मां के स्तनों में दूध कम आने की आखिर वजह क्या है? जाने इससे निपटने के उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

एक महिला में गर्भावस्था और डिलिवरी को लेकर कई तरह के डर होते हैं। उन्हीं में से एक है डिलिवरी के बाद ब्रेस्ट मिल्क का कम बनना। चाइल्ड बर्थ के बाद जब न्यू मदर्स ब्रेस्टफीडिंग कराना शुरू करती है तो शिशु को ठीक से ब्रेस्टफीडिंग न करा पाने का डर उसके मन में बना रहता है। लेकिन, स्तनों में दूध कम आना लगभग सिर्फ आपकी ही समस्या नहीं हैं। ऐसी बहुत-सी माएं हैं, जिन्हें ब्रेस्ट मिल्क कम बनने की समस्या का सामना करना पड़ता है। स्तनों में दूध कम आना किन वजहों से होता है, इस आर्टिकल में इस ही विषय पर ही चर्चा की गई है। साथ ही यहां लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई बढ़ाने के उपाय भी बताए गए हैं।

लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई (Low Breast Milk Supply) क्या है?

मदरहुड के शूरूआती दिनों में न्यू मॉम के स्तनों में कम दूध बनने की समस्या हो सकती है। जब मां अपने नवजात शिशु की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त दूध का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होती है, तो माना जाता है कि मां के स्तनों में दूध कम बन रहा है। ज्यादातर महिलाएं इन स्थितियों में मानती हैं कि दूध की आपूर्ति कम है:

  • निपल्स से दूध का रिसाव न होना,
  • ब्रेस्ट्स पहले से कम भरे हुए महसूस होना,
  • बच्चे को अधिक दूध की आवश्यकता होती है,
  • शिशु के नियमित फीड्स कम होना।

यह भी पढ़ें : प्रेग्रेंसी में होम फीटल डॉप्लर का इस्तेमाल करने से पहले जानें जरूरी बातें

लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई के लक्षण क्या हैं?

बच्चों में दिखने वाले कुछ लक्षणों के जरिए पता चलता है कि मां के स्तनों में दूध कम बन रहा है। इन लक्षणों में से हैं:

  • शिशु नियमित रूप से स्टूल पास नहीं करता है। दिन में लगभग 5-6 बार से कम पूप करना या लिक्विड पूप्स करना बताता है कि बच्चे को उचित मात्रा में ब्रेस्ट मिल्क नहीं मिल रहा है।
  • यदि शिशु के यूरिन का रंग गहरा पीला है तो यह स्तनों से दूध कम आने की ओर इशारा करता है। जन्म के 6 महीने तक केवल मां के दूध से ही शिशु हाइड्रेट होता है। इससे पता चलता है कि बच्चा पर्याप्त रूप से हाइड्रेट नहीं हो पा रहा है और उसे ज्यादा दूध की जरूरत है।
  • एक न्यू बॉर्न बेबी दिन में लगभग 8-10 बार टॉयलेट करता है। यदि वह इससे कम बार यूरिन पास कर रहा है, तो मतलब है कि मां के स्तनों से दूध कम आ रहा है।
  • शिशु का वजन न बढ़ना। जो शिशु सही से ब्रेस्टफीडिंग करते हैं उनका औसतन वजन एक सप्ताह में दो से तीन किलो तक बढ़ जाना चाहिए। अगर शिशु का वेट सही दर से रहा है तो हो सकता है उसे पर्याप्त ब्रेस्ट मिल्क न मिल पा रहा हो।

यह भी पढ़ें : ब्रेस्ट मिल्क में खून आने के 7 कारण, क्या आप जानते हैं?

स्तनों में दूध कम आना हो सकता है इन कारणों से

ग्लैंड्यूलर टिश्यू में कमी

कुछ महिलाओं के स्तन सामान्य रूप से (विभिन्न कारणों से) विकसित नहीं होते हैं जिसकी वजह से ब्रेस्ट्स में मिल्क डक्ट्स भी सही से विकसित नहीं हो पाती हैं। हालांकि, हर प्रेग्नेंसी के दौरान मिल्क डक्ट्स डेवलप होती हैं और स्तनपान ज्यादा नलिकाओं और टिश्यू के विकास को उत्तेजित करता है। इसलिए, दूसरी या तीसरी गर्भावस्था में लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई की समस्या कम हो सकती है। स्तनों में दूध कम आना कोई गंभीर समस्या नहीं है। इसके लिए आप डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं। पम्पिंग या ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए मेडिसिन लेने की सलाह डॉक्टर दे सकते हैं। इसके साथ ही शिशु को फॉर्मूला मिल्क भी दिया जा सकता है। हालांकि, मां का दूध बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली, दिमाग के विकास और पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सबसे बेस्ट होता है।

ब्रेस्ट सर्जरी की वजह से स्तनों में दूध कम आना

मेडिकल और कॉस्मेटिक कारणों के वजह से की गई ब्रेस्ट सर्जरी लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई का कारण बन सकती है। इससे मिल्क डक्ट्स को नुकसान पहुंच सकता है जिससे स्तनपान प्रभावित होता है। हालांकि, ब्रेस्ट सर्जरी की वजह से स्तनों में दूध कम आना कई चीजों पर निर्भर करता है जैसे सर्जरी कैसे की गई थी, सर्जरी और शिशु के जन्म के बीच कितना समय था आदि।

यह भी पढ़ें : सिजेरियन डिलिवरी के बाद स्तनपान करवाने के टिप्स

हॉर्मोनल या एंडोक्राइन समस्याओं की वजह से स्तनों में दूध कम आना

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस), लो या हाई थायरॉयड, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) या अन्य हार्मोनल प्रॉब्लम्स की वजह से गर्भधारण करना मुश्किल होता है। इन स्वास्थ्य समस्याओं का असर ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई पर भी पड़ सकता है क्योंकि दूध बनाना कुछ हॉर्मोन्स पर निर्भर करता है। इसके लिए आप अपनी हेल्थ प्रॉब्लम्स का ट्रीटमेंट सही तरीके से करवाएं। स्वास्थ्य समस्या का उपचार आपको स्तनों में दूध बनने की प्रक्रिया को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

बर्थ कंट्रोल मेथड्स के स्तनों में दूध कम आना

स्तनपान कराने वाली बहुत सी महिआएं बर्थ कंट्रोल पिल्स का सेवन करती हैं जिसकी वजह से ब्रेस्ट मिल्क प्रभावित हो सकता है। हालांकि, उनके मिल्क प्रोडक्शन में कोई बदलाव नहीं आता है। लेकिन कुछ महिलाओं में हॉर्मोनल बर्थ कंट्रोल (दवाएं, पैच या इंजेक्शन) मेथड्स से ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई में कमी आ सकती है। शिशु के चार महीने पूरे होने से पहले अगर आप गर्भ निरोधक तकनीकों का उपयोग शुरू करती हैं, तो इसकी संभावना ज्यादा रहती है।

यह भी पढ़ें : ब्रेस्ट मिल्क बाथ से शिशु को बचा सकते हैं एक्जिमा, सोरायसिस जैसी बीमारियों से, दूसरे भी हैं फायदे

स्तनों में दूध कम आना की वजह हर्ब्स

जहां मेथी जैसी जड़ी-बूटियाँ दूध की आपूर्ति को बढ़ाने में मददगार साबित होती हैं। वहीं, कुछ ऐसी भी हर्ब्स हैं जो आपके दूध की आपूर्ति को कम कर सकती हैं। पुदीना, अजवायन, लेमन बाम और अजमोद कुछ ऐसी ही हर्ब्स हैं जिनक ज्यादा मात्रा में लेने से ब्रेस्टफीडिंग के दौरान मिल्क सप्लाई कम हो सकती है।

बच्चे की सकिंग एबिलिटी

शिशु को पर्याप्त दूध न मिल पाना सिर्फ लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई नहीं बल्कि बच्चे की सकिंग एबिलिटी की वजह से भी हो सकता है। कभी-कभी शिशु का स्तनों से दूध निकालना मुश्किल हो सकता है। अगर बच्चे के मुंह के निचले हिस्से में टिशु की पतली झिल्ली बच्चे की जीभ को कसकर पकड़ लेती है,तो इस स्थिति में शिशु स्तनपान कर पाने में सक्षम नहीं होता है। इस सिचुएशन में डॉक्टर से सलाह लें। इससे बच्चे की ब्रेस्टफीडिंग करने की क्षमता में जल्दी सुधार होगा।

यह भी पढ़ें : स्तनपान में सुधार के लिए सेवन करें सिर्फ 3 हर्बल प्रोडक्ट

रात में ब्रेस्टफीडिंग न कराना

कई महिलाएं रात के समस्या में शिशु को फीडिंग नहीं करा पाती हैं जिससे ब्रेस्ट मिल्क प्रोडक्शन और सप्लाई प्रभावित होती है। दरअसल, अगर स्तनों को पूरी तरह से जल्दी खाली नहीं किया जाता है, तो दूध की आपूर्ति कम हो सकती है। स्तनों से दूध कम आना की समस्या से बचने के लिए शिशु को रात में दूध पिलाना आवश्यक है।

बर्थ मेडिकेशन

डिलिवरी के समय उपयोग की जाने वाली दवाएं, जैसे कि एपिड्यूरल एनेस्थेटिक या डेमेरोल, स्तनपान कराने की क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं। कुछ स्टडीज की माने तो इन दवाओं का प्रभाव एक महीने तक दिखाई दे सकता है। वहीं, पीलिया नवजात शिशुओं में होने वाली एक सामान्य स्थिति है। इसके चलते शिशु सामान्य से भी अधिक नींद आ सकती है, जिससे वह स्तनपान के लिए नियमित अंतराल पर उठता नहीं है। दोनों ही मामलों में, बेहतर मिल्क सप्लाई के लिए मां को ब्रेस्ट मिल्क पंप करने की आवश्यकता हो सकती है।

धूम्रपान और एल्कोहॉल

स्मोकिंग और शराब के इस्तेमाल की वजह से भी स्तनों में दूध कम आना शुरू हो सकता है। इसकी वजह ब्रेस्ट मिल्क में कमी की समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के बाद नाइट नर्स क्यों रखना जरूरी है?

मां का दूध बढ़ाने के तरीके क्या हैं?

ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के कई तरीके हैं, जिनमें से संतुलित और पौष्टिक भोजन लेना सबसे सही है। उचित डायट से स्तनों में दूध कम आना की समस्या से बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : घर में प्राकृतिक तरीके से ब्रेस्ट मिल्क कैसे बढ़ाएं?

ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने के लिए क्या खाएं?

  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सौंफ का सेवन करना चाहिए। इससे लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई को ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आप सौंफ वाली चाय भी पी सकती हैं।
  • मां का दूध बढ़ाने में कच्चा पपीता भी मदद करता है। दरअसल, इसको खाने से ऑक्सिटॉसिन का लेवल बढ़ता है, जो स्तनों में दूध बढ़ाने में मदद करता है।
  • काले तिल में कैल्शियम पाया जाता है, जो दूध बढ़ाने में हेल्प कर सकता है।
  • मेथी दाने का उपयोग दूध बढ़ाने में काफी कारगर साबित होते हैं। हालांकि, इनका स्वाद थोड़ा कड़वा लग सकता है लेकिन, ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  • लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई को दूर करने के लिए आप लहसुन का सेवन भी कर सकती हैं।
  • न्यू मदर्स के लिए शतावरी काफी फायदेमंद मानी जाती है। विटामिन-के, फाइबर और विटामिन-ए से भरपूर यह हर्ब ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने में मदद करती है।
  • जीरे की संतुलित मात्रा भी दूध बढ़ाने में आपकी हेल्प कर सकती है।
  • गाजर में विटामिन-ए, एल्फा और बीटा-कैरोटीन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इनको खाने से ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई को प्रेरित किया जा सकता है।
  • पालक को डायट में शामिल करें। इससे स्तनों में दूध बढ़ने के साथ ही खून की कमी की समस्या भी दूर होगी।

यह भी पढ़ें : बच्चे को कैसे और कब करें दूध से सॉलिड फूड पर शिफ्ट

स्तनपान के दौरान न खाएं ये चीजें

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान कॉफी, खट्टे फल, ब्रोकली, हाई- मरक्यूरी फिश, एल्कोहॉल, मसालेदार भोजन, शैलफिश आदि से दूर रहना चाहिए।

स्तनों में दूध कम आना दूर करने के प्राकृतिक तरीके क्या हैं?

  • नवजात शिशु को दिन में आठ से 10 बार ब्रेस्टफीडिंग कराएं।
  • स्ट्रेस की वजह से भी स्तनों में दूध कम बनने की समस्या हो सकती है। इससे ऑक्सीटोसिन हॉर्मोन रिलीज होने में समस्या आती है।
  • एल्कोहल और निकोटीन का सेवन करने से बचें।
  • ध्यान दें जब आप ब्रेस्टफीडिंग कराएं, दोनों ब्रेस्ट्स से स्तनपात कराएं। ऐसा करने से बॉडी में मिल्क प्रोडक्शन की जरुरत बढ़ेगी।
  • स्किन टू स्किन कॉन्टेक्ट रखें। इससे बच्चे को देर तक स्तनपान करने में आसानी मिलेगी और ज्यादा देर ब्रेस्टफीडिंग करने से ज्यादा दूध बनेगा।

यह भी पढ़ें : स्तनपान के दौरान मां और बच्चे में कैलोरी की कितनी जरूरत होती है?

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई होने पर क्या मुझे चिंता करने की आवश्यकता है?

नहीं, स्तनों में दूध कम आना एक आम समस्या है। कभी-कभी कुछ फूड्स का सेवन भी मिल्क प्रोडक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। वहीं, हॉर्मोनल असंतुलन की वजह से भी देखी जा सकती है। डॉक्टर के परामर्श और ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने वाली दवाओं के सेवन से इसे दूर किया जा सकता है।

क्या मुझे पर्याप्त ब्रेस्टफीडिंग कराने के लिए ज्यादा खाना चाहिए?

इसमें कोई दो राय नहीं है कि हेल्दी डायट मिल्क सप्लाई पर असर डालती है। ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिला को हर दिन 500 एक्स्ट्रा कैलोरी की जरूरत होती है। लेकिन इसके लिए आपको ज्यादा खाने से अधिक इस बात का ध्यान रखना है कि हेल्दी खाएं।

यह भी पढ़ें : सी-सेक्शन के दौरान आपको इस तरह से मिलती है एनेस्थीसिया, जानें इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

क्या स्तनों में दूध कम आना शिशु की सेहत को प्रभावित कर सकता है?

छह महीने तक शिशु का आहार मां का दूध ही होता है। इसकी कमी से बच्चे में विकास संबंधित समस्याएं हो सकती हैं। आमतौर पर शुरुआती दिनों में ब्रेस्ट मिल्क की कमी से मानसिक और शारीरिक विकास में बाधा आ सकती है।

क्या स्तनों की मालिश करने से दूध कम बनने की समस्या निपटा जा सकता है?

नहीं, ब्रेस्ट मसाज से मां के दूध को नहीं बढ़ाया जा सकता है। लेकिन, इससे ब्रेस्ट मिल्क निकलना थोड़ा आसान हो सकता है। साथ ही इससे स्तनों की सूजन कम होती है।

मां का दूध बेशक शिशु के लिए अमृत का काम करता है जिससे उसे उचित पोषण मिलता है। ऐसे में स्तनों में दूध कम आना मां के लिए चिंता का विषय है। इसलिए, हर मां को लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई के कारण और दूध बढ़ाने के उपाय जानना जरूरी है। हम उम्मीद करते हैं कि यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें :

डिलेड कॉर्ड क्लैंपिंग से शिशु को होने वाले लाभ क्या हैं?

मैटरनिटी लीव को एंजॉय करने के लिए अपनाएं ये मजेदार तरीके

जीवनभर रहता है प्रसूति हिंसा का एहसास, जानें क्या है यह और क्या यह आपके साथ भी हो सकता है?

कितना सामान्य है गर्भावस्था में नसों की सूजन की समस्या? कब कराना चाहिए इसका ट्रीटमेंट

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

डिलिवरी का तरीका आपके स्तनपान की प्रक्रिया के साथ-साथ शिशु और मां के बीच के रिश्ते पर भी असर डालता है। इस बारे में विस्तार से चर्चा कर रही हैं हमारी चाइल्डबर्थ एजुकेटर Divya Deswal… How do Different Birthing Practices Impact Breastfeeding and Bonding

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

ब्रेस्टफीडिंग बनाम फॉर्मूला फीडिंग: क्या है बेहतर?

शिशु के विकास के लिए स्तनपान और फॉर्मूला मिल्क में से क्या बेहतर है, जिससे उसे पर्याप्त पोषण मिल सके। जिंदगी के शुरुआती चरण में शिशु को अगर पर्याप्त पोषण मिलता है, तो वह जिंदगीभर कई बीमारियों व संक्रमणों से दूर रहता है। Breastfeeding vs Formula Feeding

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन

जानिए कि ब्रेस्टफीडिंग करवा रही महिला को किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन क्या है? इसके अलावा, बच्चे के जन्म के बाद स्किन टू स्किन कॉन्टेक्ट क्यों जरूरी है? Common Breastfeeding Problems and Relactation Induced Lactation

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

नर्सिंग मदर्स का परिवार कैसे दे उनका साथ

स्तनपान कराने वाली मां को उसके परिवार से किस तरह सपोर्ट और देखभाल मिलनी चाहिए, इस बारे में बहुत कम बात की जाती है और लोगों को जानकारी भी नहीं होती। आइए, इस वीडियो में इस विषय पर विस्तार से जानें। Family Support for Nursing Mothers

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

स्तनपान

कोरोना वायरस महामारी के दौरान न्यू मॉम के लिए ब्रेस्टफीडिंग कराने के टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन

जानें ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन क्यों है बच्चे के जीवन के लिए जरूरी?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या से कैसे पाएं छुटकारा

डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या से कैसे पाएं छुटकारा

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें