ये 7 योगासन बच्चों को बनाएंगे फिट एंड इंटेलिजेंट!

    ये 7 योगासन बच्चों को बनाएंगे फिट एंड इंटेलिजेंट!

    योग 5000 साल पुरानी शैली है और बीते कुछ सालों से योग के प्रति लोगों की लोकप्रियता बढ़ी है। अक्सर योगासन से जुड़ी जानकरी यंग या सीनियर सिटीजन के लिए देखी या पढ़ी जाती है, लेकिन आज ये आर्टिकल खास बच्चों के लिए है, जहां हम बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) से जुड़ी पूरी जानकारी शेयर करेंगे।

    • बच्चों के लिए योग की लिस्ट में कौन-कौन से योगासन हैं शामिल?
    • बच्चों के लिए योग से जुड़े सुझाव क्या हैं?
    • बच्चों के लिए योग के फायदे क्या हैं?

    चलिए अब बच्चों के लिए योगासन से जुड़े सभी जानकारियों को एक-एक कर समझने की कोशिश करते हैं।

    और पढ़ें : विटामिन और सप्लिमेंट्स सिर्फ बड़ों को नहीं बच्चों के लिए भी है जरूरी, लेकिन कैसे करें पूर्ति?

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) की लिस्ट में कौन-कौन से योगासन हैं शामिल?

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids)

    बच्चों के लिए योगासन (Yoga for Kids) की लिस्ट में शामिल 7 आसनों की जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

    1. प्राणायाम (Prayanam)

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) की लिस्ट में सबसे पहले बात प्राणायाम (Prayanam) से जुड़ी जानकरी आपसे शेयर करते हैं। प्राणायाम सांस संबंधी योगासन है। प्राणायाम के दौरान सांस लेने और फिर छोड़ने की क्रिया है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार प्राणायाम से ब्रीदिंग हेल्थ बेहतर होने के साथ-साथ हार्ट हेल्थ के लिए भी लाभकारी माना जाता है।

    कैसे करें प्राणायाम?

    बच्चों के लिए योग की लिस्ट में शामिल प्राणायाम निम्नलिखित स्टेप को फॉलो करते हुए किये जा सकते हैं। जैसे-

    स्टेप 1- किसी साफ स्थान पर योगा मैट बिछाएं और फिर उसपर बैठ जाएं।
    स्टेप 2- पालथी मारकर बैठ जाएं।
    स्टेप 3- अब दोनों हाथों को घुटनों पर रखें।
    स्टेप 4- ध्यान रखें कि बच्चे की रीढ़ की हड्डी सीधी हो।
    स्टेप 5- अब बच्चे को अपनी दोनों आंखें बंद करने के लिए बोलें।
    स्टेप 6- अब आराम से बच्चे को ब्रीद इन और ब्रीद आउट करना सिखाएं।

    प्राणायाम 5 से 10 मिनट तक करना सिखाएं।

    और पढ़ें : क्या है उज्जायी प्राणायाम, इसके करने का सही तरीका और इसके फायदों के बारे में जानें

    2. बालासन (Balasana)

    बच्चों के लिए योग में शामिल बालासन का अर्थ भी बच्चे से जुड़ा हुआ है। इंग्लिश में इस आसन को चाइल्ड पोज (Child pose) भी कहा जाता है। मूवमेंट, माइंडफुलनेस एंड मेंटल हेल्थ (Movement, Mindfulness and Mental Health) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बच्चों के लिए योग के इस खास पोज से मस्तिष्क के विकास में सहायता मिलती है।

    कैसे करें बालासन?

    बालासन के लिए निम्नलिखित स्टेप फॉलो करें। जैसे:

    स्टेप 1- किसी साफ स्थान पर योगा मैट बिछाएं और फिर उसपर बैठ जाएं।
    स्टेप 2- अब बच्चे को वज्रासन पोज में बिठायें।
    स्टेप 3- रीढ़ की हड्डी सीधी रखें।
    स्टेप 4- अब बॉडी को आगे की ओर बेंड करें।
    स्टेप 5- दोनों हाथों को एड़ियों के पास रखें और कुछ सेकेंड तक बच्चे को इसी पुजिशन में रहने के लिए कहें।

    इस पूरी प्रक्रिया को 4 से 5 बार बच्चे को करने दें। स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) बेहद लाभकारी माना जाता है। इसलिए बालासन करने की आदत बच्चों को अवश्य डालें।

    और पढ़ें : रीढ़ की हड्डी के लिए फायदेमंद ऊर्ध्व मुख श्वानासन को कैसे करें, क्या हैं इसे करने के फायदे जानें

    3. ताड़ासन (Tadasana)

    बच्चों के लिए योग की लिस्ट में एक और योगासन शामिल है ताड़ासन। रिसर्च रिपोर्ट्स की मानें, तो ताड़ासन छोटे बच्चों के साथ-साथ स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए लाभकारी योगासन में शामिल है। इस योगासन से बच्चे की एकाग्रता बढ़ती है और यह आसन लंबाई बढ़ाने में भी सहायक है।

    कैसे करें ताड़ासन?

    ताड़ासन के लिए निम्नलिखित स्टेप फॉलो करें। जैसे:

    स्टेप 1- प्लेन और साफ जगह पर योगामैट बिछाएं।
    स्टेप 2- बच्चों के दोनों पैर को पैरलल रखें और स्ट्रेट खड़े रहने के लिए बोलेन।
    स्टेप 3- अब दोनों हाथों को उपर की ओर ले जाएं, बिल्कुल स्ट्रेट।
    स्टेप 4- दोनों एड़ियां उठी हुई रखें और कुछ सेकेंड तक बच्चे को इसी पुजिशन में रहने के लिए कहें।
    स्टेप 5- अब दोनों हाथ आराम से नीचे लाएं और एड़ियों को भी जमीन पर रखें।

    बच्चों के लिए योगासन में शामिल ताड़ासन 5 से 6 बार करवाई जा सकती है।

    और पढ़ें : बच्चों के लिए वीगन डायट प्लान करने से पहले क्या और क्यों जानना है जरूरी?

    4. वृक्षासन (Vriksasana)

    वृक्षासन को इंग्लिश में ट्री पोज कहा जाता है। इस योगासन बच्चों के लिए इसलिए लाभकारी बताया गया है, क्योंकि बच्चों के लिए योगासन रूटीन में वृक्षासन को शामिल करने से मस्तिष्क को लाभ मिलता है और बच्चों की एकाग्रता भी बढ़ती है। वृक्षनसान बच्चों के साथ-साथ बड़ों के लिए भी लाभकारी बताया गया है, क्योंकि इससे चिंता और तनाव को दूर करने में मदद मिलती है।

    कैसे करें वृक्षासन?

    वृक्षासन (Vriksasana) करने के लिए सबसे पहले ऊपर बताये गए ताड़ासन पोज में बच्चे को खड़ा करें और नीचे दिए स्टेप्स को फॉलो करें।

    स्टेप 1- बच्चे के एक पैर को घुटने पर रखें।
    स्टेप 2- अब दोनों हाथों को ऊपर ऊपर की ओर जॉइन करें।
    स्टेप 3- अब इस पुजिशन में सेकेंड के लिए रहने दें।
    स्टेप 4- बच्चे को रिलैक्स पुजिशन में आने दें।

    इस आसान को भी 4 से 5 बार बच्चे कर सकते हैं।

    और पढ़ें : बच्चों के लिए प्रोटीन पाउडर: बच्चों को प्रोटीन पाउडर देने से पहले जानिए ये बातें

    5. भुजंगासन (Bhujangasana)

    भुजंगासन को इंग्लिश में कोबरा पोज कहा जाता है। बच्चों की बॉडी तो फ्लैक्सिबल होती हैं, लेकिन अगर छोटी उम्र से ही बच्चों को योग करने की आदत डालें, तो आगे चलकर भी उनकी बॉडी फ्लैक्सिबल रह सकती है। भुजंगासन को इसलिए बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) की लिस्ट में शामिल किया गया है।

    कैसे करें भुजंगानस?

    भुजंगासन के लिए निम्नलिखित स्टेप्स फॉलो करें। जैसे:

    स्टेप 1- सबसे पहले योगामैट बिछा समतल जमीन पर बिछा लें।
    स्टेप 2- अब बच्चे को पेट के बल लिटाएं।
    स्टेप 3- अब दोनों हाथों को कमर के पास थोड़ा आगे रखें।
    स्टेप 4- अब हथेलियों से जोड़ लगाकर शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर की ओर उठायें।
    स्टेप 5- अब 5 से 6 सेकेंड के लिए इसी पुजिशन में बच्चे को रहने के लिए कहें।

    भुजंगासन बच्चे 3 से 4 बार कर सकते हैं।

    और पढ़ें : बच्चों के लिए ओमेगा-3 (omega-3) फैटी एसिड सप्लिमेंट्स का उपयोग करना चाहिए या नहीं?

    6. धनुरासन (Dhanurasana)

    बच्चों के कंधे, घुटने, रीढ़ और टखने को मजबूत बनाने के लिए धनुरासन लाभकारी माना जाता है। इस आसन को बच्चे आराम से कर सकते हैं।

    कैसे करें धनुरासन?

    धनुरासन करने के लिए बच्चे निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो. करें। जैसे:

    स्टेप 1- सबसे पहले योगामैट समतल फ्लोर पर बिछाएं।
    स्टेप 2- अब बच्चे को पेट के बल आराम से लिटाएं।
    स्टेप 3- शरीर के अगले हिस्से को ऊपर की ओर उठायें।
    स्टेप 4- अब दोनों पैरों को पीछे की ओर ऐसे मोड़ें, जिससे बच्चे दोनों हाथों से पैरों को पकड़ सकें।
    स्टेप 5- अब इस पुजिशन में बच्चे को 5 से 6 सेकेंड के लिए रहने दें।

    बच्चों के लिए योग की लिस्ट में शामिल धनुरासन 2 से 3 बार करवाएं। इस योगासन से बॉडी को फ्लैक्सिबल बनाने के साथ-साथ कंधे, घुटने, रीढ़ और टखने को स्ट्रॉन्ग बनाने में सहायता मिलती है।

    और पढ़ें : जानें पेट की इन तीन समस्याओं में राहत देने वाले योगासन, जो आपको चैन की सांस दे

    7. सुखासन (Sukhasana)

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) की लिस्ट में सुखासन को जरूर शामिल करें। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार इस योगासन से बच्चों को शारीरिक रूप से मजबूत बनाने के साथ-साथ मानसिक रूप भी मजबूत बनाने में मदद मिलती है। वहीं बड़े बुजुर्गों में दिल को स्वस्थ रखने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर को भी बैलेंस में रखने में मददगार माना जाता है।

    कैसे करें सुखासन?

    सुखासन सबसे आसान आसनों में से एक है। इस आसन को करने के लिए बच्चे निम्नलिखित स्टेप फॉलो करें। जैसे:

    स्टेप 1- योगा मैट समतल जगह पर बिछा लें।
    स्टेप 2- अब पालथी मारकर बैठ जाएँ
    स्टेप 3- पीठ बिल्कुल सीधी रखें।
    स्टेप 4- हाथों को घुटनों से टच करें।
    स्टेप 5- अब बच्चों को रिलैक्स पुजिशन में रहने के लिए कहें और सांस लेने और सांस छोड़ने के लिए कहें।

    सुखासन में बस इन्हीं स्टेप्स को फॉलो करना है और बच्चे अगर 15 से 20 मिनट तक इस पुजिशन में रहें, तो उतना ही ज्यादा इस आसन के फायदे हैं।

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) की लिस्ट में इन 7 आसनों को रेग्यूलर शामिल करें। हालांकि शुरुआती दिनों में शायद इन सभी आसनों को ना कर पाएं, लेकिन धीरे-धीरे इन योगासनों को बच्चे आराम से कर सकते हैं। वैसे पेरेंट्स भी चाहें, तो इन आसनों को बच्चे के साथ-साथ कर सकते हैं।

    नोट: अगर घर के बड़े सदस्य या पेरेंट्स बच्चों के लिए योग को खुद भी फॉलो कर रहें हैं, तो ध्यान रखें कि बच्चों को कोई भी आसन जरूरत से ज्यादा ना करवाएं।

    और पढ़ें : बच्चों में आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए पेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

    बच्चों के लिए योग से जुड़े सुझाव क्या हैं?

    बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids)

    हार्वर्ड यूनिवर्सिटी (Harvard University) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बच्चों के लिए योग गेम की तरह है। बच्चों के लिए योग बेहतर होगा कि 5 या 6 साल की उम्र से शुरू करें। वहीं अगर आपके बच्चे को कोई हेल्थ कंडिशन है जैसे हार्ट प्रॉब्लम (Heart problem), माइग्रेन (Migraine), सिरदर्द (Headache) या फिर नींद (Sleep) नहीं आने की समस्या है, तो ऐसी स्थिति में पहले डॉक्टर से कंसल्ट करें और फिर बच्चों को योग करने के लिए प्रेरित करें।

    और पढ़ें : एब्डॉमिनल माइग्रेन! जानिए बच्चों में होने वाली इस बीमारी के बारे में

    बच्चों के लिए योग के फायदे (Yoga benefits) क्या हैं?

    बच्चों के लिए योग के फायदे निम्नलिखित हैं। जैसे:

    • बच्चों के आत्मविश्वास को बढ़ाने में सहायक है योगासन।
    • बच्चों के लिए योगासन नियमित करने से ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है।
    • बॉडी को फ्लैक्सिबल बनाये रखने में सहायक है योगासन।
    • बच्चों में होने वाली स्ट्रेस को भी दूर रखने में सहायक है योग।
    • बच्चों के शैक्षिक प्रदर्शन (Academic Performance) को बेहतर बनाने में योग के लाभ मिल सकते हैं।
    • रेग्यूलर योगासन से बच्चे रिलैक्स रहते हैं।

    अगर आप बच्चों के लिए योग (Yoga for Kids) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। हालांकि अगर बच्चे को कोई शारीरिक समस्या है, तो डॉक्टर से कंसल्टेशन करें, क्योंकि ऐसी स्थिति में डॉक्टर आपके हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर सलाह देंगे।

    बच्चों के नींद से जुड़ी जानकारी आपक रखते हैं कितनी सही? जानिए अपना स्कोर नीचे दिए क्विज को खेल कर।

     

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    More than just a game: Yoga for school-age children/https://www.health.harvard.edu/blog/more-than-just-a-game-yoga-for-school-age-children-201601299055/Accessed on 02/06/2021

    Yoga/https://www.ijrap.net/admin/php/uploads/1176_pdf.pdf/Accessed on 02/06/2021

    Movement, Mindfulness and Mental Health/https://cchd.maryland.gov/wp-content/uploads/sites/26/2019/06/RB2019-Cavalieri.pdf/Accessed on 02/06/2021

    Healthy Living: Yoga for Kids/https://www.uaex.edu/publications/PDF/FSFCS24.pdf/Accessed on 02/06/2021

    Yoga as a Complementary Therapy for Children and Adolescents/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2945853/Accessed on 02/06/2021

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/06/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड