क्या है बेसल इंसुलिन, इसके प्रकार, डोज, साइड इफेक्ट और खासियत जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बेसल इंसुलिन का इस्तेमाल डायबिटीज की बीमारी के लिए किया जाता है। आप चाहें तो डायबिटीज को कई तरीकों से मैनेज कर सकते हैं, इसके लिए हेल्दी डायट अपनाने के साथ रेगुलर एक्सरसाइज को जीवन में शामिल कर बीमारी से निजात पा सकते हैं। लेकिन कुछ मामलों में आपको ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने के लिए इंसुलिन के साथ दवाओं की जरूरत पड़ सकती है। मौजूदा समय में इंसुलिन लेने के दो तरीके हैं। पहला बोलस और दूसरा बेसल। बोलस से खुराक लेने पर तुरंत राहत मिलती है, इसे खाने के पहले लिया जाता है। वहीं बेसल से खुराक लेने पर लंबे समय पर ब्लड ग्लूकोज लेवल सामान्य रहता है। इसके तहत ग्लूकोज लेवल सुबह से रात तक सामान्य रहता है।

कुल मिलाकर कहा जाए तो बेसल इंसुलिन का काम ब्लड ग्लूकोज लेवल को मेन्टेन रखना है, खासतौर पर व्रत और सोने के दौरान। जब भी कोई व्यक्ति व्रत करता है तो उस दौरान लिवर ग्लूकोज निकालता है, जो हमारी रक्तकोशिकाओं से होते हुए शरीर में जाता है। वहीं बेसल इंसुलिन इसी ग्लूकोज लेवल को कंट्रोल में रखने का काम करता है।

यदि बेसल इंसुलिन का इस्तेमाल न किया जाए तो संभव है कि ग्लूकोज लेवल के बढ़ने से मरीज को इमरजेंसी उपचार की जरूरत पड़ सकती है। ऐसे में बेलस इंसुलिन यह सुनिश्चित करता है कि आपकी रक्तकोशिकाओं को दिनभर के लिए उतना ही ग्लूकोज मिले, जितना जरूरी है।

क्या है बेसल इंसुलिन

24 घंटे में हमारे शरीर में मौजूद पैनक्रियाज इंसुलिन की नियमित मात्रा तैयार करते हैं। वहीं बेसल इंसुलिन इसी की नकल कर शरीर में उतनी ही इंसुलिन की मात्रा का प्रवाह करता है जितना उसे जरूरी होता है। हमारे शरीर को जब कम इंसुलिन की आवश्यकता होती है जब हम कुछ खाते नहीं है। लेकिन शरीर को सुचारू रूप से काम करने के लिए इंसुलिन की जरूरत होती है। यदि पता चल जाता है कि आप डायबिटीज टाइप 2 की बीमारी से ग्रसित हैं तो ऐसे में आपका डॉक्टर आपको बेसल इंसुलिन लेने का सुझाव दे सकता है। दिनभर में इसका एक शाट पर्याप्त होता है। यदि डोज पर्याप्त नहीं होता है तो उस स्थिति में डॉक्टर आपको खाने के पहले डोज का सुझाव दे सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बेसल इंसुलिन के प्रकार

मौजूदा समय में बेसल इंसुलिन के तीन प्रकार हैं

इंटरमीडिएट एक्टिंग इंसुलिन (एनपीएच) (Intermediate-acting insulin, NPH)

यह ह्यूमेलिन और नोवोलिन (Humulin and Novolin) नामक ब्रैंड के नाम में उपलब्ध है। डॉक्टर सामान्य तौर पर इसे दिन में एक बार या दो बार डोज लेने का सुझाव देते हैं। सामान्य तौर पर इसे सुबह के खाने के समय खुराक लेने का सुझाव दिया जाता है। सुबह-शाम दोनों ही समय की खुराक की बात करें तो इंसुलिन लेने के चार से आठ घंटों तक असर रहता है। वहीं खुराक के 16 घंटों के बाद असर कम होने लगता है।

लांग एक्टिंग इंसुलिन (Long-acting insulin)

मौजूदा समय में दो प्रकार के इंसुलिन मार्केट में मौजूद हैं। पहला डेटेमिर जिसे लेवेमिर भी कहते हैं (detemir (Levemir) दूसरे को ग्लेरगीन कहते हैं, इसे टाउजीओ, लेंटस और बसगलर ( glargine (Toujeo, Lantus, and Basaglar) भी कहा जाता है। इस प्रकार के बेसल इंसुलिन एक बार इंजेक्ट होने के बाद 90 मिनट से लेकर चार घंटों तक असर दिखाते हैं। वहीं इंसान की रक्तकोशिकाओं में करीब 24 घंटों तक रहते हैं। कुछ लोगों में जहां इसका असर ज्यादा देर तक देखने को मिलता है तो कुछ लोगों में इसका असर कम देखने को मिलता है। इस दवा में इंसुलिन कोई पीक टाइम नहीं होता है, यह दिनभर एक सामान्य गति से इंसुलिन का प्रवाह करता है।

अल्ट्रा लांग एक्टिंग इंसुलिन (Ultra-long acting insulin)

2006 में एक अन्य बेसल इंसुलिन डिग्लुडेक (ट्रेसिबा) (degludec (Tresiba) नामक दवा अस्तित्व में आई। इस इंसुलिन का डोज लेने पर यह 30 से 90 मिनटों में ही असर दिखाने लगता था वहीं रक्तकोशिकाओं में करीब 42 घंटों तक रहता था। लंबे समय तक असर दिखाने वाले डेटेमिर और ग्लेरगीन की तुलना में यह इस इंसुलिन में कोई पीक टाइम नहीं था, यह सामान्य रूप से दिनभर असर दिखाता है।

डिग्लुडेक इंसुलिन दो स्ट्रेंथ में मौजूद है। पहला 100 यू/एमएल और 200 यू/एमएल, तो इसके इस्तेमाल को लेकर डॉक्टरी सलाह के साथ दवा पर लिखे दिशा निर्देशों को पढ़ना जरूरी होता है।

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए डॉक्टरी सलाह लें। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

इंसुलिन के इस्तेमाल को लेकर इन बातों पर दें ध्यान

जब भी आप तुरंत और लंबे समय तक बेसल इंसुलिन का चुनाव कर रहे हो तो निम्न बातों पर ध्यान देना जरूरी होता है। इसके तहत लाइफस्टाइल के साथ खुराक लेने की इच्छा जरूरी होती है। उदाहरण के तौर पर आप चाहें तो एनपीएच की खुराक के पहले इंजेक्शन ले सकते हैं, वहीं लंबे समय तक खुराक चाहते हैं तो उसके लिए इंसुलिन की अलग से इंजेक्शन लेनी होगी। आपका बॉडी साइज, हार्मोन लेवल, डायट, आपका पैनक्रियाज वर्तमान में इंसुलिन की कितनी मात्रा रिलीज करता है तमाम मापदंडों के आधार पर ही इंसुलिन के डोज का निर्धारण होता है।

और पढ़ें : डायबिटीज पैचेस : ये क्या है और किस प्रकार करता है काम?

जानें बेसल इंसुलिन के क्या हैं फायदें

डायबिटीज की बीमारी से पीड़ित ज्यादातर लोग बेसल इंसुलिन की ही मांग करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि बेसल इंसुलिन की मदद से वो अपने ब्लड शुगर लेवल को आसानी से मैनेज कर पाते हैं। वहीं लाइफस्टाइल भी मैनेज कर पाते हैं। उदाहरण के तौर पर यदि कोई व्यक्ति लंबे समय तक इंसुलिन का डोज लेता है तो उसे इंसुलिन पीक एक्टिविटी को लेकर घबराने की जरूरत नहीं होती है। वहीं जो व्यक्ति खाने से पहले इंसुलिन लेता है उसके लो ब्लड शुगर लेवल में उतार चढ़ाव की संभावना होती है, क्योंकि यदि आप समय से इंसुलिन डोज नहीं लेते हैं तो संभव है कि आप असहज महसूस करें।

इतना ही नहीं यदि आप सुबह से समय में अपने टार्गेट ब्लड शुगर लेवल को मेनटेन नहीं रख पा रहे हैं तो अच्छा यही होगा कि आप बेसल इंसुलिन को रात के समय सोने से पहले डोज लें, ऐसे में आपको इस समस्या से छुटकारा मिलेगी।

और पढ़ें : क्या है डायबिटिक मैकुलर एडिमा, क्यों होती है यह बीमारी, इसके लक्षण, बचाव और ट्रीटमेंट जानने के लिए पढ़ें

डोज संबंधी अन्य जानकारी

यदि आप बेसल इंसुलिन की मदद से खुराक लेने की सोच रहे हैं तो वर्तमान में तीन डोज के विकल्प मौजूद है। हर एक विकल्प के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही पहलू हैं। बेसल इंसुलिन की जरूरत हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकती है। तो आपके डॉक्टर और एंडोक्रिनोलॉजिस्ट आपको सही डोज की सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ें : डायबिटीज होने पर कैसे करें अपने पैरों की देखभाल

रात को सोने से पहले, सुबह-सुबह या दोनों ही समय एनपीएच डोज लेना

इंसुलिन का डोज काफी अहम रोल अदा करता है। क्योंकि ऐसा हो सकता है कि दोपहर के समय में या इसके आसपास के समय में इंसुलिन अपनी पीक पर हो, वहीं इस समय इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। इंसुलिन की यही आवश्यकता आपकी लाइफस्टाइल, खाने पीने का समय सहित अन्य एक्टिविटी पर निर्भर करता है। इसके कारण संभव है कि रात को सोते वक्त लो ब्लड शुगर लेवल के साथ दिन में लो और हाई ब्लड ग्लूकोज लेवल का एहसास हो।

मधुमेह के मरीज अपनी इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं जानने के लिए वीडियो देख लें एक्सपर्ट की राय

ग्लेरगीन, डिग्लुडेक की खुराक 

इन बेसल इंसुलिन की बड़ी खासियत यही है कि इसका असर लंबे समय तक रहता है। लेकिन कुछ लोगों में यह देखा गया है कि डेटेमीर और ग्लेरगीन की खुराक लेने के 24 घंटों में असर कम हो जाता है। इसका अर्थ यह हुआ कि जब भी आप दूसरा डोज लें तो उसमें हाई ब्लड ग्लूकोज लेवल को लें। लेकिन डिग्लुडेक तबतक अपना असर दिखाता है जब तक दूसरे डोज का समय नहीं आ जाता है।

इंसुलिन पंप का इस्तेमाल कितना है कारगर

यदि आप इंसुलिन पंप से इंसुलिन की खुराक ले रहे हैं तो आप बेसल इंसुलिन की खुराक को लिवर फंक्शन के अनुसार एडजस्ट कर सकते हैं। लेकिन पंप थेरेपी का एक नकारात्मक पहलू यह भी है कि इसके इस्तेमाल से डायबिटिक कीटोएसिडोसिस (diabetic ketoacidosis) होने की संभावना रहती है। ऐसा पंप में आई खराबी के कारण हो सकता है। यदि मशीन में किसी भी प्रकार की दिक्कत आ जाए तो संभावना है कि आपके शरीर को सही मात्रा में इंसुलिन न मिले। ऐसे में आपको यह बीमारी होने की संभावना रहती है। इसलिए जरूरी है कि डोज लेने को लेकर और डोज संबंधी बातों पर पहले से ही डॉक्टर से विचार विमर्श कर लिया जाए।

और पढ़ें : डायबिटीज होने पर शरीर में कौन-सी परेशानियाँ होती हैं?

बेसल इंसुलिन के दुष्प्रभाव को जानें

बेसल इंसुलिन का इस्तेमाल करने के कुछ साइड इफेक्ट भी हैं। दूसरे इंसुलिन का इस्तेमाल करने की तुलना में इस इंसुलिन का इस्तेमाल करने वाले लोगों को हायपोग्लाइसीमिया (hypoglycemia) की बीमारी के साथ वजन बढ़ सकता है।

इतना ही नहीं यदि व्यक्ति बेसल इंसुलिन के साथ कुछ दवा का सेवन करता है तो उसके बारे में भी डॉक्टर को जानकारी देनी चाहिए। संभव है कि बीटा ब्लॉकर्स (beta-blockers), ड्यूरेटिक्स (diuretics), क्लोनिडीन (clonidine), लीथियम साल्ट (lithium salts) का सेवन करने से बेसल इंसुलिन का इफेक्ट कम हो जाए। इसलिए जरूरी है कि इस डोज को लेने के पूर्व पहले से यदि आप दवा का सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टरी सलाह जरूर लें वहीं एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की सलाह भी जरूर लेनी चाहिए।

डायबिटीज के बारे में जानना है तो खेलें क्विज : Quiz : फिटनेस क्विज में हिस्सा लेकर डायबिटीज के बारे में सब कुछ जानें।

इंसुलिन को ऐसे करें स्टोर

इंसुलिन को स्टोर करने की बात करें तो इसे ज्यादा गर्म और ज्यादा ठंडी जगह पर स्टोर न करें। वहीं इसे सूर्य की किरणों से दूर रखने के साथ न ही फ्रिज में रखें और न ही कार में रखें। इस्तेमाल के पूर्व इसकी एक्सपायरी डेट पर ध्यान दें। इंजेक्शन में जब इंसुलिन डालें तो वो दिखनी चाहिए कि आप कितनी मात्रा डाल रहे हैं। वहीं इसके इस्तेमाल के बाद अच्छे से डिस्पोज करें। इसके लिए आप डॉक्टरी सलाह ले सकते हैं। न तो वाशरूम में फेंके और न ही कूड़े में न फेंके, पर्यावरण को नुकसान पहुंच सकता है।

डॉक्टरी सलाह के बाद अपने शरीर के अनुरूप ले सकते हैं बेस्ट दवा

डायबिटीज की बीमारी से ग्रसित लोगों के लिए बेसल इंसुलिन रामबाण हो सकता है। वहीं इसका डोज लेकर वो डायबिटीज को आसानी से मैनेज कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए बस जरूरी है कि आप अपने डॉक्टर और एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की सलाह लेकर अपने शरीर के हिसाब से इंसुलिन का डोज तय करने के साथ कौन-सा बेसल इंसुलिन आपके शरीर को सूट करेगा और कौन-सा नहीं उसको लेकर पहले से ही चर्चा कर लें और उसी के अनुरूप दवा का डोज लें। आप चाहें तो अपनी लाइफस्टाइल में सुधार करने के साथ बेसल इंसुलिन को लेकर आप रोजमर्रा के कामकाज को आसानी से कर सकते हैं। इस इंसुलिन की सबसे बड़ी खासियत यही है कि इसका डोज बार-बार लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, एक बार यदि कोई इसका खुराक ले लें तो करीब 24 घंटों तक इसे अन्य डोज की आवश्यकता नहीं पड़ती है। लेकिन हर व्यक्ति का शरीर अलग-अलग है ऐसे में लोगों को डॉक्टरी सलाह लेने के बाद ही डोज लेना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Glucored Tablet : ग्लूकोर्ड टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लूकोर्ड टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन (Metformin) और ग्लिबेंक्लामाइड (Glibenclamide) दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glucored Tablet

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

जानिए इंसुलिन के प्रकार और मधुमेह के रोगियों में इसका उपयोग

इंसुलिन के प्रकार क्या हैं, मधुमेह के रोगियों में इंसुलिन का उपयोग कैसे किया जाता है। इस आर्टिकल में जाने इसका डोज, types of insulin for diabetes in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज अगस्त 4, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Prodep Capsule : प्रोडेप कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

प्रोडेप कैप्सूल की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, फ्लूऑक्सेटिन (Fluoxetine) दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Prodep Capsule

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

C-peptide: सी-पेप्टाइड कैसे और क्यों किया जाता है?

सी-पेप्टाइड टेस्ट कैसे किया जाता है? मधुमेह के रोगियों में सी-पेप्टाइड टेस्ट, क्यों यह टेस्ट करना चाहिए। c-peptide test in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जुलाई 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स/Diabetes Test Strips

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल

प्रेग्नेंसी के दौरान कितना होना चाहिए नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस/diabetic gastroparesis

डायबिटिक गैस्ट्रोपैरीसिस का इलाज क्या संभव है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
मधुमेह से होने वाली जटिलताएं कौन सी हैं

डायबिटीज होने पर शरीर में कौन-सी परेशानियाँ होती हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें