गर्भावस्था में मलेरिया होने पर कैसे रखें अपना ध्यान? जानें इसके लक्षण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेग्नेंट महिलाओं को आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान बहुत सी सावधानियां बरतने की सलाह दी जाती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान मां की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत कमजोर होती है। इस दौरान महिलाओं को कई बीमारियों के होने का खतरा रहता है। उन्हीं में से एक बीमारी है मलेरिया। यह मच्छरों से होने वाला एक तरह का संक्रामक रोग है। वैसे तो यह किसी को भी हो सकता है, लेकिन प्रेग्नेंट महिलाओं को इसका खतरा ज्यादा रहता है। इसमें मां और गर्भ में पल रहे बच्चे दोनों की जान को खतरा रहता है। प्रेग्नेंसी में मलेरिया होने पर बिना समय गंवाए चिकित्सक से जांच करानी चाहिए। इलाज में देरी होने पर अबॉर्शन कराने की स्थिति भी बन सकती है।

गर्भावस्था में मलेरिया होने पर क्या करें इससे पहले समझते हैं मलेरिया क्या है?

मलेरिया मच्छरों से पैदा होने वाली एक जानलेवा बीमारी है। मलेरिया फीमेल एनोफिलीस मच्छर (Female Anopheles mosquito) से इंसानों तक पहुंचाता है। अब वो चाहें गर्भवती महिला ही क्यों न हों। मलेरिया प्लासमोडियम पैरासाइट्स के कारण होता है। प्लास्मोडियम पैरासाइट्स के 100 से भी ज्यादा प्रकार हैं। हर एक प्रकार अलग-अलग स्पीड से खुद को रेप्लीकेट करते हैं जिसके कारण लक्षण भी तेजी से बढ़ने लगते हैं और पीड़ित व्यक्ति कम वक्त में ही संक्रमित हो जाता है।

प्लास्मोडियम पैरासाइट्स के पांच अलग-अलग प्रकार इंसानों को संक्रमित कर सकते हैं। मलेरिया के इन अलग-अलग प्रकार गंभीर कारण भी बन सकते हैं। एक बार जब एक संक्रमित मच्छर एक इंसान को काटता है तो पैरासाइट्स रेड ब्लड सेल्स (RBC)  को संक्रमित करने और खत्म करने से पहले व्यक्ति के लिवर में अपनी संख्या या संक्रमण को तेजी से फैलाने में सफल हो जाता है।

प्रेग्नेंसी में मलेरिया होने के कारण

मलेरिया एक संक्रामक रोग है जो ‘प्लाज्मोडियम’ नाम के पैरासाइट के जरिए फैलता है। यह बीमारी संक्रमित मादा एनाफिलीज मच्छर के काटने से फैलती है कई शोध में यह निष्कर्ष निकलकर सामने आया है कि नॉन प्रेग्नेंट महिलाओं की तुलना में प्रेग्नेंट महिलाओं को यह बीमारी होने की संभावना ज्यादा रहती है। मलेरिया पैरासाइट के चार प्रकार होते हैं। प्लास्मोडियम वाइवैक्स, प्लास्मोडियम फैल्सिपैरम, प्लास्मोडियम ओवेल और प्लास्मोडियम मलेरी।  प्रेग्नेंसी में मलेरिया होने के निम्नलिखित कारण भी हो सकते हैं:

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना (Loss of immunity)

इम्युनोग्लोबुलिन संश्लेषण में कमी के कारण गर्भावस्था में महिला का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। इस वजह से गर्भवती महिला मलेरिया की चपेट में आसानी से आ जाती है।

नया अंग प्लेसेंटा (The new organ placenta)

आपके शरीर के अंदर बढ़ने वाला एक नया अंग है। यह संक्रमण को प्रतिरक्षा चक्र से गुजरने की अनुमति देता है।

और पढ़ें: क्या है 7 मंथ प्रेग्नेंसी डाइट चार्ट, इस अवस्था में क्या खाएं और क्या न खाएं?

प्रेग्नेंसी में मलेरिया के लक्षण (Symptoms Of Malaria In Pregnancy)

शुरुआत में मलेरिया के लक्षण वायरल इंफेक्शन की तरह लगते हैं। इस इंफेक्शन का पता सिर्फ बल्ड टेस्ट के जरिए लगाया जा सकता है। गर्भावस्था में मलेरिया के निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते हैं:

समय पर मलेरिया के लक्षणों की पहचान करना जरूरी है। इसलिए ऊपर बताए गए किसी लक्षण के प्रति लापरवाही न बरतें क्योंकि देरी होने पर मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।

और पढ़ें: क्या प्रेग्नेंसी के दौरान एमनियोसेंटेसिस टेस्ट करवाना सेफ है?

इसलिए प्रेग्नेंसी में मलेरिया है खतरनाक

प्रेग्नेंसी में मलेरिया होने से गर्भपात होने का खतरा बना रहता है। इतना ही नहीं मलेरिया के कारण गर्भवती महिलाओं में एनीमिया (Anemia), किडनी या कई महत्वपूर्ण अंगों के फेल होने की संभावना भी रहती है जिसके चलते मां और बच्चे दोनों की जान भी जा सकती है। इसलिए प्रग्नेंसी में मलेरिया के लक्षण नजर आए तो किसी तरह की लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। इस अवस्था में गर्भवती महिला को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत होती है। गर्भावस्था में मलेरिया होने से निम्न परेशानियां हो सकती हैं:

  • गर्भपात (miscarriage)
  • समय से पहले डिलिवरी (premature delivery)
  • जन्म के वक्त शिशु के वजन मे कमी होना (low birth weight)
  • जन्मजात संक्रमण (congenital infection)
  • बच्चे के जन्म के बाद मृत्यु हो जाना (perinatal death)

और पढ़ें:  प्रेग्नेंसी में हायपोथायरॉइडिज्म डायट चार्ट, हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए करें इसे फॉलो

प्रेग्नेंसी में मलेरिया होने से महिला को निम्नलिखित जोखिम हो सकते हैं:

मलेरिया को सरल और गंभीर संक्रमण में वर्गीकृत किया गया है। सरल मलेरिया संक्रमण में सिरदर्द, बुखार, ठंड लगना और पसीना आने जैसे लक्षण नजर आते हैं। ये बुखार हर दो से तीन दिनों में छह से दस घंटे तक रहता है।

गंभीर मलेरिया एक जानलेवा संक्रमण है जो एनीमिया, एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम, सेरेब्रल मलेरिया और शरीर के किसी अंग को डैमेज कर सकता है। प्रेग्नेंसी में मलेरिया से निम्नलिखित कॉम्पलिकेशन हो सकती हैं:

एनीमिया (Anemia): एक बार प्लास्मोडियम फैल्सिपैरम ब्लड को इंफेक्ट कर दे तो हेमोलाइसिस हो जाता है। इसमें रेड ब्लड सेल्स की अत्यधिक कमी हो जाती है जिससे एनीमिया हो जाता है। ये मां और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक होता है।

एक्यूट पल्मोनरी एडीमा (Acute pulmonary edema): ये एनीमिया का एक गंभीर रूप है जो दूसरी या तीसरी तिमाही के दौरान हो सकता है। यह गंभीर चिकित्सा स्थिति है जिसमें फेफड़ों में तरल पदार्थ का रिसाव होता है।

हाइपोग्लाइसीमिया (Hypoglycemia): इस मेडिकल स्थिति में ब्लड शुगर लेवल अत्यधिक कम हो जाता है।

रीनल फेलियर (Renal failure): प्रेग्नेंसी में मलेरिया इंफेक्शन से होने वाले जोखिम में यह भी एक है। मलेरिया में डीहाइड्रेशन से रीनल फेलियर हो जाता है। इसका इलाज करते वक्त पेशेंट को लिक्विड डायट पर रखा जाता है। जरूरत पड़ने पर डायलसिस भी किया जाता है।

और पढ़ें:  प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस का असर पड़ सकता है भ्रूण के मष्तिष्क विकास पर

प्रेग्नेंसी में मलेरिया का परीक्षण (Diagnosis Of Malaria In Pregnancy)

प्रेग्नेंसी में मलेरिया की पहचान करना बहुत मुश्किल होता है। आमतौर पर ऐसी स्थिति में डॉक्टर मलेरिया का पता लगाने के लिए नीचे बताए टेस्ट में से कोई कराने की सलाह दे सकता है:

  • ब्लड स्मीयर टेस्ट (Blood smear test): इसमें ब्लड की एक बूंद को माइक्रोस्कोपिक स्लाइड में फैलाकर देखा जाता है। पैरासाइट का पता लगाने के लिए सैंपल का परीक्षण किया जाता है। यह गर्भावस्था में मलेरिया के निदान के लिए एक मानक परीक्षण है।
  • रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट (Rapid diagnostic test): यह टेस्ट मरीज के खून से मलेरिया एंटीजेन्स का पता लगाने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट में कितने रेड ब्लड सेल्स इंफेक्टेड हैं यह पता लगाया जाता है। यह ज्यादातर वहां किया जाता है जहां माइक्रोस्कोपी नहीं होता है।
  • डिटेक्शन ऑफ हेमोजोइन (Detection of hemozoin)
  • पॉलीमेरेस चेन रिएक्शन (Polymerase chain reaction)
  • हिस्टोलोजिकल एग्जामिनेशन (Histological examination)

और पढ़ें:  प्रेग्नेंसी में बुखार: कहीं शिशु को न कर दे ताउम्र के लिए लाचार

गर्भावस्था में मलेरिया का इलाज (Treatment Of Malaria In Pregnancy)

गर्भावस्था में मलेरिया होने पर बिना देरी इलाज कराने की जरूरत होती है। इसके ट्रीटमेंट में एंटीमलेरियल ड्रग्स दिए जाते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान मलेरिया का सरल संक्रमण का इलाज:

पहले तीन महीने: डब्ल्यूएचओ ने पहली तिमाही के दौरान गर्भावस्था के मलेरिया के मामले में कुनैन (quinine) और क्लिंडामाइसिन (clindamycin) को साथ में लेने का रिकमेंड किया है। पहली तिमाही के बाद यदि मलेरिया होता है तो आर्टेमीसीनिन कॉम्बीनेशन थेरिपी (artemisinin combination therapy) को बेहतर ट्रीटमेंट बताया है।

प्रेग्नेंसी के दौरान मलेरिया के गंभीर संक्रमण का इलाज:

पहले तीन महीने में इसमें आर्टेसुनेट (artesunate) और कुनैन (quinine) लेने की सलाह दी जाती है। तेज बुखार से राहत पाने के लिए पैरासिटामोल रिकमेंड की जाती है। यह दवा 4 से 6 घंटे के लिए बुखार उतारने का काम करती है। दिन में इस दवा को तीन से चार बार लिया जा सकता है। ट्रीटमेंट के दौरान न तो कम पानी पिएं न ही ज्यादा। कमजोरी न हो इसके लिए पर्याप्त डायट लें।

और पढ़ें: गर्भावस्था में लिनिया नाइग्रा: क्या ये प्रेग्नेंसी में त्वचा संबधी बीमारी है?

प्रेग्नेंसी में मलेरिया से बचाव के लिए इन टिप्स को करें फॉलो (Prevention Of Malaria In Pregnancy)

क्योंकि यह बीमारी मच्छरों से होती है इसलिए इस बात का आपको ध्यान रखना होगा कि किस तरह मच्छरों को दूर रखा जाए।

  • अपने आस-पास सफाई रखें। मच्छरों को पनपने का माहौल न दें। घर के आस-पास पानी न ठहरा हो। ऐसी जगह अक्सर मच्छर पनपते हैं।
  • हमेशा पूरे कपड़े पहनें जिससे कि आपका शरीर पूरी तरह ढंका रहे। मच्छरदानी का इस्तेमाल जरूर करें।
  • मच्छर गहरे रंग की तरफ ज्यादा आकर्षित होते हैं। इसलिए गहरे रंग के कपड़े एवॉइड करें। हल्के रंग के कपड़े पहनें।
  • शाम होते ही घर की खिड़कियां बंद कर दें ताकि बाहर से मच्छर अंदर ना आ सकें।
  • शरीर में पानी की कमी न होने दें। दिनभर तरल पदार्थ का सेवन करें। अपनी दिनचर्या में जूस और नारियल पानी को शामिल करें।
  • मच्छर को भगाने के लिए कॉइल या ऑइंमेंट का उपयोग करें।

और पढ़ें: क्या गर्भावस्था में धूम्रपान बन सकता है स्टिलबर्थ का कारण?

हैलो स्वास्थय की टीम ने 33 वर्षीय शिल्पा सिंह से इस बारे में बात की तो शिल्पा यह समझना चाहती हैं की क्या प्रेग्नेंसी के दौरान घरों में कैमिकल मॉस्किटो रिपेलेंट का छिड़काव करवाना चाहिए। दरअसल शिल्पा इस समय गर्भवती हैं और कोई भी संक्रमण न फैले इसलिए वो सचेत रहना चाहती हैं। रिसर्च और स्वास्थय विशेषज्ञों की मानें तो कैमिकल मॉस्किटो रिपेलेंट का छिड़काव सुरक्षित होता है। इसलिए इस दौरान मच्छरों के प्रभाव को खत्म करने के लिए यह विकल्प अवश्य अपनाना चाहिए। अगर गर्भवती महिला अस्थमा या अन्य एलर्जी जैसी परेशानियों से पीड़ित रहती हैं, तो छिड़काव के दौरान कुछ वक्त के लिए अलग स्थान पर चली जाएं तो बेहतर होगा।

प्रेग्नेंसी में महिला की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहद कमजोर होती है जिससे इंफेक्शन के होने की संभावना अधिक रहती है। यदि आप प्रेग्नेंट हैं और आपको मलेरिया के कोई लक्षण नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें। समय पर चिकित्सक को दिखाने से आप वक्त रहते स्थिति कंट्रोल में रख सकते हैं। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में प्रेग्नेंसी में मलेरिया से जुड़ी हर जानकारी देने की कोशिश की गई है।

अगर आप प्रेग्नेंसी में मलेरिया से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ओवरल एल की जानकारी in hindi वहीं इस दवा के साइड इफेक्ट के साथ चेतावनी, डोज, किन बीमारी और दवाओं के साथ कर सकता है रिएक्शन, स्टोरेज कैसे करें के लिए पढें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

वैज्ञानिकों की बड़ी खोज, माइक्रोब से मलेरिया की रोकथाम हो सकेगी

माइक्रोब से मलेरिया की रोकथाम कैसे करें, माइक्रोब से मलेरिया की रोकथाम इन हिंदी, मलेरिया malaria prevention from microbe in hindi, malaria.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

क्यों प्लेसेंटा और प्लेसेंटा जीन्स को समझना है जरूरी?

प्लेसेंटा जीन्स का क्या पड़ता है बेबी बॉय या बेबी गर्ल पर असर? जन्म लेने वाले बेबी गर्ल या बेबी बॉय में कौन होता है ज्यादा स्ट्रॉन्ग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जून 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

मलेरिया डायट

मलेरिया में क्या खाएं और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल

प्रेग्नेंसी के दौरान कितना होना चाहिए नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Lariago DS लारियागो डीएस

Lariago DS : लारियागो डीएस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Pregnancy in Period- सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि

पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें