कीड़े का काटना या डंक मारना कब हो जाता है खतरनाक? क्या है बचाव का तरीका

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

आमतौर पर कीड़े का काटना या डंक मारना एक मामूली समस्या होती है। जिसके कारण थोड़े समय के लिए जलन या खुजली होती है। हालांकि, कुछ तरह के कीड़े का काटना या डंक मारना काफी दर्दनाक भी हो सकता है। यह एलर्जी और अन्य स्थितियों का भी कारण बन सकता है, जिसका प्रभाव घंटों से लेकर कुछ दिनों तक कुछ इससे भी अधिक समय के लिए रह सकता है।

यह भी पढ़ेंः अनाज में कीड़े की दवा पहुंचा सकती है कई नुकसान, इन नैचुरल तरीकों से दूर भगाएं कीड़े

कीड़े का काटना कब परेशानी की वजह बनता है?

दरअसल, कुछ कीड़े शरीर की त्वचा में सिर्फ डंक मारकर उड़ जाते हैं, जबकि कुछ कीड़े शरीर में छेद भी करते हैं और अपना पेट भरने के लिए त्वचा का एक छोटा हिस्सा भी काटकर खा जाते हैं। कीड़े-मकोड़े कई तरह के होते हैं। इनमें से कुछ फूलों-फलों पर, तो कुछ घास पर पाए जाते हैं। सामान्यता जो हानिकारक नहीं होते हैं। हालांकि, मधुमक्खी, चींटी, ततैया, बिच्छु और काले मकड़े का डंक मारना काफी खतरनाक होता है। इनके जहर का असर कई बार लोगों को बेहोश तक कर देता है। अगर ये किसी इंफेक्शन का करण तो कभी-कभी ये मौत का कारण भी बन सकते हैं।

कीड़े के काटने पर क्या लक्षण दिखाई देते हैं?

कीड़े काटने के लक्षण निम्न हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • त्वचा में सूजन होना।
  • काटे गए स्थान पर दर्द होना।
  • कीड़े के काटने वाली त्वचा का लाल होना।
  • त्वचा में खुजली होना।
  • जलन होना।
  • चकत्ते पड़ना
  • कीड़े के डंक वाली त्वचा या आस-पास की त्वचा का सुन्न होना।
  • सिहरन की अनुभूती यानी रोंगटे खड़े होना।
  • कमजोरी महसूस करना।
  • ऐंठन होना।
  • सांस फूलना।
  • उल्टी आना।
  • बहुत ज्यादा पसीना आना।
  • जी मिचलाना।

कई बार बरसाती कीड़े या जंगली कीड़े का काटना अधिक खतरनाक हो सकता है। ये सामान्य कीड़ों से अधिक जहरीले होते हैं। इनके जहर का असर शरीर में बहुत तेजी से फैल सकता है, जो शरीर को नीला कर सकते हैं। कीड़े काटने के लक्षण और क्या-क्या हो सकते हैं इसके बारे में आप अपने डॉक्टर से भी संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः बच्चों को मच्छरों या अन्य कीड़ों के डंक से ऐसे बचाएं

कीड़े का काटना किन स्थितियों में जोखिम भरा हो सकता है?

कीड़े का काटना निम्न स्थितियों में जोखिम भरा हो सकता है, नीचे बताए गए किसी भी लक्षण के महससू करने पर आपको जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिएः

  • कीड़े के काटने वाले निशान पर सूजन बहुत ज्यादा होना।
  • बड़े-बड़े फफोले होना।
  • निशान वाली त्वचा से मवाद या किसी तरह का तरल पदार्थ बहना।
  • घरघराहट या सांस लेने में कठिनाई होना।
  • मतली, उल्टी या दस्त होना।
  • दिल की धड़कन तेज होना।
  • चक्कर आना या बेहोशी महसूस करना।
  • निगलने में कठिनाई होना, डिसफैगिया की स्थिति होना।
  • बेचैनी होना।
  • बहुत ज्यादा पसीना आना।

कीड़े के प्रकार

यह भी पढ़ेंः कीड़े-मकौड़ों का डर कहलाता है एंटोमोफोबिया, कहीं आपके बच्चे को तो नहीं

क्या कीड़े का काटना किसी बीमारी का कारण बन सकता है?

आमतौर पर कीड़े का काटना सामान्य होता है। हालांकि, कुछ स्थितियों में कीड़े का काटना बीमारी का कारण भी बन सकता है, जिनमें शामिल हैंः

  • डेंगू और मलेरियाः यह डेंगू मच्छरों द्वारा होता है, जो साफ पानी में पनपते हैं। यह आकार में सामान्य मच्छरों से बड़े होते हैं। इसके अलावा मच्छरों द्वारा दूषित पानी और भोजन के कारण भी मलेरिया हो सकता है।
  • वेस्ट नाइल वायरसः वेस्ट नाइल वायरस की बीमारी भी मच्छरों द्वारा ही फैलती है।
  • जीका वायरसः यह भी मच्छरों द्वारा ही होता है।
  • पीला बुखारः पीला बुखार मच्छरों के कारण होता है, जो मनुष्यों और जानवरों दोनों में हो सकता है।
  • एक्यूट किडनी डिजीज- यह बीमारी मधुमक्खी के काटने के कारण होती है।

अगर मुझे या मेरे बच्चे को कीड़ा काटता है, तो मुझे क्या करना चाहिए?

अगर किसी को छोटे-मोटे कीड़े-मकोड़े काटते या कीड़े डंक मारते हैं, तो नीचे बताई गई प्रक्रिया को फॉलो कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • सबसे पहले काटी गई त्वचा को पहचानें।
  • अगर अभी भी वहां पर कीड़े का डंक या बाल है, तो उसे हटा दें।
  • अब प्रभावित क्षेत्र को साबुन और साफ पानी से धोएं।
  • अब कम से कम 10 मिनट के लिए प्रभावित त्वचा पर बर्फ लगाएं, इससे सूजन और दर्द दोनों में राहत मिलेगी।

कैटरपिलर के काटने पर क्या करें?

  • कैटरपिलर के बालों को हटाने के लिए चिमटी का प्रयोग करें। इसके बालों को हाथों से न छूएं, क्योंकि यह बहुत पतले और नुकीले होते हैं, जो आपको चुभ सकते हैं।
  • इसके बाद पानी का टैब चालू करें और प्रभावित हिस्से को टैब के नीचे रखें। फिर टैब चालू करके उस हिस्से को हल्के ब्रश से साफ करें। पानी के तेज प्रभाव और ब्रश की मदद से सारे बाल आसानी से साफ हो जाएंगें।
  • अगर इसके बाद भी कैटरपिलर के बाल त्वचा में हैं, तो चिपचिपे टेप या वैक्स स्ट्रेप की मदद से भी इसे साफ कर सकते हैं।
  • जब सारे बाल निकल जाएं, तो खुजली से राहत पाने के लिए आइस पैक लगाएं। आइस क्यूब के ऊपर आप अमोनिया युक्त कैलेमाइन भी लगा सकते हैं।

मधुमक्खी, ततैया या बिच्छु के काटने पर क्या करें?

आमतौर पर मधुमक्खी, ततैया या बिच्छु जैसे कीड़े का काटना काफी दर्दनाक होता है। इनके लक्षणों से बचने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैंः

  • दर्द या बेचैनी से राहत पाने के लिएः ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाएं, जैसे पेरासिटामोल या आइबूप्रोफेन का इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, ध्यान रखें कि 16 साल से कम उम्र के बच्चों को एस्पिरिन नहीं देनी चाहिए।
  • खुजली से राहत पाने के लिएः खुजली से राहत पाने के लिए क्रोटामिटोन क्रीम या लोशन, हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम या लोशन और एंटीहिस्टामाइन टैबलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सूजन से राहत पाने के लिएः प्रभावित क्षेत्र पर नियमित रूप से कोल्ड कंप्रेस या आइस पैक लगाएं या अपने डॉक्टर से एंटीहिस्टामाइन टैबलेट जैसे उपचार के बारे में जानकारी लें।

लाल-काली मकड़ी के काटने पर क्या करें?

अन्य मकड़ियों के मुकाबले लाल और काली रंग की मकड़ी का जहर अधिक विषैला होता है। इसके काटने पर प्रभावित स्थान को साफ करें और वहां पर बर्फ का टुकड़ा लगाएं। ध्यान रखें कि कभी भी किसी भी कीड़े के काटने वाले स्थान पर बैंडेज नहीं लगाते हैं।

यह भी पढ़ेंः पेट के कीड़े से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

कीड़े के काटने का उपाय:

कीड़े काटने का घरेलू उपाय क्या हैं?

कीड़ा काटने पर अपनाएं इन घरेलू उपायों को, जल्द मिलेगी राहतः

बेकिंग सोडा

मधुमक्खी या अन्य कीटों का डंक निकालने के बाद बेकिंग सोड़ा को पानी में मिलाएं और इसका गाढ़ा पेस्ट प्रभावित त्वचा पर लगाएं। इससे दर्द और सूजन में राहत मिलेगी।

नमक

पानी और नमक का गाढ़ा पेस्ट बनाएं और इसे प्रभाविक जगह पर लगाएं।

सेब का सिरका

कॉटन बॉल में सेब का सिरका भिगोएं और इसे डंक से प्रभावित त्वचा में लगाएं। अब इसे हल्का सा दवाएं। इससे डंके वाले छेद में सिरका पहुंच कर जहर के प्रभाव को कम करके दर्द से राहत दिलाता है।

नींबू का रस

आप चाहें तो प्रभावित स्थान पर नींबू का रस या सीधे नींबू का टुकड़ा भी रगड़ सकते हैं।

लहसुन

लहसुन के रस से दर्द कम किया जा सकता है। इसके लिए लहसुन के पेस्ट में लौंग का तेल मिलाएं और प्रभावित स्थान पर इसे लगाएं।

 प्याज का रस

प्रभावित त्वचा पर प्याज का टुकड़ा रगड़ें।

टूथपेस्ट

फ्लोराइड युक्ट टूथपेस्ट प्रभावित त्वचा पर लगाएं। इससे दर्द में राहत मिलेगी।

कीड़े का काटना या डंक से बचाव करने के लिए क्या करना चाहिए?

कीड़े के काटने या कीड़े के डंक से बचाव करने के लिए आप निम्न बातों का ध्यान रख सकते हैंः

  • बाहर नंगे पांव न घूमें।
  • अगर मधुमक्खियों वाले स्थान से गुजर रहे हैं, तो वहां से चुपचाप निकल जाएं। किसी तरह का शोर या हलचल न करें।
  • मीठे-महक वाले इत्र, परफ्यूम, हेयर प्रोडक्ट्स या बॉडी प्रोडक्ट्स न यूज करें।
  • फूलों के प्रिंट के साथ चमकीले रंग या कपड़े न पहनें।
  • अपने भोजन को हमेशा ढंक कर रखें।
  • खिड़कियों को बंद रखें।

हमें उम्मीद है कि कीड़े का काटना कब खतरनाक बन सकता है पर लिखा यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। कीड़े का काटना या कीड़े का डंक मारना इनसे जुड़ा अगर आपका कोई सवाल है तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है।

और पढ़ेंः-

ब्यूटी एक्सपर्ट का दिया हुआ ये मंत्रा अपना कर दें एजिंग को मात

तापसी पन्नू की खूबसूरती के ब्यूटी सीक्रेट क्या हैं?

ब्यूटी टिप्स : घर पर इस तरह बनाएं ब्लैकहेड्स मास्क

जानिए कौन-सा ब्यूटी प्रोडक्ट कब होगा एक्सपायर

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 26, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 26, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे