में गुजार रहे हैं। कहीं दूर जाने या फिर बहुत कुछ सोचने की जरूरत नहीं है। अगर आप किशोरावस्था से गुजर रहे हैं और इस खबर को पढ़ रहे हैं तो सोचिए जरा, आपका दिनभर और आधी रात तक का समय कहां जाता है? आपको जवाब मिल जाएगा। क्योंकि ज्यादातर टीनएजर्स अपने दिन का ज्यादातर वक्त व्हाट्सएप स्टेटस अपडेट करने में, फेसबुक में फ्रेंड्स की एक्टिविटी चेक करने में, टि्वटर में रोजाना नया कुछ अपडेट लेने के लिए या फिर इंस्टाग्राम चेक करने में गुजार देते हैं।

सोशल मीडिया और टीनएज, इसे ऐसे समझें

आप ऐसे अकेले नहीं हैं, क्योंकि ज्यादातर टीनएजर्स का समय इन सब एक्टिविटी में ही गुजरता है। लेकिन क्या आपको पता है कि सोशल मीडिया और टीनएज में इसका अत्यधिक उपयोग मेंटल हेल्थ पर बुरा प्रभाव डाल रहा है? अगर आपको ये बात सच नहीं लग रही है तो अब आपको सतर्क हो जाना चाहिए। टीनएज में सोशल मीडिया का अधिक उपयोग मानिसक स्वास्थ्य को डैमेज करने का काम कर रहा है। वर्ल्ड टीन मेंटल इलनेस डे के मौके पर जानिए कि आखिर सोशल मीडिया का टीनएर्जस पर क्या बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें : इस साल ऑनलाइन गेम के चलते कई लोग हुए मौत के शिकार, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

सोशल मीडिया और टीनएज : समय के साथ बढ़ जाता है रिस्क

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

टीचर्स डे: ऑनलाइन क्लासेज से टीचर्स की बढ़ती टेंशन को दूर करेंगे ये आसान टिप्स

लॉकडाउन में टीचर्स का मानसिक स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ रहा है? ऑनलाइन क्लासेज के लिए मोबाइल और कंप्यूटर का अत्यधिक उपयोग करने से कई तरह की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं....covid-19 lockdoen and teachers' mental health in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Pedophilia : पीडोफिलिया है एक गंभीर मानसिक बीमारी, कहीं आप भी तो नहीं है इसके शिकार

पीडोफिलिया क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर का कारण क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर के लक्षण, इलाज, बच्चे के प्रति यौन आकर्षण, बाल यौन शोषण, pedophilia, paedophilia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

एलजीबीटी कम्युनिटी चैलेंजेस के दौरान समुदाय के लोगों को न केवर घर में बल्कि घर के बाहर भी भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए समुदाय के चैलेंज के बारे में। lgbt community challenges

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

मेंहदी और मानसिक स्वास्थ्य का है सीधा संबंध, जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

मेंहदी और मानसिक स्वास्थ्य का क्या संबंध है, मेंहदी डिजाइन, मेंहदी कैसे लगाएं, मेंहदी का आयुर्वेद में उपयोग, Mehandi and Mental Health

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें