कोलेस्ट्रॉल में बाजरे का कर सकते हैं सेवन, लेकिन डॉक्टर के इजाजत के बाद!

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरे का कर सकते हैं सेवन, लेकिन डॉक्टर के इजाजत के बाद!

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार शहरी क्षेत्र में 25 से 30 प्रतिशत लोगों में हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या है। वहीं 15 से 20 प्रतिशत ग्रमीण इलाकों में भी हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या डायग्नोस को गई है। हाय कोलेस्ट्रॉल के कारण कई तरह की शारीरिक परेशानियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए आज इस आर्टिकल में कोलेस्ट्रॉल में बाजरा (Bajra khichdi in Cholesterol) क्यों लाभकारी माना जाता है, यह समझेंगे। इसके साथ ही कोलेस्ट्रॉल से जुड़े सवालों का जवाब इस आर्टिकल में जानेंगे।

    और पढ़ें : कोलेस्ट्रॉल और हार्ट डिजीज: हाय कोलेस्ट्रॉल क्यों दावत दे सकता है हार्ट डिजीज को?

    कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) क्या है?

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा (Bajra khichdi in Cholesterol)

    बॉडी में मौजूद सेल्स के सबसे ऊपरी लेयर कोलेस्ट्रॉल की होती है। कोलेस्ट्रॉल लिपिड का हिस्सा है, जो चिकना एवं वैक्स की तरह होता है। यह पुरे शरीर में ब्लड प्लाज्मा की सहायता से एक जगह से दूसरे जगह ट्रांसपोर्ट होता है। अगर सामान्य शब्दों में समझें, तो शरीर में ब्लड सप्लाय में कोलेस्ट्रॉल की मुख्य भूमिका होती है। कोलेस्ट्रॉल दो अलग-अलग तरह के होते हैं। जैसे LDL (लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन) और HDL (हाय डेंसिटी लिपोप्रोटीन)। शरीर में हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या होने पर कई गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन कोलेस्ट्रॉल में बाजरा (Bajra khichdi in Cholesterol) अगर सेवन किया जाए, तो कोलेस्ट्रॉल लेवल को बैलेंस में रखा जा सकता है। बाजरे से जुड़ी जानकारी आपके साथ शयेर करेंगे, लेकिन सबसे पहले जान लेते हैं कोलेस्ट्रॉल की समस्या क्यों होती है।

    और पढ़ें : हाय कोलेस्ट्रॉल में नियासिन का इस्तेमाल इन समस्याओं में पहुंचाता है राहत!

    हाय कोलेस्ट्रॉल का कारण? (Cause of Cholesterol)

    हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या अनहेल्दी डायट की वजह से हो सकती है। इसलिए निम्नलिखित कारणों से हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो सकती है। जैसे:

    • मटन, अंडे, पनीर या फैटी दूध का सेवन ज्यादा करना।
    • शरीर का वजन जरूरत से ज्यादा (Weight gain) बढ़ना।
    • उम्र बढ़ने के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) बढ़ना।
    • स्मोकिंग (Smoking) करना।
    • अत्यधिक दवाओं (Medication) का सेवन करना।

    इन कारणों की वजह से बैड कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो सकती है। वहीं ऐसा माना जाता है कि महिलाओं की तुलना में पुरषों में कोलेस्ट्रॉल की समस्या ज्यादा डायग्नोस की जाती है। हाय कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए बाजरा लाभकारी माना जाता है। इसलिए आर्टिकल में आगे जानेंगे कोलेस्ट्रॉल में बाजरा क्यों लभकारी हो सकता है।

    और पढ़ें : बच्चों में कोलेस्ट्रॉल का ट्रीटमेंट करना होगा आसान, अगर फॉलों करें ये डायट और एक्सरसाइज रूटीन

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा क्यों लाभकारी है? (Benefits of Bajra)

    बाजरा ग्लूटेन-फ्री होने के कारण डायबिटीज पेशेंट के लिए लाभकारी माना जाता है। वहीं इसमें मौजूद निम्नलिखित पौष्टिक तत्व कोलेस्ट्रॉल लेवल को इम्बैलेंस होने से बचाता है। जैसे:

    • मैग्नीशियम (Magnesium)
    • मिनिरल्स (Minerals)
    • फॉस्फोरस (Phosphorus)
    • जिंक (Zinc)
    • पोटैशियम (Potassium)
    • कार्ब्स (Carbs)
    • टीन (Tin)
    • फैट (Fat)
    • फाइबर (Fiber)
    • कैल्शियम (Calcium)
    • आयरन (Iron)

    ये सभी पोषक तत्व संपूर्ण शरीर के लिए लाभकारी होते हैं और कोलेस्ट्रॉल के मरीज के लिए फायदेमंद है।

    और पढ़ें : हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए होम रेमेडीज में शामिल कर सकते हैं ये 7 चीजें

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा: कैसे करें बाजरे का सेवन?

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा (Bajra khichdi in Cholesterol)

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा का सेवन करना आसान है। इसलिए अगर आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल इमबैलेंस रहता है या आपको हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, तो निम्नलिखित तरह से कोलेस्ट्रॉल का सेवन किया जा सकता है। जैसे:

    बाजरे की खिचड़ी-

    वैसे तो ज्यादातर लोगों को खिचड़ी पसंद नहीं, लेकिन सेहतमंद और कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस में रखने के लिए बाजरे की खिचड़ी का सेवन किया जा सकता है। बाजरे में हरी सब्जियों को मिक्स कर बनाई गई खिचड़ी स्वादिष्ट भी होती है और शरीर के लिए लाभकारी भी।

    बाजरे की रोटी-

    जिम जाने वाले ज्यादातर लोग अपने डायट में बाजरे की रोटी को शामिल करते हैं, लेकिन बाजरे की रोटी हाय कोलेस्ट्रॉल के पेशेंट्स के लिए भी लाभकारी होती है। बाजरे की रोटी नॉर्मल रोटी की तरह बनाई जा सकती है या आप इसमें जीरा पाउडर या हल्का चाट मसाला मिलाकर भी रोटी बना सकते हैं।

    बाजरे का डोसा-

    बाजरे का डोसा डायबिटीज एवं कोलेस्ट्रॉल दोनों ही पेशेंट्स के लिए लाभकारी माना जाता है। डोसे का जायका बढ़ाने के लिए इसमें स्प्रिंग अनियन, बिन्स या गाजर को बारीक काटकर मिक्स कर बैटर तैयार करें और फिर डोसा बनाकर खाएं।

    बाजरे की लड्डू-

    अगर आप मीठा खाने के शौकीन हैं, तो बाजरे की लड्डू का सेवन कर सकते हैं। आप इसे अपने स्वाद के अनुसार बना सकते हैं।

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा इन ऊपर बताये अनुसार सेवन किया जा सकता है।

    बाजरे का सेवन ऊपर बताये अनुसार किया जा सकता है, लेकिन कैसे समझें की आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ चूका है और आपको अपने डायट में बाजरे को संतुलित मात्रा में शामिल करना चाहिए। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल के लक्षणों को समझना जरूरी है।

    और पढ़ें : हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना चाहते हैं, तो इन 8 बातों का रखें विशेष ध्यान!

    हाय कोलेस्ट्रॉल के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of High Cholesterol)

    हाय कोलेस्ट्रॉल के लक्षण निम्नलिखित हैं। जैसे:

    • सीने में दर्द (Chest pain) महसूस होना।
    • जरूरत से ज्यादा वजन बढ़ना (Weight gain)।
    • पैरो में दर्द (Leg pain) महूसस होना।
    • ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) बढ़ना
    • सामान्य से ज्यादा पसीना (Sweeting) आना।
    • सांस फूलने की समस्या महसूस होना।
    • जोड़ो में दर्द (Joints pain) होना।
    • मस्तिष्क में दर्द होना।
    • दिल की धड़कन तेज होना।

    अगर आप इन ऊपर बताये लक्षणों को महसूस कर रहें हैं, तो डॉक्टर से जल्द से जल्द कंसल्ट करें। आप इस दौरान बाजरे का सेवन कर सकते हैं, लेकिन इसके भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसलिए कोलेस्ट्रॉल में बाजरा (Bajra khichdi in Cholesterol) अपने डायट में शामिल करें, लकिन डॉक्टर से सलाह के बाद।

    और पढ़ें : जब ना खुले ‘हाय ब्लड प्रेशर’ का ताला, तो आयुर्वेद की चाबी दिखाएगी अपना जादू

    बाजरे के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of Bajra)

    बाजरे के सेवन से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। जैसे:

    • बाजरा में गोइट्रोजन (Goitrogens) होता है, जो थायरॉइड हॉर्मोन (Thyroid hormone) को बढ़ा सकता है।
    • जरूरत से ज्यादा बाजरे के सेवन से स्किन ड्राय हो सकती है।
    • बाजरे के जरूरत से ज्यादा सेवन करने पर घेंघा (Goitre) की समस्या, तनाव और सोचने की क्षमता भी कम हो सकती है।

    बाजरे का सेवन संतुलित मात्रा में आवश्यक बताया गया है, जिससे कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बैलेंस में रखने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : पल्पिटेशन के लिए घरेलू उपाय: दिल की धड़कनों को संभालने के लिए आसान उपाय हैं यहां!

    स्वस्थ रहने के लिए अपने डायट में हेल्दी फूड को शामिल करने से ही लाभ नहीं मिलता है। दरअसल हेल्दी रहने के लिए कब क्या खाएं ये जानना भी बेहद जरूरी है। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें और एक्सपर्ट से जानिए कब और क्या खाएं।

    और पढ़ें : कहीं बढ़ता ब्लड शुगर लेवल हायपरग्लायसेमिक हायपरोस्मोलर सिंड्रोम का कारण ना बन जाए?

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा: कैसे रखें कोलेस्ट्रॉल बैलेंस?

    कोलेस्ट्रॉल में बाजरा अपने डायट में शामिल करें और साथ ही निम्नलिखित टिप्स भी फॉलो करें। जैसे:

    • रोजाना टहलें (Walk), योग (Yoga) करें या एक्सरसाइज (Exercise) करें।
    • ताजे फल (Fruits) एवं हरी सब्जियों (Green Vegetables) का सेवन नियमित करने।
    • एंटीऑक्सिडेंट रिच फूड खाएं, क्योंकि एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) में मौजूद विटामिन सी (Vitamin C), विटामिन ई (Vitamin E) एवं बीटा कैरोटीन (Beta carotene) कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) को बैलेंस करने में सहायक होता है।
    • अत्यधिक तेल-मसाले या अंडे या मीट का सेवन ना करें।
    • स्मोकिंग (Smoking) एवं एल्कोहॉल (Alcohol) से दूरी बनायें।

    इन छोटी-छोटी बातों को ध्यान रखकर कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस में रखा जा सकता है एवं कोलेस्ट्रॉल में बाजरा भी डॉक्टर से कंसल्ट कर सेवन किया जा सकता है।

    अगर आप हाय कोलेस्ट्रॉल (High Cholesterol) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या से पीड़ित हैं, तो डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपके हेल्थ कंडिशन (Health condition) को ध्यान में रखकर डायबिटीज में पनीर डोडा के सेवन की सलाह देंगे। डॉक्टर से सलाह लेने के बाद सेवन करने से ही बाजरे के फायदे मिल सकते हैं।

    कोलेस्ट्रॉल से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारी के लिए नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और अपने या अपने चाहने वालों को कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) बैलेंस में रखने में मदद करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Effect of Replacing Maize with Bajra (Pearl Millet)
    on the Performance of Broilers/http://www.veterinaryworld.org/Vol.2/August/Effect%20of%20Replacing%20Maize%20with%20Bajra%20(Pearl%20Millet).pdf/Accessed on 16/08/2021

    Bajra/https://svsfoods.org/bajra.html/Accessed on 16/08/2021

    USE OF ROTTEN BAJRA FLOUR FOR CONTROL OF DISEASES AND PESTS IN PLANTS/https://nif.org.in/innovation/use_of_rotten_bajra_flour_for_control_of_diseases_and_pests_in_plants/368/Accessed on 16/08/2021

    Cholesterol/https://www.heart.org/en/health-topics/cholesterol/Accessed on 16/08/2021

    Potential use of pearl millet (Pennisetum glaucum (L.) R. Br.) in Brazil: Food security, processing, health benefits and nutritional products. – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/29803440 / Accessed on 16/08/2021

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/12/2021 को
    और Nikhil deore द्वारा फैक्ट चेक्ड