आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को अपनाएं, हेल्दी और फिट रहते हैं बच्चे

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को अपनाएं, हेल्दी और फिट रहते हैं बच्चे

हर किसी की खाने की आदतें अलग होती है। कोई वेजिटेरियन होता है, तो कोई नॉन वेजिटेरियन। शाकाहारी वे होते हैं जो मांस और मांस से बने उत्पादों का सेवन नहीं करते हैं। शाकाहारी होने के पीछे सबके अपने-अपने कारण होते हैं। कुछ लोग इसके लिए संस्कृति और धार्मिक मुद्दों का हवाला देते हैं, तो कोई अपनी मर्जी से शाकाहारी बनता है। बहुत सारे शाकाहारी मां-बाप भी चाहते हैं कि उनके बच्चे भी नॉन वेज फूड से दूरी ही बनाकर रखें। वहीं इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि नॉन वेज फूड को खाने के बहुत सारे फायदे हैं। ये उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन के बहुत अच्छे स्त्रोत हैं।

हालांकि, आप चाहें तो अपने बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन पर भी विशेष ध्यान रखकर उनके स्वास्थ्य का ख्याल रख सकते हैं। कुछ शाकाहारी आहार भी ऐसे हैं जो नॉन वेज से ज्‍यादा पोषक तत्व से भरपूर होते हैं और शरीर में प्रोटीन की मात्रा को पूरा रखते हैं।

शाकाहारी लोगों के प्रकार (Types of vegetarians)

विभिन्न प्रकार के शाकाहारी लोग होते हैं। शाकाहारियों को निम्नलिखित समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • लैक्टो-ओवो शाकाहारीरेड मीट, फिश और पोल्ट्री को सेवन नहीं करते। डेयरी उत्पाद, अंडे, बीन्स, फलियां, दालें और नट्स से प्रोटीन प्राप्त करें।
  • लैक्टो-शाकाहारियों – डेयरी उत्पाद, बीन्स, फलियां, दालें और नट्स सेवन करने वाले।
  • वीगन्स- रेड मीट, पोल्ट्री, फिश, अंडे और डेयरी प्रोडक्ट्स को अवॉयड करते हैं। टोफू, बीन्स, फलियां, दालें, नट्स और सोया उत्पादों से प्रोटीन लेते हैं।

बच्चों को अच्छे पोषण की आवश्यकता होती है। आपके बच्चे को आवश्यक सभी पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं या नहीं इस बात को सुनिश्चित करने के लिए बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन में उन्हें ये चीजें जरूर मिलनी चाहिए :

  • नट्स, अंडे, फलियां और टोफू जैसे प्रोटीन विकल्प
  • एनीमिया को रोकने के लिए आयरन
  • विटामिन-बी 12
  • हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए विटामिन-डी और कैल्शियम
  • सही रूप में भोजन और संयोजन सुनिश्चित करने के लिए पोषक तत्वों को पचा और अवशोषित किया जा सकता है।

12 महीने तक शिशुओं के लिए स्तन का दूध एक महत्वपूर्ण भोजन होता है। अपने बच्चे को बाहर के दूध की जगह अपना दूध पिलाएं। इसके अलावा अपने डॉक्टर से बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को लेकर भी जरूर परामर्श लें।

और पढ़ें: बच्चे का इम्यून सिस्टम बढ़ाने के लिए उसे जरूर दें ये 8 फूड्स

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन में प्रोटीन है जरूरी (Protein is essential in vegetarian diet for children)

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन

मांस प्रोटीन का अच्छा स्रोत है, लेकिन अन्य खाद्य पदार्थ भी प्रोटीन का अच्छा स्रोत प्रदान कर सकते हैं। इनमें डेयरी उत्पाद, अनाज, फलियां, दालें और विभिन्न सोया खाद्य पदार्थ (जैसे टोफू, टेम्पेह और सीताफल) शामिल हैं। बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को चुनने के बावजूद भी आप उन्हें अच्छी मात्रा में प्रोटीन दे सकते हैं।

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन जिनसे उन्हें मिले उच्च ऊर्जा (Vegetarian food for kids to give them high energy)

छोटे बच्चों में उच्च ऊर्जा की जरूरत होती है। आपको अपने बच्चे के आहार में साबुत अनाज और कई प्रकार के ऊर्जा देने वाले खाद्य पदार्थों का मिश्रण शामिल करना चाहिए। ये निम्नलिखित खाद्य पदार्थों में पाए जा सकते हैं:

अनाज – सभी प्रकार के अनाज बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन में शामिल करने के लिए उपयुक्त हैं। इसमें शिशु अनाज जैसे चावल, आटा और सफेद ब्रेड जैसे शामिल हैं।

डेयरी उत्पाद – पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद सबसे आम विकल्प हैं। एक विकल्प सोया दूध भी है, जिसमे कैल्शियम होता है। सोया मिल्क में विटामिन-बी 12 भी पाया जाता है।

फल और सब्जियां – बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को चुनने के लिए हर दिन कई प्रकार के फल और सब्जियों को डायट में शामिल करें। एक गाइड के रूप में, फल के दो छोटे टुकड़े और सब्जियों के तीन छोटे टुकड़े सर्व करने का लक्ष्य रखें।

तेल – इसमें नारियल तेल, सरसों का तेल, मूंगफली का तेल शामिल हैं क्योंकि इनमें लिनोलेनिक एसिड होता है, जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्रों की कार्य के लिए महत्वपूर्ण है। तेल ऊर्जा भी प्रदान करते हैं।

और पढ़ें: स्वस्थ बच्चे के लिए हेल्दी फैटी फूड्स

छोटे बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन (Vegetarian food for toddlers)

बच्चे और छोटे बच्चे के लिए शाकाहारी भोजन के सुझाव में निम्नलिखित शामिल हैं :

दूध (Milk)

कम से कम 12 महीनों तक स्तनपान या फोर्टिफाइड शिशु फार्मूला का उपयोग जारी रखें।

अनाज, फल और सब्जियां (Whole Grain, Fruits and vegetables)

जब बच्चा छह महीने का हो जाए तो पहले ठोस पदार्थ के रूप में बेबी राइस, अनाज, फल और सब्जियों को लंबे समय तक जारी रखने पर विचार करें। फिर धीरे-धीरे शुद्ध फल और सब्जियों को खिलाना शुरू करें। अपने डॉक्टर से इस बारे में समय-समय पर सलाह लेती रहें। कुछ समय के बाद नरम पके हुए बीन्स, दाल, टोफू, दही, पनीर, अंडा, एवोकैडो, मूंगफली, अखरोट के पेस्ट या तिल के बीज का पेस्ट भी खाने में शामिल कर सकते हैं।

और पढ़ें: जब शिशु का दांत निकले तो उसे क्या खिलाएं?

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन चुनने के लिए टिप्स (Tips for choosing vegetarian food for kids)

शाकाहारी भोजन में बदलाव पर विचार करने वाले परिवार के लिए, या उन लोगों के लिए जो शाकाहारी भोजन पर बच्चे को लाना चाहते हैं, यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है:

  • बच्चों के शाकाहारी भोजन में किन खाद्य पदार्थों को ऊर्जा के रूप में प्रतिस्थापित करने की आवश्यकता है
  • प्रोटीन और विटामिन स्रोतों को टॉप-अप करने की आवश्यकता हो सकती है।
  • अपने बच्चे को विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ खाने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • कम ऊर्जा वाले शाकाहारी खाद्य पदार्थों, जैसे सब्जियां, उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों के साथ मिलाएं।
  • अखरोट बटर, एवोकैडो, पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पादों, वसा के प्रसार और तेलों के उपयोग से भोजन के ऊर्जा मूल्य में वृद्धि करें।
  • अपने बच्चे को नियमित भोजन और नाश्ता दें।
  • बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन को चुनते समय आप योगर्ट को रोजाना के खाने में शामिल किया जा सकता है। योगर्ट कैल्शियम का अच्छा सोर्स होता है। अगर आपके बच्चे को दूध पसंद नहीं है, तो प्रोटीन से भरपूर योगर्ट उनके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है।

बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन चुनने के लिए विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थों को उन खाद्य पदार्थों के साथ मिलाएं जो आयरन के गुणों में उच्च हैं। उदाहरण के लिए, टोस्ट पर बेक्ड बीन्स के साथ एक नारंगी का होना सोने पर सुहागा होगा। विटामिन-सी आयरन के अवशोषण को बढ़ाता है।

यदि आप अपने बच्चे को शाकाहारी आहार पर रखने जा रहे हैं, तो संतुलित आहार और पूरक आहार के बारे में सलाह के लिए स्वास्थ्य पेशेवर को मिलकर बात करना एक अच्छा विकल्प होगा।

और पढ़ें: नेसोफेरिंजियल कैंसर डायट कैसी होनी चाहिए?

उम्मीद करते हैं कि आपको बच्चों के लिए शाकाहारी भोजन से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बेबी वैक्सीन शेड्यूलर

इम्यूनाइजेशन शेड्यूल का इस्तेमाल यह जानने के लिए करें कि आपके बच्चे को कब और किन टीकों की आवश्यकता है

आपके बेबी का जेंडर क्या है?

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Nikhil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/07/2021 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड