home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से कैसे बचें?

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से कैसे बचें?

प्रेग्नेंसी किसी भी गर्भवती महिला के लिए सुखद अनुभव से कम नहीं है। हालांकि प्रेग्नेंसी के दौरान कई तरह की अलग-अलग शारीरिक और मानसिक परेशानी भी शुरू हो जाती है। यू. एस. नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के रिसर्च के अनुसार 20 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान हिप पेन होता है या इस समस्या से परेशान रहती हैं। गर्भावस्था के दौरान हिप पेन की वजह से गर्भवती महिला परेशानी महसूस कर सकती हैं। दर्द कभी तेज या अचानक से भी शुरू हो सकती है।

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन किसी भी वक्त हो सकता है। यह गर्भावस्था की दूसरे तिमाही या प्रेग्नेंसी की तीसरे तिमाही में ज्यादा होने की संभावना होती है लेकिन, यह परेशानी गर्भावस्था के फस्ट ट्राइमेस्टर के दौरान में भी शुरू हो सकती है। ऐसा इसलिए होता क्योंकि गर्भ में पल रहा शिशु का विकास होता रहता है और धीरे-धीरे उसका वजन भी बढ़ता जाता है।

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन होना क्या सामान्य है?

प्रेग्नेंसी के दौरान हिप पेन सामान्य है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ ऑब्स्टट्रिशन एंड गायनेकोलॉजिस्ट (ACOG) के रिसर्च के अनुसार प्रेग्नेंसी के दौरान रिलैक्सिन हॉर्मोन के कारण होता है। ऐसी स्थिति में जोड़ों में चोट लगने का खतरा ज्यादा रहता है।

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन किन-किन कारणों से हो सकता है?

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन निम्नलिखित कारणों से हो सकता है। जैसे:-

रिलैक्सिन हॉर्मोन की वजह से कार्टिलेज और टेंडॉन सामान्य से ज्यादा लूज हो जाते हैं। रिलैक्सिन हॉर्मोन की वजह से हिप्स के आकार में बदलाव आता है और यह सामान्य से ज्यादा बड़े होते हैं जिससे बेबी डिलिवरी में आसानी होती है। हालांकि इस वजह से लिगामेंट, एब्डॉमेन और पीयूबिक एरिया में दर्द भी शुरू हो जाती है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में क्या हॉर्मोनल बदलाव होते हैं?

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से बचने के लिए क्या करना चाहिए?

प्रेग्नेंसी के दौरान हिप पेन से बचने के निम्नलिखित उपाय किये जा सकते हैं:-

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से बचने के उपाय 1- योग

प्रेग्नेंसी के दौरान हिप पेन से बचने के लिए आप योग कर सकती हैं लेकिन, डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही योग करना बेहतर होगा। योग करने के दौरान अकेले न रहें बल्कि योग एक्सपर्ट की निगरानी में योग करें। निम्नलिखित योग गर्भधारण के बाद किये जा सकते हैं। जैसे:-

काव पोज (Cow pose) योग

कैसे करें काव पोज योग?

स्टेप 1: घुटने के बल बैठ जाएं। दोनों पैर पीछे की ओर हों और दोनों हाथ की हथेलियों के सहारे काव पोज ले लें।

स्टेप 2: अब धीरे से अपने पेट, कंधे और फेस को ऊपर की ओर उठायें।

स्टेप 3: स्टेप 2 की पुजिशन से फिर से स्टेप 1 की ओर लौट जाएं।

ऐसा बिना तेजी से 5 से 10 बार तक किया जा सकता है।

और पढ़ें : फर्टिलिटी बढ़ाने वाले योगासन: पुरुषों को जरूर जानना चाहिए इनके बारे में

चाइल्ड पोज (Child’s pose) योग

कैसे करें चाइल्ड पोज योग?

1: घुटने की बल लेट जाएं और धरती के बल अपने दोनों हाथों को सीधा कर लें।

स्टेप 2: अब अपने हिप को पीछे से उठाते हुए आगे की ओर ले जाएं।

स्टेप 3: स्टेप 1 की पुजिशन में वापस आ जाएं

ऐसा बिना तेजी से 5 से 10 बार तक किया जा सकता है।

बाउंड एंजेल पोज (Bound angle pose)

बाउंड एंजेल पोज कैसे करें?

बाउंड एंजेल पोज को राउंड एंजेल पोज भी कहा जाता है। हिंदी में इस पोज को बटरफ्लाई योग भी कहते हैं। इसे निम्नलिखित तरह से किया जा सकता है:-

स्टेप 1: जमीन पर बैठ जाएं। दोनों पैर को अपनी ओर आपस में ज्वाइन कर लें।

स्टेप 2: अपने दोनों हाथों से ज्वाइन किये हुए पैर को पकड़ लें।

स्टेप 3: बटरफ्लाई की तरह अपने पैर को मूवमेंट दें।

ऐसा तेजी से न करें। गर्भवती महिला ब्रेक लेकर 10 मिनट तक इस योग को कर सकती हैं।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में पति की जिम्मेदारी है पत्नी को खुश रखना, ये टिप्स आ सकती हैं काम

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से बचने के उपाय 2: एक्सरसाइज

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से बचने के लिए एक आसान एक्सरसाइज की जा सकती है। इसके लिए आपको एक चेयर पर बैठने की जरूरत है। चेयर पर बैठ जाएं और अपने पीठ सीधी रखें। अब एक पैर के फीट को अपनी थाई पर रखें और 20 से 30 सेकेंड तक रुकें। फिर इसी तरह अपने दूसरे पैर के फीट को थाई पर रखें और इसी पुजिशन में 20 से 30 सेकेंड तक रुकें। ऐसा दोनों पैर से बारी-बारी 5-5 बार करें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज और योग किस हद तक है सही, जानें यहां

गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से बचने के उपाय 3: हल्के गर्म पानी से स्नान करना

स्नान करने के लिए हल्के गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें। ऐसा करने से शरीर में ब्लड फ्लो बेहतर होता है और जॉइंट से जुड़ी परेशानी भी कम होती है। बॉडी पेन से भी राहत मिलती है। प्रेग्नेंसी के दौरान हिप पेन से राहत पाने के लिए हीटिंग पैड या गर्म पानी में डीप किये हुए टॉवेल से पानी निकाल दें और इससे कमर और कमर के निचले हिस्से को 10 से 15 मिनट सिकाई करें। इस वक्त यह ध्यान रखें की हीटिंग पैड या टॉवेल अत्यधिक गर्म नहीं होना चाहिए। गर्म पानी में नमक भी डाल कर टॉवेल को हीट कर सकते हैं। ऐसा करने से टाइट हुए मसल्स नॉर्मल हो जाते हैं, जिससे गर्भवती महिला की परेशानी कम हो सकती है।

अगर गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से राहत नहीं मिल रहा हो और हिप से जुड़ी परेशानी बढ़ती जा रही है, तो डॉक्टर से अपनी परेशानी बताएं। इसलिए निम्नलिखित समस्या होने पर इस परेशानी को टाले नहीं:-

  1. जोड़ों से संबंधित परेशानी
  2. पैर, कमर या हिप के मूवमेंट में परेशानी महसूस होना
  3. पैर पर अत्यधिक भार महसूस होना
  4. तेज दर्द
  5. अचानक से सूजन होना
  6. इंफेक्शन होना
  7. बार-बार दर्द की वजह से बुखार होना
  8. ठंड लगना
  9. शरीर का रंग लाल होना

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में कैंसर का बच्चे पर क्या हो सकता है असर? जानिए इसके प्रकार और उपचार का सही समय

इन नौ परेशानियों को गर्भवती महिलाओं को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। प्रेग्नेंसी में पौष्टिक आहार का सेवन करें। इस दौरान किये जाने वाले योग, एक्सरसाइज या वॉकिंग अवश्य करें। अगर आपके डॉक्टर कंप्लीट बेड रेस्ट की सलाह देते हैं, तो फिर ऐसा कोई भी काम न करें जिससे आपको परेशानी हो या आपकी परेशानी बढ़े। इस दौरान आराम से चलें, उठें और बैठें। बैठने के दौरान अपना पोस्चर सीधा रखें।

अगर आप गर्भावस्था के दौरान हिप पेन से परेशान हैं, तो इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। इस दौरान घरेलू उपाय का सहारा न लें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

How to Relieve and Prevent Hip Pain During Pregnancy
/https://www.healthline.com/health/pregnancy/pregnancy-hip-pan/Accessed on 01/04/2020

Hip pain/https://www.mayoclinic.org/symptoms/hip-pain/basics/when-to-see-doctor/sym-20050684/Accessed on 01/04/2020

Hip pain in pregnancy/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3027389/Accessed on 01/04/2020

What to know about hip pain during pregnancy/https://www.medicalnewstoday.com/articles/pregnancy-hip-pain/Accessed on 01/04/2020

Pelvic girdle pain in pregnancy/https://www.pregnancybirthbaby.org.au/pelvic-pain-during-pregnancy/Accessed on 01/04/2020

Incidence of Four Syndromes of Pregnancy-Related Pelvic Joint Pain/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/12486356/Accessed on 01/04/2020

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x