इस तरह नवजात शिशु को बचा सकते हैं इंफेक्शन से, फॉलो करें ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

CDC (सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन) के अनुसार हर साल विश्वभर में लगभग 30 लाख नवजात शिशुओं की मौत का कारण संक्रमण भी है। नवजात शिशु में संक्रमण बैक्टीरिया या वायरस की वजह से होता है। वहीं, प्री-मैच्योर (37 सप्ताह से पहले से जन्म) बेबीज और शिशुओं में जिनका जन्म के समय वजन कम रहता है, उन्हें संक्रमण का खतरा ज्यादा रहता है। 

नवजात शिशु में होने वाले संक्रमण के लिए काफी हद तक उसके आसपास का वातावरण और लोग जिम्मेदार होते हैं। इसलिए, छोटे बच्चों में होने वाले इंफेक्शन को कुछ हद तक रोका जा सकता है। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ. आर. के. ठाकुर (आर. के. क्लिनिक, लखनऊ) बता रहे हैं कि न्यू पेरेंट्स कैसे छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर नवजात शिशु की देखभाल कर सकते हैं?

नवजात शिशु में संक्रमण को कैसे पहचानें?

दूध न पीना, चिड़चिड़ा होना, ज्यादा रोना, अत्यधिक नींद आना, व्यवहार में बदलाव आना, तेजी से सांस लेना आदि कुछ लक्षण नवजात शिशु में संक्रमण की ओर इशारा करते हैं। इंफेक्शन का पता लगाने के लिए ये लक्षण दिखने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

बच्चे का शिथिल पड़ना, दौरे पड़ना, बॉडी टेम्पेरेचर कम होना या अधिक बढ़ना, उलटी, पेट फूलना, शरीर में सूजन आदि लक्षण गंभीर इंफेक्शन की तरफ इशारा करते हैं। ऐसी स्थिति में देर किए बिना नवजात शिशु को बाल विशेषज्ञ के पास तुरंत ले जाना चाहिए। नवजात शिशु में संक्रमण तेजी से फैलता है और यह कुछ स्थितियों में जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए, जल्दी से रिकवरी के लिए डॉक्टर उन्हें दवाई इंजेक्शन के रूप में देते हैं। साथ ही इलाज कम से कम 10-21 दिन तक देना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें : बच्चों में नजर आए ये लक्षण तो हो सकता है क्षय रोग (TB)

नवजात शिशु को संक्रमण से बचाने के लिए बेस्ट है स्तनपान कराना 

ब्रेस्ट मिल्क (breast milk) में एंटीबॉडी, एंजाइम और व्हाइट ब्लड सेल्स (white blood cells) जैसे कई कारक पाए जाते हैं जो शिशु की इम्यूनिटी को बढ़ाते हैं। इससे न्यू बॉर्न बेबी को कई तरह के रोगों और संक्रमणों से बचने में मदद मिलती है। जो शिशु स्तनपान करते हैं उनमें कान के संक्रमण, उल्टी, दस्त, निमोनिया, यूरिन इंफेक्शन की संभावना बहुत कम हो जाती है। एक अध्ययन के अनुसार मां के दूध में पाया जाने वाला एक खास किस्म का तत्व नवजात शिशु में संक्रमण के खतरे को कम करता है। साथ ही यह तत्व कई हानिकारक जीवाणुओं से भी शिशु की रक्षा करता है। इस शोध में सामने आया है कि मां के दूध एंटीबायोफिल्म की तरह काम करता है। 

यह भी पढ़ें : स्तनपान छुड़ाने के बाद ब्रेस्ट को लूज होने से कैसे बचाएं?

नवजात शिशु में संक्रमण से बचाव के लिए गर्भवती महिला क्या करें?

नवजात शिशु में इंफेक्शन की संभावना को कम करने के लिए महिला को प्रेग्नेंसी पीरियड के दौरान ही कुछ बचाव कर लेने चाहिए जैसे-

यह भी पढ़ें : जब जानवर घर पर हो तो शिशु की सुरक्षा के लिए इन बातों का ध्यान रखें

बच्चे को इंफेक्शन से बचाने के लिए न्यू पेरेंट्स क्या टिप्स अपनाएं?

छोटे बच्चे को इंफेक्शन से बचाने के लिए नए पेरेंट्स को भी काफी ध्यान देना चाहिएउनको भी नीचे बताए गए ये टिप्स फॉलो करने चाहिए

हाथों की साफ-सफाई है जरूरी 

जन्म के 72 घंटों के अंदर होने वाला बैक्टीरियल इंफेक्शन नवजात शिशुओं के लिए बेहद खतरनाक हो सकता है। इसलिए, पेरेंट्स जब भी न्यू बॉर्न बेबी के सम्पर्क में आएं, तो सुनिश्चित करें कि हाथ साफ रहें। कोई अन्य भी शिशु को छुएं तो उन्हें अपने हाथ धोने के लिए कहें। हाथों की साफ-सफाई अक्सर संक्रमण की आशंका को बहुत कम कर सकती है। यदि आपके घर में शिशु की देखभाल आया करती है, तो सुनिश्चित करें कि वह भी साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखे। उसे रोजाना नहाना चाहिए, उसके नाखून कटे होने चाहिए। साथ ही शिशु को छूने से पहले और शौचालय का इस्तेमाल करने के बाद हर बार उसे अपने हाथ धोने चाहिए।

यह भी पढ़ें : बच्चों में भाषा के विकास के लिए पेरेंट्स भी हैं जिम्मेदार

डिस्पोजेबल टिश्यू का उपयोग करें

नवजात शिशु की आंख या नाक को पोंछने के लिए डिस्पोजेबल टिश्यू का उपयोग करें। एक टिश्यू पेपर का प्रयोग एक ही बार करके उसे डस्टबिन में ही फेंके। इससे संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है। 

अपने बच्चे के आसपास की जगह को साफ रखें 

खिलौने और फर्श को नियमित रूप से साफ करें क्योंकि रोगाणु इनकी सतह पर 48 घंटे तक जिंदा रह सकते हैं। इंफेक्शन की संभावना को कम करने के लिए ऐसे एंटी-बैक्टीरियल क्लीनर (bacterial cleaner) उपयोग करें जो बेबी-फ्रेंडली हो।

यह भी पढ़ें : कैसे रखें मानसून में नवजात शिशु का ख्याल?

ऐसे लोगों से दूर रहें जो अस्वस्थ हैं

बच्चे को सभी तरह के संक्रमणों के संपर्क में आने से रोकना संभव नहीं है। हालांकि, नवजात शिशु को अगर इंफेक्शन का खतरा ज्यादा है, तो उसे ऐसे लोगों से दूर रखें जिनमें सर्दी-जुखाम जैसे लक्षण हों। 

शिशु का टीकाकरण करवाएं 

खसरे, मेनिन्जाइटिस (Meningitis), पोलियो (Poilo) आदि संक्रमण जनित रोगों से शिशु को बचाने के लिए नियमित रूप से वैक्सिनेशन करवाएं। कुछ बीमारियां जैसे- खांसी और इन्फ्लूएंजा शिशु के जन्म के पहले महीने में खतरनाक साबित हो सकती हैं। इसलिए परिवार के सदस्यों और केयरटेकर का टीकाकरण हो रखा हो, यह भी सुनिश्चित करने की जरुरत है। इससे वे छोटे-मोटे इंफेक्शन से बचे रहेंगे, जिससे शिशु के संक्रमित होने के चांसेज कम हो जाएंगे।

संक्रमण (इंफेक्शन) नवजात शिशुओं की सेहत का सबसे बड़ा दुश्मन है। न्यू बॉर्न बेबीज में होने वाले कुछ संक्रमणों की रोकथाम की जा सकती है। ऊपर बताए गए बेबी हेल्थ केयर टिप्स को अपनाकर डिलिवरी के बाद होने शिशु में इंफेक्शन की संभावना को कम किया जा सकता है। ऊपर बताए गए टिप्स आपको कैसे लगे? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

ये भी पढ़ें-

Pneumonia : निमोनिया क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपाय

बार- बार होते हैं बीमार? तो बॉडी में हो सकती है विटामिन-डी (Vitamin-D) की कमी

कफ के प्रकार: खांसने की आवाज से जानें कैसी है आपकी खांसी?

नवजात शिशु के लिए 6 जरूरी हेल्थ चेकअप

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    गर्भावस्था में खाएं सूरजमुखी के बीज और पाएं ढेरों लाभ

    सूरजमुखी के बीज के लाभ, सूरजमुखी के बीज को गर्भावस्था में खाना सुरक्षित है या नहीं पाएं इस बारे में पूरी जानकारी, Sunflower Seed Pregnancy Benefits in hindi

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अगस्त 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Quiz : अपनी पसंद-नापसंद से जानिए संक्रमण से कितना लड़ सकता है आपका शरीर

    इम्यूनिटी क्विज: क्या किसी संक्रमण से लड़ने के लिए आपके शरीर की इम्यूनिटी का स्तर पर्याप्त है या फिर आपको अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने की जरूरत है। आइए, इस क्विज को खेलकर जानते हैं। Immunity Quiz

    के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
    क्विज अगस्त 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    गर्भावस्था में आप अखरोट खा सकती हैं या नहीं ?

    गर्भावस्था के दौरान अखरोट खाने के लाभ , गर्भावस्था के दौरान अखरोट खाना गर्भ में पल रहे शिशु के लिए क्या फायदेमंद है, Benefit of walnut during pregnancy.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अगस्त 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    कोरोना वायरस महामारी के दौरान न्यू मॉम के लिए ब्रेस्टफीडिंग कराने के टिप्स

    स्तनपान नवजात शिशु के लिए बहुत ही आवश्यक होता है। कोरोना के चलते कई माओं को डर रहता है कि ब्रेस्टफीडिंग से कहीं उनके बच्चे को संक्रमण न हो जाए। अगर एक माँ कोरोना संक्रमण का इलाज करा रही है, तो वह कुछ सावधानियों के बाद बच्चे को दूध पिला सकती है।”

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    स्तनपान, पेरेंटिंग अगस्त 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    पीएम मोदी के हेल्थ अनाउंसमेंट

    जन्मदिन विशेष: पीएम मोदी ने हेल्थ मिशन से लेकर कोरोना वैक्सीन तक किए ये बड़े ऐलान

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    गर्भावस्था के दौरान चीज खाना चाहिए या नहीं जानिए

    क्या गर्भावस्था के दौरान चीज का सेवन करना सुरक्षित है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रकाशित हुआ अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    इम्यून सिस्टम क्विज

    इम्यून सिस्टम क्विज खेल कर जानें इससे जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    मैटरनिटी लीव क्विज - maternity leave quiz

    मैटरनिटी लीव एक्ट के बारे में अगर जानते हैं आप तो खेलें क्विज

    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 2 मिनट में पढ़ें