home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

क्या हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन फायदेमंद हो सकता है?

क्या हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन फायदेमंद हो सकता है?

बीएमजे (British Medical Journal) में छपी स्टडीज के अनुसार हार्ट पेशेंट्स के लिए अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स- जैसे पैकेज्ड स्नैक्स (Packaged snacks), शुगरी सीरियल्स और ड्रिंक्स (Sugary cereals and drinks), चिकन नगेट्स (Chicken nuggets) और इंस्टेंट सूप से अर्ली डेथ का खतरा हो सकता है। हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) ठीक होते हैं या नहीं, ये जानकारी बहुत जरूरी है। दरअसल, जब फूड प्रोडक्ट्स को प्रोसेस्ड किया जाता है तो इससे लाभकारी पोषक तत्व हट सकते हैं। वहीं, कुछ प्रोसेस्ड फूड्स से ओबेसिटी, हाय ब्लड प्रेशर, मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम और टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना बढ़ जाती है। हालांकि, सभी प्रोसेस्ड फूड्स अनहेल्दी नहीं होते हैं। आप एक हेल्दी डायट के हिस्से के रूप में कई प्रोसेस्ड फूड आइटम्स का सेवन कर सकते हैं, फिर भी आपको उन खाद्य पदार्थों को सीमित करना चाहिए जो सोडियम, शुगर, एडिटिव्स (Additives) और प्रिजर्वेटिव्स में हाय होते हैं।

जानते हैं यहां कि हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) कौन-से सही हैं, हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स जिनके सेवन से बचना चाहिए।

प्रोसेस्ड फूड (Processed food) क्या है?

ज्यादातर खाद्य पदार्थ प्रोसेस्ड होते हैं। कोई भी फूड आइटम्स जो कैंड, कुक्ड, फ्रोजेन (Frozen), पाश्चुरीकृत (Pasteurized) या पैक्ड होते हैं, प्रोसेस्ड फूड कहलाते हैं। आप हेल्दी डायट के रूप में कैंड वेजिटेबल, फ्रोजेन फ्रूट्स, और पाश्चुरीकृत डेयरी प्रोडक्ट्स सहित कई प्रोसेस्ड फूड प्रोडक्ट्स (Processed food products) का आनंद ले सकते हैं। हालांकि, कुछ हायली प्रोसेस्ड आइटम नमक, चीनी, एडिटिव्स (Additives) और प्रिजर्वेटिव्स (Preservatives) से भरे हुए हैं, जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

और पढ़ें: हार्ट कंडिशन में सूपरफूड का सेवन हार्ट हेल्थ के लिए है मददगार?

प्रोसेस्ड फूड्स के क्या उदाहरण हैं? (What are examples of processed foods?)

सामान्य प्रोसेस्ड फूड्स के उदाहरणों में शामिल हैं:

वैसे सभी प्रोसेस्ड फूड्स एक बुरा ऑप्शन नहीं होते हैं। कुछ फ़ूड आइटम्स को सेफ रखने के लिए प्रोसेस्ड करने की आवश्यकता होती है, जैसे दूध, जिसे हानिकारक बैक्टीरिया को हटाने के लिए पास्चुरीकृत करने की आवश्यकता होती है। इसी तरह, कुछ फूड्स को इस्तेमाल करने के योग्य बनाने के लिए उन्हें प्रोसेस्ड किया जाता है जैसे कि तेल बनाने के लिए बीजों की प्रेसिंग (Pressing) करना।

हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) जो कम हेल्दी होते हैं

कभी-कभी प्रोसेस्ड फूड्स में नमक, चीनी और फैट जैसे इंग्रिडेंट्स को उनकी शेल्फ लाइफ, टेस्ट और फ्लेवर को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि ब्रेड में नमक या केक में चीनी मिलाना। प्रोसेस्ड फूड्स का ज्यादा सेवन का मतलब है कि डायट में चीनी, नमक और फैट की अनुशंसित मात्रा से अधिक खाना। हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) ऐसे में अधिक खतरनाक बन जाते हैं। इन खाद्य पदार्थों में अधिक मात्रा में शुगर या फैट होने के कारण कैलोरी में भी अधिक हो सकती है।

और पढ़ें: प्रोटीन और हृदय रोग : अधिक प्रोटीन का सेवन क्या हार्ट पर पड़ सकता है भारी?

हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients)

हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) चुनते समय रखें इन बातों का ध्यान

प्रोसेस्ड फूड्स में नमक, चीनी और फैट की मात्रा पर आपका कोई कंट्रोल नहीं होता है, लेकिन आप जो भी फ़ूड आइटम्स खरीदना चाहते हैं उस पर आपका कंट्रोल हो सकता है। प्रोडक्ट्स खरीदने से पहले न्यूट्रिशनल लेबल पढ़ने से फैट, सॉल्ट और शुगर की मात्रा पर कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है। यहां दिए गए वयस्कों के लिए दिशानिर्देश भोजन में फैट, सैचुरेटेड वसा, सॉल्ट या शुगर की मात्रा को चुनना आपके लिए आसान बना सकता है।

टोटल फैट

  • हाय: प्रति 100 ग्राम में 5 ग्राम से अधिक फैट
  • कम: प्रति 100 ग्राम में 3 ग्राम या उससे कम फैट

सैचुरेटेड फैट

  • हाय: प्रति 100 ग्राम में 5 ग्राम से अधिक संतृप्त वसा
  • कम: प्रति 100 ग्राम में 5 ग्राम संतृप्त वसा या उससे कम

शुगर

  • हाय: प्रति 100 ग्राम टोटल शुगर का 5 ग्राम से अधिक
  • कम: प्रति 100 ग्राम में टोटल शुगर का 5 ग्राम या उससे कम

नमक

  • हाय: प्रति 100 ग्राम में 5 ग्राम (या 0.6 ग्राम सोडियम) या इससे अधिक नमक
  • कम: प्रति 100 ग्राम 3 ग्राम नमक या इससे कम (या 0.1 ग्राम सोडियम)

यदि आप संतृप्त वसा को कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो उन खाद्य पदार्थों की मात्रा को सीमित करने का प्रयास करें जिनमें प्रति 100 ग्राम में 5 ग्राम से अधिक सैचुरेटेड फैट होता है। रेड और प्रोसेस्ड मीट संतृप्त वसा में हाय हो सकता है। सलाह दी जाती है कि एक दिन में 70 ग्राम से अधिक न खाएं। यदि आप प्रेग्नेंट हैं, तो पता करें कि आपको किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।

और पढ़ें: हार्ट के रोगियों के लिए फूड पैकेजिंग क्लेम्स के बारे में जानें यहां!

हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स जो किए जा सकते हैं इस्तेमाल (Processed foods that can be used for heart patients)

पोषक तत्वों से भरपूर, कम से कम प्रोसेस्ड फूड्स को डेली डायट में शामिल करें। जितना पॉसिबल हो फूड आइटम्स चुनते समय उनके व्होल फॉर्म को चुनें। इसमे शामिल है:

  • जामुन, केला, गाजर और ब्रोकली जैसे फलों और सब्जियों में फायबर, पोटेशियम और फाइटोन्यूट्रिएंट्स (Phytonutrients) होते हैं जो स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। फलों और सब्जियों से भरपूर डायट हाय ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज और स्ट्रोक के रिस्क को कम करती है और ब्लड शुगर पर पॉजिटिव इफेक्ट्स डालती है।
  • दूध, दही और पनीर जैसे डेयरी प्रोसेस्ड फूड्स नुट्रिशन तत्वों से भरपूर होते हैं जिसमें प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन ए, डी और बी 12 शामिल हैं – जो अच्छी हेल्थ को सपोर्ट करते हैं।
  • ड्राइड बीन्स, दाल और मटर पकने के बाद ज्यादा पौष्टिक होती हैं। इनसे प्रोटीन, फायबर और कई फायदेमंद विटामिन और मिनरल्स मिलते हैं, जिनमें बी विटामिन, नॉनहेम (Nonheme) आयरन और जिंक शामिल होते हैं। हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) में कैंड बीन्स (Canned beans) भी एक बेहतरीन विकल्प हैं, जो समान पोषण प्रदान करती हैं।
  • अंडे, मछली और लीन मीट प्रोटीन के अच्छे सोर्स हैं जो महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करते हैं।
  • फर्मेन्टेड फूड्स और ड्रिंक्स जैसे डेयरी (जैसे दही) और सब्जियां (जैसे किमची/kimchi) प्रोबायोटिक्स (Probiotics) से हेल्थ बेनिफिट्स देते हैं, जो हेल्दी डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए जरूरी गट बैक्टीरिया के संतुलन को बनाए रखते हैं। जिन खाद्य पदार्थों में प्रोबायोटिक्स होते हैं उन्हें हाय ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज और डायबिटीज के खिलाफ प्रोटेक्टिव पाया गया है।

हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients): इन बातों का भी रखें ध्यान

ऊपर बताए गए नुट्रिएंट-डेंस खाद्य पदार्थ शेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए कैंड या फ्रोजेन हो सकते हैं। फ्रोजेन साबुत अनाज, जैसे ब्राउन राइस, और डिब्बाबंद बीन्स और दाल भी पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। कुछ कैंड और फ्रोजेन खाद्य पदार्थों में शुगर या नमक मिला हो सकता है, इसलिए हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) खरीदते समय इंग्रिडेंट्स और नुट्रिशन फैक्ट लेबल को देखना जरूरी है।

अल्ट्रा या हायली-प्रोसेस्ड फूड आइटम्स का सेवन बिल्कुल न करें। फूड प्रोसेसिंग शुगर, सॉल्ट और फैट की अधिक मात्रा को ऐड कर सकता है ऐसा भोजन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेय देता है। इस तरह के फूड्स को “जंक” फूड्स के रूप में जाना जाता है, इस केटेगरी के फूड प्रोडक्ट्स कैलोरी में हाय होती है, जबकि चिप्स, केक, कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन वजन बढ़ाने, हाय ब्लड प्रेशर, हार्ट डिजीज और डायबिटीज में योगदान देता है।

और पढ़ें: हार्ट हेल्थ के लिए पॉलीअनसैचुरेड फैट्स कितना फायदेमंद है?

उम्मीद करते हैं कि आपको हार्ट पेशेंट्स के लिए प्रोसेस्ड फूड्स (Processed Foods for heart patients) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड