डायबिटीज है! इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का कर सकते हैं सेवन, लेकिन डॉक्टर के इजाजत के बाद!

    डायबिटीज है! इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का कर सकते हैं सेवन, लेकिन डॉक्टर के इजाजत के बाद!

    डायबिटीज (Diabetes) …खाने-पीने पर रोक और दूसरी बीमारियों की दस्तक का खतरा बना रहना। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को बैलेंस बनाये रखना सबसे ज्यादा जरूरी है, जिससे डायबिटीज पेशेंट स्वस्थ रह सकते हैं। इसलिए आज इस आर्टिकल में इन्सुलिन प्लांट (Insulin plant) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी शेयर करने जा रहें हैं, जिसके सेवन से
    डायबिटीज रह सकता है बैलेंस और आप रह सकते हैं फिट! डायबिटीज में इन्सुलिन प्लांट के सेवन (Insulin plant for diabetic) को समझेंगे, लेकिन डायबिटीज (Diabetes) के शिकार लोग क्यों हो रहें हैं, इसे समझते हैं। दरअसल मेरा मानना है कि अगर बीमारी की सही जानकरी होने से बीमारी को दूर करने का रास्ता शुरू होता है।

    और पढ़ें : डायबिटीज पेशेंट हैं, तो विटामिन सी सप्लिमेंट्स के सेवन से इम्यूनिटी को बना सकते हैं स्ट्रॉन्ग!

    डायबिटीज (Diabetes) क्या है?

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया (Insulin plant Stevia)

    बदलती लाइफ स्टाइल और बदलते खानपान का असर या यूं कहें कि नेगेटिव इम्पैक्ट शरीर पर पड़ना तय माना जाता है। बिगड़ते खानपान और अनहेल्दी एक्टिविटी जैसे फिजिकल एक्टिविटी ना करना, बच्चों का ज्यादा वक्त टीवी, कम्प्यूटर या मोबाइल के साथ गुजारना कहीं ना कहीं शारीरिक परेशानियों को दावत देने जैसा है। ऐसे में डायबिटीज की बीमारी भी दस्तक दे सकती है। यूनियन मिनस्ट्री ऑफ फेमली एंड हेल्थ वेलफेयर (Union Ministry of Family and Health Welfare) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार भारत के रूरल एरिया में रह रहें 9.3 प्रतिशत बुजर्गों में डायबिटीज में समस्या हाल ही में रजिस्टर किये गए हैं। डायबिटीज की समस्या हर उम्र के लोगों को देखी जा रही है। डायबिटीज की समस्या में पेन्क्रियाज में मौजूद बीटा सेल्स इन्सुलिन का उत्पादन बंद कर देते हैं। ऐसी स्थिति में ब्लड ग्लूकोज लेवल बढ़ जाता है। अगर ज्यादा दिनों तक ऐसी स्थिति बनी रहे, तो ब्लड में कीटोन्स का निर्माण होने लगता है, जो किसी भी व्यक्ति के लिए नुकसानदायक हो सकता है। हालांकि ऐसा नहीं है कि डायबिटीज को कंट्रोल नहीं किया जा सकता है। आज आर्टिकल में डायबिटीज में इन्सुलिन प्लांट (Insulin plant) का सेवन कैसे लाभकारी हो सकता है।

    और पढ़ें : डायबिटीज टाइप 2 में इंसुलिन इंजेक्शन से जुड़ी जानकरी!

    और पढ़ें : डायबिटिक नेफरोपैथी में एसीई इनहिबिटर्स ड्रग्स से जुड़ी जानकारी है यहां!

    डायबिटीज पेशेंट के लिए इन्सुलिन प्लांट (Insulin plant Stevia) क्यों लाभकारी माना जाता है?

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन डायबिटीज के पेशेंट कर सकते हैं। इन्सुलिन प्लांट स्टीविया के सेवन से ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) नहीं बढ़ता है। वहीं स्टीविया हाय ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure), एसिडिटी (Acidity) की समस्या या स्किन रिलेटेड प्रॉब्लम को दूर करने के साथ-साथ कई अन्य रोगों के इलाज में कारगर माना गया है। अगर बाजार में मिलने वाली शुगर फ्री प्रॉडक्ट्स (Sugar free products) पर मेंशन की गई इंग्रीडिएंट्स पर गौर करें, तो ज्यादातर शुगर फ्री प्रॉडक्ट्स में स्टीविया (Stevia) का ही इस्तेमाल किया जाता है। स्टीविया का स्वाद नैचुरली मीठा होने की वजह से यह डायबिटीज मरीजों के लिए लाभकारी माना जाता है

    और पढ़ें : Diabetes and Depression: डायबिटीज और डिप्रेशन का क्या है कनेक्शन, जानिए यहां

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया (Insulin plant Stevia) में कौन-कौन से न्यूट्रिशन हैं मौजूद?

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया में निम्नलिखित पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं, जो डायबिटीज पेशेंट के लिए हेल्दी माने जाते हैं। जैसे:इन्सुलिन प्लांट के रूप में प्रसिद्ध स्‍टीविया का उपयोग मिठास के लिए किया जाता है। स्टीविया में एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) जैसे कि फलेवोनोइड्स (Flavonoids), ट्राइटरपेन्‍स (Triterpenoid), टैनिन, कैफिक एसिड, कैफीनोल और क्वेरसेटिन जैसे कई अन्य पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। वहीं इस इन्सुलिन प्लांट में फाइबर, प्रोटीन, आयरन, पोटैशियम, सोडियम, विटामिन ए (Vitamin A) और विटामिन सी (Vitamin C) की भी अच्छी मात्रा मौजूद होती है। सेहत के फायदों के लिए इसमें छोटे कार्बनिक यौगिक भी मुख्‍य भूमिका निभाते हैं। इसलिए इसे डायबिटीज के मरीजों के लिए बेहद लाभकारी माना गया है।

    और पढ़ें : कहीं बढ़ता ब्लड शुगर लेवल हायपरग्लायसेमिक हायपरोस्मोलर सिंड्रोम का कारण ना बन जाए?

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन कैसे करें? (Use of Insulin plant Stevia)

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया (Insulin plant Stevia)

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन निम्नलिखित तरह से किया जा सकता है। जैसे:

    • डायबिटीज पेशेंट अपने चाय (Tea) या कॉफी (Coffee) में स्‍टीविया के पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। स्‍टीविया पाउडर मिलाने से चाय या कॉफी का स्वाद फीका नहीं लगेगी।
    • अगर आप नींबू (Lemon), पानी (Water) और चीनी (Sugar) की शिंकजी पीने के शौकीन हैं और इसका सेवन चीनी की वजह से नहीं कर पाते हैं, तो आप इस शिंकजी में चीनी की स्‍टीविया पाउडर मिलाकर पी सकते हैं।
    • लंच या डिनर में स्‍टीविया की हरी ताजी पत्तियों को स्प्रिंकल कर सकते हैं, जो खाने की चीजों को इनहेंस करने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी बनाने में सहायक माना जाता है।
    • अगर आप दूध (Milk) या दही (Curd) में चीनी डालकर खाना मिस कर रहें हैं, तो आप चीनी की जगह स्‍टीविया पाउडर मिलाकर खा सकते हैं।

    किसी भी मीठे खाने या पीने की चीजों में स्‍टीविया की पत्तियां या स्‍टीविया पाउडर को मिक्स किया जा सकता है और खाने के स्वाद को बढ़ाया जा सकता है। यही खासियत है इन्सुलिन प्लांट स्टीविया की।

    और पढ़ें : नींद न आने की समस्या और डायबिटीज जानिए कैसे हो सकती है आपके लिए खतरनाक?

    डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अपने आहार का विशेष ख्याल रखना चाहिए। नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और जानिए डायबिटीज और डायट (Diabetes and diet) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी।

    और पढ़ें : डायबिटीज के 3पीs यानी कि डायबिटीज के तीन प्रमुख लक्षण, क्या हैं जानते हैं?

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of Insulin plant Stevia)

    इन्सुलिन प्लांट स्टीविया के साइड इफेक्ट्स निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन जरूरत से ज्यादा करने पर बॉडी में ऐंठन (Cramp) और सूजन (Swelling) की समस्या हो सकती है।
    • स्टीविया की पत्तियों के सेवन से सिरदर्द (Headache) या चक्कर आने की समस्या हो सकती है।
    • इन्सुलिन प्लांट स्टीविया के सेवन से उल्टी, मतली या पेट दर्द (Stomach pain) जैसी तकलीफों का सामना करना पड़ सकता है।
    • रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन गर्भवती महिलाएं (Pregnant lady) भी कर सकती हैं, लेकिन डॉक्टर से पहले सलाह जरूर लें।
    • इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का सेवन महिला या पुरुष दोनों में इनफर्टिलिटी (Infertility) का कारण भी बन सकता है।

    इन ऊपर बताई गई बातों का ध्यान रखें की इन्सुलिन प्लांट स्टीविया (Insulin plant Stevia) का सेवन कैसे करना चाहिए और हां, डॉक्टर से भी इसके सेवन से पहले सलाह जरूर लें।

    आयुर्वेद से जुड़े रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार स्टीविया (Stevia) नैचुरली मीठा होने की वजह से इसे हनी प्लांट (Honey plant) भी कहा जाता है। इसका उपयोग विशेषरूप से डायबिटीज के रोगियों के लिए औषधीय टॉनिक के रूप में किया जाता है। दरअसल इसके सेवन से पैंक्रियाज से इंसुलिन रिलीज होता है, जो शरीर में ग्लूकोज की मात्रा को अवशोषित कर शरीर में ब्लड शुगर (Blood sugar) को नियंत्रित करता है। हालांकि अगर आप डायबिटीज (Diabetes) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं, तो डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपके हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर डायबिटीज में इन्सुलिन प्लांट (Giloy for diabetes patients) के सेवन की सलाह देंगे।

    स्वस्थ रहने के लिए अपने दिनचर्या में नियमित योगासन करें। योग से जुड़ी खास जानकारी और योग को कैसे अपने जीवन में नियमित शामिल किया जा सकता है, ये बता रहीं हैं नीचे दिए इस वीडियो लिंक में योगा एक्सपर्ट पारमिता सिंह।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Insulin Plant/https://defeatdiabetes.org/resources/healthful-eating/mindful-eating/insulin-plant/Accessed on 16/07/2021

    Insulin Plant/http://www.stuartxchange.org/InsulinPlant/Accessed on 16/07/2021

    Antidiabetic activity of insulin plant (Costus igneus) leaf extract in diabetic rats./https://www.cabdirect.org/cabdirect/abstract/20103155496/Accessed on 16/07/2021

    INSULIN PLANT : CHAMAECOSTUS CUSPIDATUS (Costus igneus Nak )/https://www.ijcrt.org/papers/IJCRT2008206.pdf/Accessed on 16/07/2021

    Effect of the insulin plant (Costus igneus) leaves on dexamethasone-induced hyperglycemia/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2924971/Accessed on 16/07/2021

    Has stevia been approved by FDA to be used as a sweetener/https://www.fda.gov/aboutfda/transparency/basics/ucm194320.htm/Accessed on 16/07/2021

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/02/2022 को
    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड