home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखने से हो सकते हैं कई फायदे, इन 5 मूवीज को न करें मिस

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखने से हो सकते हैं कई फायदे, इन 5 मूवीज को न करें मिस

प्रेग्नेंसी पीरियड हर महिला के लिए बहुत खास होता है। हार्मोनल बदलाव की वजह से शारीरिक और भावनात्मक बदलाव तो होते ही हैं, बावजूद इसके हर महिला इस समय को एंजॉय करना चाहती हैं। अपने प्रेग्नेंसी पीरियड को खास बनाने के लिए आप प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देख सकती हैं, जो मनोरंजन करने के साथ ही कुछ प्रेरक और सकारात्मक बातें भी सिखाती हैं।

कुछ फिल्में ऐसी होती हैं जो हमें जीवन जीना सिखाती है, मुश्किलों से लड़ना और हमेशा पॉजिटिव रहने का संदेश देती हैं। इसिलए प्रेग्नेंट महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में जरूर देखनी चाहिए। प्रेग्नेंसी के दौरान कौन सी फिल्में देखें चलिए हम आपको बताते हैं।

यह भी पढ़ें- क्या सिजेरियन के बाद व्यायाम किया जा सकता है?

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में जो हर प्रेग्नेंट महिला को देखनी चाहिए

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें और ‘तारे जमीन पर’ को लिस्ट में पहले नंबर पर रखें

मनोरंजन के साथ ही सामाजिक मुद्दे को गंभीरता से उठाती यह फिल्म डिस्लेक्सिया बीमारी से पीड़ित बच्चों का संघर्ष दिखाती है। इस बीमारी से पीड़ित बच्चों के दिमाग में क्या चलता है, क्यों वह सामान्य एक्टिविटीज में बाकी बच्चों से पीछे होने के बावजूद खास होते हैं यह फिल्म में दिखाया गया है। फिल्म में बीमारी से पीड़ित बच्चे के अंदर की प्रतिभा को एक आर्ट टीचर पहचानता है और उसे निखारता है। यह फिल्म हर पैरेंट्स के लिए एक सीख है कि बच्चों का सिर्फ एकेडमिक परफॉर्मेंस ही मायने नहीं रखता, बल्कि उसके अंदर छुपी प्रतिभा को पहचानना और निखारना अधिक महत्वपूर्ण है।

दरअसल, आजकल के पैरेंट्स बच्चों पर मार्क्स के लिए जरूरत से ज्यादा दबाव डालते हैं जिसके चलते उनके अंदर छुपी दूसरी प्रतिभा उभर ही नहीं पाती। पैरेंट्स को यह समझना होगा कि हर बच्चा अलग होता है, कोई मैथ्स में मास्टर होता है , तो कोई आर्ट में, ऐसे में अपने बच्चे के इंटरेस्ट और प्रतिभा को पहचानकर ही उसे प्रेरित करें। चूंकि आप भी पैरेंट बनने जा रही हैं तो यह फिल्म जरूर देखें।

यह भी पढ़ें- सेकेंड बेबी प्लानिंग के पहले इन 5 बातों का जानना है जरूरी

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें और ‘कहानी’ को जरूर देखें

एक ताकतवर गर्भवती महिला के किरदार में विद्या बालन ने अपनी अदाकारी से जान डाल दी। फिल्म में विद्या बालन ने एक गर्भवती महिला का किरदार निभाया है जो अपने गुमशुदा पति की तलाश में दिन रात एक कर देती है और प्रेग्नेंट होने के बावजूद किसी तरह की मुश्किल और चुनौतियों से घबराती नहीं है। प्रेग्नेंट होने के बावजूद पति को ढूंढ़ने के लिए वह शहर के हर गली-कूचे की खाक छानती हैं। हालांकि, बाद में फिल्म की कहानी के अंत में सस्पेंस का पता चलता है कि वह प्रेग्नेंट नहीं थी।

प्रेग्नेंट महिला को यह फिल्म अवश्य देखनी चाहिए ताकि वह समझ सके कि प्रेग्नेंसी की ये मतलब नहीं है कि आप कमजोर हैं और कुछ काम करने में असमर्थ है। प्रेग्नेंसी आपको कमजोर नहीं, बल्कि सशक्त बनाती है। इसलिए इस दौरान सामान्य लोगों की तरह ही हर काम करें, खुद को कमजोर समझने की भूल न करें। करीना कपूर जैसी बॉलीवुड अभिनेत्रियां इसकी बेहतरीन मिसाल हैं कि प्रेग्नेंसी में भी किस तरह सामान्य रूप से काम किया जा सकता है, करीना प्रेग्नेंसी के अंतिम दिनों तक एक्टिव थीं। एक्टिव रहने का एक फायदा यह होता है कि आपकी नॉर्मल डिलिवरी के चांसेस अधिक रहते हैंप्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखने से आपके मन में चल रही भावनाओं की उथल-पुथल थोड़ी कम होती है।

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखना चाहते हैं तो ‘शादी के साइड इफेक्ट्स’ जरूर देखें

यह फिल्म हर कपल को भी देखनी चाहिए। यह फिल्म प्यार के साइड इफेक्ट्स का सीक्वल है, लेकिन इसका फील एकदम अलग है। यह कहानी है एक कपल सिद और तृषा की जो अपनी शादीशुदा जिंदगी से बहुत खुश है, लेकिन जब तृषा को अपनी प्रेग्नेंसी के बारे में पता चलता है, तो इस नई चुनौती को लेकर दोनों थोड़े परेशान हो जाते हैं। यहां तक कि बच्चे के जन्म के बाद भी उनकी परेशानियां खत्म नहीं होती और सिद बच्चे की परवरिश में ज्यादा मदद नहीं कर पाता।

ऐसा रियल लाइफ में भी अधिकांश पतियों के साथ होता है, बावजूद इसके सिद और तृषा की तरह उनका रिश्ता मजबूत बना रह सकता है, यदि वह अपनी छोटी-छोटी गलतियों के लिए एक-दूसरे से सॉरी कह दें। हमारे समाज में कुछ अपवादों को छोड़ दिया जाए तो बच्चे के परवरिश की जिम्मेदारी मां पर ही होती है, क्योंकि ऐसा मान लिया जाता है कि यह महिला की ही जिम्मेदारी है, जबिक ऐसा नहीं होना चाहिए। माता-पिता यदि दोनों मिलकर बच्चे की परवरिश में सहयोग करेंगे तो दोनों का रिश्ता तो गहरा होगा ही परवरिश भी अच्छी तरह होगी और बच्चे माता-पिता दोनों से समान रूप से कनेक्टेड रहेंगे। प्रेग्नेंट महिला फिल्म से खुद को कनेक्टेड पाती है। प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखने से आपका माइंड रिलैक्स रहता है।

यह भी पढ़ें- अपने बच्चे के लिए एक स्कूल का चयन करने के लिए 4 कदम

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें तो ‘माई’ को न भूलें

इस फिल्म की कहानी कुछ नई तो नहीं है, लेकिन इसमें मां बेटी के खूबसूरत रिश्ते को दिखाया गया है। एक मां जो अपनी सारी उम्र अपने बच्चों की परवरिश में बिता देती है, बुढ़ापे में उसके अपने बेटे ही उसका सहारा नहीं बनते, सिर्फ बड़ी बेटी ही उसका साथ देती है। सब बच्चे जब उसे छोड़ जाते हैं तो बड़ी बेटी मां को अपने घर लाकर उसका ख्याल रखती है। इस फिल्म में मां-बेटी के खूबसूरत रिश्ते को दिखाने के साथ ही यह भी बताने की कोशिश की गई है कि एक मां के सारे बच्चे भले ही उसके लिए सैक्रिफाइज न करें, मगर उनमें से कोई एक होता है जो हमेशा मां के साथ खड़ा रहता है।

यह भी पढ़ें- ब्रेन एक्टिविटीज से बच्चों को बनाएं क्रिएटिव, सीखेंगे जरूरी स्किल्स

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें तो इंगलिश-विंग्लिश को न भूलें

एक टिपिकल हाउसवाइफ के किरदार में इस फिल्म में श्रीदेवी ने जान डाल दी थी। फिल्म में वह ऐसी महिला के किरदार में है जिसे अंग्रेजी न आने के कारण बच्चे और पति के ताने सुनने पड़ते हैं और वह हमेशा मजाक का पात्र बन जाती है। इसलिए एक दिन वह इंग्लिश स्पीकिंग क्लास जॉइन कर लेती है ताकि अंग्रेजी सीख सके। एक साधारण हाउसवाइफ जब जीवन में कुछ करने और खुद को साबित करने की ठान लेती है तो यकीनन उसे सफलता मिलती है।

हर हाउसवाइफ के लिए जरूरी है कि परिवार के साथ ही खुद अपना और अपने सपनों का भी ख्याल रखें और खुद के लिए कुछ करने से झिझके नहीं। तो आप भी यदि अपने लिए कुछ करना चाहती हैं या अपना कोई शौक पूरा करना चाहती हैं तो बेझिझक उसे पूरा करें, आपको आत्मसंतुष्टि मिलेगी। प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में किस तरह की देखनी यह यकीनन आपको तय करना है। कॉमेडी और प्रेरणादायी फिल्में देखना अच्छा होता है।

इसके अलावा अगर आपको हॉलीवुड फिल्में देखना पसंद हैं तो आप What to Expect When You’re Expecting (2012), Away We Go (2009), Baby Mama (2008), Maybe Baby (2000), Baby Boom (1987) जैसी फिल्में देख सकती हैं।

साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें तो हॉरर मूवीज से परहेज करें क्योंकि इनकी वजह से गर्भवती महिला को स्ट्रेस हो सकता है जिसका असर हॉर्मोन चेंजेस पर होता और यह मां और गर्भ में पल रहे बच्चे को प्रभावित कर सकता है। इसी तरह प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखने के शौकीन लोगों को होम थियेटर का उपयोग कर तेज साउंउ वाली एक्शन फिल्में देखने की भी सलाह नहीं दी जाती।

प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें क्योंकि यह आपका मनोरंजन करने के साथ ही आपको रिलैक्स रखने में मदद करता है। साथ ही प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखना खाली समय में खुद को व्यस्त रखने का भी एक अच्छा तरीका है। प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखकर आप अपना अकेलापन भी दूर कर सकते हैं, बशर्ते फिल्म अच्छी होनी चाहिए। हम उम्मीद करते हैं कि प्रेग्नेंसी में फिल्में देखें विषय पर लिखा आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखना तनाव को कम कर सकता है। इसलिए प्रेग्नेंसी के दौरान फिल्में देखें और ऊपर बताई गई फिल्मों को जरूर देखें। ।

और पढ़ें:

प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे हैं तो घबराएं नहीं, अपनाएं इन घरेलू नुस्खों को

प्रेग्नेंसी के दौरान अनिद्रा (इंसोम्निया) से राहत दिला सकते हैं ये उपाय

प्रेग्नेंसी में यीस्ट इंफेक्शन के कारण और इसको दूर करने के 5 घरेलू उपचार

प्रेग्नेंसी में ब्राउन डिस्चार्ज क्यों होता है?

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/01/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड