home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

क्या हर दिन बॉडी वेट स्क्वेट कर सकते हैं?

क्या हर दिन बॉडी वेट स्क्वेट कर सकते हैं?

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) सामान्य स्क्वेट है, जिसके लिए आपको किसी उपकरण की जरूरत नहीं पड़ती। बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) के लिए आपको किसी डंबल, बारबेल या केटल-बेल की जरूरत होती नहीं है। स्क्वेट करने से पूरे शरीर का अच्छे से मूवमेंट होता है, जिससे लाभ होता है खासतौर पर शरीर के निचले हिस्से का। जांघों, पैरो, कूल्हों आदि की अच्छे से एक्सरसाइज होने के कारण इसे शरीर के निचले हिस्सों के लिए खासतौर पर फायदेमंद माना जाता है। हड्डियों और मसल्स की मजबूती के लिए भी बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) किया जा सकता है। एक व्यायाम के इतने फायदे जान कर किसी के भी मन में यह सवाल आएगा कि क्या हर दिन बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) किया जाना चाहिए? अगर आपके मन में भी यह सवाल है, तो जानिए इसका जवाब कि क्या हर दिन बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) कर सकते हैं?

और पढ़ें : रिवर्स क्रंचेस (Reverse crunches) क्या है? जानिए इसके लाभ और करने का तरीका

जानिए बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) कैसे किया जाता है?

कैसे करें?

  • इस बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) को करने के लिए सामान्य स्क्वेट की स्थिति में खड़े हो जाएं।
  • अपना शरीर सीधा, पैरों के बीच में अंतर होना चाहिए और यह बाहर की तरफ होने चाहिए।
  • अब अपने कूल्हों को नीचे की तरफ ले कर जाएं, जैसे आप किसी कुर्सी पर बैठ रहे हों।
  • अपने भार को पैरों की एड़ियों पर डालें।
  • इस दौरान आपका धड़ बिल्कुल सीधा होना चाहिए।
  • अपने कूल्हों को अपने घुटनों को नीचे ले कर जाएं।
  • कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद सामान्य स्थिति में आ जाएं।
  • इस प्रक्रिया को दोहराएं।

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) से शरीर का भार कम होने के साथ-साथ पैरों के मसल्स, क्वाड्रिसेप्स, हैमस्ट्रिंग आदि मजबूत होते हैं इसके साथ ही इससे मसल्स बनते हैं अगर आप अपना फैट कम करना चाहते हैं, तो भी बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) बेहतरीन है इसके बहुत से लाभ है, जिन्हें जानकर आप इन्हें रोज करेंगे।

और पढ़ें : कार्डियो एक्सरसाइज से रखें अपने हार्ट को हेल्दी, और भी हैं कई फायदे

बॉडी वेट स्क्वेट के लाभ (Benefits of body weight squats)

जोड़ बने मजबूत (Make the joint strong)

अगर बॉडी वेट स्क्वैट को अच्छे से किया जाए तो हड्डियों के जोड़ मजबूत होते हैं, क्योंकि इसमें कूल्हे, घुटने,टखने, आदि के जोड़ों का भी व्यायाम होता है। इससे उनको मजबूत होने में मदद मिलती है।

शेप (Shape) में रहें

अगर आप शेप में रहना चाहते हैं, तो इस बॉडी वेट स्क्वेट को अवश्य करें। इसे करने से टांगे और कूल्हे शेप में रहते हैं। यही नहीं, इसे करने से जांघों के अंदरूनी हिस्से का भी व्यायाम होता है।

और पढ़ें : वजन कम करने में फायदेमंद हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

आसान व्यायाम

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे आप कहीं भी कर सकते हैं। यानी जिम के साथ-साथ घर या ऑफिस में भी आप बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) कर के शेप में रह सकते हैं। यह आपके लिए चुस्त रहने का बेहतरीन उपाय भी है। यही नहीं, इसे करना भी बेहद आसान है। अगर आप इसे अच्छे से सीख लें, तो उसके बाद आप इसे कहीं भी कर सकते हैं।

बल और पावर बढ़ाए

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) करने से ग्लूट, हैमस्ट्रिंग आदि की स्ट्रेंथ और पावर बढ़ती है। यही नहीं इस स्क्वेट को करने से मसल्स बनाने वाले हार्मोंस में भी बढ़ोतरी होती है, जिनसे पूरे शरीर की स्ट्रेंथ बढ़ती है।

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat): कूल्हों की मजबूती बढ़ाए

बैठने और कम सैर करने की वजह से आमतौर पर कूल्हे कमजोर होते हैं। कमजोर कूल्हे कमर के मसल्स के अकड़ने की मुख्य वजह है। यही नहीं, कूल्हे की मसल्स हमारे शरीर का सबसे बड़ी मसल्स है। इनकी मजबूती बढ़ाने के लिए बॉडी वेट स्क्वैट बहुत अच्छी एक्सरसाइज है।

वजन कम हो

अगर आप रोजाना 100 बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) करते हैं और हर हफ्ते कई बार करते हैं तो आप आठ हफ्ते में अच्छे परिणामों को नोटिस करेंगे। बॉडी वेट स्क्वैट करने से कैलोरी कम होती है और इससे मेटाबोलिक रेट भी बढ़ता है। हालांकि, कार्डियो और डायट भी वजन कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

और पढ़ें : यह चेस्ट एक्सरसाइज कर, पाएं चौड़ा सीना

शरीर के संतुलन को सुधारे

शरीर का संतुलन बनाए रखने में भी बॉडी वेट स्क्वैट बहुत लाभदायक है। इससे टांगे, कूल्हे और पैर मजबूत होते हैं, जिन पर हमारे शरीर का पूरा वजन पड़ता है। इनके मजबूत होने से शरीर का संतुलन बना रहता है। शरीर को लचीला बनाने और पोस्चर को सुधारने में भी यह व्यायाम लाभदायक है।

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat): कैलोरी कम करता है

बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) के लाभ में लोगों के लिए जानना ये जरूरी है कि वह इससे कैलोरी भी कम कर सकते हैं। कैलोरी बर्न करने के लिए अक्सर लोग एरोबिक एक्सरसाइज जैसे रनिंग या साइकिलिंग करते है। लेकिन हाइ-इंटेंन्सिटी कंपाउंट मूवमेंट जैसे स्क्वाट कुछ गंभीर कैलोरी को भी कम कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के अनुसार 155 पाउंड का व्यक्ति स्क्वाट्स की तरह 30 मिनट की जोरदार वेट या स्ट्रेंथ एक्सरसाइज करने से लगभग 223 कैलोरी बर्न कर सकता है।

सेल्युलाइट से छुटकारा पाएं

हर महिला सेल्युलाइट से डरती है। इससे छुटकारा पाने के लिए तरह-तरह के ब्यूटी प्रोडक्ट्स का प्रयोग करती हैं, लेकिन अगर आप स्‍क्वैट करती हैं, तो आपको ऐसा करने की जरूरत नहीं है? खराब ब्लड सर्कुलेशन का सामान्य कारण सेल्युलाइट है लेकिन, स्‍क्वैट करने से इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

और पढ़ें : जानें कैसा होना चाहिए आपका वर्कआउट प्लान!

कुछ फिटनेस विशेषज्ञ उन लोगों के लिए बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) को रोजाना करने की सिफारिश करते हैं जिनके पास व्यायाम का अधिक समय नहीं होता। ऐसा कहा जाता है कि रोजाना 50 बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) करने से डॉक्टर के पास नहीं जाना पड़ता। डॉक्टरों का तो यह भी कहना है कि रोजाना स्क्वेट करने से मानसिक रूप से भी लाभ होता है। इसके साथ ही बॉडी वेट स्क्वेट (Body weight squat) के बहुत से फायदे हैं। जैसे इसे करने से जोड़ मजबूत होते हैं इससे चोट लगने की संभावना कम होती है। यही नहीं हमारे पेट के लिए भी यह बेहतरीन है। इतने लाभ देखते हुए सभी को यही सलाह दी जाती है कि रोजाना बॉडी वेट स्क्वेट करें और स्वस्थ रहें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड