home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

हर महिला को जरूर जानने चाहिए प्रेग्नेंट होने के फायदे

हर महिला को जरूर जानने चाहिए प्रेग्नेंट होने के फायदे

प्रेग्नेंट होने के फायदे न सिर्फ गर्भवती महिला को मिलते हैं, बल्कि उसके साथी के साथ-साथ पूरे परिवार को भी होते हैं। हालांकि, प्रेग्नेंट होने के फायदे एक प्रेग्नेंट महिला को मानसिक और शारीरिक रूप से और भी स्वस्थ्य बना सकती हैं। इस बात में भी कोई दोराय नहीं है कि गर्भवती होने पर महिलाओं में मानसिक और शारीरिक रूप से कई तरह के बदलाव होते हैं। लेकिन, अगर एक गर्भवति महिला को खुश मानसिक स्थिति और शारीरिक रूप से स्वस्थ्य रखा जाए, तो प्रेग्नेंट होने के फायदे बहुत हैं।

हैलो स्वास्थ्य के इस आर्टिकल में आप प्रेग्नेंट होने के फायदे जान सकते हैं प्रेग्नेंट होने के फायदे इन फायदों को उठाने के लिए आप भी कुछ तरह की खास बातों का ध्यान रख सकते हैंः

और पढ़ें : हो चुकी हैं कई बार प्रेग्नेंट तो जानिए क्या है मल्टिपैरा रिस्क

जानिए प्रेग्नेंट होने के फायदे

1. घरवालों से मिले एक्ट्रा लव एंड केयर

अगर आप सिर्फ अपने साथी के साथ रहती हैं, तो जाहिर है कि आपकी केयर करने के लिए आपके पास सिर्फ आपके साथी ही होंगे। अगर आप एक जॉइंट फैमिली में रहती हैं, तो आपकी केयर करने के लिए आपके पास हरदम लोगों की एक भीड़ लगी रह सकती है। लोगों की यह स्थिति आपको बहुत ज्यादा स्पेशल फील करवा सकती है, जिससे आप मानसिक तौर पर बहुत खुश रह सकते हैं। साथ ही, आपकी देखरेख करने में परिवार के सदस्य किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। इसके अलावा, एक गर्भवती महिला को देखने उसके घर पर रिश्तेदारों का आना-जाना भी लग जाता है, जो बच्चे के जन्म तक जारी रहता है। इस दौरान आप अलग-अलग लोगों से अलग-अलग तरह के गप्पे भी लगा सकती हैं। जो आपके मेंटल हेल्थ के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

2.ब्रेन का सामान्य से अधिक तेज होना

प्रेग्नेंट महिलाओं के ब्रेन को लेकर किए गए अध्ययन में पता चला है कि, गर्भावस्था के कुछ ही महिनों के बाद उनके दिमाग पहले के मुकाबले काफी तेज हो जाता है। इस न्यूरोलॉजिकल अध्ययन में शामिल वैज्ञानिकों का दावा है कि प्रेग्नेंट होने के बाद महिलाएं अलग-अलग तारीकों को बड़ी ही आसानी से याद रख पाती हैं। साथ ही, उनके सोचने और विचार करने की क्षमता भी काफी दूरदर्शी बन जाती है। हालांकि, बच्चे के जन्म के बाद उनका दिमाग पहले की ही तरह सामान्य कार्य करने लगता है।

और पढ़ें : क्या मैं फाइब्रॉएड्स के साथ प्रेग्नेंट हो सकती हूं?

[mc4wp_form id=”183492″]

3.मिले ग्लोइंग स्किन

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को अपनी डायट में कई तरह के हेल्दी फूड्स और ड्रिंक्स शामिल करने पड़ते हैं। ताकि उनका शरीर और गर्भ में पल रहा बच्चा पूरी तरह से पोषित और बीमारियों से उनका शरीर बचा रहे। ऐसे में इसका पूरा फायदा प्रेग्नेंट महिला की स्किन और बालों को भी मिलता है जिसे आप प्रेग्नेंट होने के फायदे मान सकते हैं। कई महिलाओं ने अपने अनुभव के आधार पर इस बात को स्वीकार किया है कि प्रेग्नेंट होने के कुछ ही बाद उनकी त्वचा काफी सॉफ्ट बन गई थी। इसके पीछे के असल कारणों को उन्होंने कभी पता नहीं किया, लेकिन उनका कहना है कि ऐसा उनकी हेल्दी डायट की वजह से हुआ होगा। दरअसल, गर्भावस्था के दौरान हर महिला खुद से ज्यादा अपने बच्चे का ख्याल रखती है। ऐसे में वो खाने-पीने के मामले में काफी सतर्क हो जाती है। इसके अलावा प्रेग्नेंट होने पर महिला के शरीर में खून की मात्रा बढ़ती है, जिससे उनकी त्वचा को अधिक ऑक्सीजन और बेहतर ब्लड फ्लो मिलता है।

4. हेल्दी हेयर के साथ क्लिक करें सेल्फी

प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में ब्लड फ्लो बेहतर होने और खून की मात्रा बढ़ने से बालों को भी पोषण मिलता है। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को किसी तरह का तनाव नहीं होते है, तो उसके बाल सामान्य के मुकाबले प्रेग्नेंसी के दिनों में अधिक लंबे, घने और काले बन सकते हैं। हालांकि, प्रेग्नेंसी के दौरान बाल झड़ने की समस्या भी काफी आम हो जाती है, लेकिन आप अपनी हेल्दी डायट से अपनी इस समस्या को भी आसानी से दूर कर सकती हैं।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट महिलाएं विंटर में ऐसे रखें अपना ध्यान, फॉलो करें 11 प्रेग्नेंसी विंटर टिप्स

5. ब्रेस्ट साइज

अगर आप अपने छोटे आकार के ब्रेस्ट से संतुष्ट नहीं है, तो प्रेग्नेंट होने के फायदे में आप बड़े ब्रेस्ट के साइज से संतुष्ट हो सकती हैं। अगर सामान्य तौर पर आपका ब्रेस्ट ए या बी है, तो प्रेग्नेंट होने के कुछ ही महिनों में आपके ब्रेस्ट का साइज सी या डी हो जाएगा। तो अब आप भी प्रेग्नेंट होने के फायदे अपने छोटे स्तनों को बड़ा आकार होने से उठा सकती हैं। हालांकि, अगर पहले से ही आपके ब्रेस्ट के साइज बड़े हैं और आपको चिंता है कि यह प्रेग्नेंसी के दौरान और भी बड़े हो सकते हैं, तो चिंता न करें इनके बढ़े हुए आकार बच्चे के जन्म के कुछ समय बाद प्राकृतिक रूप से कुछ कम हो जाएंगे।

6. सेक्स की इच्छा बढ़ा सकती हैं

कई अध्ययनों के अनुसार, ज्यादातर महिलाएं गर्भावस्था के दौरान सेक्स करने की अधिक इच्छा जाहिर करती हैं। खासकर प्रेग्नेंसी के तीसरे तिमाही में ऐसा इसलिए होता है क्योंकि, प्रेग्नेंसी के दौरान हो रहे शारीरिक बदलाव के कारण उनके स्तन अधिक संवेदनशील हो जाते हैं और योनी में ब्लड फ्लो बढ़ने के कारण उनकी सेक्स ड्राइव भी बढ़ सकती हैं। हालांकि, हर महिला को ऐसा अनुभव नहीं होता है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स करना पहले की तरह सामान्य नहीं होता है। उन्हें कई तरह की परेशानी आ सकती है। ऐसे में बढ़ी हुई सेक्स ड्राइव के कारण प्रेग्नेंसी के शुरूआती दिनों में सेक्स करना महिला के लिए अधिक संतुष्टि देने वाला हो सकता है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट ना होने के उपाय जो आपको नैचुरली प्रेग्नेंसी से बचाता है

7. हरदम सोने का ख्याल करना

गर्भावस्था में लक्षणों में थकान होना सबसे सामान्य होता है। इस दौरान न चाहते हुए भी एक गर्भवती महिला बहुत ज्यादा सोती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि प्रेग्नेंट होने पर महिला के शरीर में पानी की मात्रा छह से आठ लीटर और खून की मात्रा 50 फीसदी तक बढ़ जाती है। जिससे महिला का वजन भी तेजी से बढ़ता है। ऐसे में आपको नींद अच्छी आएगी।

8. प्रेग्नेंट होने के फायदे से पा सकती हैं पीरियड्स के दर्द से राहत

ज्यादातर महिलाओं का कहना है कि डिलिवरी के बाद होने वाले उनके पीरियड्स काफी कम दर्द देने वाले होते हैं। बच्चे के जन्म के बाद होने वाले पीरियड्स में उन्हें पेट में ऐंठन काफी कम होती है। इसके पीछे वजह है कि, नॉर्मल डिलिवरी में बच्चे के जन्म के समय गर्भाशय का खिंचाव होना। इसके पीछे का दूसरा कारण है प्रोस्टाग्लैंडीन हार्मोन। यह हार्मोन डिलिवरी के दौरान दर्द को फैलेन से रोकने का कार्य करता है।

अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Staying healthy and safe. https://www.womenshealth.gov/pregnancy/youre-pregnant-now-what/staying-healthy-and-safe. Accessed On 21 September, 2020.

Health Tips for Pregnant Women. https://www.niddk.nih.gov/health-information/weight-management/healthy-eating-physical-activity-for-life/health-tips-for-pregnant-women. Accessed On 21 September, 2020.

Eat Healthy During Pregnancy: Quick tips. https://health.gov/myhealthfinder/topics/pregnancy/nutrition-and-physical-activity/eat-healthy-during-pregnancy-quick-tips. Accessed On 21 September, 2020.

Pregnancy and Nutrition. https://medlineplus.gov/pregnancyandnutrition.html. Accessed On 21 September, 2020.

What benefits would pregnant women receive. https://pmsma.nhp.gov.in/i-am/pregnant-woman/what-benefits-would-pregnant-women-receive/ Accessed On 21 September, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/09/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड