नाक से खून किन वजहों से निकलता है, कैसे करें बचाव?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

नाक से खून निकलना मेडिकल टर्म में एपस्टेक्सिस (Epistaxis) कहलाता है। नाक से खून निकलना वाकई देखने में खतरनाक लग सकता है। नाक से खून निकलना कई बार सीरियस मेडिकल प्रॉब्लम की ओर भी इशारा कर सकता है। नाक में कई सारी ब्लड वैसल्स होती हैं। ये सभी ब्लड वैसल्स नाक के पीछे की ओर स्थित होती है। ये ब्लड वैसल्स बहुत नाजुक होती हैं और आसानी से ब्लीड कर सकती हैं।

नाक से खून निकलना

नाक से खून निकलना वयस्कों में कॉमन होता है, वहीं तीन से दस साल तक के बच्चों में भी नाक से खून निकलना कॉमन हो सकता है। नाक से खून निकलना दो प्रकार का होता है। पहला होता है एंटीरियर नोजब्लीड ( Anterior nosebleed)। जब नाक के फ्रंट के ब्लड वैसल्स ब्रेक हो जाती हैं और फिर ब्लीडिंग होने लगती है तो उसे एंटीरियर नोजब्लीड कहते हैं। जबकि पोस्टीरियर नोजब्लीड (Posterior nosebleed ) के दौरान नाक के डीपेस्ट पार्ट की ब्लड वैसल्स में समस्या हो जाती है। पोस्टीरियर नोजब्लीड में गले के अंदर पीछे की ओर खून बहने लगता है। पोस्टीरियर नोजब्लीड ज्यादा खतरनाक होती है।

और पढ़ें: क्या आपको भी है भूलने की है बीमारी? जानिए याद्दाश्त बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय

नाक से खून निकलना किस कारण से होता है ?

नाक से खून निकलना या फिर नोजब्लीड कई कारणों से हो सकती हैं। सडन और फ्रीक्वेंट नोजब्लीड रेयर केस में पाई जाती है। अगर आपकी नाक से अचानक से और तेजी से खून बह रहा है तो ये गंभीर समस्या हो सकती है। ड्राई एयर यानी सूखी हवा के कारण नाक से खून निकलना बहुत ही कॉमन है। ड्राई क्लाइमेट में रहने वाले लोगों के लिए नाक से खून निकलना आम बात मानी जाती है। नासल मेंबरेन के ड्राई हो जाने के कारण ये समस्या होती है। हीटिंग सिस्टम के कारण मेंब्रेन सूख जाती है। इसका प्रभार नाक के अंदर उपस्थित टिशू में भी पड़ता है।

ड्राईनेस के कारण नाक के अंदर क्रस्टिंग होती है। क्रस्टिंग के कारण खुजली बढ़ने लगती है। अगर ऐसे समय में नाक के अंदर उंगली से खरोंच की जाए या फिर नोज पिकिंग की जाए तो नाक से खून निकल सकता है।

एलर्जी, जुकाम या साइनस की समस्या के लिए एंटीहिस्टामाइन और डीकॉन्गेस्टेंट (antihistamines and decongestants) लेने से भी नाक की मेंबरेन सूख सकती है और नाक से खून निकल सकता है। बार-बार नाक बहना भी नोजब्लीडिंग की समस्या को जन्म दे सकता है।

नाक से खून निकलना इन कारणों की वजह से भी हो सकता है,

  • कोई वस्तु नाक में अटक जाए तब नोजब्लीड हो सकती है
  • केमिकल इरीटेंट (chemical irritants) की वजह से
  • एलर्जी के कारण
  • नाक पर चोट लगने से
  • बार-बार छींक आने से
  • नाक को ऊपर उठाने से
  • ठंडी हवा के कारण
  • अपर रेस्पिरेट्री इंफेक्शन के कारण
  • एस्पिरिन की ज्यादा खुराक लेने पर

और पढ़ें :बीच के किनारे जाने से पहले क्यों जरुरी है ट्रेवल किट में सनस्क्रीन

नाक से खून इन कारणों से भी निकल सकता है

नोजब्लीड गंभीर है या फिर नहीं ?

ज्यादातर मामलों में नाक से खून निकलना किसी खतरे की निशानी नहीं होता है। साथ ही मेडिकल अटेंशन की जरूरत भी नहीं होती है। अगर नाक से खून 20 मिनट से ज्यादा निकल रहा है और ऐसा किसी इंजरी के कारण हुआ है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इंजरी के कारण पोस्टीरियर नोजब्लीड हो सकता है। पोस्टीरियर नोजब्लीड अधिक गंभीर होती है। नाक में खून इंजरी के कारण हो सकता है जैसे कार दुर्घटना होने पर। चेहरे पर मुक्का पड़ जाने पर, चोट लगने के बाद या फिर गिर जाने से नाक में चोट लगने पर नाक से खून निकल सकता है। नाक में चोट लगने से नाक टूट सकती है, स्कल फैक्चर हो सकता है या फिर इंटरनल ब्लीडिंग हो सकती है।

और पढ़ें : परिवार की देखभाल के लिए मेडिसिन किट में रखें ये दवाएं

नोजब्लीड से जुड़े फैक्ट

  • नोजब्लीड कभी-कभार ही चिंता का विषय होती है।
  • अधिकांश लोगों को अपने जीवन में एक बार नोजब्लीड की समस्या से गुजरना पड़ सकता है।
  • लोगों को एक्सटीरियर या फिर पोस्टीरियर नोजब्लीड हो सकती है।
  • क्लाइमेट का असर भी नोजब्लीड में पड़ सकता है।
  • कुछ खास तरह की दवाओं के कारण भी नाक से खून निकल सकता है।
  • अधिकांश मामलों में डॉक्टर की अवश्यकता नहीं होती है।
  • थोड़ा ब्लड नाक से निकलना चिंता का विषय नहीं होता है।
  • जो लोग अधिक सर्द मौसम में रहते हैं, उन्हें भी नाक से खून निकलने की समस्या हो सकती है।

इंटीरियर नोजब्लीड के कारण

वैसे तो ज्यादातर मामलों में इंटीरियर नोजब्लीड के मामलें अननोन ही रहते हैं। कुछ कॉमन कॉज हो सकते हैं जैसे,

  • नाक के अंदर पिकिंग करना, लंबी फिंगर से पिकिंग करने पर खुजली की समस्या हो सकती है और फिर खून निकल सकता है।
  • किसी तरह के नॉक या फिर ब्लो की वजह से म्युकस मेंबरेन की ब्लड वैसेल डैमेज होने के चांस बढ़ जाते हैं। इसके बाद नाक से खून निकलने की संभावना बढ़ जाती है।
  • साइनसाइटिस-साइनस की सूजन के कारण भी नाक से खून निकल सकता है।
  • कोल्ड, फ्लू और नेजल  एलर्जी के कारण भी नोजब्लीड हो सकता है। वायरल इंफेक्शन के कारण भी नोजब्लीड होने लगती है।
  • हॉट क्लाइमेट और लो ह्युमिडिटी के कारण या फिर ठंडे से गर्म मौसम की ओर प्रवेश से भी नाक से खून निकलने की संभावना बढ़ जाती है।
  • अधिक ऊचांई में जाने से आक्सीजन की मात्रा में कमी होने लगती है जिससे हवा सूखने लगती है। शुष्कता के कारण भी नाक से खून आने लगता है।
  • कुछ प्रकार की मेडिसिन जैसे ब्लड थिनर मेडिसिन, नॉन स्टेरॉइडल  एंटी-इन्फ्लामेट्री ड्रग जैसे कि आईब्रूफिन आदि के कारण भी नाक से खून निकलने की समस्या हो सकती है।
  • अवैध ड्रग्स जैसे कोकीन का प्रयोग भी नाक से खून निकलने का कारण बन सकता है।

और पढ़ें : उबासी (यॉनिंग) से जुड़ी मजेदार बातें, जो शायद ही आप जानते हों

पोस्टीरियर नोजब्लीड के कारण

  • नाक की सर्जरी के कारण
  • हाई ब्लड प्रेशर के कारण
  • कैल्शियम की कमी होने पर
  • म्युकस मेंबरेन में समस्या खड़ी करने वाले केमिकल्स
  • ब्लड डिसीज जैसे हीमोफिलिया या ल्यूकेमिया
  • कुछ ट्यूमर के कारण

नाक से खून निकले तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

नाक से खून निकले तो ले ये स्टेप्स

  • नीचे बैठें और नाक को हल्के से पिंच करें, फिर मुंह से सांस लें।
  • खून को साइनस और गले में बहने से रोकने के लिए आगे झुकें, पीछे झुकने से जी मिचलाना शुरू हो सकता है।
  • सीधे बैठे ताकि सिर ऊपर की ओर रहे। ऐसा करने से ब्लड प्रेशर कम हो जाता है और ब्लीडिंग धीमी हो जाती है।
  • नाक पर दबाव डालते रहना जरूरी होता है। आगे झुकें, और कम से कम 5 मिनट और 20 मिनट तक सीधे बैठे रहें, ताकि ब्लड क्लॉट हो जाए। अगर ब्लीडिंग 20 मिनट से अधिक समय तक रहता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • नाक के आसपास आइस पैक को रगड़ा जा सकता है। ऐसा करने से रिलेक्स मिलेगा। जब नाक से खून निकल रहा हो तो अन्य गतिविधि करने से बचे।

और पढ़ें : क्या आप दुनिया के सबसे छोटे और बड़े फल के बारे में जानते हैं?

डॉक्टर कर सकता है ये टेस्ट

जब भी आपकी नाक से खून निकले तो घबराने की जरूरत नहीं है। अगर आपकी नाक से तेजी से खून निकल रहा है और 20 मिनट से ज्यादा का समय हो गया है तो बेहतर रहेगा तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। फिर डॉक्टर के पूछे गए सभी सवालों का जवाब दें। डॉक्टर के लिए नाक से खून निकलने का सही रीजन पता होना बहुत जरूरी होता है। इसके बाद डॉक्टर कुछ टेस्ट करता है और फिर उसके बाद ट्रीटमेंट।

  • कंम्प्लीट ब्लड काउंट (CBC), ये टेस्ट ब्लड डिसऑर्डर चेक करने के लिए किया जाता है।
  • पार्सियल थ्रोम्बोप्लास्टिन टाइम (PTT), जो कि एक ब्लड टेस्ट है। इस टेस्ट के माध्यम से ये जांचने की कोशिश की जाती है कि ब्लड क्लॉट बनने में कितना समय लगता है।
  • नाक की एंडोस्कोपी
  • नाक का सीटी स्कैन
  • चेहरे और नाक का एक्स-रे

नाक से खून निकले तो क्या ट्रीटमेंट दिया जाता है ?

अगर डॉक्टर नाक से खून निकलने की जांच करता है सबसे पहले चेक करता है कि कहीं मरीज को हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या तो नहीं है। साथ ही एनीमिया, नासल फैक्चर और साथ ही अन्य टेस्ट भी कर सकता है। ब्लड प्रेशर, पल्स रेट और एक्स-रे के बाद डॉक्टर सुटेबल ट्रीटमेंट ऑप्शन देता है। फिजिशियन अन्य ट्रीटमेंट भी दे सकता है जैसे,

 नेजल पैकिंग

स्टफिंग रिबन गॉज या स्पेशल नेजल स्पॉन्ज का यूज नाक पर किया जा सकता है। नाक में जिस जगह से खून निकल रहा है, वहां पर प्रेशर दिया जा सकता है।

और पढ़ें : कुछ लोग बुढ़ापे में इतने जवान क्यों दिखाई देते हैं?

कॉट्री 

 कॉट्री माइनर प्रोसीजर होता है। नाक में जिस स्थान से खून निकल रहा होता है, उसे एरिया को बर्न किया जाता है। ब्लीडिंग एरिया को सील करने के लिए ऐसा किया जाता है। पहले स्पेसिफिक ब्लड वैसल की पहचान की जाती है।

सेप्टल सर्जरी

सेप्टल सर्जरी की सहायता से नाक को जोड़ने वाली दीवार को सीधा करने के लिए सर्जरी की जाती है। सेप्टल सर्जरी का यूज चोट को सही करने के लिए किया जाता है। ऐसा करने से ब्लीडिंग की समस्या बंद हो जाती है।

लिगेशन (Ligation)

लिगेशन यानी बांधना। जब किन्हीं कारणों से नाक में चोट लग जाती है चो डैमेज रक्त वैसेल की पहचान की जाती है और फिर रक्त वाहिकाओं को बांधने का काम किया जाता है। अगर डैमेज नाक के पीछे की ओर हुआ है तो मेजर सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है।

और पढ़ें : डिप्रेशन और नींद: बिना दवाई के कैसे करें इलाज?

इन बातों का रखें ध्यान

नाक से खून न निकले, इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है।

  • नोज पिकिंग की आदत को छोड़ दें। कुछ लोगों की आदत होती है कि हर समय नोज पिकिंग करते रहते हैं। अगर ऐसा बच्चे कर रहे हैं तो उन्हें इसके लिए मना करें।
  • अगर नाक में सूखापन महसूस हो रहा है तो बेहतर होगा कि नोज लुब्रिकेंट की सहायता ली जाए।
  • अगर ऊचांई में जा रहे हैं तो ह्यूमिडिफायर का यूज किया जा सकता है। अगर आपको नोजब्लीड हुआ है तो कुछ हफ्तों तक अधिक शारीरिक मेहनत वाली एक्टिविटी न करें। ऐसा करने से फिर से नोजब्लीड की संभावना बढ़ सकती है।

गंभीर समस्या दिखने पर डॉक्टर की सहायता लेना उपयुक्त रहेगा। कई बार नाक से खून निकलना गंभीर मामला हो सकता है। ऐसी स्थित में तुरंत डॉक्टर से सलाह लें और ट्रटीमेंट लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Chlorfeniramine Maleate: क्लोरफेनिरामाइन मैलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्लोरफेनिरामीन मैलेट की जानकारी in Hindi. क्लोरफेनिरामीन का उपयोग कब और कैसे करें? कितनी खुराक लें कब लें। इसका सही डोज क्या होना चाहिए? chlorfeniramine-maleate के साइड- इफेक्ट्स और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Nasal Dryness : सूखी नाक की समस्या क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

सूखी नाक क्या है in hindi, सूखी नाक के कारण और लक्षण क्या है, Nasal dryness को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Broken Nose : नाक में फ्रैक्चर क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और उपचार

नाक में फ्रैक्चर क्या है in hindi, नाक में फ्रैक्चर के कारण और लक्षण क्या है, Broken nose के लिए क्या उपचार उपलब्ध है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Foreign object in nose : नाक में कुछ फंस जाना क्या है?

नाक में कुछ फंस जाने की समस्या का क्या मतलब है in hindi, नाक में कुछ फंस जाने के कारण और लक्षण क्या है, foreign object in nose का क्या उपचार हैे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

नाक में पिंपल-pimple in nose

नाक में पिंपल बन सकता है कई बीमारियों का कारण, कैसे पाएं इससे निजात?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ मई 7, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
टेस्टिकुलर टॉर्सन

Testicular Torsion: टेस्टिकुलर टॉर्सन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कांच लगने पर उपाय

कांच लगने पर उपाय क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मार्च 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
नेजल पॉलिप्स-nasal polyps

Nasal Polyps: नेजल पॉलिप्स क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
प्रकाशित हुआ मार्च 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें