बच्चों का झूठ बोलना बन जाता है पेरेंट्स का सिरदर्द, डांटें नहीं समझाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

हम सभी अपने जीवन में कभी न कभी झूठ बोलते हैं। लेकिन, बच्चों का झूठ बोलना माता-पिता को परेशान कर सकता है। हम समझते हैं कि कभी-कभी हर किसी को झूठ बोलना पड़ता है, जिससे सामने वाले की भावनाओं को ठेस ना पहुंचें। लेकिन कई बार माता-पिता को बच्चों का झूठ बोलना समझ नहीं आता।

कई बार बच्चों का झूठ बोलना ऐसे कारणों से होता है, जो घर के बड़ों के लिए चौंकाने वाला होता है। छोटी-छोटी बातों पर बच्चों का झूठ बोलना उनके माता-पिता को परेशान करता है। लेकिन, बच्चे झूठ बोलते क्यों हैं और इसके पीछे क्या कारण होता हैं, ये सुनकर आप चौंक जाएंगे। आइए आपको बताते हैं कि आपका बच्चा आपसे क्यों झूठ बोल सकता है।

ये भी पढ़ेंः सिंगल पेरेंट्स बच्चे की परवरिश के दौरान रखें इन बातों का ध्यान

5 वजह जिसकी वजह से आपका बच्चा आपसे झूठ बोलता हैः

दूसरों को खुश करने के लिए बच्चों का झूठ बोलना

हर बच्चा चाहता है कि उसके माता-पिता उससे खुश रहें। हमेशा अपने बच्चे को गलत समझना सही नहीं है। कई बार आपको खुश करने के लिए भी आपका बच्चा झुठ बोल सकता है।  उनके साथ समय बिताएं और उनको समझें। कई बार अगर उसने कुछ ऐसा किया है, जो वह जानता है कि आप इससे नाखुश होंगे, तो वह आपकी नाराजगी से बचने के लिए इसके बारे में झूठ बोल सकता है। इस झूठ बोलने की वजह बच्चे का आपको खुश करना है, बिना यह सोचे कि वह झूठ बोल रहा है। आपको खुश करने के लिए कई बार बच्चे आपसे झूठ बोल देते हैं और ऐसे में पेरेंट्स को समज नहीं आता कि इस स्थिति में कैसे रिएक्ट करना है।

अपने फायदे के लिए बच्चों का झूठ बोलना

कई बार बच्चे इसलिए भी झूठ बोल देते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि अगर उन्होंने सच बोला तो उन्हें उनकी गलती की सजा मिल जाएगी। मां-बाप से मिलने वाली सजा के डर से बच्चे बहुत बार झूठ बोल देते हैं। इस सजा का डर बच्चों में इतना ज्यादा होता है कि उन्हें पता भी नहीं चलता कि वो झूठ बोल रहें हैं और वे आपके सामने अपनी गलती से मुकर जाते हैं।

माता-पिता से सीख सकते हैं झूठ बोलना

बच्चे सफेद झूठ की अवधारणा को नहीं समझते हैं। घर में अपने माता-पिता को देखकर बच्चे उनकी आदतें और उनका व्यवहार फॉलो करते हैं। वो आपकी छोटी-छोटी चीजें नोटिस करते हैं। आप आपस में एक-दूसरे से कैसे बात करते हैं या एक-दूसरे से किस तरह से चीजें छिपाते हैं यह सब उनके दिमाग में बैठ जाता है। आप भले ही मजाक में छोटी-छोटी बात के लिए एक दूसरे से झूठ बोलें लेकिन बच्चों में झूठ बोलना यहीं से आता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों को अनुशासन कैसे सिखाएं?

वास्तिवकता को न समझने की वजह से झूठ बोलना

जब तक बच्चा तीन या चार साल का नहीं हो जाता, तब तक आपका बच्चा वास्तव में झूठ बोलने की अवधारणा को नहीं समझ पाएगा, क्योंकि वह अभी तक सच को भी नहीं समझ पाता है। उसके लिए वास्तविकता और फैंटसी में ज्यादा अंतर नहीं होता। बच्चों को अक्सर ऐसा लगता है कि जो वो कार्टून और टीवी में देख रहें हैं वही सही है। उनके लिए इस बात को समझना उस उम्र में मुश्किल होता है कि जो स्क्रीन पर आ रहा उससे रियल लाइफ अलग है। उनके सच और झूठ को समझने का फंडा अलग हो सकता है इसलिए कई बार उनका झूठ उनकी समझ की हिसाब से सही होता है।

सच को अपने हिसाब से घूमा-फिरा कर बोलना

कभी-कभी आपका बच्चा चाहता है कि एक चीज के बजाय दूसरी चीज होती तो वह सच को घूमा फिरा कर बोलता है। जैसे कि उसकी बहन उसे उसके धक्का देने से नहीं गिरी बल्कि तेज दौड़ने की वजह से गिरी। हालांकि, सच उसे भी पता है। लेकिन, सच बोलने के परिणाम से बचने के लिए वह झूठ बोलता है और उस झूठ को थोड़ा बदल कर बोलता है। वह जैसा चाहता है वैसे उस सच को अपने घरवालों के सामने दिखाता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चे की परवरिश के लिए इन पांच पुराने तरीकों को कहें ‘बाय’

अटेंशन डेफेसिट हाइपर एक्टिविटी डिसऑर्डर (एचडीएचडी)

अटेंशन डेफेसिट हाइपर एक्टिविटी डिसऑर्डर (एचडीएचडी) भी बच्चों का झूठ बोलना का कारण होता है जिस वजह से वह झूठ बोलते हैं। इस बीमारी में बच्चा छोटी-छोटी बातों पर भी झूठ बोलता है। यही नहीं इस बीमारी से जूझ रहे बच्चों को हर बात सच बोलने की भी आदत होती है। वक्त के साथ उनमें यह आदत बढ़ती ही चली जाती है। इन बच्चों का झूठ बोलना जब पकड़ा जाता है तब भी ये लोग कभी सच नहीं बोलते। भारत में करीबन एक करोड़ से ज्यादा बच्चे इस बीमारी से पीड़ित हैं।

यदि आपका बच्चा भी इस बीमारी के चलते झूठ बोल रहा है तो उसे ऐसे डील करें:

बच्चे का झूठ बोलना किसी मां बाप को पसंद नहीं होता लेकिन कभी भी बच्चे के झूठ को व्यक्तिगत न लें। यह समझने की कोशिश करें कि उसने यह झूठ आपका अनादर करने के लिए नहीं बोला है। यह एक बीमारी की वजह से है। बच्चा आपसे जितनी बार झूठ बोले उसके झूठ के पैटर्न को याद रखें। इस बात के बारे में पता लगाएं कि क्या सारे पैटर्न में झूठ बोलने की वजह एक ही थी या अलग-अलग। इसके अलावा कोशिश करें कि बच्चे के लिए ऐसी परिस्थिती ही न हो जिसमें उसे झूठ बोलना पड़े। उसे प्यार से हैंडल करें।

बच्चों का झूठ बोलना इस तरह करें हैंडल

जब इस तरह के मामलों से निपटने की बात आती है, तो बच्चों को झूठ बोलने के लिए सजा देने की बजाय उन्हें सच्चाई का महत्व सिखाएं। बच्चों के लिए झूठ बोलने की अवधारणा नई है और उनके हिसाब से इसमें कुछ गलत नहीं है। इसलिए अपने बच्चों को यह समझाने पर जोर डालें कि वो अपनी गलतियां बताएं और उन्हें बताएं कि माता-पिता उनके सच बोलने पर ज्यादा खुश होंगे।

बच्चों का झूठ बोलना एक मानव स्वभाव का उदाहरण है। ऐसे में पेरेंट्स के लिए जरूरी है कि वे अपने को समझाएं कि झूठ बोलना एक गलत आदत है और इससे सिर्फ भविष्य के लिए परेशानियां ही खड़ी होती हैं।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में बच्चों का झूठ बोलना और उसे हैंडल करने को लेकर जानकारी दी गई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

और पढ़ेंः 

कैसे सुधारें बच्चे का व्यवहार ?

क्या बच्चे को हमेशा होता है सिरदर्द? जानें कारण और उपाय

बच्चों को खुश रखने के लिए फॉलो करें ये पेरेंटिंग टिप्स, बनेंगे जिम्मेदार इंसान

बच्चों के सवालों को हैंडल करने के लिए पेरेंट‌्स के लिए ये टिप्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    शिशु को तैरना सिखाने के होते हैं कई फायदे, जानें किस उम्र से सिखाएं और क्यों

    शिशु को तैरना सिखाना महज फैशन भर नहीं है बल्कि कई फायदे हैं। बच्चे को शारीरिक और मानसिक रूप से दूसरों बच्चों से आगे करता है। शिशु को तैरना सिखाना in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

    छोटे बच्चों में कान के इंफेक्शन in Hindi. कान का संक्रमण होने के कारण जानें। कान के संक्रमण से राहत पाने के सुरक्षित उपाय।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों की हैंड राइटिंग कैसे सुधारें?

    बच्चों की गंदी हैंड राइटिंग हर पेरेंट्स के लिए एक सिरदर्द होती है। अगर आप भी बच्चों की हैंड राइटिंग सुधारना चाहते हैं, तो इन तरीकों को ट्राई कर सकते हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चों के लिए मोबाइल गेम्स खेलना फायदेमंद है या नुकसानदेह

    जानें बच्चों पर मोबाइल गेम्स का क्या प्रभाव पड़ता है। क्या बच्चों में गेमिंग एडिक्शन को कम किया जा सकता है? Side effects of mobile games in hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज - Parenting Hacks, Self Care for New Moms, Body Image

    न्यू मॉम के लिए सेल्फ केयर व पेरेंटिंग हैक्स और बॉडी इमेज

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    बच्चे का टूथब्रश-children's toothbrush

    बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    प्रकाशित हुआ मई 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स

    लॉकडाउन के दौरान पेरेंट्स को डिसिप्लिन का तरीका बदलने की है जरूरत

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mona Narang
    प्रकाशित हुआ मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    हेलीकॉप्टर पेरेंट्स

    कहीं आप तो नहीं हैं हेलीकॉप्टर पेरेंट्स?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें