हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना चाहते हैं, तो इन 8 बातों का रखें विशेष ध्यान!

    हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना चाहते हैं, तो इन 8 बातों का रखें विशेष ध्यान!

    कहते हैं हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। ठीक वैसे ही शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रॉल भी दो प्रकार का होता है- बैड कोलेस्ट्रॉल (Bad cholesterol) और गुड कोलेस्ट्रॉल (Good cholesterol)। अगर बैड कोलेस्ट्रॉल की समस्या हुई, तो हार्ट से जुड़ी बीमारियों (Heart disease) का खतरा बढ़ जाता है। वहीं गुड कोलेस्ट्रॉल आपको हेल्दी बनाता है और ये आपके हार्ट के लिए भी अच्छा माना जाता है। इसलिए आज इस आर्टिकल में हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव (Lifestyle changes in high cholesterol) क्या करें यह समझेंगे।

    और पढ़ें : बच्चों में कोलेस्ट्रॉल का ट्रीटमेंट करना होगा आसान, अगर फॉलों करें ये डायट और एक्सरसाइज रूटीन

    आर्टिकल की शुरुआत करने से पहले कोलेट्रॉल लेवल कितना होना चाहिए ये जान लेते हैं।

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार कोलेस्ट्रॉल लेवल निम्नलिखित होना चाहिए। जैसे:

    20 या इससे ज्यादा उम्र के पुरुष में कोलेस्ट्रॉल लेवल-

    • टोटल कोलेस्ट्रॉल: 125 से 200 mg/dL
    • नॉन एचडीएल: 130 mg/dL से कम
    • एलडीएल: 100 mg/dL से कम
    • एचडीएल: 40 mg/dL से ज्यादा

    20 या इससे ज्यादा उम्र की महिला में कोलेस्ट्रॉल लेवल-

    • टोटल कोलेस्ट्रॉल: 125 से 200 mg/dL
    • नॉन एचडीएल: 130 mg/dL से कम
    • एलडीएल: 100 mg/dL से कम
    • एचडीएल: 50 mg/dL से ज्यादा

    और पढ़ें : हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए होम रेमेडीज में शामिल कर सकते हैं ये 7 चीजें

    हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव क्या करें? (Lifestyle changes in high cholesterol)

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या होने पर दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव करना बेहद जरूरी है। आर्टिकल में आगे समझेंगे हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाने के तरीके। जैसे:

    1. एक्टिव रहें (Be active)

    फिजिकल एक्टिविटी ना करने की वजह से शरीर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और कोलेस्ट्रॉल लेवल भी में इमबैलेंस होने की संभावना बनी रहती है। इसलिए रोजाना कम से कम आधे घंटे के लिए अपने आपको फिजिकल एक्टिविटी (Physical activity) में व्यस्त रखें।

    2. एक्सरसाइज (Workout) करें

    नियमित एक्सरसाइज करने से शरीर को फिट रखने के साथ-साथ बैड कोलेस्ट्रॉल के निर्माण में भी बाधा पहुंच सकती है। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या से बचने के लिए या बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) को बैलेंस में लाने के लिए नियमित एक्सरसाइज करें। आप चाहें तो एक्सरसाइज की जगह योग (Yoga), स्विमिंग (Swimming) या रनिंग (Running) को भी अपने दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं।

    3. संतुलित वजन (Balanced weight)

    बढ़ता वजन कई शारीरिक परेशानियों को दावत देने में सक्षम है। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना चाहते हैं, तो वजन को संतुलित रखें। दरअसल बढ़ते वजन की वजह से बैड कोलेस्ट्रॉल का खतरा बढ़ जाता है और कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने की वजह से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए बॉडी वेट (Body weight) मेंटेन रखें।

    4. हेल्दी फैट्स (Healthy fats)

    आजकल ज्यादातर लोग फैट फ्री खाने का सेवन करने लगे हैं, जबकि स्वस्थ रहने के लिए गुड फैट्स यानी हेल्दी फैट्स का सेवन करना आवश्यक माना जाता है। इसलिए ट्रांस फैट (Trans fat) वाले फूड प्रॉडक्ट्स का सेवन ना करें और मोनोसैचुरेटेड (Monounsaturated) और पोलीअनसैचुरेटेड फैट (Polyunsaturated fat) का सेवन करना लाभकारी माना जाता है। हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना जरूरी है।

    5. स्मोकिंग ना करें (Quit smoking)

    हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना बेहद जरूरी माना जाता है। आजकल ज्यादातर लोग स्मोकिंग को अपनी आदत और बदलते वक्त का हिस्सा मान रहें हैं। लेकिन स्मोकिंग एक नहीं, बल्कि कई गंभीर बीमारियों को दावत देने का काम करती है और बैड कोलेस्ट्रॉल (Bad cholesterol) के निर्माण में भी सहायक होता है। इसलिए स्मोकिंग ना करें।

    6. ऑलिव ऑयल का करें सेवन (Use of Olive oil)

    ऑलिव ऑयल में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) शरीर के लिए बेहद लाभकारी मानी जाती है। ऑलिव ऑयल के सेवन से हार्ट हेल्थ को हेल्दी रखने में मदद मिलती है और कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) भी बैलेंस रहता है।

    7. मछली (Fish) का करें सेवन

    अगर आप मांसहारी हैं और आपको मछली खाना पसंद है, तो कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस रखने का ये बेहतर विकल्प माना जाता है। दरअसल मछली में मौजूद ओमेगा 3 फैटी ऐसिड (Omega 3 Fatty Acid) की मात्रा हृदय के लिए लाभकारी माना जाता है। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव लाना चाहते हैं, तो अपने डायट में संतुलित मात्रा में मछली का सेवन करें। हालांकि ध्यान रखें अत्यधिक तेल मसाले वाले फिश का सेवन ना करें, बेहतर होगा आप ग्रिल्ड फिश (Grilled fish) या स्टीम्ड फिश (Steamed fish) का सेवन करें।

    8. प्रोसेस्ड फूड (Processed food)

    बदलती लाइफ स्टाइल में प्रोसेस्ड फूड लोगों की पंसद बनती जा रही हैं, लेकिन प्रोसेस्ड फूड शरीर के लिए नुकसानदायक माना जाता है। इसलिए हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव (Lifestyle changes in high cholesterol) की लिस्ट में अगर अपने प्रोसेस्ड फूड को शामिल किया है, तो उनसे दूरी बनायें।

    हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या से बचने के लिए 8 बातों का ध्यान अवश्य रखें। हालांकि अगर आपको कोई भी शारीरिक परेशानी महसूस होती है, तो ऐसे में डॉक्टर से कंसल्टेशन जरूर करें।

    और पढ़ें : Acute Heart Failure: जानिए एक्यूट हार्ट फेलियर के लक्षण, कारण और इलाज

    अगर आप हाय कोलेस्ट्रॉल प्रेशर की समस्या से परेशान हैं, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें।

    आप डॉक्टर से निम्नलिखित सवाल पूछ सकते हैं।

    • क्या मुझे हार्ट डिजीज (Heart disease) का खतरा ज्यादा है?
    • मुझे कोलेस्ट्रॉल चेकअप (Cholesterol checkup) कब-कब करवाना चाहिए?
    • मेरा कोलेस्ट्रॉल लेवल (Cholesterol level) इस समय कितना है?
    • क्या कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस करने के लिए मुझे दवाओं (Medication) का सेवन करना पड़ सकता है?
    • कोलेस्ट्रॉल के दवाओं के सेवन से मुझे साइड इफेक्ट्स (Side effects) भी हो सकता है?
    • मुझे अपने जीवनशैली (Lifestyle) में क्या-क्या बदलाव लाना चाहिए?

    आप अपने हेल्थ एक्सपर्ट से ये सवाल पूछ सकते हैं।

    और पढ़ें : Diuretics in Cardiomyopathy: कार्डियोपैथी में डाइयुरेटिक्स के फायदे तो हैं, लेकिन इसके सीरियस साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं!

    अगर आप हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या से पीड़ित हैं और हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव (Lifestyle changes in high cholesterol) लाना चाहते हैं, तो इन ऊपर बताये उपायों को फॉलो कर सकते हैं। वहीं कोलेस्ट्रॉल की समस्या होने पर लापरवाही ना बरतें। आपकी छोटी सी लापरवाही आपको गंभीर बीमारियों का शिकार भी बना सकती हैं। इसलिए अगर आपको हाय कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, तो डॉक्टर से समय-समय पर कंसल्टेशन करें, वॉक (Walk) करें, योग (Yoga) करें और पौष्टिक आहार (Healthy diet) का सेवन करें और हेल्दी लाइफ स्टाइल (Healthy lifestyle) फॉलो करें। हाय कोलेस्ट्रॉल के लिए लाइफ स्टाइल में बदलाव या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

    स्वस्थ्य रहने के लिए हेल्दी फूड का सेवन जरूरी माना जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं हेल्दी खाने के लिए टाइम टेबल मैनेज करना भी बेहद जरूरी है। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो पर क्लिक करें और एक्सपर्ट से जानिए कब और क्या खाएं।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Top 5 lifestyle changes to improve your cholesterol/https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/high-blood-cholesterol/in-depth/reduce-cholesterol/art-20045935/Accessed on 10/08/2021

    Lifestyle Changes to Improve Your Cholesterol/https://familydoctor.org/lifestyle-changes-improve-cholesterol/Accessed on 10/08/2021

    Prevention and Treatment of High Cholesterol (Hyperlipidemia)/https://www.heart.org/en/health-topics/cholesterol/prevention-and-treatment-of-high-cholesterol-hyperlipidemia/Accessed on 10/08/2021

    Preventing High Cholesterol/https://www.cdc.gov/cholesterol/prevention.htm/Accessed on 10/08/2021

    Lowering Your Cholesterol With TLC/https://www.nhlbi.nih.gov/files/docs/public/heart/chol_tlc.pdf/Accessed on 10/08/2021

    High Cholesterol – Causes, Symptoms & Treatments/https://www.bhf.org.uk/informationsupport/risk-factors/high-cholesterol/Accessed on 10/08/2021

    https://www.heart.org/en/health-topics/cholesterol/about-cholesterol/atherosclerosis/ Accessed on 27/05/2022

    https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/16753-atherosclerosis-arterial-disease/Accessed on 27/05/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड