दांत का दर्द मिनटों में होगा दूर, अपनाएं ये 8 घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020
Share now

दर्द कोई भी हो पीड़ादायक होता है अब चाहे पेट दर्द, पैर दर्द, कान दर्द या फिर दांत का दर्द ही क्यों ना हो। वैसे दांत दर्द की समस्या आम है लेकिन दांत का दर्द बहुत खतरनाक होता है। क्यूंकि दांतों के नर्व का कनेक्शन दिल और दिमाग दोनों से होता है और दांत का दर्द की वजह से आप खाना-पीना भी ठीक से नहीं कर पाते हैं तो आप सेहत से भी कमज़ोरी महसूस कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : ओरल हाइजीन का रखेंगे ख्याल तो शरीर को भी होने लगेगा फायदा

दांत का दर्द क्या है?

दांत दर्द को अंग्रेजी में टूथएक कहते हैं। दांतों में होने वाले दर्द को ही दांत का दर्द कहते हैं। दांतों में सड़न के कारण दांत और मसूड़ों में दर्द होने लगता है। खानपान के कारण और दांतों का विशेष ध्यान न रखने पर ही टूथएक की समस्या होती है। दांत का दर्द किसी भी उम्र में हो सकता है। दांत का दर्द से पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा परेशान रहती हैं। 

दांत का दर्द होने के कारण

दांतों में सड़न होना बड़ों और बच्चों में दांत का दर्द का सबसे बड़ा कारण है। मुंह के बैक्टीरिया शुगर और स्टार्च के कारण दांतों में फैलने लगते हैं। ये बैक्टीरिया दांतों के प्लाक में चिपक जाते हैं। दांतों के प्लाक में बैक्टीरिया एसिड बनाने लगते हैं, जिससे दांतों में सड़न के कारण कैविटी हो जाती है। दांतों में सड़न का पहला लक्षण दर्द है, जिससे दांतों में ठंड या गर्म चीजें लगती हैं। 

दांत का दर्द होने का और भी कई कारण हैं : 

यह भी पढ़ें : दांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

दांत दर्द के क्या लक्षण है?

दांत दर्द के लक्षण निम्न हैं : 

यह भी पढ़ें : कभी आपने अपने बच्चे की जीभ के नीचे देखा? कहीं वो ऐसी तो नहीं?

दांत दर्द का घरेलू इलाज क्या है?

लौंग

दांत का दर्द होने पर मुंह में लौंग रखने से फायदा मिलता है और तेज़ दर्द होने पर लौंग के तेल की कुछ बूंदें कॉटन (रुई) में लगाकर दांतों के पास रखने से आराम मिलता है। ध्यान रहें लौंग का तेल अगर ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल करते हैं तो इससे नुकसान होगा। 

आलू

आलू छील कर उसे प्रभावित दांतों पर रखने से आराम मिलेगा। 

यह भी पढ़ें : जीभ की सही पुजिशन न होने से हो सकती हैं ये समस्याएं

नींबू

नींबू में विटामिन-सी की मात्रा ज्यादा होती है जो दांत का दर्द में राहत देता है। दर्द वाले हिस्से पर नींबू के रस को लगाने से फायदा होता है। 

लहसुन

लहसुन की कली को नमक डाल कर दांतों पर लगाने से भी दांत का दर्द में राहत मिलती है।  

बर्फ

दर्द वाले हिस्से पर बर्फ से सिंकाई करने से भी फायदा मिलता है।  

यह भी पढ़ें : जब सताए दांतों में सेंसिटिविटी की समस्या, तो ऐसे पाएं निजात

प्याज

कच्चे प्याज के टुकड़े को दांतों पर रखने से भी फायदा होता है।  

सरसों का तेल

सरसों के तेल में नमक मिलकर इससे दांतों और मसूड़ों पर मसाज करने से भी फायदा मिलता है। 

टी बैग

गर्म पानी में टी बैग डीप कर लें और फिर उसे दर्द वाली जगह पर रखकर सिंकाई करें इससे दर्द धीरे-धीरे कम होगा।

यह भी पढ़ें : धूम्रपान (Smoking) ना कर दे दांतों को धुआं-धुआं

दांतों के साथ लापरवाही न करें 

दांत का दर्द होने पर डॉक्टर से मिलना होगा लाभकारी

  • दर्द की वजह से खाने-पीने में ज्यादा परेशानी होना।  
  • खाने में स्वाद नहीं मिलना।

वैसे अक्सर ये देखा जाता है की दांत का दर्द होने पर घरेलू नुस्खे अपना कर या पेनकिलर की मदद से कुछ वक्त या दिनों के लिए तो राहत मिल जाती है लेकिन फिर से दर्द होने का खतरा बना रहता है। लेकिन अगर ये ज्यादा दिनों तक ठीक ना हो तो ऐसी स्थिति में इलाज करवाना जरूरी होता है। क्योंकि कोई भी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी पुरानी होने के साथ-साथ एक नई समस्या खड़ी कर देती है।

यह भी पढ़ें : पूरी जिंदगी में आप इतना समय ब्रश करने में गुजारते हैं, जानिए दांतों से जुड़े ऐसे ही रोचक तथ्य

दांत दर्द से दूर रहने के लिए ओरल हाइजीन का रखें ध्यान

दिन में दो बार करें ब्रश

दांत दर्द से दूर रहने का सबसे अच्छा तरीका है कि दांतों को दिन में दो बार ब्रश करना। इससे प्लाक के जमने की संभावना बहुत कम हो जाती है। प्लाक दांतों और मसूड़ों के बीच एक चिपचिपी परत की तरह जमता चला जाता है, जो आगे चल कर दांत दर्द का कारण बनता है। जो दांतों व मसूड़ों को खराब कर कैविटी और सूजन का कारण बनता है। नियमित रूप से ब्रश न करने पर यह परत और भी ठोस होने लगती है, जिसे टार्टर कहते हैं।

यह भी पढ़ें : दांतों की बीमारियों का कारण कहीं सॉफ्ट ड्रिंक्स तो नहीं?

टूथब्रश का करें सही चुनाव

टूथब्रश का चुनाव करते समय हमेशा याद रखें कि ब्रश के ब्रिसल्स सॉफ्ट हों। जिससे दांतों की सफाई भी हो जाए और मसूड़ों को नुकसान भी न हो। वहीं, हर तीन महीने में अपना ब्रश जरूर बदल लें। लेकिन अगर ब्रश के ब्रिसल्स उससे पहले भी हार्ड हो जाते हैं तो उसे बदलने में देरी न करें।

टूथपेस्ट चुनें वही, जो दांतों के लिए हो सही

उसी टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें, जिसमें फ्लोराॅइड की मात्रा पाई जाती हो। इससे दांतों की बाहरी परत इनेमल को मजबूती मिलती है और दांतों को सड़न से बचाने में भी मदद मिलती है। अच्छा टूथपेस्ट दांत दर्द से भी बचाव करता है। अगर माउथवॉश चुन रहे हैं, तब भी फ्लोराइड युक्त माउथवॉश चुनें।

यह भी पढ़ें : जब शिशु का दांत निकले तो उसे क्या खिलाएं?

फ्लॉसिंग को न करें इग्नोर 

मुंह में दांतों और मसूड़ों को तो हम ब्रश से साफ कर लेते हैं। लेकिन इसके अलावा कई जगहों पर ब्रश नहीं पहुंच पाता है। इन जगहों की सफाई के लिए फ्लॉसिंग की जाती है। फ्लॉसिंग एक बेहतर विकल्प है। जो दांतों के बीच के हिस्से में पहुंचकर जूठन को बाहर निकालता है। 

यह भी पढ़ें : दांतों की परेशानियों से बचना है तो बंद करें ये 7 चीजें खाना

सही तरीके से करें ब्रश

दांत दर्द से दूर रहने के लिए ब्रश करने का सही तरीका अपनाएं। ब्रश करने का सही तरीका ब्रश को दांतों के इनेमल यानी जोड़ पर ऊपर से नीचे और दाएं से बाएं की ओर करना है। इसके अलावा दांतों की साफ-सफाई के साथ जीभ की सफाई का भी ध्यान रखें।

हैलो स्वास्थ्य किसी तरह का मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

और पढ़ें : 

मुंह से जुड़ी 10 अजीबोगरीब बातें, जो शायद ही जानते होंगे आप 

दांत निकालने से बेहतर विकल्प है रूट कैनाल(Root Canal)!

बच्चे का रूट कैनाल(Root Canal) ट्रीटमेंट हो तो ऐसे करें डील!

एक्ट्रेस की तरह दिखने के लिए करानी है लिप सर्जरी? जानें इसके प्रकार व साइड इफेक्ट्स

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

गर्भावस्था में ओरल केयर न की गई तो शिशु को हो सकता है नुकसान

गर्भावस्था में ओरल केयर से आप डेंटल कैविटी, मसूड़ों की सूजन और सांसों की बदबू की समस्या से दूर रह सकती हैं। प्रेग्नेंसी में ओरल केयर के लिए नियमित ब्रश और फ्लॉस करें, संतुलित आहार लें और ... pregnacny oral care tips in hindi

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh

दांतों से टार्टर की सफाई के आसान 6 घरेलू उपाय

दांतों से टार्टर की सफाई कैसे करें? tartar removal home remedies in hindi, दांतों में जमा मैल को हटाने के उपाय, दांतों से टार्टर की सफाई जरूरी क्यों है।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh

मुंह का स्वास्थ्य बिगाड़ते हैं एसिडिक फूड्स, आज से ही बंद करें इन्हें खाना

मुंह का स्वास्थ्य ठीक कैसे रखें? मुंह का स्वास्थ्य सही रखने के टिप्स, दांतों की देखभाल, मुंह की देखभाल के टिप्स oral health tips in hindi,

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh

क्या आप भी है स्टेशनरी एडिक्टिव….?

स्टेशनरी एडिक्टिव क्या है? स्टेशनरी एडिक्टिव एक आदत है जिसमें आप स्टेशनरी की दुकान में रखी सुंदर रंग बिंरगी चीजों को खरीद लेते हैं।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by shalu