लैक्टेशन (ब्रेस्ट मिल्क) बढ़ाने के लिए ट्राई करें ये रेसिपीज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कई बार पोषक तत्वों की कमी की वजह से डिलिवरी के बाद महिलाओं में ब्रेस्ट मिल्क की पर्याप्त आपूर्ति नहीं होती है। ऐसे में कुछ खास तरह के पोषक तत्वों से भरपूर आहार से इस समस्या से निपटा जा सकता है। क्योंकि शिशु को मां के दूध से संपूर्ण पोषण मिलता है और बच्चे में लैक्टेशन बढ़ाने के लिए सही तरीके से स्तनपान कराने के साथ ही कुछ खास रेसिपीज भी ट्राई करें। चलिए आपको बताते हैं लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके क्या-क्या हैं?

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके क्या हैं?

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके निम्नलिखित हैं। जैसे:-

अगर आपको भी पर्याप्त दूध नहीं होता है तो आप भी ये रेसिपीज ट्राई करके ब्रेस्ट मिल्क का प्रोडक्शन बढ़ा सकती हैं।

यह भी पढ़ें- क्या स्तनपान के दौरान शराब का सेवन सुरक्षित है?

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके में शामिल है हलीम लड्डू

जिन महिलाओं को दूध नहीं बनता या बहुत कम बनता है उनके लिए हलीम का सेवन बहुत फायदेमंद है।

सामग्री

  • ¾ कप हलीम के बीज
  • 1 टेबलस्पून घी
  • आधा कप गुड़
  • ¼ कप सूजी
  • 1 टेबलस्पून कद्दूकस किया हुआ सूखा नारियल
  • ¼ बादाम का दरदा पिसा हुआ

विधि

हलीम को आधा कप पानी में 3 घंटे के लिए भिगोकर रखें। फिर कड़ाही में घी गरम करके उसमें गुड़, हलीम और सूजी डालकर पकाएं। मध्यम आंच पर 6-7 मिनट के लिए पकाएं। जब गुड़ अच्छी तरह मिक्स हो जाए तो इसमें नारियल और बादाम मिक्स कर दें। आंच से उतारकर मिश्रण को ठंडा होने के लिए थाली में फैला दें। थोड़ा ठंडा होने पर इसके लड्डू बना लें।

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके में शामिल है चॉकलेट और अनार ओट्स

ओटमील (जौ) में आयरन की भरपूर मात्रा होती है इसलिए इसे बेहतरीन लैक्टोजेनिक फूड माना जाता है यह नई मांओं में आयरन की कमी और कैल्शियम की कमी दूर करता है।

सामग्री

  • 120 ग्राम जौ का आटा
  • 1 टेबलस्पून डार्क चॉकलेट चिप्स
  • 120 ग्राम अनार के दाने
  • आधा कप ओट मिल्क

विधि

सभी सामग्रियों को मिलाकर ढंककर रातभर के लिए फ्रिज में रख दें। सुबह निकालकर एक बार फिर से मिक्स करें। यदि गाढ़ा लगे तो इसमें थोड़ा और ओट मिल्क मिक्स कर लें। आप चाहे तो इसमें पिसा हुआ फ्लैक्सीड भी मिक्स कर सकते हैं। इससे भी ब्रेस्ट मिल्क प्रोडक्शन बढ़ता है।

यह भी पढ़ें- जानिए शिशु को स्तनपान या बोतल से दूध पिलाने के फायदे और नुकसान  

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके में शामिल है हेल्दी बाइट्स

बिजी वर्किंग मॉम्स के लिए यह बेस्ट रेसिपी है, क्योंकि हेल्दी होने के साथ ही इसे बनाना बिल्कुल आसान है। लैक्टेशन बढ़ाने में फ्लैक्सीड बहुत फायदेमंद होता है।

सामग्री

  • 1 कप ओटमील
  • आधा कप पीनट बटर
  • आधा कप फ्लैक्सीड (पिसा हुआ)
  • 1 कप कद्दूकस किया हुआ नारियल
  • 1/3 कप शहद
  • आधा टीस्पून ब्रियूवर यीस्ट
  • 1 टीस्पून वनीला
  • आधा कप मिनी चॉकलेट चिप्स

विधि

इनसभी सूखी सामग्रियों जैसे- ओटमील, नारियल, चॉकलेट चिप्स, फ्लैक्सीड और ब्रियूवर यीस्ट को मिक्स कर लें। इसमें पीनट बटर, शहद और वनीला डालकर अच्छी तरह मिलाएं। फिर एक घंटे के लिए फ्रिज में रख दें। फ्रिज से निकालने के बाद इस मिश्रण से लड्डू बना लें।

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके में शामिल है मेथी सूप

महिलाओं के लिए मेथी बहुत फायदेमंद होती है। कमर दर्द दूर करने के साथ ही यह ब्रेस्ट फीड कराने वाली महिलाओं में दूध की आपूर्ती बढ़ाता है। लैक्टेशन बढ़ाने के लिए मेथी का सूप पीएं।

सामग्री

  • 1 कप ताजी मेथी की पत्तियां
  • आधा कप बारीक कटा प्याज
  • 1 बारीक कटा टमाटर
  • 3-4 लहसुन की कलियां कटी हुई
  • 2 कप पानी
  • नमक और कालीमिर्च स्वादानुसार
  • 2 टीसपून तिल का तेल

विधि

मेथी के पत्तों को धोकर काट लें। अब पैन में तेल गरम करके प्याज, लहसुन को सुनहरा होने तक भूनें। अब इसमें टमाटर डालकर कुछ देर के लिए पकाएं। कटी हुई मेथी डालकर भूनें। फिर 2 कप पानी, नमक और कालीमिर्च डालकर 15 मिनट तक धीमी आंच पर पकने दे। गरम-गरम सूप तैयार है।

यह भी पढ़ें- वर्किंग वीमेन के लिए स्तनपान कराने के 7 टिप्स

लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके में शामिल है बनाना ब्रेड

सामग्री

  • 2 टेबलस्पून फ्लैक्सीड मील
  • 4 टेबलस्पून पानी
  • ¾ कप मैदा
  • ¼ कप ओट्स
  • आधा टीस्पून नमक
  • 1 टीस्पून बेकिंग सोडा
  • 4 टेबलस्पून ब्रियूवर यीस्ट
  • 1 टीस्पून पिसी हुई मेथी
  • आधा टीस्पून पिसी हुई दालचीनी
  • आधा कप बटर (फेंटा हुआ)
  • 3 अंडे
  • 1 कप शक्कर
  • ¼ कप मैश किया केला (2-3 केले)
  • 2 टेबलस्पून दूध
  • 1 टीस्पून वनीला एक्स्ट्रैक्ट
  • आधा कप कटा हुआ अखरोट

विधि

ओवन को 350 डिग्री पर प्रीहीट करें। 10 इंच के लोफ पैन को क्रीस करें। फ्लैक्सीड मील में पानी मिलाकर अलग रख दें। अब एक बाउल में सभी सूखी सामग्रियों (नट्स को छोड़कर) मिक्स कर लें। बटर, अंडे, शक्कर, केला और दूध को मिक्सर में स्लो स्पीड में अच्छी तरह से फेंट लें। इसमें वनीला और फ्लैक्सीड मिक्स करें और एक मिनट तक मिक्सर में घुमाएं। अब केले वाले मिश्रण में धीरे धीरे मैदा मिक्स करें। ऊपर से नट्स डालें और मिश्रण को ग्रीस किए हुए पैन में डालकर ओवन में 50-60 मिनट तक बेक करें। 10 मिनट ठंडा होने दें फिर निकालें।

लैक्टेशन बढ़ाने के लिए आप ये  सारी रेसिपी ट्राई कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- ब्रेस्ट में जमे हुए दूध को ठीक करने के लिए 5 प्राकृतिक उपाय

शिशु के जन्म के बाद और छे महीने तक बच्चे को सिर्फ मां का दूध ही दिया जाता है। इस दौरान बच्चे को कोई भी अन्य पेय पदाथों का सेवन नहीं करवाया जाता है। शिशु के छे महीने के बाद ही अन्य खाद्य पदार्थ या पेय पदार्थों का सेवन करवाया जाता है। नवजात शिशु सिर्फ मां के ही दूध पर आश्रित होता है। हालांकि अगर किसी कारण शिशु को मां का दूध नहीं मिल पाता है, तो फार्मूला मिल्क बच्चे को दिया जाता है। नई मॉम को ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के इन घरेलू उपायों के साथ-साथ कुछ अन्य बातों पर भी ध्यान देना जरूरी है। इसलिए नवजात की मां को डिहाइड्रेशन से बचने के लिए समय-समय पानी पीते रहना चाहिए। महिला को यह भी ध्यान रखना चाहिए की मीठे पेय पदार्थों का सेवन कम से कम करना चाहिए। अत्यधिक मीठे पेय पदार्थों के सेवन से वजन बढ़ने की संभावना ज्यादा होती है। चाय या कॉफी का सेवन भी एक दिन में दो कप से ज्यादा नहीं करना चाहिए। पौष्टिक आहार के साथ-साथ इन छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके को अपना कर हेल्दी रहना आसान हो सकता है। जिससे सेहत से जुड़ी परेशानी मां और शिशु दोनों को ही नहीं होगी।

अगर आप लैक्टेशन बढ़ाने के घरेलू तरीके से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

स्तनपान के दौरान मां और बच्चे में कैलोरी की कितनी जरूरत होती है?

मां को हो सर्दी-जुकाम तो कैसे कराएं स्तनपान?

सिजेरियन डिलिवरी के बाद स्तनपान करवाने के टिप्स

स्तनपान में सुधार के लिए सेवन करें सिर्फ 3 हर्बल प्रोडक्ट

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

डिलिवरी का तरीका आपके स्तनपान की प्रक्रिया के साथ-साथ शिशु और मां के बीच के रिश्ते पर भी असर डालता है। इस बारे में विस्तार से चर्चा कर रही हैं हमारी चाइल्डबर्थ एजुकेटर Divya Deswal… How do Different Birthing Practices Impact Breastfeeding and Bonding

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

ब्रेस्टफीडिंग बनाम फॉर्मूला फीडिंग: क्या है बेहतर?

शिशु के विकास के लिए स्तनपान और फॉर्मूला मिल्क में से क्या बेहतर है, जिससे उसे पर्याप्त पोषण मिल सके। जिंदगी के शुरुआती चरण में शिशु को अगर पर्याप्त पोषण मिलता है, तो वह जिंदगीभर कई बीमारियों व संक्रमणों से दूर रहता है। Breastfeeding vs Formula Feeding

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

जानिए शिशु के जन्म के बाद पहले महीने में उसकी देखभाल कैसे करनी चाहिए और उसके पोषण और जरूरी टीके के बारे में किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? इस बारे में बता रहे हैं नवजात रोग विशेषज्ञ। How to Care for your Newborn during the First Month

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन

जानिए कि ब्रेस्टफीडिंग करवा रही महिला को किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन क्या है? इसके अलावा, बच्चे के जन्म के बाद स्किन टू स्किन कॉन्टेक्ट क्यों जरूरी है? Common Breastfeeding Problems and Relactation Induced Lactation

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Breastfeeding quiz

Quiz: स्तनपान के दौरान कैसा हो महिला का खानपान, जानने के लिए खेलें ये क्विज

के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
बच्चों के लिए ओट्स

बच्चों के लिए ओट्स, जानें यह बच्चों की सेहत के लिए कितना है फायदेमंद

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 18, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
शिशु में गैस की परेशानी

शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या से कैसे पाएं छुटकारा

डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या से कैसे पाएं छुटकारा

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें