home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट क्या होते हैं जरूरी?

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट क्या होते हैं जरूरी?

हेल्दी रहने के लिए पौष्टिक आहार का सेवन बहुत जरूरी होता है। कुछ लोगों का तर्क होता है कि आहार भले ही कम खाओं लेकिन विटामिन सप्लिमेंट्स शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं। तो क्या खाने का स्थान विटामिंस या सप्लिमेंट्स ले सकते हैं? हार्ट पेशेंट के लिए जहां एक और हेल्दी डाइट बहुत जरूरी होती है, वहीं दूसरी ओर लाइफस्टाइल में बदलाव भी बहुत मायने रखता है। ये सच है कि पौष्टिक आहार के साथ विटामिंस या सप्लिमेंट्स का सेवन शरीर को लाभ पहुंचाने का काम करते हैं। अगर आप हार्ट के पेशेंट हैं, तो आपको जरूरी दवाओं का सेवन करने के साथ ही अपने खाने में जरूरी न्यूट्रिएंट्स को भी शामिल करना चाहिए। हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट (vitamin supplements in diet for people living with heart disease) क्यों जरूरी होते हैं, आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे।

और पढ़ें: हार्ट संबंधी बीमारियों में एआरएनआई मेडिसिन का क्या होता है अहम रोल?

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट (vitamin supplements in diet for people living with heart disease)

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लीमेंट

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट का सेवन उन्हें कई खतरों से बचाने का काम कर सकता है। सप्लिमेंट्स लेना फायदेमंद होता है लेकिन आप इसे आहार के स्थान पर नहीं ले सकते हैं। पौष्टिक आहार के साथ में विटामिन सप्लीमेंट्स आदि का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है अगर आपको हार्ट संबंधी बीमारी है और आप विटामिन सप्लीमेंट्स लेने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको बिना डॉक्टर की जानकारी के दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। हर कोई हृदय रोग और स्ट्रोक से बचना चाहता है। इसके लिए लोग विटामिन ए (Vitamin A) से लेकर विभिन्न प्रकार के सप्लमेंट्स का सेवन करते हैं। लेकिन क्या इन्हें फूड्स के विकल्प के रूप में अपनाया जा सकता है। अगर आप सोच रहे हैं कि नहीं, तो ये बात बिल्कुल सही है। खाने के विकल्प में कभी भी विटामिंस या सप्लिमेंट्स का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। जानिए फूड्स क्यों होते हैं जरूरी।

और पढ़ें: हार्ट हेल्थ के लिए पॉलीअनसैचुरेड फैट्स कितना फायदेमंद है?

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट का सेवन पौष्टिक आहार के विकल्प के रूप में नहीं अपनाया जाता है। न्यूट्रीशनिस्ट की बात अगर माने तो खाने को सबसे पहले प्राथमिकता देनी चाहिए। खाने में विटामिंस के साथ ही मिनरल्स और अन्य डाइटरी फैक्टर भी होते हैं, जो कि आपको विटामिंस या अन्य सप्लीमेंट्स में नहीं मिलते हैं। खाने में बायोएक्टिव कम्पाउंड और डायटरी फाइबर होते हैं, जो कि आप सप्लिमेंट्स का सेवन करके प्राप्त नहीं कर सकते हैं। कुछ सप्लीमेंट्स ऐसे भी होते हैं, जो पूर्ण रूप से विटामिन का अवशोषण नहीं कर पाते हैं। अगर आप कुछ फैट सॉल्युबल विटामिंस को खाली पेट लेते हैं, तो इनका अवशोषण सही तरह से नहीं हो पाता है और ना ही इनका फायदा शरीर को पहुंच पाता है। जबकि फूड्स का सेवन करने से आपको पोषण मिलने के साथ ही डायटरी फैक्टर भी मिलते हैं। आपको इसके बारे में डॉक्टर से भी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर : इसे अपने डायट में शामिल करने से पहले जान लें ये बातें

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट: सप्लिमेंट्स की भी होती है अहम भूमिका!

हेल्दी डाइट की मदद से मिनिरल्स और विटामिंस प्राप्त होते हैं। वहीं सप्लीमेंट्स भी अपनी अहम भूमिका निभाते हैं। कुछ केस में अगर आप हेल्दी फूड ले रहे हैं, तो भी शरीर में कुछ कमी होने पर सप्लीमेंट लेने की सलाह दी जा सकती है। आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आप सप्लीमेंट्स का सेवन हेल्दी डाइट के साथ करें और साथ ही खाने में न्यूट्रिएंट्स डेंस फूड्स को भी शामिल करें क्योंकि सप्लिमेंट रिप्लेसमेंट की भूमिका नहीं निभाता है। आप जब भी सप्लीमेंट का इस्तेमाल करें, डॉक्टर से सलाह जरूर है

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट जरूरी, लेकिन जाने क्या करें और क्या नहीं!

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि हेल्दी हार्ट के लिए जहां एक ओर हेल्दी डाइट बहुत मायने रखती है, वही सप्लिमेंट्स अपनी अहम भूमिका निभाते हैं। अगर आप हार्ट के पेशेंट हैं, तो आपको अपनी डाइट को मेंटेन रखने के साथ ही कुछ बातों का ध्यान भी रखना चाहिए। हम आपको यहां पर बता रहे हैं कि आपको क्या बातें करनी चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए।

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट जरूरी है लेकिन स्वस्थ्य व्यक्ति के लिए नहीं। आपको सबसे पहले हेल्थी डाइट का सेवन करना चाहिए। बैलेंस डाइट या पोषण से भरपूर डाइट में कैलोरी की पर्याप्त मात्रा होती है। पोषण से भरपूर डाइट में सैचुरेटेड फैट, सोडियम, कोलेस्ट्रॉल और अधिक मात्रा में कैलोरी नहीं होती है। अगर आप इन चीजों को खाने में सीमित करते हैं, तो आप हार्ट संबंधी खतरे को भी कम करते हैं। अगर आपको मोटापे की समस्या है और हार्ट संबंधी कोई डिजीज नहीं है, तो आपको सावधान होना जाना चाहिए और खाने में ऐसी किसी भी चीज को नहीं लेना चाहिए, जो आपके हार्ट संबंधी रिस्क को बढ़ाने का काम करती है।

हृदय रोगियों को लगभग 1 ग्राम ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन करना चाहिए, जिसे EPA+DHA कहा जाता है। यह आपको मछली के सेवन से प्राप्त हो सकता है। सिर्फ आहार से इसे प्राप्त करना कठिन हो सकता है, इसलिए हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लीमेंट (vitamin supplements in diet for people living with heart disease) की आवश्यकता हो सकती है। हमेशा की तरह, पहले डॉक्टर से परामर्श करें। अगर आपका ट्राइग्लिसराइड्स बढ़ा हुआ हैं, तो डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें कि ऐसी अवस्था में क्या करना चाहिए।

और पढ़ें: इरेक्टाइल डिस्फंक्शन (Erectile dysfunction) और अनियमित हार्टबीट का आखिर क्या है संबंध?

हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लिमेंट: इन बातों का रखें ध्यान!

आपको विटामिन ए, विटामिन सी (vitamin C), विटामिन ई (Vitamin E) जैसे एंटीऑक्सीडेंट विटामिन की खुराक बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लेनी चाहिए। इस बात का कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण भी नहीं है, जो यह बात बताएं कि यह ब्लड प्रेशर को कम करने का काम करते हैं या फिर रक्त में कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। इनका संबंध धूम्रपान को बंद करने के लिए भी नहीं किया जाता है। आपको इस बात की सावधानी रखने की आवश्यकता है।

अगर आप पूरी तरह से स्वस्थ हैं और आपके शरीर में किसी तरह की कोई कमी भी नहीं है तो बेहतर होगा कि आप विटामिन सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल ना करें। ऐसा कोई भी प्रमाण नहीं है, जो यह बताएं कि विटामिन या सप्लीमेंट्स स्वस्थ व्यक्ति अगर लेता है, तो उसे लाभ पहुंचता है। अगर आपको किसी प्रकार की समस्या है और डॉक्टर ने आपको सप्लीमेंट लेने की सलाह दी है, तो आप इसे अपनी दिनचर्या में जरूर शामिल करें। कुछ मामलों में सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से हार्ट संबंधी समस्याओं का खतरा कम होता है।

और पढ़ें: हार्ट के रोगियों के लिए फूड पैकेजिंग क्लेम्स के बारे में जानें यहां!

यह सुझाव देने के लिए पर्याप्त डेटा नहीं है कि डीआरआई से अधिक कुछ विटामिन या मिनिरल सप्लिमेंट्स लेने से स्वस्थ लोगों को लाभ होता है। हालांकि कुछ स्टडी के दौरान ये सुझाव दिया है कि कार्डियोवैस्कुलर बीमारी की कम दर या जोखिम को कम करने में आबादी में विटामिन या मिनिरल सप्लमेंट्स का उपयोग होता है।

इस आर्टिकल में हमने आपको हृदय रोगियों के लिए विटामिन सप्लीमेंट (vitamin supplements in diet for people living with heart disease) के बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड