कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग: दोनों है फायदेमंद, लेकिन वजन घटाने के लिए कौन है बेहतर?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फिट रहना हर कोई चाहता है, लेकिन स्वस्थ रहना सिर्फ कहने से नहीं रहा जा सकता। इसलिए इनदिनों कई लोग तरह-तरह के डायट प्लान का विकल्प अपनाते हैं। आज कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग का विकल्प कई लोग वजन संतुलित रखने के लिए या बढ़े हुए अतिरिक्त वजन को कम करने के लिए अपनाते हैं। कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है? कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग में क्या अंतर है? कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े कई अन्य सवालों और उनके जवाब को भी समझने की कोशिश करेंगे।

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग-Keto diet and Intermittent Fasting

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है?

कीटो डायट (Keto diet) क्या है?

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग-Keto diet and Intermittent Fasting
कीटो डायट से करें वजन कम

कीटो डायट को केटोजेनिक डायट (Ketogenic diet) के नाम से भी जाना जाता है। इनदिनों वजन कम करने के लिए कीटो डायट प्लान का ट्रेंड काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है।आम लोगों से लेकर बॉलीवुड स्टार्स, स्पोर्ट्स प्लेयर भी कीटो डायट प्लान फॉलो कर रहें हैं। कीटो डायट में कार्ब्स की मात्रा कम होती है, वहीं फैट की मात्रा ज्यादा होती है। दरअसल कीटोसिस एक नैचुरल प्रोसेस है और इस प्रोसेस के तहत जिन खाद्य पदार्थों का सेवन किया जाता है, तो वह खाद्य पदार्थ ग्लूकोज और इंसुलिन में बदल जाता है। लेकिन कीटोसिस प्रोसेस के तहत या कीटो डायट फॉलो करने पर कार्बोहाइड्रेट की मात्रा का सेवन कम किया जाता है और फैट से बॉडी को एनर्जी मिलती है। इसी प्रक्रिया को कीटोसिस कहते हैं। कीटो डायट प्लान में कार्ब्स की मात्रा कम होती है, प्रोटीन की मात्रा सामान्य होती है वहीं फैट की मात्रा ज्यादा होती है।

और पढ़ें : ड्राई स्किन से हैं परेशान? तुरंत फॉलो करें रूखी त्वचा के लिए ये डायट

इंटरमिटेंट फास्टिंग (Intermittent Fasting) क्या है?

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग-Keto diet and Intermittent Fasting
इंटरमिटेंट फास्टिंग से करें वजन कम

इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट प्लान के अंतर्गत आने वाला एक तरह का डायट शेड्यूल है। इंटरमिटेंट फास्टिंग (IF) को इंटरमिटेंट कैलोरी रेस्ट्रिक्शन (Intermittent calorie restriction) भी कहा जाता है। इस डायट प्लान के अंतर्गत क्या खाने की बजाये कब खाएं इस पर विचार किया जाता है। इसलिए इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान डायट प्लान शेड्यूल किया जाता है। कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग में सबसे प्रमुख अंतर यही है कि कीटो डायट में क्या खाना है और इंटरमिटेंट फास्टिंग में कब खाना है, यह सुनिश्चित किया जाता है। इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान शरीर में मौजूद फैट एनर्जी में तब्दील होती है, जिससे वजन कम करने में सहायता मिलती है। यह ध्यान रखें की इंटरमिटेंट फास्टिंग वास्तव में आहार नहीं बल्कि खाने का एक तरह का पैटर्न है।

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग पूरे विश्व के लोग वजन कम करने के लिए फॉलो करते हैं, लेकिन कई लोग इस बात से परेशान भी रहते हैं कि वजन कम करने के लिए कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग दोनों में कौन बेहतर है? हैलो स्वास्थ्य की टीम ने मुंबई की रहने वाली 31 वर्षीय ईशा तनेजा से बात की। ईशा कहती हैं “मैं एक प्रोडक्शन हॉउस में बतौर सीनियर प्रोड्यूसर की तरह काम करती हूं, जिसमें मुझे कई घंटे लगातर बैठना पड़ता है। घंटों बैठने की वजह से मेरा वजन लगातार बढ़ते जा रहा था ऐसी स्थिति में कीटो डायट प्लान फॉलो करना पड़ा। तकरीबन तीन महीने मुझे यह डायट प्लान फॉलो करने के बाद मेरा वजन कुछ हद तक कम हुआ है। मैं अभी भी डायट प्लान के साथ-साथ रेगुलर वर्कआउट फॉलो करती हूं।”

इंटरमिटेंट फास्टिंग के बारे में हैलो स्वास्थ्य की टीम ने बैंगलोर के रहने वाले 33 वर्षीय चंदन सिंह से बात की। चंदन कहते हैं “मेरा वजन 78 kg था और अगर मैं अपने बढ़ते वजन को कंट्रोल नहीं करता, तो मेरी शारीरिक परेशानी बढ़ जाती। इसलिए मैंने इंटरमिटेंट फास्टिंग का सहारा लिए। थोड़े लंबी अवधी तक न खाने की वजह से शुरुआत में इस डायट प्लान को फॉलो करना मेरे लिए डिफिकल्ट था, लेकिन कुछ ही दिनों में मैंने डायट शेड्यूल को फॉलो कर लिया। तकरीबन दो से ढ़ाई महीने के बाद मेरा वजन कंट्रोल हुआ है।”

और पढ़ें : वेगन डाइट (Vegan Diet) क्या है? जानें इसके फायदे और नुकसान

कीटो डायट या इंटरमिटेंट फास्टिंग: कौन है बेहतर विकल्प?

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग में क्या है अंतर?

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग में मुख्य अंतर निम्नलिखित हैं:-

  • कीटो डायट: कीटो डायट में कार्ब्स की मात्रा कम होती है, प्रोटीन की मात्रा सामान्य होती है और फैट की मात्रा ज्यादा होती है।
  • इंटरमिटेंट फास्टिंग: इंटरमिटेंट फास्टिंग वास्तव में आहार नहीं बल्कि खाने का एक तरह का पैटर्न है।

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग: इन दोनों में से कौन है वजन कम करने का बेहतर विकल्प?

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग दोनों ही वजन कम करने में सहायक होते हैं। लेकिन दोनों ही अलग-अलग स्थिति या शारीरिक बनावट पर भी निर्भर करता है। इंटरमिटेंट फास्टिंग की मदद से वजन को घटाना आसान होता है, लेकिन जैसे ही इस डायट पैटर्न को आप रोक देते हैं, तो आपका वजन फिर से और तेजी से बढ़ने लगता है। इंटरमिटेंट फास्टिंग को दो महीने तक फॉलो करने से लाभ मिलता है। लेकिन अगर इसे ज्यादा लंबे वक्त तक फॉलो किया जाए, तो थकावट या कमजोरी जैसे शारीरिक परेशानी शुरू हो सकती है। वहीं नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार इंटरमिटेंट फास्टिंग का लाभ ज्यादा मिले इस पर रिसर्च जारी है। इंटरमिटेंट फास्टिंग की तुलना में कीटो डायट ज्यादा वक्त तक फॉलो किया जा सकता है और इस डायट के दौरान आपको कमजोरी जैसी परेशानी महसूस नहीं होगी। इसलिए बेहतर होगा वजन संतुलित रखने के लिए या बढ़ते वजन को कम करने के लिए अगर आप कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग या कोई अन्य डायट प्लान फॉलो करना चाहते हैं, तो आहार विशेषज्ञ से संपर्क करें।

और पढ़ें : बेस्ट एनीमिया डाइट चार्ट को अपनाकर बीमारी से करें बचाव

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे क्या हैं?

कीटो डायट:-

कीटो डायट के फायदे से पहले इस डायट प्लान कितने तरह का होता है? कीटो डायट चार अलग-अलग तरह के होते हैं। जैसे: स्टैंडर्ड केटोजेनिक डायट, साइक्लिक केटोजेनिक डायट, टार्गेटेड केटोजेनिक डायट एवं हाई प्रोटीन केटोजेनिक डायट।

कीटो डायट के फायदे क्या हैं?

कीटो डायट के फायदे निम्नलिखित हैं। जैसे: 

  • शरीर के बढ़े हुए अतिरिक्त वजन को कम करना।
  • कीटो डायट फॉलो करने से ब्लड शुगर लेवल बैलेंस्ड रहता है। इसलिए कीटो डायट डायबिटीज पेशेंट के लिए होता है लाभकारी।
  • शरीर में एनर्जी लेवल रहता है बेहतर और आप अपने आपको एक्टिव महसूस कर सकते हैं।
  • कुछ रिसर्च के अनुसार कीटो डायट के फायदे मिर्गी के मरीजों को भी मिलता है।
  • शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को बैलेंस्ड करने का काम कीटो डायट से किया जा सकता है।
  • कीटो डायट फॉलो करने पर बार-बार भूख लगने की भी परेशानी होती है दूर।
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम जैसे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, हाई ब्लड शुगर की परेशानी, कोलेस्ट्रॉल लेवल बैलेंस्ड न रहना एवं कमर के आसपास अत्यधिक फैट की समस्या से पीड़ित लोगों को भी कीटो डायट का लाभ मिलता है।
  • वैसे लोग जिनका ब्लड प्रेशर सामान्य से ज्यादा रहता है, उनके लिए भी कीटो डायट फायदेमंद होता है।

इंटरमिटेंट फास्टिंग:-

इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान डायट शेड्यूल करना पड़ता है। जैसे 16/8 विधि, 5:2 विधि या वॉरियर डायट। यहां 16/8 विधि का अर्थ है 16 घंटे फास्ट रहना और 8 घंटे में तीन से चार बार खाया जा सकता है। फास्ट के दौरान बिना मीठे वाला पेय पदार्थों का सेवन किया जा सकता है। वहीं 5:2 विधि का अर्थ है हफ्ते में पांच दिन हेल्दी डायट का सेवन करना और दो दिनों का उपवास रखना। अगर कोई वॉरियर डायट प्लान फॉलो कर रहें हैं, तो उन्हें अपने आहार में कैलोरी की मात्रा कम से कम रखनी होगी।

और पढ़ें : वेट लॉस के लिए साउथ इंडियन फूड करेंगे मदद

इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे क्या हैं?

इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:  

  • इंटरमिटेंट फास्टिंग से दिल से जुड़ी समस्याओं का खतरा होता है कम
  • रिसर्च के अनुसार इंटरमिटेंट फास्टिंग से वजन कम करने के साथ ही लिपिड प्रोफाइल भी बेहतर होता है, जिससे बैड कोलेस्ट्रॉल का निर्माण नहीं हो पाता है।
  • शरीर में ब्लड शुगर रहता है बैलेंसड।
  • सेल्स के निर्माण में वैसे सेल्स जो किसी कारण नष्ट हो रहें हैं, उन्हें भी बेहतर बनाने का कार्य इंटरमिटेंट फास्टिंग के जरिए किया जा सकता है।
  • कुछ रिसर्च में यह बताया गया है की कैंसर पेशेंट्स के लिए भी इंटरमिटेंट फास्टिंग लाभकारी हो सकता है। कैंसर पेशेंट्स शार्ट टर्म फास्टिंग का विकल्प अपना सकते हैं। इससे शरीर में विषाक्त जमा नहीं हो पाता है और यह कीमोथेरिपी में सहायक होता है। कैंसर विशेषज्ञों की मानें, तो कीमोथेरिपी के दौरान डीएनए को जो नुकसान पहुंचता है, उसे ठीक करने का कार्य शार्ट टर्म फास्टिंग की मदद से किया जा सकता है। हालांकि शार्ट टर्म फास्टिंग या किसी अन्य डायट प्लान को फॉलो करने के पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से जरूर सलाह लें।
  • इंटरमिटेंट फास्टिंग से शरीर में सूजन की समस्या से भी राहत मिल सकता है।
  • रिसर्च के अनुसार मस्तिष्क को स्वस्थ्य रखने में इंटरमिटेंट फास्टिंग आपकी सहयता कर सकता है।

और पड़ें : किडनी के मरीजों के लिए वरदान की तरह हैं अंगूर, जानिए हम क्यों कह रहे हैं ऐसा!

कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग के साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं?

कीटो डायट के साइड इफेक्ट्स कुछ खास स्थिति में हो सकती है। इसलिए निम्नलिखित शारीरिक परेशानी होने पर कीटो डायट फॉलो नहीं करना चाहिए।

इंटरमिटेंट फास्टिंग के साइड इफेक्ट्स कुछ खास स्थिति में हो सकती है। इसलिए निम्नलिखित शारीरिक परेशानी होने पर कीटो डायट फॉलो नहीं करना चाहिए।

इन ऊपर बताई गई स्थितियों में किसी भी डायट को फॉलो करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें।

दोनों ही डायट के अपने-अपने फायदे हैं और नुकसान भी। लेकिन अगर आप वजन कम करने के लिए कीटो या इंटरमिटेंट फॉलो करना चाहते हैं, तो खुद से डायट प्लान या किसी के कहने पर फॉलो न करें। क्योंकि हर एक व्यक्ति के शरीर की बनावट अलग होती है। अगर आप सिर्फ कीटो डायट फॉलो करते हैं, तो लंबे वक्त तक एक ही तरह के खाद्य पदार्थों का सेवन करना पड़ेगा और शायद आपको बोरियत महसूस हो। वहीं अगर आप इंटरमिटेंट फास्टिंग का विकल्प लंबे वक्त तक अपनाते हैं, तो आप कमजोरी महसूस कर सकते हैं। इसलिए हेल्दी डायट मेंटेन रखने के लिए हेल्दी फूड का सेवन करें।

और पढ़ें : पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

बॉडी वेट कम करने के लिए किन-किन बातों का रखें ध्यान?

अगर आप शरीर के अतिरिक्त वजन से परेशान हैं या हेल्दी वेट मेंटेन रखना चाहते हैं, तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

  • अपनी मर्जी या किसी के कहने पर कोई भी डायट प्लान फॉलो न करें
  • ब्रेकफास्ट कभी भी स्किप न करें
  • ताजे फल एवं सब्जियों का सेवन करें
  • साबूत अनाज अपने आहार में रोजाना शामिल करें
  • मीठे पानी का सेवन न करें
  • ताजे जूस एवं सादा पानी पीने की आदत डालें
  • जंक फूड से दूरी बनायें
  • एल्कोहॉल का सेवन न करें
  • बॉडी को एक्टिव रखें
  • रोजाना वॉक, जॉगिंग, स्विमिंग या एक्सरसाइज करें
  • तेल-मसाले वाले खाद्य पदार्थों से दूरी बनायें

अगर आप कीटो डायट और इंटरमिटेंट फास्टिंग या किसी अन्य डायट प्लान से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फीवर में डायट: क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

अक्सर गलत डायट बीमारी को बढ़ा देती है, इसलिए फीवर को हल्के में न लें और फीवर में डायट के बारे में सही जानकारी लें। Fever diet in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन सितम्बर 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ये हैं जैकलिन फर्नांडीस की डायट और वर्कआउट के कुछ बेहतरीन टिप्स

जैकलिन फर्नांडीस की डायट और फिटनेस, अभिनेत्री जैकलिन फर्नांडीस के वर्कआउट के बारे में जानें, Jacqueline Fernandez diet and fitness secret

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन अगस्त 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

हार्ट अटैक के बाद डायट का रखें खास ख्याल! जानें क्या खाएं और क्या न खाएं

हार्ट अटैक के बाद डायट, हार्ट अटैक के बाद क्या खाएं और क्या नहीं, पाएं हार्ट अटैक के बाद स्वस्थ रहने की पूरी जानकारी, Diet after Heart Attack in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन अगस्त 21, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

परिणीति चोपड़ा के डायट प्लान से होगा वेट लॉस आसान, जानिए वर्कआउट सीक्रेट भी

परिणीति चोपड़ा डायट प्लान को अपनाने के लिए जाने क्या क्या खाद्य पदार्थ अपनी डायट प्लान में कर सकते हैं शामिल, इसके अलावा और क्या करें, जानने के लिए पढ़ें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन अगस्त 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

महिलाओं के लिए डायट प्लान, diet plan

आपकी डायट प्लान से जुड़े अहम सवाल, बताएं अपनी डायट के बारे में

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
आयुर्वेदिक डायट प्लान

आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं ये डायट टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
टीबी डायट पल्ना

टीबी डायट प्लान : क्या खाएं और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
साइनस में डायट/ sinus diet

साइनस में डायट: क्या खाएं और क्या नहीं, जरूरी है इन चीजों से परहेज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें