मेनोपॉज के बाद स्किन केयर और बालों की देखभाल कैसे करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट October 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

 मेनोपॉज के दौरान और मेनोपॉज के बाद महिलाओं में कई तरह के शारीरिक और मानसिक बदलाव होते हैं। सामान्यत: मेनोपॉज 50 साल के बाद होता है। जिससे बाद कई तरह की स्किन प्रॉब्लम्स हो सकती हैं। इसलिए मेनोपॉज के बाद स्किन केयर के साथ हेयर केयर की सख्त जरूरत होती है। क्योंकि त्वचा में दाग धब्बे और झुर्रियां पड़ने लगती हैं। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर और बालों की देखभाल कैसे करें? 

मेनोपॉज क्या है?

मेनोपॉज एक ऐसा दौर है जिसका सामना हर महिला को अपनी बढ़ती उम्र के साथ करना पड़ता है। ज्यादातर महिलाओं को यह 49 से 52 वर्ष की उम्र में होता है। लगातार 12-24 महीने तक पीरियड्स का न आना ही मेनोपॉज कहा जाता है। मेनोपॉज में महिला के शरीर में एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरॉन हॉर्मोन बनना बंद हो जाता है। इसी वजह से मेनोपॉज में मेंटल हेल्थ में भी बदलाव होने लगते हैं। इसी के साथ ही हॉर्मोनल बदलाव के चलते मेनोपॉज के बाद स्किन में भी बदलाव नजर आने लगते हैं, जिससे कुछ स्किन प्रॉब्लम होती हैं। मेनोपॉज के बाद स्किन केयर की काफी जरूरत पड़ती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

मेनोपॉज के लक्षण क्या हैं?

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर कैसे करें?

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर निम्न तरीके से करें :

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर: त्वचा की नजाकत को समझें

रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर के लिए कोलेजन बहुत जरूरी है। कोलेजन हमारे त्वचा और मांसपेशियों के बीच ग्लू का काम करता है। जब मेनोपॉज होता है तो एस्ट्रोजन हॉर्मोन बनना बंद हो जाता है। जिससे कोलेजन का निर्माण भी कम हो जाता है। जिससे त्वचा के नीचे पाए जाने वाला फैट घटने लगता है और स्किन की इलास्टिसिटी कम होने लगती है। जिससे त्वचा ड्राई हो जाती है, जिससे गर्दन, गालों और जॉलाइन के पास फाइन लाइन और झुर्रियां पड़ने लगती हैं। इसलिए आप कोलेजन से भरपूर फूड को खाएं। डॉक्टर की सलाह पर आप कोलेजन का सप्लिमेंट ले सकते है।

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर: त्वचा को साफ करते रहें

रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर में सबसे पहले बात आती है सफाई की। त्वचा को हमेशा साफ करते रहें। जैसे-जैसे आपकी उम्र ढ़लती है वैसे-वैसे त्वचा पर झुर्रियां पड़ने के कारण त्वचा की सफाई बहुत जरूरी हो जाती है। इसलिए कम से कम दिन में दो बार त्वचा को अच्छे से धोएं और तौलिए से सुखाएं। फिर उस पर मॉश्चराइजर लगाएं, ताकि त्वचा की नमी बरकरार रहे। 

और पढ़ें: क्या मेनोपॉज के बाद महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं?

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर: त्वचा को कैंसर से बचाएं

रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर और भी जरूरी तब हो जाता है जब कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन बनना बंद हो जाता है। इसके बाद स्किन कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए आप जब भी धूप में निकलें तो शरीर के खुले हुए हिस्सों पर एसपीएफ 30 वाला सनस्क्रीन लगाएं। इससे चेहरे पर धूप के कारण दाग-धब्बे नहीं होंगे और स्किन कैंसर का खतरा कम होगा। जरूरत पड़ने पर आप डॉक्टर के पास जाएं और स्किन की जांच कराएं। 

और पढ़ें: अर्ली मेनोपॉज से बचने के लिए डायट का रखें ख्याल

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर : त्वचा के लिए खाएं हेल्दी फूड

कोलेजन आपकी त्वचा जवां रखता है और आपकी त्वचा को टाइट रखता है। जैसे-जैसे एस्ट्रोजन का स्तर कम होता है, वैसे-वैसे आपकी त्वचा में कोलेजन कम बनता है। एंटीऑक्सिडेंट युक्त खाद्य पदार्थ खाने से आपकी त्वचा को अंदर और बाहर दोनों तरह से मजबूत बनाने में मदद मिल सकती है। रंगाीन फलों और सब्जियों का सेवन करें। 

कोलेजन एक प्रकार का प्रोटीन होता है, जो हमारी त्वचा और कनेक्टिव टिश्यू के बीच में पाया जाता है। इंसान के शरीर में लगभग 30 फीसदी कोलेजन पाया जाता है। कोलेजन में 19 अमीनो एसिड जैसे- ग्लाइसिन, प्रोलिन, हाइड्रॉक्सीप्रोलाइन, लाइसिन और आर्जिनिन आदि शामिल हैं। वहीं, 29 प्रकार के कोलेजन पाए जाते हैं। मनुष्य के शरीर में मुख्य रूप से फर्स्ट से थर्ड प्रकार के कोलेजन पाए जाते हैं। टाइप फर्स्ट मुख्य रूप से त्वचा, टेंडॉन, नसों, अंगों और हड्डियों में मौजूद होता है। टाइप सेकेंड कार्टिलेज में और टाइप थर्ड रेटिकुलर फाइबर में पाया जाता है।

कोलेजन के लिए आप निम्न चीजें खा सकती हैं :

  • सिट्रस फ्रूट
  • बेरीज
  • मौसमी फल
  • लहसुन 
  • हरी पत्तेदार सब्जियां
  • बींस
  • काजू
  • टमाटर
  • शिमला मिर्च
  • अंडा
  • मछली 
  • चिकन

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर : आइसोफ्लेवोंस है जरूरी

सोया का सेवन करें, ये आइसोफ्लेवोंस से भरपूर होता है। ये शरीर में एस्ट्रोजन की तरह काम करता है। आइसोफ्लेवोंस शरीर में त्वचा को पतला होने से रोकता है। एक्सपर्ट की बात मानें तो मेनोपॉज के बाद एक दिन में 50 मिलीग्राम आइसोफ्लेवोंस का सेवन करना चाहिए। 

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर : योगा करें

रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर न करने पर त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। जिससे सेरियासिस होने का चांस बढ़ जाता है। ऐसा होने पीछे की वजह आपका तनाव भी हो सकता है। इसलिए आप योगा करें, मेडिटेशन करें। इसके अलावा हर वह काम करें, जिससे आपका तनाव कम हो सके। 

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर : एक्सरसाइज करेगी मदद

एक्सरसाइज करना सभी के लिए जरूरी है, लेकिन जब बात हो रजोनिवृत्ति के बाद स्किन केयर की तब तो ये और भी जरूरी हो जाता है। जब आप एक्सरसाइज करती हैं तो ये आपकी मसल्स को टोन करता है। ये आपकी त्वचा पर दो तरह से काम करता है। पहला तो आपको तनाव मुक्त करता है, जिससे आप रिलैक्स महसूस करती हैं। इसके अलावा ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है, जिससे हर कोशिका तक ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में पहुंचता है। इससे आपकी त्वचा स्वस्थ और चमकदार बनी रहेगी। 

और पढ़ें : महिलाओं में ऐसे होते हैं हार्ट अटैक के लक्षण

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर : पूरी नींद लें

माना कि 50 के उम्र के बाद नींद आना कम हो जाता है या फिर नींद संबंधी समस्या हो जाती है, लेकिन कोशिश करें कि आप पूरी नींद लें। जब आप पूरी नींद लेंगी तो आंखों के नीचे डार्क सर्कल नहीं होगा। नींद की कमी होने से हॉर्मोनल चेंज भी हो सकते हैं। जिससे एजिंग की समस्या हो सकती है। इसलिए रोजाना 7 से 9 घंटे की नींद जरूर लें।

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर के लिए पानी खूब पिएं

मेनोपॉज के बाद महिलाएं ड्राईनेस का अनुभव करती हैं। इसका कारण इस्ट्रोजन हॉर्मोन का कम होना होता है। दिन में 8-12 गिलास पानी का उपयोग पीने के लिए करें। इससे ब्लॉटिंग की समस्या भी नहीं होती। पानी पीने से आप फुल महसूस करते हैं इससे मेटाबॉलिज्म इंक्रीज होता है।

मेनोपॉज के बाद हेयर केयर कैसे करें?

मेनोपॉज के बाद स्किन केयर की बात तो हो गई, अब बात करते हैं मेनोपॉज के बाद हेयर केयर की। अक्सर देखा जाता है कि मेनोपॉज के बाद महिलाओं के बाल तेजी से झड़ते हैं। जिससे उनकी हेयर लाइन बढ़ती चली जाती है। इसलिए जैसे ही बालों का झड़ना शुरू हो, वैसे ही डॉक्टर से मिलें और इलाज कराएं। इसके लिए या तो डॉक्टर दवा देंगे नहीं तो लेजर ट्रीटमेंट कर के बालों का गिरना कम करेंगे।  इसके अलावा आप बालों के लिए उपयोगी फूड्स जैसे आंवला, पपीता और गाजर का सेवन करें।

ये तो हुई मेनोपॉज के बाद स्किन केयर, लेकिन आपको इनके अलावा भी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जानते हैं उनके बारे में।

मील को स्किप न करें

मेनोपॉज के बाद मील्स को स्किप न करें। इररैगुलर ईटिंग मेनोपॉज के लक्षणों को और भी बुरा बना सकती है। इसकी वजह से वजन कम होता है। कुछ महिलाओं पर किए गए सर्वे में ये बात सामने आई है कि मेनोपॉज के बाद खाना स्किप करने से लगभग 4 प्रतिशत महिलाओं में वेट लॉस हुआ था।

प्रोटीन रिच फूड का सेवन करें

लगातार प्रोटीन रिच फूड का सेवन लीन मसल्स की परेशानी से छुटकारा दिलाता है जो कि बढ़ती उम्र के साथ देखा जाता है। एक स्टडी के अनुसार प्रोटीन का रोज सेवन करने से एजिंग के कारण होने वाले मसल्स लॉस से छुटकारा मिलता है। प्रोटीन रिच फूड में मीट, फिश, नट्स और डेयरी प्रोड्क्टस शामिल हैं।

और पढ़ें: जानें क्यों महिलाओं में होती है कम सेक्स ड्राइव की समस्या?

शुगर और प्रोसेस्ड फूड को डायट से हटा दें

डायट में रिफाइंड कार्ब और शुगर का खाने में उपयोग ब्लड शुगर के लेवल में बढ़ोतरी और कमी कर सकता है। जिसकी वजह से आप थका हुआ और चिड़चिड़पन महसूस करते हैं। यहां तक कि एक स्टडी में पाया गया है कि डायट में हाई रिफाइंड कार्ब का उपयोग मेनोपॉज के बाद डिप्रेशन का कारण बन सकता है। इसकी वजह से हड्डियां भी कमजोर हो जाती हैं।

और पढ़ें: Quiz: महिलाओं में मेनोपॉज का दिल की बीमारी से रिश्ता जानने के लिए खेलें क्विज

मेनोपॉज के बाद सेक्स

कुछ महिलाएं मेनोपॉज के बाद सेक्स में अपना इंटरेस्ट खो देती हैं। यह मेनोपॉज का लक्षण है जिसका कारण लोअर ईस्ट्रोजन लेवल ड्राई जेनिटल टिशू होता है। हालांकि, ईस्ट्रोजन क्रीम और ईस्ट्रोजन की गोलियां जेनिटल एरिया में लोच और स्राव को बहाल कर सकती हैं। लुब्रीकेंट भी सेक्स को अधिक आनंददायक बनाने में मदद कर सकते हैं।

जिन महिलाओं को अभी भी पेरिमेनोपॉज के दौरान पीरियड होते हैं उन्हें कुछ प्रकार के बर्थ कंट्रोल का उपयोग करना जारी रखना होगा। अपने हेल्थकेयर प्रोवाइडर इस बारे में बात कर लें कौन सा बर्थ कंट्रोल आपके लिए सही हो सकता है।

अब तो आप समझ ही गए हाेंगे कि मेनोपॉज के बाद किन बातों का ध्यान रख आप अपनी देखभाल अच्छी तरह से कर सकते हैं और एक हेल्दी लाइफ बिता सकते हैं।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और मेनोपॉज के बाद स्किन केयर से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

False Unicorn Root: फाल्स यूनिकॉर्न रूट क्या है?

जानिए फाल्स यूनिकॉर्न रूट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फाल्स यूनिकॉर्न रूट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, False Unicorn Root डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

क्या मेनोपॉज के बाद महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं?

इस आर्टिकल में जाने कि मेनोपॉज के बाद गर्भधारण क्यों नहीं होता है, किस उम्र की महिलाओं में menopause ke baad pregnancy न होने की स्थिति उतपन्न हो सकती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi

मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) के बाद पड़ता है महिलाओं की मेंटल हेल्थ पर असर, ऐसे रखें ध्यान

मेनोपॉज में मेंटल हेल्थ का कैसे रखें ध्यान, इलाज क्या है, मेनोपॉज में डिप्रेशन का इलाज कैसे करें, menopause mental health in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेनोपॉज, महिलाओं का स्वास्थ्य March 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Quiz: महिलाओं में मेनोपॉज का दिल की बीमारी से रिश्ता जानने के लिए खेलें क्विज

महिलाओं में मेनोपॉज क्या है, महिलाओं में मेनोपॉज होने का कारण क्या है, मेनोपॉज होने पर क्या बदलाव होते हैं, Menopause in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेनोपॉज, महिलाओं का स्वास्थ्य February 18, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेरिमेनोपॉज का इलाज (Treatment for Perimenopause)

पेरिमेनोपॉज का इलाज कैसे किया जाता है? अपॉइंटमेंट के दौरान किन-किन बातों का रखें ध्यान?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 1, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज और लिबिडो - Menopause and libido

मेनोपॉज और लिबिडो में क्या है संबंध और कैसे पाएं इस स्थिति में राहत? 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
सस्टेन कैप्सूल

Susten Capsule : सस्टेन कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ August 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज के बाद सेक्स - sex after menopause

ओल्ड एज सेक्स लाइफ को एंजॉय करने के लिए जानें मेनोपॉज के बाद शारिरिक और मानसिक बदलाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें