आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

वॉटर बर्थ प्रोसेस से बच्चे को जन्म देना चाहती हैं कल्कि

वॉटर बर्थ प्रोसेस से बच्चे को जन्म देना चाहती हैं कल्कि

अपनी खास अदाकारी से पहचान बनाने वाली एक्ट्रेस कल्कि ने हाल ही में खुलासा किया है कि वो पांच माह की प्रेग्नेंट हैं। वो जल्द ही अपने ब्वॉयफ्रेंड के बच्चे को जन्म देने वाली है। बता दें कि कल्कि के ब्वॉयफ्रेंड हर्शबर्ग इजराइल मूल के क्लासिकल पियानिस्ट हैं। कल्की ने पहले फिल्म मेकर अनुराग कश्यप से साल 2011 में शादी की थी। हालांकि, दोनों ने 2013 में आपसी सहमति से अलग हो गए थे और 2015 में दोनों का तलाक हो गया था। कल्कि ने फिल्म ‘मार्गरीटा विथ अ स्ट्रॉ’ में एक सराहनीय भूमिका निभाई थी और अब नेटफ्लिक्स की सीरीज सेक्रेड गेम्स 2 में भी अपने करैक्टर को लेकर लाइम लाइट में है। इस आर्टिकल के माध्यम से कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में आप भी जानिए।

और पढ़ें :पेरेंटिंग का तरीका बच्चे पर क्या प्रभाव डालता है? जानें अपने पेरेंटिंग स्टाइल के बारे में

कल्कि की प्रेग्नेंसी : जानिए क्या कहा कल्कि ने ?

कल्कि ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में वॉटर बर्थ प्रोसेस से बच्चे को जन्म देने की बात कही। कल्कि की प्रेग्नेंसी की खबर उनके फैंस के लिए खास है। प्रेग्नेंसी के दौरान अपने एक्सपीरियंस को शेयर करते हुए कल्कि ने कहा कि मैं बहुत बदलाव महसूस कर रही हूं। मैं खुद को डेलिब्रेट, सुस्त और बीमार महसूस कर रही हूं। मां बनने का एहसास आपके अंदर अलग चेतना जगा देता है। उन्होंने कहा कि उनका मदरहुड उनके भाई के साथ शुरू हुआ, जोकि उनसे काफी छोटा है। वो कहती हैं कि बच्चे हमें हमारे बचपने में ले जाते हैं। हमें याद दिलाते हैं कि क्या महत्वपूर्ण हैं। मैं प्रेग्नेंसी का अनुभव करना चाहती थी, अब महसूस करती हूं कि मेरे अंदर एक जीवन पनप रहा है। कल्कि आगे कहती हैं कि मैं काम करना चाहती हूं लेकिन कॉम्पीटिशन के लिए ही नहीं बल्कि किसी को पोषित करने के लिए। इस दौरान कल्कि ने पेरेंटिंग टिप्स भी दिए।

1.कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में राय : बच्चे के लिए शादी जरूरी नहीं

कल्कि ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि सिर्फ बच्चे के लिए शादी करना जरूरी नहीं है। मैं और मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने एक-दूसरे को पूरी तरह स्वीकार किया है। अब हम तीसरे सदस्य का इंतजार कर रहे हैं।

और पढ़ें : गर्भावस्था में लिनिया नाइग्रा: क्या ये प्रेग्नेंसी में त्वचा संबधी बीमारी है?

2. कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में राय : 35 के बाद बच्चा

लोग महिलाओं को अक्सर बायोलॉजिकल क्लॉक के बारे में याद दिलाते रहते हैं। 35 साल की महिलाओं को बच्चे के लिए प्रेशर दिया जाता है। आज समय बदल गया है। टेक्नालॉजी के कारण कई चीजें संभव हो चुकी हैं। आगे वो कहती हैं कि जब आप बच्चे के लिए पूरी तरह से तैयार हो, तभी बच्चे को जन्म दें। वो 35 साल की उम्र में पहले बच्चे को जन्म देंगी।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : सानिया मिर्जा का पोस्ट डिलिवरी वर्कआउट प्लान कर सकता है आपका फैट कम

3. कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में राय : वॉटर बर्थ से पहले बच्चे का जन्म

कल्कि ने इंटरव्यू में साफ किया कि वो वॉटर बर्थ प्रोसेस से बच्चे को जन्म देंगी। वॉटर बर्थ प्रोसेस के दौरान गुनगुने पानी में महिला बच्चे को जन्म देती है। लेबर पेन से लेकर बच्चे को जन्म देने तक, सारी क्रियाएं पानी में होती है।

और पढ़ें :संजय दत्त को हुआ स्टेज 3 का लंग कैंसर, कहा कि फिल्मों से ब्रेक ले रहा हूं

4. कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में राय : जेंडर नेचुरल बेबी नेम

उन्होंने बेबी के नाम को लेकर भी अपना पक्ष रखा है। उन्होंने कहा कि अपने बेबी का नाम ऐसा रखेंगी जो लड़का या लड़की के नाम पर मेल खाएगा। यानी वह अपने बेबी का ऐसा नाम रखेंगी जो समलैंगिक व्यक्ति को रिप्रिजेंट करता हो।

और पढ़ें : हेयर हो बॉडी हो या फिर मौनी रॉय की बंगाली खूबसूरती, किसी भी चीज को ग्रांटेड नहीं लेती हैं यह “नागिन”

5. कल्कि की प्रेग्नेंसी के बारे में राय : मोबाइल से दूरी है जरूरी

कल्कि ने प्रेग्नेंसी के दौरान मोबाइल से दूरी बना ली है। वो कहती हैं कि मोबाईल से निकलने वाली रेडिएशन होने वाले बच्चे में बुरा असर डालती है। वो कोशिश करती है कि जितना हो सके, मैं अपने आप को मोबाईल से दूर ही रखती हूं।

वॉटर बर्थ प्रक्रिया में क्या होता है?

वॉटर बर्थ प्रक्रिया के दौरान सबसे पहले महिला को गुनगुने पानी के पूल या फिर बाथ टब में बैठाया जाता है। लेबर के दौरान डिफरेंट पुजिशन अपनाने से कहीं अच्छा लेबर के दौरान पानी में बैठना होता है। कई शोध के अनुसार वॉटर बाथ प्रक्रिया के जरिए वजायनल टीयरिंग का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा यूट्रस में ब्लड फ्लो की स्थिति भी सही हो जाती है। प्रग्नेंट महिला को लेबर के दौरान पानी में रिलैक्स महसूस होता है।

इसके बाद जब लेबर की सेकेंड स्टेज होती है तब प्रेग्नेंट महिला को तब तक पुश करने के लिए हिदायत दी जाती है जब तक कि बच्चा बाहर न आ जाए। लेबर की सेकेंड स्टेज सबसे ज्यादा दर्द और कष्टकारी होती है। बेबी के लिए बाहर आते ही पानी में आना उसके लिए कितना सुरक्षित है या नहीं इसकी जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें। कई डॉक्टर्स का इसे लेकर कहना है कि ऐसे में कॉम्प्लिकेशन होने का खतरा रहता है। यदि यह प्रक्रिया हॉस्पिटल में हो रही है तो किसी भी तरह की कॉम्प्लिकेशन में डॉक्टर एक्शन ले सकते हैं, लेकिन घर पर इस प्रक्रिया के दौरान यह असंभव होता है।

वॉटर बर्थ के लिए खुद को इस तरह करें तैयार:

सबसे पहले ऐसे हॉस्पिटल के बारे में पता लगाए जहां वॉटर बर्थ प्रक्रिया की जाती है। इस प्रक्रिया के लिए एक खास तरह के टब का इस्तेमाल किया जाता है। आपके हेल्थ केयर प्रोवाइर के पास यह टब जरूर होना चाहिए। जिस हॉस्पिटल का आप चयन कर रहे हैं वहां की पॉलिसी अच्छी तरह समझ लें। साथ ही उसकी वेबसाइट पर रिव्यू पढ़ना न भूलें। वॉटर बर्थ के दौरान महिला को किसी भी तरह की मेडिसिन का यूज नहीं करना पड़ता है और न ही स्किन में कट लगता है। यानी ये पूरी तरह से नैचुरल प्रॉसेस है, जो मां और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है। मां डिलिवरी के बाद जल्दी रिकवर भी हो जाती है, जो बच्चे के स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा है। वॉटर बर्थ में चुकिं गुनगुने पानी का उपयोग किया जाता है, जिससे मसल्स रिलैक्स होती हैं और गर्भवति महिला को भी बहुत रिलैक्स फील होता है।

वॉटर बर्थ के दौरान खतरा

वॉटर बर्थ प्रोसेस के जरिए बेबी का जन्म खुद का फैसला हो सकता है लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि अगर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान किसी भी प्रकार का कॉम्प्लिकेशन हो तो बेहतर होगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से बात जरूर कर लें क्योंकि वॉटर बर्थ के दौरान कुछ समस्याएं आती हैं। वॉटर बर्थ के दौरान होने वाले बच्चे को नुकसान भी पहुंच सकता है। जन्म के दौरान इंफेक्शन का खतरा बच्चे को रहता है जो उसकी सेहत के लिए ठीक नहीं है। कई बार बच्चे को जन्म के दौरान सांस संबंधी समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है। अगर वॉटर बर्थ के दौरान कोई एक्सपर्ट साथ में नहीं है तो खतरा बढ़ने की अधिक संभावना होती है।

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। किसी भी गंभीर स्वास्थ्य समस्या के होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से जांच करानी चाहिए।आपको इस आर्टिकल के माध्यम से वॉटर बर्थ के बारे में काफी जानकारी मिली होगी। अगर आप डिलिवरी से संबंधित अन्य आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तो आप हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट से जानकारी ले सकते हैं। साथ ही आप स्वास्थ्य संबंधि जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप भी वॉटर बर्थ प्लान कर रहे हो तो बेहतर होगा कि डॉक्टर से इस बारे में जानकारी प्राप्त करें।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

water-birth process https://www.tommys.org/pregnancy-information/labour-birth/where-can-i-give-birth/how-prepare-water-birth Accessed on  10/12/2019

New waterbirth practice template adds to growing body of waterbirth resources.
mana.org/blog/new-waterbirth-practice-template-adds-to-growing-body-of-waterbirth-resources-0 Accessed on 10/12/2019

water-birth  https://www.pregnancybirthbaby.org.au/water-birth Accessed on 10/12/2019

water-birth   https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4210671/ Accessed on 10/12/2019

 

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/09/2021 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड