मुंबई में साइक्लोन ने दी दस्तक, कोरोनाकाल में कैसे रखें सेहत का ख्याल?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

भारत इस वक्त बहुत बुरे दौर से गुजर रहा है, जहां एक तरफ भारत में कोरोना महामारी का आंकड़ा दो लाख तक पहुंचने वाला है। वहीं, दूसरी तरफ चक्रवाती तूफानों ने भारत को और तंग कर दिया है। अभी 20 मई को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में अम्फन साइक्लोन ने तबाही मचा दी, तब कर जून की शुरुआत में 3 जून को गुजरात और मुंबई में साइक्लोन दस्तक दे रहा है। इस चक्रवाती तूफान का नाम निसर्ग साइक्लोन है। 

निसर्ग साइक्लोन को लेकर मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस की तरफ से चेतावनी भी घोषित कर दी गई है कि 100 से 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से मुंबई में साइक्लोन टकराएगा। निसर्ग साइक्लोन महाराष्ट्र के अलिबाग के तट पर टकराएगा। इस कोरोना काल में जब मुंबई में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले में ऐसे में मुंबई में साइक्लोन का आना बहुत भयावह है। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि साइक्लोन से पहले, साइक्लोन के दौरान और साइक्लोन के बाद अपना ध्यान कैसे रखें?

यह भी पढ़ें : मुंबई में लॉकडाउन 5.0 : कोरोना की मार झेल रहे मुंबई में लॉकडाउन बढ़ा! जानें कहां मिली रियायत

मुंबई में साइक्लोन कोरोना को कैसे दे सकता है बढ़ावा?

हम आपोक पहले बता देना चाहते हैं कि इस बात का कोई आधिकारिक प्रमाण नहीं है कि पर्यावरण के फैक्टर्स कोरोना वायरस को फैलने में बढ़ावा दे सकते हैं या नहीं। हालांकि, कोरोना के साथ ही पूरी दुनिया में कई तरह की प्राकृतिक आपदाओं ने भी जनजीवन को अस्त व्यस्त कर रखा है। जिसे लेकर वैज्ञानिक कई तरह के अध्ययन कर रहे हैं। 

एक अध्ययन में कहा गया कि कोरोना वायरस हल्की हवा में खांसने या छिंकने पर 18 फीट की दूरी तक फैल सकते हैं। वहीं, अगर हवा तेज हो तो ये और दूर तक फैल सकता है। लेकिन घबराने की बात नहीं है, ऐसा तभी संभव है, जब कोरोना से पीड़ित व्यक्ति बिना मास्क के खुले में छींकता या खांसता है। फिलहाल ज्यादातर लोग घरों में हैं और क्वारंटाइन हैं तो ये रिस्क कम है।

यह भी पढ़ें : कोविड 19 वैक्सीन लेटेस्ट अपडेट : सिनौवैक का दावा कोरोनावैक से हो सकता है महामारी का इलाज

मुंबई में साइक्लोन आने से पहले क्या करना चाहिए?

मुंबई में निसर्ग साइक्लोन आने से पहले आपको निम्न तैयारियां कर लेनी चाहिए :

  • आपको सबसे पहले अपना मेडिकल किट तैयार करना चाहिए। जिससे अगर तूफान के दौरान इंजरी हो तो आप फर्स्ट एड कर सकें।
  • खाने और पीने के सामानों तो सुरक्षित रख लें। इससे आपको तूफान के दौरान परेशानी का सामना ना करना पड़े।
  • अगर आपके घर के ऊपर या आसपास कोई पेड़ की डाल है तो उसे हटवा लें।
  • अपने मोबाइल फोन, इन्वर्टर आदि को चार्ज कर लें। ताकि, जरूरत पड़ने पर आप मदद के लिए संपर्क कर सकें।
  • अखबारों, टीवी और रेडियो पर निसर्ग साइक्लोन की खबरों की जानकारी लेते रहें। 
  • अफवाहों से बचें, किसी भी तरह की अनअधिकारिक बातों पर ध्यान न दें।
  • अपनी जरूरत के सभी सामानों को एक जगह पर एकत्र कर लें, ताकि इमरजेंसी में वो आपके काम आ सके।
  • जरूरी दवाइंयों का स्टॉक अपने पास रखें।

यह भी पढ़ें : फ्लाइट में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बीच वाली सीट रहेगी खाली, यात्रा के दौरान आप भी बरतें ये सावधानियां

निसर्ग साइक्लोन के दौरान क्या करना चाहिए?

मुंबई में साइक्लोन के दौरान आपको निम्न चीजों का ध्यान रखना चाहिए : 

  • जब तूफान आ जाए तो सभी इलेक्ट्रिक चीजों को डिसकनेक्ट कर दें। इस दौरान रेडियो से अपडेट लेती रहनी चाहिए।
  • घर के सभी दरवाजों और खिड़कियों को अच्छे से बंद कर देना चाहिए। 
  • अगर आपका घर सुरक्षित नहीं है तो आप घर से बाहर निकल कर सुरक्षित स्थान पर पहले ही चले जाएं। 
  • अगर आप ड्राइविंग कर रहे हैं तो आप गाड़ी को रोक दें और किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाएं। 
  • इस दौरान उबले हुए पानी पीते रहें और बॉडी को हाइड्रेट रखें। 

निसर्ग साइक्लोन के बाद क्या करना चाहिए?

मुंबई में साइक्लोन आपको निम्न चीजों का ध्यान रखना चाहिए :

  • तूफान आने के तुरंत बाद आप घरों से बाहर ना निकलें। अधिकारिक घोषणा का इंतजार करें। जब स्थिति सामान्य हो जाए तो ही घर से बाहर निकलें।
  • घर के सभी इलेक्ट्रॉनिक चीजों को चेक कर लें, तभी इलेक्ट्रिक पावर को ऑन करें। 
  • गैस की पाइप भी चेक कर लें, कहीं गैस लीक तो नहीं हो रही है। 
  • किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या होने के बाद आप तुरंत डॉक्टर से मिलें। 

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में डॉग ट्रेनिंग कैसे करें, जानें आसान टिप्स

कोरोना में साइक्लोन के दौरान क्या करना चाहिए? 

कोरोना में साइक्लोन के दौरान आपको निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए :

सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना चाहिए

मुंबई में साइक्लोन आने से पहले अगर आपको किसी राहत शिविर या किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है तो आपको वहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। किसी भी व्यक्ति के शारीरिक संपर्क में आने से बचें। 

मास्क और ग्लव्स पहने रखें

कोरोना काल में सबसे जरूरी चीज है, मास्क और ग्लव्स। इसलिए किसी भी स्थिति में मास्क और ग्लव्स ना उतारें। क्योंकि इस दौरान कोरोना आसानी से फैल सकता है। इसके लिए आप खुद पर विशेष ध्यान दें। 

साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें

कोरोना के समय में आपको साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखना जरूरी है। घर के सबी हिस्सों को डिसइंफेक्ट करते रहें और अगर आप आइसोलेट हैं तो खुद को घर के सभी सद्सयों से अलग रखें। वहीं, अगर साइक्लोन के साथ बारिश भी होती है तो आप घरों में पानी जमा ना होने दें। जिससे मलेरिया, डेंगू आदि के मच्छर पनप ना सकें।

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस के ट्रीटमेंट के लिए इस्तेमाल की जाएगी रेमडेसिवीर, जानें इसके बारे में

निसर्ग साइक्लोन के बाद सेहत का ध्यान कैसे रखें?

साइक्लोन के बाद आपको अपनी सेहत का ध्सान निम्न तरीकों से रखना चाहिए : 

  • सबसे पहले तो कोशिश करें कि खुद को हाइड्रेट रखेंपानी को प्यूरीफाई कर के पिएं, हो सके तो पानी को उबाल कर पिएं। इसके अलावा पानी में क्लोरीन मिला कर पानी की सफाई कर सकते हैं। 
  • लगातार 20 सेकेंड तक हाथों को धुलते रहें। 
  • खाने की चीजों को अच्छे से पका कर खाएं। कुछ भी बनाने से पहले अच्छी तरह पानी से साफ कर लें। 
  • इस दौरान कोशिश करें कि पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें, जिससे मलेरिया या किसी भी प्रकार की वायरल बीमारी ना हो जाए। 
  • इम्यून सिस्टम को बढ़ाने वाले फूड्स का सेवन करें। इसके साथ ही आप विटामिन सी को खास कर के लें। 

मुंबई में साइक्लोन के दौरान प्रेग्नेंट महिलाएं कैसे रखें अपना ध्यान?

इस संबंध में वाराणसी के काशी मेडिकेयर की गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ. शिप्रा धर ने बताया कि कोरोना के वक्त में  मुंबई में साइक्लोन आना बेहद चिंताजनक बात है। ऐसे समय में प्रेग्नेंट महिला को सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। प्रेग्नेंट महिला को निम्न बातों का ध्यान देने की जरूरत है :

  • प्रेग्नेंट महिलाएं संतुलित आहार लें और ज्यादा तरल चीजोंं का सेवन करें। 
  • घबराएं नहीं और ब्रीदिंग एक्सरसाइज से अपने स्ट्रेस को कम करें। 
  • पूरी नींद लें। इस दौरान पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें। क्योंकि मौसम में आए अचानक बदलाव से सर्दी-जुकाम और वायरल बुखार हो सकता है।  
  • प्रेग्नेंट महिला अगर किसी भी प्रकार की दवा का सेवन कर रही हैं तो उसका सेवन समय पर करें। 
  • जिस वक्त साइक्लोन आए उस वक्त प्रग्नेंट महिला को सुरक्षित स्थान पर रखें और उनका पूरा ध्यान रखें कि वो पैनिक ना हो।

इस तरह से आप मुंबई में साइक्लोन के दौरान भी आप कोरोना के साथ आसानी से लड़ सकते हैं। अगर आपक किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या होती है तो अपने डॉक्टर से तुरंत मिलें। 

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या मॉनसून और कोरोना में संबंध है? बारिश में कोविड-19 हो सकता है चरम पर

मॉनसून और कोरोना में क्या संबंध है, मॉनसून और कोरोना से खुद को कैसे रखें सुरक्षित, बारिश में कोरोना से कैसे बचें, Monsoon spread corona easily.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड-19 जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या सूर्य ग्रहण से कोविड 19 खत्म हो जाएगा? जानें इस बात में कितनी है सच्चाई

सूर्य ग्रहण और कोविड 19 इन हिंदी, सूर्य ग्रहण और कोविड 19 के बीच क्या संबंध है, सूर्य ग्रहण और कोरोना वायरस से कैसे बचें, सूर्य ग्रहण 2020 का समय क्या है, सोलर इक्लिप्स टाइमिंग, Solar eclipse covid 19 corona virus.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें जून 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस की दवा : डेक्सामेथासोन (dexamethasone) साबित हुई जान बचाने वाली पहली दवा

कोरोना की दवा के रूप में डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल और प्रभावशीलता काफी अच्छे रिजल्ट्स दे रही है। कोरोना संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए तुरंत इस्तेमाल की जा सकती है। corona virus first medicine Dexamethasone in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
कोरोना वायरस, कोविड 19 उपचार जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है कोरोना का इलाज, सतर्क रहें इस फर्जी प्रिस्क्रिप्शन से

कोरोना वायरस वायरल प्रिस्क्रिप्शन, कोरोना वायरस फेक प्रिस्किप्शन क्या है? इस वायरल पर्चे में कोरोना के इलाज की बता कही गई है। हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा (Hydroxychloroquine), क्रोसीन (Crocin) और सीट्रीजिन (Cetrizine)...corona virus viral priscription in hindi

Written by Shikha Patel
कोरोना वायरस, कोविड 19 सावधानियां जून 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें