home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

पर्सनालिटी डिसऑर्डर क्या हैं? जानें प्रकार और इनको पहचानने का तरीका

पर्सनालिटी डिसऑर्डर क्या हैं? जानें प्रकार और इनको पहचानने का तरीका

एक अच्छी पर्सनालिटी हर किसी के आकर्षण का केन्द्र होती है। व्यक्ति को अपनी पर्सनालिटी की कुछ विशेषताएं माता-पिता से मिलती हैं तो कुछ को जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों से। पर ऐसे में अगर किसी को पर्सनालिटी डिसऑर्डर हो जाए जीवन कठिन हो सकता है। तो कैसे पहचान कर उपचार करें किसी भी पर्सनालिटी डिसऑर्डर का आज हम आपको यही बता रहे हैं।

पर्सनालिटी डिसऑर्डर से ग्रस्त लोगों को रोजाना ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसे समाज स्वीकार नहीं करता है। समाज के कारण लोगों की यह स्थिति और गंभीर होने का खतरा बढ़ जाता है। पर्सनालिटी डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति को लगता है कि वह पूरी तरह से नार्मल है। इसके विपरीत उसे समाज के अन्य लोगों में कमी दिखाई दे सकती है।

इसके कारण वह न तो समाज के लोगों से मिलना पसंद करते हैं और न ही उनके साथ कुछ भी शेयर करते हैं। अपनी इस समस्या का दोष वह दूसरों पर डालते हैं। इस प्रकार के व्यवहार के कारण लोग जल्दी उनका साथ छोड़ देते हैं। ज्यादातर मामलों में खराब व्यवहार के कारण पर्सनालिटी डिसऑर्डर से ग्रस्त व्यक्ति के अधिक दोस्त या अच्छे रिश्ते नहीं होते हैं।

पर्सनालिटी डिसऑर्डर ज्यादातर किशोरावस्था या वयस्कों में होता है। इसके लक्षण पर्सनालिटी डिसऑर्डर के प्रकार पर निर्भर करते हैं। इलाज में टॉक थेरेपी और दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है।

पर्सनालिटी डिसऑर्डर के प्रकार

पर्सनालिटी डिसऑर्डर के कई प्रकार होते हैं। इन सभी को तीन क्लस्टर आधारित श्रेणियों में विभाजित किया गया है। कुछ लोगों को मल्टीपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर के लक्षण और संकेत दिखाई दे सकते हैं।

क्लस्टर ए (संदेहजनक)

क्लस्टर बी (भावनात्मक और संवेगशील)

क्लस्टर सी (चिंतित या बेचैन)

कैसे करें बीमारी को परीक्षण?

यदि आपके डॉक्टर को ऐसा लगता है कि आपको कोई भी पर्सनालिटी डिसऑर्डर है तो इसका पूरा पता सही डायग्नोसिस से लगाया जा सकता है।

और पढ़ें – क्या है अब्लूटोफोबिया, इस बीमारी से पीड़ित लोगों को क्यों लगता नहाने से डर?

फिजीकल टेस्ट्स

डॉक्टर एक शारीरिक परीक्षा कर आपसे आपके स्वास्थ्य के बारे में कई गहरे सवाल पूछते हैं। कुछ मामलों में आपकी बीमारी के लक्षण किसी अन्य शारीरिक स्वास्थ्य समस्या से जुड़े हो सकते हैं।

सायकीऐट्रिक इवैल्यूएशन

इस प्रक्रिया में डॉक्टर आपके विचार,भावनाओं और व्यवहार के बारे में आपसे सवाल पूछते हैं जो कि आपकी समस्या के समाधान में बहुत फायदेमंद होते हैं।

और पढ़ें – एडीएचडी का प्राकृतिक इलाज: इस तरह पेरेंट्स दूर कर सकते हैं बच्चों की यह बीमारी

क्या है पर्सनालिटी डिसऑर्डर का उपचार?

आपका उपचार आपके पर्सनालिटी डिसऑर्डर के प्रकार पर निर्भर करेगा। क्योंकि पर्सनालिटी डिसऑर्डर ज्यादा लंबे समय से स्वाभाव में होते हैं, इसलिए इनके सफल उपचार में महीनों या वर्षों का समय लग सकता है। यदि आपके लक्षण हल्के हैं तो आपको सिर्फ एक सायकायट्रिस्ट से उपचार की आवश्यकता पड़ती है। अगर आपके लक्षण गंभीर हैं तो आपको सायकायट्रिस्ट के उपचार के साथ साथ दवाओं का भी सेवन करना पड़ सकता है।

1. सायकोथेरेपी

सायकोथेरेपीके दौरान आपका मनोचिकित्सक आपकी स्थिति के बारे में जानने की कोशिश करता है, जिससे कि उसे आपकी समस्या की जड़ और हल दोनों मिल सके। वो आपसे आपके मूड, भावना,विचार और व्यवहार के बारे में बात कर सकते हैं। वो आपको स्ट्रेस मैनेजमेंट भी सीखाते हैं।

2. मेडिकेशन

किसी भी तरह के पर्सनालिटी डिसऑर्डर को ठीक करने के कोई भी खास दवा नहीं हैं। हालांकि,कई प्रकार की मानसिक समस्याओं की दवाएं विभिन्न पर्सनालिटी डिसऑर्डर को ठीक करने में मदद कर सकती हैं।

3. एंटी डिप्रेशन

अगर आपका मन उदास,क्रोध से भरा,आवेग में, निराशा में या चिड़चिड़ेपन का शिकार हो तो ऐसी स्थिति में एंटी डिप्रेशन उपयोगी हो सकता है।

4. मूड स्टेबलाइजर्स

जैसा कि नाम से ही पता चलता है,मूड स्टेबलाइजर्स रोगी के मूड स्विंग्स को ठीक करने या चिड़चिड़ेपन और आक्रामकता को कम करने में भी मदद कर सकता हैं।

और पढ़ें – डिप्रेशन ही नहीं ये भी बन सकते हैं आत्महत्या के कारण, ऐसे बचाएं किसी को आत्महत्या करने से

5. एंटीसाइकोटिक दवाइयां

इन दवाओं को न्यूरोलेप्टिक्स (neuroleptics) भी कहा जाता है। चिंता या क्रोध की समस्या में यह दवा उपयोगी मानी जाती है।

6. अस्पताल और आवासीय उपचार

कुछ गंभीर मामलों में, रोगी को मानसिक देखभाल के लिए अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत भी पड़ सकती है। इस प्रकार के उपचार को तभी लागू किया जाता है जब रोगी खुद की देखभाल ठीक से नहीं कर सकता है या जब वो खुद को या किसी और को नुकसान पहुंचाने की स्थिति में होता है।

और पढ़ें – अगर किसी के मन में आए आत्महत्या के विचार, तो उसकी ऐसे करें मदद

अपनी व्यावसायिक उपचार योजना के साथ, इन जीवनशैली और स्व-देखभाल रणनीतियों पर विचार करें

अपनी देखभाल में एक सक्रिय भागीदार बनें। चिकित्सा सत्र न छोड़ें। उपचार के लिए अपने लक्ष्यों के बारे में सोचें। अपनी दवाओं का पालन और सेवन करें। यहां तक कि अगर आप अच्छी तरह से महसूस कर रहे हैं, तो अपनी दवाओं को न छोड़ें। अपनी स्थिति के बारे में जानें। चलने, जॉगिंग, तैराकी या किसी भी गतिविधि पर विचार करें जो आपको पसंद है। शराब से बचें और चेकअप की उपेक्षा न करें या अपने प्राथमिक देखभाल पेशेवर की यात्राओं को छोड़ दें, खासकर यदि आप अच्छी तरह से महसूस नहीं कर रहे हैं।

और पढ़ें – बच्चों के लिए खतरनाक है ये बीमारी, जानें एडीएचडी के उपचार के तरीके और दवाएं

निष्कर्ष

यह सारे उपचार के तरीके विशेषज्ञों द्वारा आमतौर प्रयोग किए जाते हैं। किसी भी उपाय को बिना प्रोफेशनल डॉक्टर से परामर्श लिए बिना न करें। सही मार्गदर्शन आपको किसी भी तरह के पर्सनालिटी डिसऑर्डर से छुटकारा दिला सकता है।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और पर्सनालिटी डिसऑर्डर से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Personality disorder: a disease in disguise/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6327594/Accessed on 11/08/2020

Personality disorder diagnosis/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1525106/Accessed on 11/08/2020

Personality disorder: a new global perspective/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2816919/Accessed on 11/08/2020

An overview of Indian research in personality disorders/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3146203/Accessed on 11/08/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/07/2019
x