Antineutrophil Cytoplasmic Antibodies Test-एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) टेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जानिए मूल बातें

क्या हैं एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी?

यह टेस्ट एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) की जांच करता है। एंटीबॉडी शरीर में मौजूद एक प्रोटीन होता है जो इम्यून सिस्टम (सुरक्षा प्रणाली) द्वारा निर्मित किया जाता है।

यह प्रोटीन शरीर में बाहर से आए पदार्थों जैसे वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं। एएनसीए भी एक प्रकार का एंटीबॉडी होता है जो सुरक्षा प्रणाली में खराबी आने के कारण स्वस्थ ऊतकों न्यूट्रोफिल (एक प्रकार की सफेद रक्त कोशिकाएं) पर हमला करने लगता है। इस स्थिति को ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस (सुरक्षा प्रणाली के कारण रक्त वाहिकाओं में सूजन) कहते हैं।

रक्त वाहिकाएं खून को हृदय से लेकर शरीर के सभी अंगों, ऊतकों और अन्य कार्य प्रणालियों (सिस्टम) तक पहुंचा कर वापिस लाने का कार्य करती हैं। रक्त वाहिकाओं के तीन प्रकार होते हैं जिसमें आर्टरीज (धमनियां), नसें और कोशिकाएं शामिल हैं। रक्त वाहिकाओं में सूजन होने के कारण कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी विकार उत्पन्न हो सकते हैं। इन समस्याओं की विभिन्नता इस बात पर निर्भर करती है कि कौन-सी रक्त वाहिका और कार्य प्रणाली प्रभावित हुई है।

एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी के दो मुख्य प्रकार हैं। इनमें से हर एक सफेद रक्त कोशिकाओं में मौजूद विशिष्ट प्रोटीन को टारगेट करते हैं :

  • पेरीन्यूक्लियर एएनसीए (पी एएनसीए) : यह मायलोपेरोक्सिडेस (एमपीओ) नामक प्रोटीन को टारगेट करता है।
  • सायटोप्लास्मिक एएनसीए (सी एएनसीए) : यह प्रोटीनेज-3 (पीआर-3) नामक प्रोटीन को टारगेट करता है।

एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट यह दर्शाता है कि आपके शरीर में एक या दोनों प्रकार की एंटीबॉडीज मौजूद हैं या नहीं। यह डॉक्टर को आपके विकार को बेहतर ढंग से समझने और उसके इलाज में मदद करता है।

एएनसीए टेस्ट कब करवाना चाहिए?

एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट और/या एमपीओ और पीआर-3 टेस्ट की सलाह सिस्टमिक ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस के संकेत और लक्षण दिखाई देने पर दी जाती है। शुरूआती चरण में बीमारी के लक्षण अस्पष्ट और असामान्य हो सकते हैं जैसे कि बुखार,थकावट, वेट लॉस, मांसपेशियों और जोड़ो में दर्द और रात के समय अधिक पसीना आना। बीमारी के बढ़ने पर शरीर की सभी रक्त वाहिकाएं प्रभावित होने लगती हैं और कई प्रकार के ऊतकों और अंगों से संबंधित विकारो की जटिलताएं सामने आ सकती हैं। इसके कुछ लक्षणों में निम्न स्थितियां शामिल हैं :

  • आंखें : लालिमा, खुजली, कंजक्टिवाइटिस (आंखों का गुलाबी होना) और धुंधला व बिलकुल दिखाई न देना
  • कान : सुनाई न देना
  • नाक : नाक बहना या लंबे समय से हो रही अन्य ऊपरी श्वसन संबंधी परेशानियां
  • त्वचा : चकत्ते और ग्रेन्युलोमा की शिकायत
  • फेफड़े : खांसी और सांस लेने में तकलीफ होना
  • किडनी : पेशाब में प्रोटीन (प्रोटीन्यूरिया)

ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस के इलाज के दौरान समय-समय पर परीक्षण करवाने पड़ सकते हैं।

इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज (पाचन तंत्र में सूजन और संक्रमण) के संकेत और लक्षण दिखाई देने व डॉक्टर के क्रोहन डिजीज (पाचन तंत्र की रेखा में सूजन) और अल्सरेटिव कोलाइटिस के बीच पहचान करने के लिए एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट के साथ एंटी-सैकरोमाइसीज सेरेविसी एंटीबॉडी (एएससीए) करवाने की भी सलाह दी जा सकती है।

और पढ़ें – Urinary Tract Infection : यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) क्या है?

जानने योग्य बातें

क्या एमपीओ और पीआर-3 परीक्षण के साथ अन्य टेस्ट की भी जरूरत होती है?

ऊपर दिए गए किसी भी लक्षणों के दिखाई देने पर एएनसी टेस्ट के साथ निम्न परीक्षणों को करवाने की सलाह दी जा सकती है :

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कुछ मामलों में मरीजों को हेपेटाइटिस या साइटोमेगालोवायरस जैसे वायरस की पहचान के लिए अन्य टेस्ट की सलाह भी दी जा सकती है। अन्य लक्षणों की पहचान के लिए एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी परीक्षण के पहले या साथ में सभी प्रकार के टेस्ट अनिवार्य होते हैं।

अधिकतर मामलों में ऑटोइम्‍यून वैस्कुलाइटिस के परीक्षण के लिए प्रभावित रक्त वाहिका की बायोप्सी की मदद से पहचान कर ली जाती है।

एएनसीए टेस्ट के लिए कैसे तैयारी करें?

यह टेस्ट एक सामान्य ब्लड टेस्ट की तरह होता है जिसके लिए किसी खास प्रकार की तैयारी की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

और पढ़ें – Urine Test : यूरिन टेस्ट क्या है?

प्रक्रिया

एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी के दौरान क्या होता है?

डॉक्टर शुरुआत में बांह की नस से सुई के जरिए खून का सैंपल लेते हैं। इसके बाद इस सैंपल को एक ट्यूब में डाला जाता है और जांच के लिए विशेष लैब भेज दिया जाता है। सुईं के कारण हल्का दर्द महसूस हो सकता है जिसे कम करने के लिए आप चाहें तो सुई वाली जगह पर कुछ समय के लिए दबाव बना सकते हैं।

इस प्रक्रिया के कोई गंभीर जोखिम नहीं होते हैं। हालांकि, कुछ मामलों में सुई लगने वाली जगह पर सूजन, जलन और नील पड़ने का खतरा हो सकता है। लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है क्योंकि यह सभी लक्षण कुछ ही देर में गायब हो जाते हैं। यदि आप खून पतला करने की दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो इस बात की जानकारी टेस्ट से पहले डॉक्टर को अवश्य दें। 

कुछ लैब एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी, एमपीओ और पीआर-3 तीनों टेस्ट को एक साथ करते हैं तो कुछ एमपीओ और पीआर-3 केवल एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट के रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर करते हैं।

और पढ़ें – रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट से जल्द होगी कोरोना पेशेंट की जांच

परिणाम

मेरे परिणामों का क्या अर्थ है?

यदि आपके एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट का रिजल्ट नेगेटिव आता है तो इसका अर्थ यह हो सकता है कि आपके लक्षणों का कारण ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस नहीं है।

अगर एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट का रिजल्ट पॉजिटिव आता है तो यह ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस का संकेत हो सकता है। यह सी एएनसीए या पी एएनसीए के लक्षण भी हो सकते हैं।

हालांकि, रिजल्ट में कोई भी एंटीबॉडीज पाए गए तो परीक्षण के लिए आपको बायोप्सी टेस्ट की आवश्यकता पड़ सकती है। बायोप्सी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें टेस्ट के लिए ऊतक या कोशिका का एक छोटा सा सैंपल निकाला जाता है। चिकित्सक खून में एएनसीए की संख्या मापने के लिए अन्य टेस्ट की सलाह दे सकते हैं।

यदि आपका ऑटोइम्यून वैस्कुलाइटिस का इलाज चल रहा है तो इस टेस्ट की मदद से इलाज के असर के बारे में पता लगाया जा सकता है। अपने परिणामों को लेकर किसी भी प्रकार के सवालों के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हेलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

संबंधित लेख:

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

एनवायरमेंटल डिजीज क्या हैं और यह लोगों को कैसे प्रभावित करती हैं?

एनवायरमेंटल डिजीज के लक्षणों को जान ना करें इग्नोर, नहीं तो जान जाने का हो सकता है खतरा, लक्षण जान लें डॉक्टरी सलाह। मौसमी बीमारी व उसके लक्षण पर आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Clonidine Suppression Test : क्लोनिडीन सप्रेशन टेस्ट

जानिए क्लोनिडीन सप्रेशन टेस्ट की मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, और टेस्ट के परिणामों को समझें Clonidine Suppression Test क्या होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Cold Agglutinin Test: कोल्ड एग्लूटिनिन टेस्ट क्या है?

जानिए कोल्ड एग्लूटिनिन टेस्ट की जानकारी की मूल बातें और टेस्ट कराने से पहले क्या करना चाहिए, रिजल्ट और परिणामों को समझें, Cold agglutinin Test क्या होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Cardiac perfusion test: कार्डियक परफ्यूजन टेस्ट क्या है?

जानिए कार्डियक परफ्यूजन टेस्ट की जानकारी मूल बातें, कराने से पहले जानने योग्य बातें, Cardiac perfusion test क्या होता है, रिजल्ट और परिणामों को कैसे समझें। Cardiac perfusion test in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एंडोक्राइन डिसऑर्डर

हार्मोनल ग्लैंड के फंक्शन में है प्रॉबल्म, एंडोक्राइन डिसऑर्डर का हो सकता है खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एंडोक्रिनोलॉजिस्ट

एंडोक्राइनोलॉजिस्ट क्या है, कौन-कौन-से बीमारियों का करते हैं इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
cancer screening, कैंसर स्क्रीनिंग

कैंसर स्क्रीनिंग के बारे में हर किसी को होनी चाहिए यह जानकारी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
खाने से एलर्जी

खाने से एलर्जी और फूड इनटॉलरेंस में क्या है अंतर, जानिए इस आर्टिकल में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 23, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें