home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन हो सकता है लाभकारी, लेकिन डॉक्टर से सलाह के बाद

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन हो सकता है लाभकारी, लेकिन डॉक्टर से सलाह के बाद

इंटरनैश्नल डायबिटीज फेडरेशन (International Diabetes Federation) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार भारत में 77 मिलियन डायबिटीज के पेशेंट हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स एवं रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार बदलती लाइफ स्टाइल एवं अनहेल्दी खानपान डायबिटीज (Diabetes) का मुख्य कारण माना जा रहा है। डायबिटीज की समस्या ना हो या ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को कंट्रोल रखने में वेलवेट बिन्स बेहद लाभकारी हो सकते हैं। आज इस आर्टिकल में डायबिटीज में वेलवेट बीन्स के सेवन (Use Velvet beans in diabetes) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी शेयर करने जा रहें हैं।

और पढ़ें : मूड स्विंग्स केवल गर्भावस्था ही नहीं, बल्कि टाइप 1 डायबिटीज का संकेत भी हो सकता है

वेलवेट बीन्स (Velvet beans) क्या है?

डायबिटीज में वेलवेट बिन्स के सेवन (Use Velvet beans in diabetes)

वेलवेट बिन्स को हिंदी में कौंच के बीज के नाम से जाना जाता है। वेलवेट बिन्स को आयुर्वेदिक औषधि की श्रेणी में रखा गया है। वेलवेट बिन्स एक हर्बल प्लांट है और इसका बीज काले रंग का होता है। वेलवेट बिन्स के पौधे पर फूलों की तरह इसके बीज लगे होते हैं। डायबिटीज में वेलवेट बीन्स के बीज, पत्ते एवं जड़ का सेवन किया जा सकता है। रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार वेलवेट बिन्स के फायदे डायबिटीज के साथ-साथ अन्य शारीरिक तकलीफों को भी दूर करने में किया जाता है। हालांकि अगर डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन संतुलित मात्रा से ज्यादा किया जाए, तो इसके नुकसान भी हो सकते हैं। आर्टिकल में डायबिटीज में वेलवेट बीन्स (Velvet beans in diabetes) से जुड़ी जानकारी शेयर करने से पहले डायबिटीज यानी मधुमेह से जुड़ी जानकारी शेयर करते हैं।

और पढ़ें : डायबिटीज है! इन्सुलिन प्लांट स्टीविया का कर सकते हैं सेवन, लेकिन डॉक्टर के इजाजत के बाद!

डायबिटीज (Diabetes) क्या है?

जब शरीर में मौजूद ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाए, तो ऐसी स्थिति में डायबिटीज की समस्या शुरू हो जाती है। टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) में पैंक्रियाज की बीटा सेल्स धीरे-धीरे खत्म होने लगती है, जिससे शरीर में इन्सुलिन (Insulin) का निर्माण नहीं हो पाता है। ऐसी स्थिति होने पर शरीर में कुछ बदलाव देखे जा सकते हैं। जैसे: बार-बार टॉयलेट जाना, बार-बार भूख लगना, अत्यधिक प्यास लगना, हमेशा थका हुआ महसूस करना, देखने (Vision) में समस्या होना, चोट लगने पर ठीक होने में वक्त लगना, वजन जरूरत से ज्यादा कम या ज्यादा होना, हाथ या पैरों में झुनझुनी या दर्द महसूस होना। अगर ऐसे लक्षण आप या आपके करीबी महसूस कर रहें हैं, तो डॉक्टर से कंसल्ट करना आवश्यक होती है। डॉक्टर से कंसल्टेशन एवं डायबिटीज में वेलवेट बीन्स के सेवन से ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को मेंटेन रखने में मदद मिल सकती है।

और पढ़ें : डायबिटीज पेशेंट हैं, तो विटामिन सी सप्लिमेंट्स के सेवन से इम्यूनिटी को बना सकते हैं स्ट्रॉन्ग!

डायबिटीज में वेलवेट बिन्स क्यों लाभकारी माना जाता है? (Importance of Velvet beans in diabetes)

वेलवेट बिन्स में मौजूद निम्नलिखित पौष्टिक तत्व डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभकारी माने जाते हैं। जैसे:

  • सोडियम (Sodium)
  • फॉस्फोरस (Phosphorus)
  • कैल्शियम (Calcium)
  • पोटैशियम (Potassium)
  • एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant)

ये सभी पौष्टिक तत्व डायबिटीज (Diabetes) पेशेंट के लिए लाभकारी माने जाते हैं। इसलिए आयुर्वेद एक्सपर्ट डायबिटीज में वेलवेट बीन्स के सेवन की सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ें : डायबिटीज में वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज, साथ में इन बातों का रखें ध्यान!

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन (Use of Velvet beans in diabetes)

वेलवेट बीन्स में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को बैलेंस रखने में बेहद मददगर माना जाता है। दरअसल वेलवेट बीन्स में मौजूद लीवोडोपा (Levodopa) डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभकारी होता है। यही नहीं लीवोडोपा में मौजूद औषधीय गुण डायबिटीज के अलावा वजन कम (Weight loss) करने में, तनाव (Tension) से मुक्ति, कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol), बॉडी पेन (Body pain) एवं पार्किंसंस (Parkinson’s) जैसी बीमारियों से दूर रखने में सहायक है।

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स के लाभ के लिए इसके बीज को दूध में मिलाकर इसका सेवन किया जा सकता है। वहीं वेलवेट बीन्स के पाउडर (Velvet beans powder) एवं कैप्सूल भी आसानी से मेडिकल स्टोर से खरीदी जा सकती है।

और पढ़ें : डायबिटीज में गिलोय एंटी-डायबेटिक की तरह करता है काम, लेकिन बिना डॉक्टर के एडवाइस के सेवन करने से हो सकते हैं साइड इफेक्ट्स!

डायबिटीज पेशेंट वेलवेट बिन्स का सेवन कैसे करें? (How to take Velvet beans)

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन निम्नलिखित तरह से की जा सकती है। जैसे:

  • वेलवेट बिन्स को पानी में बॉयल कर छान लें और फिर पानी का सेवन काढ़े की तरह किया जा सकता है।
  • कौंच के बीज के चूर्ण को ताजे पानी में मिलाकर सेवन करने से डायबिटीज पेशेंट को लाभ मिल सकता है।
  • आप चाहें, तो केमिस्ट से वेलवेट बीन्स की टेबलेट का भी सेवन कर सकते हैं।

डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन किया जा सकता है, लेकिन हेल्थ एक्सपर्ट से कंसल्ट करने के बाद। ऐसा करने से आप किसी भी नेगेटिव साइड इफेक्ट्स से बच सकते हैं।

नोट: डायबिटीज में वेलवेट बीन्स (Velvet beans in diabetes) के सेवन से पहले डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें। क्योंकि आयुर्वेद में पेशेंट के वात, पित्त और कफ दोष को ध्यान में रखकर औषधि दी जाती है। इसलिए अपनी मर्जी से डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का सेवन करना नुकसानदायक भी हो सकता है।

और पढ़ें : कहीं बढ़ता ब्लड शुगर लेवल हायपरग्लायसेमिक हायपरोस्मोलर सिंड्रोम का कारण ना बन जाए?

स्वस्थ रहने के लिए अपने दिनचर्या में नियमित योगासन करें। योग से जुड़ी खास जानकारी और योग को कैसे अपने जीवन में नियमित शामिल किया जा सकता है, ये बता रहीं हैं नीचे दिए इस वीडियो लिंक में योगा एक्सपर्ट पारमिता सिंह।

और पढ़ें : क्या डायबिटीज पेशेंट के पास है मील रिप्लेसमेंट ऑप्शन?

वेलवेट बिन्स के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of Velvet beans)

वेलवेट बिन्स के सेवन से निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं। जैसे:

  • कौंच यानी वेलवेट बिन्स का सेवन अगर संतुलित मात्रा में ना किया जाए, तो इससे उल्टी (Vomiting) हो सकती है।
  • आवश्यकता से ज्यादा वेलवेट बिन्स के सेवन से कमजोरी (Weakness) महसूस कर सकते हैं।
  • बच्चों (Child) को वेलवेट बिन्स का सेवन नहीं करवाना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं (Pregnant lady) या स्तनपान (Breastfeeding) करवाने वाली महिलाओं को वेलवेट बिन्स के सेवन से डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करना चाहिए।

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और डायबिटिक मेडिसिन का सेवन कर रहें हैं और ऐसे में इन दवाओं के सेवन के साथ-साथ डायबिटीज में वेलवेट बीन्स का भी सेवन करते हैं, तो ब्लड शुगर लेवल आवश्यकता से कम (Low blood sugar level) होने की संभावना बनी रहती है, जो डायबिटीज पेशेंट की तकलीफ कम करने की बजाय बढ़ा सकती है।

और पढ़ें : कहीं बढ़ता ब्लड शुगर लेवल हायपरग्लायसेमिक हायपरोस्मोलर सिंड्रोम का कारण ना बन जाए?

अगर आप डायबिटीज (Diabetes) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर आप डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं, तो डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपके हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर डायबिटीज में वेलवेट बीन्स (Velvet beans in diabetes) के सेवन की सलाह देंगे।

डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अपने आहार का विशेष ख्याल रखना चाहिए। नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और जानिए डायबिटीज और डायट (Diabetes and diet) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी।

powered by Typeform
health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What superfoods are good for diabetes?/https://www.diabetes.org/healthy-living/recipes-nutrition/eating-well/diabetes-superfoods/Accessed on 16/07/2021

Sample records for velvet bean mucuna/https://www.science.gov/topicpages/v/velvet+bean+mucuna/Accessed on 16/07/2021

The Magic Velvet Bean of Mucuna pruriens/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3942911/Accessed on 16/07/2021

Velvet beans/https://naldc.nal.usda.gov/catalog/ORC00000235/Accessed on 16/07/2021

Mucuna pruriens (velvet bean)/https://www.cabi.org/isc/datasheet/35134/Accessed on 16/07/2021

What is Diabetes?/https://www.cdc.gov/diabetes/basics/diabetes.html

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड