home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

एक्सट्रा एक्टीविटीज मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ाने में कर सकती हैं मदद

एक्सट्रा एक्टीविटीज मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ाने में कर सकती हैं मदद

प्राचीन यूनानियों और भारतीयों ने मन और शरीर के बीच स्पष्ट संबंध को मान्यता पहले ही दे दी थी। लेकिन पश्चिमी चिकित्सा को इस धारणा को अपनाने में लंबा समय लगा । विज्ञान बार-बार दिखाता है कि आपके शारीरिक स्वास्थ्य और आपके मानसिक स्वास्थ्य के बीच एक मजबूत संबंध है। कभी-कभी, सबसे अच्छे उपचार में आपके शरीर के साथ कुछ अलग करना शामिल होता है, ना कि हर बार दिमाग पे ही बल डाला जाए। यदि आप मानसिक संकट से जूझ रहे हैं, तो समस्या के इलाज के कई तरीके हैं। यहां पांच सरल तरीके हैं, जिनको अपाकर आप अपनी मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ा सकते है। जानिए मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए एक्टीविटीज को कैसे अपनाया जा सकता है।

1. अपने अवसाद (Depression) को कम करने के लिए करें वॉक

कई अध्ययनों से पता चलता है कि शारीरिक गतिविधि मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए एक प्रभावी उपचार हो सकता है। इसके लिए आपको तीव्र कार्डियो गतिविधि करना भी जरूरी नहीं है। प्रति सप्ताह 200 मिनट चलना (जो प्रति दिन 30 मिनट से कम है) अवसाद (Depression) को कम करता है । जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता है। वास्तव में, कुछ अध्ययन दिखाते हैं कि चलना एंटीडिप्रेसेंट दवा के रूप में प्रभावी हो सकता है। चलने के मानसिक स्वास्थ्य लाभों का अनुभव करने के लिए उदास होने की जरूरत नहीं है। नियमित सैर करने से ऐसे लोगों में भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है, जो अक्सर अवसाद में रहते है।

और पढ़ें : बच्चे के अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है परिवार

2. शारीरिक दर्द को कम करने के लिए मुस्कुराओ

शोधकर्ताओं ने पाया कि पुरानी कहावतों के पीछे कुछ सच्चाई है, “मुस्कराहट और सहन।” यदि आप दर्द में हैं, तो मुस्कुराहट आपके दर्द को कम महसूस करने में मदद कर सकती है। दूसरी ओर नाराजगी, आपके दर्द को तेज कर सकती है। अध्ययन से पता चलता है कि मुस्कुराना आपकी शारीरिक स्थिति को प्रभावित करता है। एक मुस्कान एक तनावपूर्ण गतिविधि के दौरान आपके दिल की दर को कम कर सकती है, भले ही आप खुश महसूस न करें। तो अगली बार जब आप एक दर्दनाक प्रक्रिया से गुज़रने वाले हों, तो किसी खुशनुमा या ख्याली या मजेदार बातों के बारे में सोचे । फिर शायद कोई भी दर्दनाक या तकलिफ देने वाली चीज आपको उतनी तकलिफ नहीं दे पाएगी

और पढ़ें :हर्बल बाथ के फायदे: बॉडी रिलैक्स से लेकर मेंटल स्ट्रेस तक

3. गहरी सांस लेने से पहुंचेगा फायदा

कुछ मिनटों की गहरी सांस लेने से आपकी एकाग्रता बेहतर हो सकती है। यदि आप एक भारी मीडिया मल्टी-टास्कर्स हैं, तो उन साँसों की गिनती करना विशेष रूप से फायदेमंद हो सकता है।अध्ययन ऐसे लोगों को दिखाता है जिन्हें बहु-कार्य में परीक्षण लेने या गतिविधियों को करने में परेशानी होती है जिन्हें निरंतर एकाग्रता की आवश्यकता होती है। कुछ गहरी साँसें लेने से फ़ोकस में तुरंत बढ़ावा मिल सकता है, जिससे प्रदर्शन में सुधार हो सकता है।

और पढ़ें : बच्चों के लिए पिलाटे एक्सरसाइज हो सकती है फायदेमंद, बढ़ाती है एकाग्रता

4. तनाव को कम करने के लिए योग करें

लगभग कोई भी जो योग का आनंद लेता है वह जानता है कि योग तनाव को कम कर सकता है। अनुसंधान से पता चलता है कि योग मस्तिष्क में गामा-अमीनोब्यूट्रिक एसिड के स्तर को बढ़ाता है – एक न्यूरोट्रांसमीटर। जीएबीए के स्तर में तेजी, चिंता और अन्य मनोरोग स्थितियों से मुकाबला कर सकती है।

5. चिंता को दूर करने के लिए उठाएं वजन

अमेरिका की आबादी का लगभग 15% एक महीने में 15 से 30 दिनों तक लगातार चिंता की रिपोर्ट करता है। लक्षणों में घबराहट, भय, आशंका और चिंता शामिल है। हस्तक्षेप के बिना, चिंता खराब नींद, दर्द, खराब स्वास्थ्य और शारीरिक विकार पैदा कर सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि वजन उठाना चिंता के लिए एक सार्थक कदम है। शायद सबसे अच्छी खबर है कि आपको लाभ प्राप्त करने के लिए भारी वजन वाले भारोत्तोलन करने की आवश्यकता नहीं है। अध्ययन बताते हैं कि लाईट वेट उठाना भारी वजन उठाने की तुलना में चिंता को ज्यादा कम करती है। मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए एक्टीविटीज अपनाते समय आपको अधिक सावधानी की जरूरत है।

और पढ़ें : 4-7-8 ब्रीदिंग तकनीक, तनाव और चिंता दूर करेंगी ये एक्सरसाइज

6. मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए जरूरी है पर्याप्त नींद

मानसिक रूप से मजबूत रहने के लिए लगातार सात से आठ घंटे की की नींद रोज लें. पर्याप्त नींद से आपका सुचारु रूप से काम करेगा साथ ही स्टडीज से पता चला है कि क्रॉसवर्ड, पजल जैसे गेम खेलने से भी मेन्टल स्ट्रेंथ मजबूत होती है

मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ाने के लिए सकारात्मक विचार (Positive Thinking)

मेन्टल स्ट्रेंथ को मजबूती मिल सके इसके लिए नीचे बताए गए वाक्यों को जितना हो सके दोहराना चाहिए

1.. मेरे जीवन में सब अच्छा है,
2.. सब मुझे प्यार करते हैं,
3.मैं सब यह काम कर सकता हूं,
4.मुझे हर चीज सही समय पर मिल जाती है।

मेन्टल स्ट्रेंथ कमजोर न हो इसके लिए दूर रहें इन नकारात्मक विचारों (negative thinking) से

1.मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है,
2.मुझे कभी अच्छी चीज मिली ही नहीं,
3.मुझे कोई भी प्यार नहीं करता सब मुझे use करते हैं,
4.मेरे जीवन में कभी अच्छा हुआ ही नहीं।

और पढ़ें : इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए एक्टीविटीज: मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए योग

योगासन और प्राणायाम करने से व्यक्ति तनाव से मुक्त रहता है और मस्तिष्क के द्वारा संचालित सभी महत्वपूर्ण क्रियाओं के संचालन में मदद करता है। मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ाने के लिए निम्न योग आसन और प्राणायाम किए जा सकते हैं।

भ्रामरी प्राणायाम​

नकारात्मक भावनाये जैसे क्रोध, झुंझलाहट, निराशा और चिंता से मुक्त करता है। एकाग्रता और स्मृति को बढ़ाता है। आत्म विश्वास को बढ़ाता है। यह एक साधारण प्राणायाम है जिसको घर य ऑफिस, कहीं पर भी किया जा सकता है। यह प्राणायाम मेन्टल स्ट्रेंथ को बढ़ाने का सबसे अच्छा विकल्प है।

सेतुबंध आसन

यह आसन गर्दन और रीढ़ में खिचाव के द्वारा मजबूती लाता है। मांसपेशियों को विश्राम देता है। मस्तिष्क में रक्त संचार बढ़ाता है। मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को शांत करने में मदद करता है, जिससे चिंता, तनाव और अवसाद (depression) को कम किया जा सकता है।

सर्वांगासन

यह आसन थाइरॉइड और पैरा-थाइरॉइड ग्रंथियों को नियमित करता और सुचारु करता है। पीनियल और हाइपोथैलेमस ग्रंथियों में अधिक रक्त पहुंचाकर मस्तिष्क को पुष्ट करता है। इससे सभी संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली सुधरती हैं और मेन्टल स्ट्रेंथ बढ़ती है।

और पढ़ें : गर्दन की झुर्रियां करनी है कम? ट्राई करें ये तरीके

हलासन

मस्तिष्क में रक्त प्रवाह को बेहतर कर तंत्रिका तंत्र को शांत करता है। पीठ और गर्दन में खिचाव से तनाव और थकावट को कम करता है।

पाद पश्चिमोत्तानासन

यह योग आसन रीढ़ की हड्डी को खींच कर तनाव मुक्त करता है। मन से क्रोध और चिड़चिड़ाहट दूरकर शांत करता है। जिससे मेन्टल स्ट्रेंथ बढ़ती है।

मेन्टल स्ट्रेंथ का निर्माण आपके सोचने के तरीके को बदलने के बारे में नहीं है। कभी-कभी, आपकी शारीरिक गतिविधि, कुछ सरल परिवर्तन और एक्सट्रा एक्टीविटीज आपके मस्तिष्क को प्रशिक्षित करने और आपके दिमाग को ठीक करने में सहायक हो सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मेन्टल स्ट्रेंथ के लिए एक्टीविटीज के बारे में जानकारी मिल गई होगी। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

How to Develop Mental Toughness And Stay Strong. https://www.lifehack.org/articles/productivity/how-to-develop-mental-toughness.html. Accessed On 15 Aug 2019

8 Brain Exercises for Mental Strength and a Smarter Brain. https://www.lifehack.org/851930/brain-exercises. Accessed On 15 Aug 2019

25 Ways to Improve Your Memory. http://ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/22855911 Accessed On 15 Aug 2019

5 Powerful Exercises To Increase Your Mental Strength. https://www.remindsupport.org/media/files/files/bf7c8016/Increase_mental_strength.pdf. Accessed On 15 Aug 2019

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Smrit Singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 27/08/2019
x