डिलिवरी के बाद वजायना में आता है क्या बदलाव?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे की डिलिवरी हो जाने के बाद मां को रिकवर होने में थोड़ा समय लगता है। जिन महिलाओं की नॉर्मल डिलिवरी हुई है, डिलिवरी के बाद वजायना में बदलाव का सामना करना पड़ सकता है। प्रसव के बाद योनि के आकार में बदलाव के साथ ही कुछ समस्याएं भी आ सकती है। डिलिवरी के बाद एपिसिओटमी (episiotomy) के कारण महिलाओं को यूरिन  या स्टूल पास करने में भी कुछ समय तक परेशानी हो सकती है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि डिलिवरी के बाद वजायना में क्या बदलाव आता है?

यह भी पढ़ें:नॉर्मल डिलिवरी में मदद कर सकती हैं ये एक्सरसाइज, जानें करने का तरीका

डिलिवरी के बाद वजायना स्ट्रेचिंग

डिलिवरी के दौरान वजायना कितनी स्ट्रेच होगी, ये कुछ कंडिशन पर निर्भर करता है जैसे-

  • बेबी का साइज। बेबी का साइज जितना बड़ा होगा उतनी ही वजायना स्ट्रेच होगी।
  • चाइल्डबर्थ के पहले पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज की है या फिर नहीं,
  • बच्चा किस तरह से पैदा हुआ है?( वैक्यूम डिलिवरी या फिर फॉरसेप्स डिलिवरी)
  • पहले कितनी डिलिवरी हो चुकी हैं? (अगर पहले भी डिलिवरी हो चुकी है तो वजायना के स्ट्रेच होने की ज्यादा संभावना रहेगी)।

यह भी पढ़ें: डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

डिलिवरी के बाद वजायना में ड्राईनेस महसूस होना

डिलिवरी के बाद शरीर में ईस्ट्रोजन का लेवल कम हो जाता है। आपको महसूस होगा कि वजायना पहले के मुकाबले ड्राई हो गई है। इस वजह से परेशान होने की जरूरत नहीं है। अगर सेक्स के समय ड्राई वजायना की वजह से दिक्कत हो रही है तो एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

यह भी पढ़ें: किन परिस्थितियों में तुरंत की जाती है सिजेरियन डिलिवरी?

डिलिवरी के बाद वजायना में यूरिन प्रॉब्लम होना

डिलिवरी के बाद वजायना मे बदलाव से संबंधित ये आम समस्या है। कुछ एक्टिविटी जैसे खांसने, छींकने या फिर जंप करने से भी यूरिन निकल जाती है। ये वजायना के आकार में आए परिवर्तन की वजह से भी हो सकता है। आप पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज (pelvic floor exercises) से मसल्स को टाइट कर सकती हैं। बेहतर होगा कि एक बार अपने डॉक्टर से प्रॉब्लम डिस्कस करें।

डिलिवरी के बाद वजायना में बदलाव

डिलिवरी के बाद वजायना का साइज बड़ा महसूस होता है। साथ ही आपको वजायना लूज,सॉफ्ट और अधिक खुली हुई महसूस होगी। आपको इसके रंग में परिवर्तन दिखने लगेगा। डिलिवरी के बाद वजायना का रंग अधिक भूरा हो जाता है। प्रसव के बाद वजायना में आने वाला बदलाव समस्या का कारण नहीं होना चाहिए क्योंकि इससे आपको कोई दिक्कत नहीं होगी। अगर फिर भी आपको लगता है कि योनि के साइज में परिवर्तन आने से आपको कोई दिक्कत हो रही है तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ें: डिलिवरी के वक्त दिया जाता एपिड्यूरल एनेस्थिसिया, जानें क्या हो सकते हैं इसके साइड इफेक्ट्स?

डिलिवरी के बाद वजायना में दिख सकती है सूजन

डिलिवरी के बाद वजायना और वजायनल ओपनिंग कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं। बच्चे को जन्म देने के बाद वजायना के आसपास स्वेलिंग महसूस हो सकती है। ये बदलाव सी-सेक्शन (c-section) होने के बाद भी दिख सकता है। लेबर के दौरान की परिस्थतियां कई बार बदलाव को कम या फिर ज्यादा कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: डिलिवरी के बाद क्यों होती है कब्ज की समस्या? जानिए इसका इलाज

डिलिवरी के बाद वजायना में बड़े टेम्पॉन्स की पड़ेगी जरूरत?

सामान्य प्रसव या फिर नॉर्मल डिलिवरी के बाद महिलाओं को लगता है कि वजायना लूज हो गई है। ऐसे में कुछ महिलाओं को बड़े टेम्पॉन्स की जरूरत पड़ सकती है। वहीं कुछ महिलाएं ये महसूस करती हैं कि साइज में कोई परिवर्तन नहीं आया है। डॉक्टर महिलाओं को डिलिवरी के बाद अक्सर कीगल एक्सरसाइज करने की राय देते हैं ताकि पेल्विस फ्लोर में कमजोर हो गई मसल्स को मजबूती मिल सके। कीगल एक्सरसाइज की मदद के से यूरिन करने के दौरान होने वाली मसल्स की प्रॉब्लम से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के बाद बॉडी में आते हैं ये 7 बदलाव

डिलिवरी के बाद वजायना में क्या सेक्स के दौरान हो सकती है समस्या ?

नॉर्मल डिलिवरी के बाद वजायना के आसपास कुछ समय के लिए दर्द होता है। जब बात सेक्स की आती है तो कई बार महिलाओं को सोचना पड़ता है कि डिलिवरी के कितने समय बाद तक सेक्स करना चाहिए या फिर सेक्स के दौरान वजायना में क्या किसी तरह की दिक्कत हो सकती है? आमतौर पर डॉक्टर डिलिवरी के चार से छह सप्ताह बाद ही सेक्स की सलाह देते हैं। कुछ महिलाओं को सेक्स के दौरान दर्द की समस्या हो सकती है। वहीं जिन महिलाओं को डिलिवरी के दौरान सीरियस टियरिंग हुई थी, उन्हें ज्यादा समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जिन महिलाओं को डिलिवरी के समय टियरिंग की नहीं हुई थी, उन्हें सेक्स के दौरान किसी भी तरह की समस्या होने की संभावना कम रहती है।

यह भी पढ़ें : नॉर्मल डिलिवरी के फायदे शायद नहीं होंगे आपको पता

डिलिवरी के बाद वजायना में फॉरसेप्स इंजुरी

नॉर्मल डिलिवरी के दौरान अगर आपके डॉक्टर को फॉरसेप्स की जरूरत पड़ी होगी तो हो सकता है कि आपको फॉरसेप्स इंजुरी हो गई हो। डॉक्टर इंजुरी के कारण ही फॉरसेप्स का ज्यादा यूज नहीं करते हैं, लेकिन कुछ खास परिस्थितयों में फॉरसेप्स का यूज करना पड़ जाता है। अगर डिलिवरी के एक से ज्यादा हफ्ते के बाद भी आपको वजायना के आसपास दर्द की समस्या हो रही है तो तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाएं।

यह भी पढ़ें : अगर सता रहा है डिलिवरी को लेकर डर, तो अपने डॉक्टर से पूछें ये सवाल

डिलिवरी के बाद वजायना की देखभाल के टिप्स

  • वजायना की सही ढंग से सफाई करें।
  • सेनेटरी पैड्स को समय-समय पर बदलते रहें। इससे इंफेक्शन की संभावना कम होगी।
  • अगर प्रसव के बाद योनि के आस-पास सूजन आदि है तो प्रभावित हिस्से को गुनगुने पानी से भी साफ किया जा सकता है, ताकि स्वेलिंग और दर्द में राहत मिल सके।
  • वजायना में दर्द से निजात पाने के लिए डॉक्टर की सलाह से बर्फ की सेंकाई भी की जा सकती है।
  • डॉक्टर प्रसव के बाद टांकों पर एन्टीसेपटिक लगाने की सलाह देते हैं। इसके लिए सावधानी से वजायना और टांको पर इसे लगाएं।
  • सुबह फ्रेश हो जाने के बाद वजायना की सफाई पर खास ध्यान दें।
  • एक बार आपके टांके हो जाएं तो पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज करना शुरू कर सकती हैं। इससे वजायना में ब्लड फ्लो सही तरीके से होगा। इंफेक्शन से बचने का यह सबसे प्रभावी तरीका है।

यह भी पढ़ें:  क्या हैं शिशु की बर्थ पुजिशन्स? जानें उन्हें ठीक करने का तरीका

नॉर्मल डिलिवरी और सी-सेक्शन के बाद महिलाओं की वजायना में बदलाव अलग भी दिख सकते हैं। अगर आपको किसी भी तरह का बदलाव दिख रहा तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डिलिवरी के बाद वजायना में बदलाव दिखने से हो सकता है कि कोई समस्या न भी हो, लेकिन जानकारी के लिए आप एक बार अपनी समस्या डॉक्टर से जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और भी पढ़ें :

 क्या वजायनल डिलिवरी में पेरिनियम टीयर होना सामान्य है?

मोटे बच्चे का जन्म क्या नॉर्मल डिलिवरी में खड़ी करता है परेशानी?

प्रसव के बाद देखभाल : इन बातों का हर मां को रखना चाहिए ध्यान

प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    डिलिवरी के वक्त दाई (Doula) के रहने से होते हैं 7 फायदे

    डिलिवरी के वक्त दाई (Doula) का साथ गर्भवती महिला को क्यों है जरूरी? क्या आप जानते हैं डिलिवरी के वक्त दाई गर्भवती महिला और डॉक्टर के बीच बेहतर तालमेल कर सकती हैं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    पॉलिहाइड्रेमनियोस (गर्भ में एमनियोटिक फ्लूइड ज्यादा होना) के क्या हो सकते हैं खतरनाक परिणाम?

    पॉलिहाइड्रेमनियोस (Polyhydramnios) क्या है? क्यों इसके बढ़ने से गर्भवती महिला के साथ-साथ शिशु की बढ़ सकती है परेशानी? कब और कैसे किया जाता है इसका इलाज?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स रुकना क्या है किसी समस्या की ओर इशारा?

    ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स सेफ है या नहीं? डिलिवरी के बाद दोबारा पीरियड्स क्या पहले जैसे ही होते हैं? ..breastfeeding and periods in hindi

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Middle ear infection : कान का संक्रमण क्या है?

    जानिए कान का संक्रमण क्या है in hindi, कान में संक्रमण के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Middle ear infection को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    सी सेक्शन के बाद सेक्स कितने दिन बाद करें

    सी सेक्शन के बाद सेक्स लाइफ एन्जॉय करने के कुछ बेहतरीन टिप्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
    प्रकाशित हुआ अगस्त 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    बीटाडीन क्रीम

    Betadine Cream: बीटाडीन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    बैंडी सिरप

    Bandy Syrup: बैंडी सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    Cifran CTH सिफ्रान सीटीएच

    Cifran CTH : सिफ्रान सीटीएच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ जून 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें