home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मार्शल आर्ट बन सकता है सेहत के लिए मैजिक!

मार्शल आर्ट बन सकता है सेहत के लिए मैजिक!

” स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है! “

कई बॉलीवुड हस्तियां जैसे कि अक्षय कुमार ने अपने शुरूआती दिनों में मार्शल आर्ट सीखा है। आज भी मार्शल आर्ट का प्रभाव उनके शरीर पर साफ तौर से दिखता है। शरीर को स्वस्थ और मस्तिष्क को तेज रखने के लिए जरूरी है शरीर को सक्रिय रखना। अगर आप अपने शरीर को सक्रिय रखते हैं और रोजाना व्यायाम करते हैं तो आपको कोई भी समस्या नहीं आएगी। आइए जानते हैं मार्शल आर्ट कैसे आपकी सेहत के लिए लाभकारी हो सकता है।

और पढ़ेंः जिम में जाने से पहले क्या न खाएं और क्यों?

मार्शल आर्ट का इतिहास

मार्शल आर्ट के इतिहास की बात करें, तो शुरू में इसे एक युद्ध कला के तौर पर जाना जाता है। इसकी तकनीक सिर्फ योध्दाओं की ही सिखाई जाती थी, ताकि वे युध्द में विरोधी पर भारी पड़ सके और साथ ही, स्वंय की रक्षा भी कर सके। मार्शल आर्ट्स का एक समान उद्देश्य है जिसका तात्पर्य है “खुद की या दूसरों की किसी शारीरिक खतरे से सुरक्षा करना।” वहीं, मार्शियल आर्ट्स को कला और विज्ञान दोनों में ही एक निपुण गुण माना जाता है। मौजूदा समय में मार्शियल आर्ट्स एक्सरसाइज, विभिन्न तरह के खेल और नृत्य के तौर पर पहचाना जाता है।

ऐसा कहा जाता है कि 15वीं शताब्दी के दौरान यूरोपी में मार्शल आर्ट शब्द की उत्पत्ती हुई थी। हालांकि, मूल रूप से सन् 1920 के दशक में मार्शियल आर्ट्स मुख्य तौर पर एशिया के युद्धों में शामिल किया गया।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकली सलाह या उपचार की सिफारिश नहीं करता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

मार्शल आर्ट के स्वास्थ्य फायदे

मार्शल आर्ट के कई स्वास्थ्य फायदे आप प्राप्त कर सकते हैंः

कार्डिओवैस्क्यूलर हेल्थ में सुधार

मार्शल आर्ट के दौरान आपको बहुत सी ऐसी एक्सरसाइज करवाई जाती हैं जिससे आपके हृदय को अधिक काम करना पड़ता है। व्यायाम के इस रूप में हृदय की कार्य कुशलता में वृद्धि होती है। साथ ही शरीर में खून सक्रियता भी बढ़ जाती है।

शरीर को लचीला और स्वस्थ बनाता है मार्शल आर्ट

किक्स (Kicks), अक्रोबैट (Acrobat) और थ्रोस (Throws) कुछ आम तरह के मार्शियल आर्ट्स डिसिप्लिन हैं। इन्हें करने से शरीर बिलकुल चुस्त और फुर्तीला रहता है। साथ ही ये व्यायाम शरीर को काफी हद तक लचीला भी बनाता है। लचीला शरीर होने से चोट लगने की संभावना कम हो जाती है।

और पढ़ें- अपर बॉडी में कसाव के लिए महिलाएं अपनाएं ये व्यायाम

वजन घटाने में भी कारगर है मार्शल आर्ट

एक बार के मार्शियल आर्ट्स सेशन में आप लगभग 500 कैलोरी घटा सकते हैं। साथ ही एक्सपर्ट्स बताते हैं कि मार्शल आर्ट्स करने वाले ज्यादातर लोगों में अनुशासन आ जाता है। अनुशाशन का अर्थ है कि समय के साथ खाना-पीना और बाकी सारे कार्यों में भी समय और स्वास्थ्य का ध्यान रखना।

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखना

मार्शल आर्ट में करवाए जाने वाली ज्यादातर एक्ससरसाइज हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग (High Intensity Interval Training) होती हैं। इन एक्सरसाइज की वजह से कार्डियोवस्क्यूलर हेल्थ ठीक रहती है और ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहता है।

और पढ़ें- बीएमआई कैलक्युलेटर टूल का उपयोग करके जानें अपना बीएमआई

मार्शल आर्ट करता है रिफ्लेक्स में सुधार

मार्शल आर्ट्स में आपको सतर्क रहने और दिमाग को हमेशा सक्रिय रखने की ट्रेनिंग दी जाती है। इस ट्रेनिंग का प्रभाव सारे रिफ्लेक्स (Reflex) पर पड़ता है और हर रिफ्लेक्स के प्रति आप बहुत सतर्कता से प्रतिक्रिया दे पाएंगें। कुल मिलकर ये कहा जा सकता है कि मार्शल आर्ट्स ऐसी कला है।

आत्म रक्षा के लिए बनाए निर्भर

मार्शल आर्ट्स न सिर्फ स्वस्थ रहने के लिए प्रेरणा देता है, बल्कि हमें आत्मरक्षा के लिए खुद पर निर्भर होना भी सिखाता है। लोग मार्शलआर्ट की तकनीक अलग-अलग कारणों से सीख सकते हैं। कई लोग इसे एक खेल के रूप में सीखना पसंद कर सकते हैं। तो कुछ इसे नियमित एक्सरसाइज के तौर पर करना भी पसंद कर सकते हैं। वहीं, कुछ लोग खासकर लड़कियां आज मार्शियल आर्ट्स सेल्फ डिफेंस के लिए भी सीखना पसंद करती हैं।

और पढ़ें- इस बॉल से करें एक्सरसाइज, मोटापा होगा कम और बाजु भी आएंगे शेप में

मानसिक विकास की क्षमता बढ़ाए

मार्शियल आर्ट्स की तकनीक के दौरान कई सारे मूव कुछ ही पलों के अंदर बहुत तेजी से किया जाता है। जो हमारे शरीर को फुर्तीला तो बनाता ही है, साथ ही हमारे मानसिक विकास की क्षमता में भी इजाफा करता है। इसकी मदद से आप किसी भी चीज को सीखने या समझने में कम से कम समय ले सकते हैं।

शारीरिक विकास में करें मदद

मार्शियल आर्ट्स की मदद से शारीरिक विकास में काफी मदद मिलती है। यह न सिर्फ कद बढ़ाने में मदद करता है, बल्कि कई तरह से शारीरिक विकास के कार्यों में काफी योगदान भी दे सकता है।

पसंदीदा तकनीक सीखने का भी है विकल्प

मार्शियल आर्ट्स के कई प्रकार मौजूद हैं। जिनमें से आप अपनी पसंदीदा तकनीक सीख सकते हैं। इनमें से आप कलारिपयाट्टू मार्शल आर्ट, क्रव मागा, कुंग-फू इत्यादि जैसे तकनीक सीख सकते हैं।

डाइजेशन को रखे संतुलित

मार्शियल आर्ट्स डाइजेशन की प्रक्रिया को संतुलित रखने में भी मदद कर सकता है।

और पढ़ें- अगर आप भी कम हाइट से हैं परेशान तो अपर बॉडी को टोन करके बढ़ सकती है लंबाई

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए

कई अध्ययनों से पता चला है कि यह व्यायाम के तौर पर हमारे मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। मार्शियल आर्ट्स से हम अपने दैनिक तनाव से छुटकारा पा सकते हैं। साथ ही, इसकी मदद से हम अपने काम पर ध्यान केंद्रित करने में मदद कर सकते हैं। अगर किसी का मन बार-बार किसी एक काम से दूसरे काम में भटकने लगता है, तो उसके लिए यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इसके अलावा, सक्रिय रखने से हामरे शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन का उत्पादन अधिक होता है, जो हमे खुशी का अनुभव कराता है।

एंग्जाइटी से राहत दिलाए

साल 2000 में किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि, मार्शियल आर्ट्स जैसे व्यायाम करने से मानसिक स्वास्थ्य विकार जैसे अवसाद और एंग्जाइटी से राहत पाई जा सकती है। हालांकि, इसका प्रभाव चिकित्सीय तौर-तरीके के फार्माकोथेरिपी और मनोचिकित्सा के उपचार से कम प्रभावी हो सकती है। लेकिन इन व्यायाम के करने के दौरान जिस तरह की शारीरिक गतिविधियां की जाती है उससे मानसिक स्तरपर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जो न सिर्फ अवसाद और चिंता के लक्षणों में सुधार करती है, बल्कि व्यक्ति में आत्म सम्मान और मनोदशा को भी बढ़ा सकता है।

मार्शियल आर्ट्स केवल व्यायाम या क्रियाओं का मिश्रण नहीं है। मार्शियल आर्ट्स करने से आपके शरीर के साथ मन और आत्मा भी अनुशाशित होती है। मार्शियल आर्ट्स अपनाने के बाद आप खुद अपने जीवन में बेहतर बदलाव महसूस करेंगें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Effects of Martial Arts on Health Status: A Systematic Review. https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/21349072/. Accessed on 19 May, 2020.

THE PHYSICAL AND PSYCHOLOGICAL BENEFITS OF MARTIAL ARTS. http://www2.uwstout.edu/content/lib/thesis/2002/2002martinr.pdf. Accessed on 19 May, 2020.

Article 2: Benefits in Learning Karate. https://uh.edu/shotokan/article2.htm. Accessed on 19 May, 2020.

The health benefits of tai chi. https://www.health.harvard.edu/staying-healthy/the-health-benefits-of-tai-chi. Accessed on 19 May, 2020.

Tai chi – health benefits. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/tai-chi-health-benefits?viewAsPdf=true. Accessed on 19 May, 2020.

Martial arts. https://campaigns.health.gov.au/girlsmove/activity/martial-arts. Accessed on 19 May, 2020.

Sample records for martial arts training. https://www.science.gov/topicpages/m/martial+arts+training. Accessed on 19 May, 2020.

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Suniti Tripathy द्वारा लिखित
अपडेटेड 28/09/2019
x