साइनस (Sinus) को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सर्दी-जुकाम जैसी समस्या को हम आमतौर पर सामान्य समझ लेते हैं। लेकिन, अगर आपको यह समस्या लगातार परेशान कर रही है, तो यह साइनस का लक्षण हो सकता है। साइनस संक्रमण, एलर्जी, हवा में होने वाले केमिकल्स या छोटे-छोटे कणों के कारण होता है। बरसात और सर्दियों में यह समस्या और भी अधिक बढ़ जाती है। साइनस के लक्षण हैं बंद या बहती नाक, सिर दर्द, हल्का बुखार, गले में खराश या दर्द आदि। अगर समय रहते साइनस का इलाज न किया जाए, तो यह दमा या अस्थमा रोग का रूप भी ले सकता है। कुछ दवाईयां और सावधानियां काफी हद तक आपको इस रोग से राहत दिला सकती हैं लेकिन, अगर आपको पूरा आराम चाहिए तो योगा से बेहतर और कुछ नहीं है। इसलिए साइनस के लिए योगा के बारे में जानते हैं, लेकिन उससे पहले जानते हैं कि साइनस है क्या?

साइनस के लिए योगा – साइनस (Sinus) क्या है?

साइनस नाक से संबंधित बीमारी है। हमारे स्कल में कई छेद होते हैं, जिन्हें साइनसिस कहा जाता है और बीच के दो छेद नॉस्ट्रिल के रूप सांस लेने में सहायता करते हैं। कई कारणों से साइनसिस में बलगम भरने के कारण यह बंद हो जाते हैं। इनके बंद होने के कारण रोगी को सांस न आना, नाक बंद, सिरदर्द जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन, कुछ योगासन करने से आप साइनस (sinus) जैसे रोग में भी आसानी से सांस ले सकते हैं, क्योंकि इनसे यह छेद खुल जाते हैं। साइनस का इलाज करने के लिए करें ये योगासन :

1. साइनस के लिए योगा – अनुलोम विलोम प्राणायाम

साइनस के लिए योगा

अनुलोम विलोम प्राणायाम सांस लेने की सबसे अच्छी प्रक्रिया है, जिससे नाक साफ हो जाती है। इससे साइनस की समस्या से राहत मिलती है। यही नहीं, इस योग से हमारे दिमाग तक खून का प्रवाह भी अच्छे से होता है। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी यह योगासन सहायक है।

कैसे करें?

  • अनुलोम विलोम को करने के लिए सबसे पहले किसी खुली जगह पर आरामदायक स्थिति में बैठें।
  • अपनी पीठ को सीधा रखें और आंखों को बंद रखें।
  • अब अपने दाएं हाथ के अंगूठे से नाक के दाहिने छेद को बंद करे और बाएं छेद से गहरी सांस अंदर लें।
  • इसके बाद, बाएं छेद को अपने दाएं हाथ की दो उंगलियों से बंद कर लें।
  • धीरे-धीरे दाएं हाथ के अंगूठे को अपने नाक के छेद से हटाएं और सांस को छोड़ दें।
  • इस प्रक्रिया को दोहराएं।
  • रोजाना इस योगासन को करने से आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे।

और पढ़े : फिटनेस के लिए कुछ इस तरह करें घर पर व्यायाम

2. साइनस के लिए योगा- कपालभाति

कपालभाति न केवल साइनस को ठीक करने बल्कि हमारे दिमाग के लिए भी बेहद उपयोगी है। इसे करने से हमारी श्वसन प्रक्रिया में आने वाली हर बाधा दूर होती है। इस आसन को करने से याद्दाश्त भी बढ़ती है। इसे रोजाना मात्र 10 मिनट करने से ही कई शारीरिक समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

साइनस के लिए योगा

कैसे करें

  • कपालभाति करने के लिए सबसे पहले एक आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं।
  • अपनी पीठ सीधी और आंखों को बंद कर लें।
  • अपने दाएं हाथ को दाएं घुटने और बाएं हाथ को बाएं घुटने पर रख लें।
  • अब धीरे-धीरे गहरी सांस लें।
  • अब तेजी से सांस इस तरह से बाहर छोड़े, जिससे आपके पेट की मांसपेशियां भी सिकुड़ जाएं।
  • इसी तरह से इस प्रक्रिया को दोहराएं।
  • ध्यान रखें कि इसे बहुत तेजी से न करें और बीच-बीच में आराम कर लें।

और पढ़े : वेट लॉस से लेकर जॉइंट पेन तक, जानिए क्रैब वॉकिंग के फायदे

3. साइनस के लिए योगा- पश्चिमोत्तानासन

साइनस और अनिद्रा की समस्या जैसे रोगों से राहत पाने के लिए पश्चिमोत्तानासन बेहद आसन है। यह आसन हमारी पाचन क्रिया को सही बनाए रखने के साथ-साथ तनाव से छुटकारा पाने में भी सहायक है।

साइनस के लिए योगा

कैसे करें

  • साइनस के लिए योगा के रूप में पश्चिमोत्तानासन को करने के लिए सबसे पहले सीधे बैठ जाएं और दोनों पैरों को एक सीध में फैला लें।
  • दोनों पैरों को जोड़ कर रखें और दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठा लें।
  • अब झुकें ओर अपने पैरों के अंगूठों को अपने हाथों से पकड़ने की कोशिश करें।
  • घुटनों को न मोड़ें और पैरों को भी जमीन पर ही रहने दें।
  • इस प्रक्रिया को दोहराएं।

और पढ़े : जानिए किस तरह हमारी ये 9 आदतें कर रही हैं सेहत के साथ खिलवाड़

4. साइनस के लिए योगा – हलासन

हलासन साइनस के साथ-साथ थॉयराइड रोग के लिए भी बेहद उपयोगी है। यह हमारी पाचन प्रक्रिया को दुरुस्त बनाए रखता है। इस आसन को करने के लिए थोड़ी सावधानी बरतनी आवश्यक है। यही नहीं, अगर इसे सही से न किया जाए, तो गर्दन या मांसपेशियां खिंच सकती हैं।

halasana

कैसे करें?

  • साइनस के लिए योगा के रूप में हलासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं। अपने हाथों को सीधा अपने शरीर के पास रखें।
  • अब सांस छोड़ते हुए अपने पैरों को ऊपर की तरफ सीधा ले जाएं।
  • अपने पैरों को अब पीछे की तरफ एक सीध में ले जाएं।
  • धीरे से अपने पैरों की उंगलियों को जमीन से लगाएं।
  • कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद अपनी सामान्य स्थिति में लौट आएं।

और पढ़े : वजन कम करने में फायदेमंद हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

5. साइनस के लिए योगा – उत्तानासन

सांस की बीमारियों से राहत पाने के लिए यह आसन बेहद फायदेमंद है। इससे सिर में खून का प्रवाह सही से होता है और कोशिकाओं तक ऑक्सिजन भी ठीक से पहुंचती है। इसे करना भी बेहद आसान है।

uttanasana

कैसे करें?

  • उत्तानासन करने के लिए आप बिल्कुल सीधे खड़े हो जाएं।
  • एक गहरी सांस लें और अपने दोनों हाथों को आसमान की ओर ले जाएं।
  • फिर आगे की तरफ झुक कर दोनों हाथों से जमीन को छुएं।
  • कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद अपने हाथों को फिर से ऊपर ले जाएं।
  • अपनी सांस छोड़ते हुए सामान्य स्थिति में आ जाएं।
  • ध्यान रहे कि इस दौरान आपकी कमर बिल्कुल सीधी होनी चाहिए।

यह सभी आसन साइनस (Sinus) के साथ ही अन्य रोगों को दूर करने के लिए भी फायदेमंद हैं। साइनस के लिए योगा करने के लिए इन आसनों के साथ ही सूर्य नमस्कार, धनुरासन, भुजंगासन, उत्तानासन जैसे आसन भी साइनस में लाभदायक होते हैं। कई स्थितियों में कुछ योगासनों को न करने की सलाह दी जाती है, जैसे किसी घाव या बीमारी की स्थिति में। ऐसे में अपनी मर्जी से किसी भी योगासन को न करें। यही नहीं, कुछ योगासन करने मुश्किल होते हैं और उन्हें सही से न किया जाए, तो वो दर्द या मांसपेशियों के खिंचाव का कारण बन सकते हैं। इसलिए, अगर आपको योगासन अच्छे से नहीं आते, तो उन्हें न करें या करने से पहले किसी विशेषज्ञ का मार्गदर्शन अवश्य लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

योग क्या है? स्वस्थ जीवन का मूलमंत्र योग और योगासन

योग क्या है, योग के फायदे, इसके प्रभाव, फायदे, खास योगासनों के बारे में जानकारी पाएं, What is yoga in hindi, What is yoga, Benefits of yoga.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
फिटनेस, योगा, स्वस्थ जीवन जुलाई 1, 2020 . 6 mins read

लंग्स को हेल्दी रखने में मदद कर सकती हैं ये आसान ब्रीदिंग एक्सरसाइज

हेल्दी लंग्स के लिए क्या करें? लंग्स को हेल्दी रखने के आसान तरीका है ब्रीदिंग एक्सरसाइज। आप दिन भर में कुछ सेकेंड देकर इन एक्सरसाइजेस की प्रेक्टिस कर सकते हैं। इससे भविष्य में होने वाली सांस संबंधी परेशानियों से आप बच सकेंगे।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Manjari Khare

टीवी देखते हुए भी कर सकते हैं बेस्ट एक्सरसाइज, जानिए कौन-कौन सी वर्कआउट है बेस्ट

बेस्ट एक्सरसाइज करने के लिए जिम जाने की जरूरी नहीं, टीवी देखते हुए समय निकाल करें कुछ एक्सरसाइज, जानें एक्सरसाइज टिप्स और उससे जुड़ी खास बातें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh

जिम में क्या ना करें?

फिट बॉडी के लिए लोग जिम जाते हैं, लेकिन जिम में सही तरीके से वर्कआउट करने के साथ ही कुछ गलतियों से बचना जरूरी है, तो जिम में क्या न करें आइए जानते हैं।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Kanchan Singh