बच्चों के अंदर पनप रही नेगेटिविटी को कैसें करें हैंडल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अगर आपका बच्चा नेगेटिव सोचता है और आपको यह बात परेशान करने लगी है। साथ ही आप यह भी सोचते हैं कि आप कैसे उसके व्यवहार में बदलाव ला सकते हैं।  इस तरह की परिस्थितियों से लगभग सभी पेरेंट्स गुजरते हैं। अपने बच्चे के बारे में सोचना हर मां-बाप के लिए जरुरी भी है। थोड़े प्रयास और कुछ जरूरी कदमों के बाद आप उन्हें आशावादी बनने और सकारात्मक सोचने में मदद कर सकते हैं।

बच्चे के जीवन की समस्याओं या चुनौतियों से निपटने के लिए उसके सोचने के तरीके को बदलने की जरूरत होगी। ऐसे ही कुछ टिप्स हम आपको बताएंगे जिनका उपयोग आप हर दिन कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें- कैसे जानें कि कोई करीबी डिप्रेशन में है? ऐसे करें उनकी मदद

1.खुद से शिकायत करना बंद करें

अक्सर जो बच्चे नेगेटिव सोचते हैं उनके माता-पिता भी नेगेटिव सोचने लगते हैं। इसलिए यहां चुनौती खुद को शिकायत करने से रोकना है। अगर आप खुद को बड़बड़ाते हुए या बिना बात किसी छोटी बात पर खुद को गंभीर होते हुए देखते हैं, तो खुद को रोकें। अगर आप कर सकते हैं, तो यह भी सुनिश्चित करने की कोशिश करें कि जो कुछ आप कहते हैं वह सकारात्मक हो। साथ ही हर परस्थिति में अच्छाई को देखने की कोशिश करनी चाहिए। हालांकि अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा अपनी नकारात्मक सोच की आदत को बदल दे, तो यह व्यवहार उन्हें दिखाएगा कि यह संभव है। आप उसके लिए उदाहरण बन सकते हैं। ऐसा करने से आपका बच्चा समस्याओं को देखने का एक अलग तरीका का विकसित करेगा।

2.बच्चे का नजरिया बदलने में मदद करें

अपने बच्चे को उदासी, दुख या नेगेटिव भावनाओं पर सवाल उठाने में मदद करें। ठीक वैसे ही जैसे आपने उनकी आंखों के सामने का फिल्टर बदल दिया हो। आप उन्हें यह देखने में मदद कर सकते हैं कि फिलहाल उनका फिल्टर यानि की सोच केवल नेगेटिव देख रहा है। यह उनकी गलती नहीं है। यह इस पर निर्भर करता है कि वे चीजों को कैसे देख देख रहे हैं। वे अधिक सकारात्मक विचारों के बारे में सोचने के लिए अपने फिल्टर को बदल सकते हैं।

बच्चों को अलग-अलग एंगल से चीजों को देखने में मदद करें। आप देखें कि क्या आप अपने बच्चे को नया नजरिया विकसित करने में मदद कर सकते हैं। आप उसे समझा सकते हैं कि चीजों को अलग तरह से देखने से उसके आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास को बढ़ावा मिलेगा, उन्हें सेट-बैक के बाद वापस उछाल में मदद मिलेगी, और निराशाओं से बेहतर तरीके से सामना करने में मदद मिलेगी। वे ज्यादा खुश रह सकेंगे! अपने बच्चे को ऐसी स्थिति के बारे में सकारात्मक कहानी सुनाएं। आपका बच्चा अक्सर नेगेटिव महसूस करता है, जैसे कि अगर वह दौड़ में दूसरे स्थान पर आता और उदास होता है, तो उसे बताएं कि जो बच्चा पॉजिटिव सोचता है वह उसी स्थिति के बारे में बहुत अलग तरह से महसूस करेगा। उन्हें बताएं कि आशावादी लोग निराशावादी लोगों की तुलना में अधिक खुश रहते हैं।

ये भी पढ़ें- बच्चों को खुश रखने के लिए फॉलो करें ये पेरेंटिंग टिप्स, बनेंगे जिम्मेदार इंसान

3. कृतज्ञता का नजरिया विकसित करें

एक और विचार यह है कि आपके बच्चे को कृतज्ञता के नजरिए को विकसित करने में मदद करें। शोध से पता चला है कि एक बच्चे को पांच चीजें लिखने के लिए प्रोत्साहित करना, जो वे हर दिन के लिए आभारी हैं, उनके जीवन की संतुष्टि, उनकी खुशी और स्कूल में उनके ग्रेड को बेहतर बनाने में मदद करता है। चाहें तो वे हर दिन के अंत में एक डायरी में उन पांच चीजों के बारें में लिख सकते हैं जिनके लिए वे खुश और आभारी थे। इसके अलावा चीजों की एक लंबी लिस्ट लिखें और हर बार जब वे नई चीजों के बारे में सोचते हैं तो सूची में जोड़ते रहें। वे कागज की एक बड़ी शीट पर सूची लिख सकते हैं या एक अलग नोटबुक रख सकते हैं, जिसमें वह यह लिख सकते हैं कि वह जीवन में किस चीज के लिए आभारी हैं। जब बच्चे को किसी के लिए आभारी महसूस करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, तो यह उनके सोचने के तरीके को बदल देता है। यह उन्हें अपने जीवन में सभी सकारात्मक चीजों को स्वीकार करने में मदद करता है।

4. रिएलिटी चेकिंग के विचार

जिन बच्चों में अपने बारे में नेगेटिव विचार होते हैं, वे अक्सर तनाव में रहते हैं और वे स्कूल या उन चीजों के बारे में काफी नेगेटिव हो सकते हैं। इसलिए जब आप अपने बच्चे को यह कहते हुए सुनते हैं कि ‘मुझे खुद से नफरत है’, ‘मैं यह नहीं कर सकता’ या ‘मैं यह कभी नहीं सीखूंगा।’ अपने बच्चे को तनावपूर्ण विचारों को बदलने में मदद करने का एक बहुत ही सरल तरीका है। अपने बच्चे को रिएलिटी चेक करना सिखाएं।

यह महत्वपूर्ण है कि जब वे तनाव में हों, तो उनके नेगेटिव विचारों को समझें और उसे बदलने की कोशिश करें। वे जो कहते हैं अगर आप उससे असहमत होते हैं, तो वह तनाव में आ जाते हैं। इसलिए माता-पिता होने के नाते आप उनसे बात करें और उनके दिमाग में चल रहे सवालों का जवाब सकारात्मक स्तर पर दें।

ये भी पढ़ें- बच्चों को सताते हैं डरावने सपने, तो अपनाएं ये टिप्स

5. अपने बच्चे को उनकी भावनाओं को समझने में मदद करें

जब आपका बच्चा नेगेटिव हो रहा होता है, तो आप उसकी भावनाओं को समझकर उसकी मदद कर सकते हैं। आप उससे बात करके पता लगाने की कोशिश कर सकते हैं  कि वह ऐसा क्यों महसूस कर रहा है। आप उन्हें महसूस कराएं कि आप उनकी भावनाओं को समझ रहें हैं कि वे कैसा महसूस कर रहे हैं। हो सकता है पहले आप नेगेटिव सोच के लिए अपने बच्चे से नाराज हो गए हो। लेकिन, आपके बच्चे के लिए उनके विचारों को बदलना कठिन है। इसके लिए कोशिश करना पहला कदम है। जब वे नेगेटिव होते हैं, तो आप गुस्सा या चिड़चिड़े ना हों, इसकी जगह आप उनसे बात करने की कोशिश करें। इस वक्त उन्हें इस बारे में लॉजिकल स्पष्टीकरण देने की कोशिश नहीं करनी चाहिए कि वे ऐसा क्यों महसूस करते हैं। बस उन्हें सुने और ऐसा महसूस कराएं कि आप उनकी बात समझ रहे हैं।

6. उनकी समस्याओं को हल करने में मदद करें

आप उनकी परेशानी सुनें और उनके साथ बैठकर उनकी समस्या हल करें। इसके लिए एक पेज के ऊपर समस्या लिखें। अपने बच्चे को उस परेशानी के लिए अलग-अलग संभावित समाधानों के बारे में सोचने में मदद करें, अगर आप चाहते हैं, तो आप अंत में अपने खुद के कुछ विचार जोड़ सकते हैं। समाधान देखें फिर अपने बच्चे से पूछें कि क्या हो सकता है। अगर वह हर एक समाधान को आजमाना चाहते हैं तो फिर उन्हें चुनने के लिए मदद करें जिसे वे पहले किस पर प्रयास करना चाहते हैं।

आप इसे हर छोटी समस्या के साथ कर सकते हैं। इस तरह चिंताओं के भारी वजन के बजाय उन्हें लगता है कि उनके पास कोई है, वे एक-एक करके हर चिंता को देखना शुरू कर सकते हैं और इससे निपटने के लिए काम कर सकते हैं।

हालांकि, यह ध्यान में रखें कि अगर आपके बच्चे ने हमेशा समस्याओं को सुलझाने में आपकी मदद ली है और आप हमेशा खुशी से उन्हें बताते हैं कि उन्हें क्या करना है, तो उन्हें ये आदत आगे मुश्किल में डाल सकती है।

याद रखें  बदलाव में समय लगता है। आपके बच्चे को नेगेटिव  सोचने की आदत है। इसलिए धैर्य रखें और आगे बढ़ते रहें क्योंकि आपके द्वारा उठाए गए कदम आपके बच्चे को अधिक लचीला, तनाव से बेहतर सामना करने वाला और खुश रहने में मदद करेगा।

और पढ़ें- कुछ समस्याएं जो आपके बच्चे को महसूस करा सकती हैं असुरक्षित

बच्चों की इन बातों को न करें नजरअंदाज, उन्हें भी हो सकता है डिप्रेशन

Reviewed

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Quiz : जानिए आयुर्वेद के अनुसार दोष क्या होते हैं?

    आयुर्वेद के अनुसार शरीर में तीन दोष बताए गए हैं : वात, कफ और दोष। आयुर्वेद के अनुसार ...

    के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
    क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    आपकी डायट प्लान से जुड़े अहम सवाल, बताएं अपनी डायट के बारे में

    महिलाओं के लिए डायट प्लान : अच्छी सेहत के लिए डायट प्लान फॉलो किया जा सकता है। डायट प्लान जरूरत के अनुसार ही बनाना चाहिए। Diet plan

    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    डिलिवरी के दौरान की जाती है एपिसीओटॉमी की प्रोसेस, क्विज खेलकर आप बढ़ा सकते हैं नॉलेज

    एपिसीओटॉमी क्विज ऐसे प्रश्न पूछे गए है तो नॉर्मल डिलिवरी के दौरान होने वाली अहम प्रोसेस से जुड़े हैं। अगर आपको इनके बारे में जानकारी है तो खेलें एपिसीओटॉमी क्विज।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    50 के बाद सेक्स लाइफ को रोमांचक कैसे बनाएं?

    50 के बाद सेक्स को एंजॉय कैसे करें? ये सवाल कई लोगों को परेशान कर सकता है। इस आर्टिकल में हम इससे सबंधित टिप्स बता रहे हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
    सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 26, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    प्रेग्नेंसी की सही उम्र क्विज, pregnancy right age

    गर्भवती होने की सही उम्र के बारे में है जानकारी तो खेलें क्विज

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ अक्टूबर 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड क्विज

    प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड का सेवन है जरूरी, अगर आपको है जानकारी तो खेलें क्विज

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ अक्टूबर 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    वेट लॉस सर्वे - weight loss survey

    क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    स्मोकिंग सर्वे - smoking survey

    क्या आप छोड़ना चाहते हैं स्मोकिंग की लत?

    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें