Sleep Apnea: स्लीप एप्निया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अप्रैल 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) क्या है?

स्लीप एप्निया नींद विकार की समस्या है, जिसमें सोते समय सांस लेने में तकलीफ होती है। सोते समय व्यक्ति की सांस बार-बार बंद होने लगती है। इस कारण दिमाग और शरीर को पर्याप्त ऑक्सिजन भी नहीं मिल पाती है। स्लीप एप्निया के मरीजों की सांसें रात में सोते समय अटकती है इसके बारे में उन्हें खुद भी पता नहीं होता है। सोते समय सांस रुकने की प्रक्रिया कुछ सेकेंड से लेकर कुछ मिनटों तक भी रह सकती है।

यह भी पढ़ें : Eucalyptus: नीलगिरी क्या है?

किन लोगों में अधिक हो सकता है स्लीप एप्निया का जोखिम?

आमतौर पर, ओवरवेट और मोटापे की समस्या से पीड़िता लोगों में इसके होने का जोखिम अधिक हो सकता है। इसके अलावा, काफी हद तक या एक आनुवांशिक या परिवार समस्या भी हो सकती है। शोध के अनुसार नींद से जुड़ी ये परेशानी महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक होती है। कुछ बच्चे जिनको टांसिल होता है उनमें भी इस तरह की परेशानी देखी जा सकती है।

यह भी पढ़ें : Evening Primrose Oil: ईवनिंग प्रिमरोज ऑयल क्या है?

स्लीप एप्निया के प्राकर

स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) दो प्रकार के होते है:

1. ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (Obstructive Sleep Apnea)

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया, एक ऐसी बीमारी है, जिसका संबंध नींद और सांस दोनों से है। यह तब होता है, जब वायुमार्ग में ब्लॉकेज हो जाती है। इस वजह से नाक का कुछ हिस्सा या पूरी नाक जाम हो जाती है और आप मुंह से सांस लेने लगते हैं। इसलिए, आपने देखा होगा कि ज्यादातर लोग जब खर्राटे लेते हैं, तो उनका मुंह पूरा या आधा खुला होता है।

2. सेंट्रल स्लीप एप्निया (Central Sleep Apnea)

सेंट्रल स्लीप एप्निया में वायुमार्ग ब्लॉक नहीं होता है, लेकिन, इसमें आपका दिमाग मसल्स को सांस लेने का संकेत नहीं दे पाता।

स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) के लक्षण:

  • सोते समय तेज खर्राटे आना
  • नींद में बेचैनी महसूस होना
  • सोते समय दम घुटने जैसा महसूस होना या सांस आने में रुकावट आना
  • सोते समय पसीना आना और सीने में दर्द महसूस करना
  • दिन में ज्यादा सोना और दिनभर सुस्त रहना
  • सुबह उठने के बाद सिर में दर्द होना
  • भरपूर नींद के बाद भी सुस्त और थका हुआ महसूस होना
  • याद्दाश्त कमजोर होना और किसी चीज पर ध्यान न लगा पाना

आपको स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) होने का खतरा ज्यादा हो सकता है, अगर:

  • आप पुरुष हैं तो
  • आपका वजन ज्यादा है
  • आपकी उम्र 40 से ऊपर है तो
  • अगर आपकी गर्दन का साइज 17 इंच से ज्यादा है तो
  • आपको टॉन्सिल्स हैं या आपकी जुबान बड़ी है
  • आपके परिवार में किसी और को है तो

यह भी पढ़ें : खून से जुड़ी 25 आश्चर्यजनक बातें जो आप नहीं जानते होंगे

स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) के कारण और क्या हो सकता है?

स्लीप एप्निया की समस्या किसी भी व्यक्ति की शारीरिक संरचना या चिकित्सा स्थितियों के कारणों पर निर्भर कर सकती है। इनमें मोटापा, बड़े टॉन्सिल, अंतःस्रावी विकार, न्यूरोमस्कुलर विकार, हार्ट और किडनी फेलियर की समस्या, कुछ आनुवंशिक सिंड्रोम और समय से पहले जन्म होने जैसे कारण भी शामिल हो सकते हैं।

इसके अलावा निम्न स्थितियां भी इसका कारण बन सकती हैं, जिनमें शामिल हैंः

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • हार्ट अटैक
  • डायबिटीज
  • डिप्रेशन
  • ADHD का और बिगड़ना
  • सिर दर्द
  • मोटापाः मोटापे की समस्या इसके सबसे सामान्य कारणों में से एक हो सकता है। आमतौर पर वयस्क लोगों में मोटापे के कारण स्लीप एप्निया की समस्या सबसे अधिक देखी जाती है। इस स्थिति वाले लोगों के गर्दन में फैट बढञने लगता है जिसके कारण सोते समय उनका ऊपरी वायुमार्ग ब्लॉक हो जाता है।
  • जेनेटिक सिंड्रोमः आनुवंशिक सिंड्रोम चेहरे या ब्रेन की संरचना को प्रभावित करते हैं, विशेष रूप से ऐसे सिंड्रोम जो चेहरे की छोटी हड्डियों का कारण बनते हैं या जीभ के छोटे होने का कारण बनते हैं। इन आनुवांशिक सिंड्रोमों में
  • हार्ट और किडनी फेलियरः ऐसे लोग जिन्हें हार्ट या किडनी फेलियर की समस्या होती है, उनमें भी इसका खतरा सबसे अधिक देखा जा सकता है। ऐसे लोगों की गर्दन में एक तरल पदार्थ जमा होने लगता है, जो वायुमार्ग के ऊपरी पथ को ब्लॉक कर देता है और इस समस्या को जन्म देता है।
  • समय से पहले जन्म होनाः ऐसे शिशु जिनका जन्म प्रेग्नेंसी के 37वें सप्ताह से पहले हुआ होता है, उनमें भी इसका खतरा सबसे अधिक देखा जाता है। इसके कारण बच्चे के ब्रेन के विकास में भी बाधा आ सकती है।
  • न्यूरोमस्कुलर स्थितिः न्यूरोमस्कुलर स्थिति होने पर हमारा ब्रेन पर वायुमार्ग और सीने की मांसपेशियों तक संदेशों को पहुंचाने में असमर्थ हो जाता है, जिसके कारण स्लीप एप्निया का जोखिम बढ़ जाता है। इनमें से कुछ स्थितियां हैं स्ट्रोक, एमियोट्रोफिक लेटरल स्केलेरोसिस, मायोटोनिक डिस्ट्रोफी, पोस्ट-पोलियो सिंड्रोम, डर्माटोमायोसाइटिस, मायस्थेनिया ग्रेविस और लैम्बर्ट-ईटेट मायस्थेनिक सिंड्रोम जैसी स्वास्थ्य स्थितियों का भी कारण बन सकती हैं।

स्लीप एप्निया (Sleep Apnea) का इलाज कैसे कर सकते हैं?

स्लीप एप्निया का इलाज करने के लिए आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना जरूरी है। इसके लिए नीचे बताए गए बदलाव लाएं :

  • वजन कम करें
  • नशीले पदार्थों के सेवन से बचें
  • सोने का तरीका बदलें
  • धूम्रपान बंद करें
  • अपनी पीठ के बल न सोएं

यह भी पढ़ेंः Fennel Seed : सौंफ क्या है?

स्लीप एप्निया का निदान कैसे किया जाता है?

स्लीप एप्रिया का निदान करने के लिए नींद विशेषज्ञ व्यक्ति के सोने के पैटर्न और प्रक्रिया को समझने के लिए उसके नींद का आंकलन करते हैं। सोते समय व्यक्ति की सांस कितनी तेज या कितनी धीमी होती है इसकी जांच करते हैं। साथ ही, सोते समय कितनी देर के लिए कितनी बार व्यक्ति की सांसें रुकती है इसका भी अध्ययन करते हैं। इसके साथ ही, इस दौरान नींद विशेषज्ञ यह भी निर्धारित करते हैं कि इन घटनाओं के दौरान व्यक्ति के रक्त में ऑक्सीजन का स्तर कम होता है या नहीं।

स्लीप एप्निया का उपचार कैसे किया जा सकता है?

नींद से जुड़ी इस विकार का उपचार करने के लिए कंटीन्यूअस पॉजिटिव एयर प्रेशर (सीपीएपी) के उपचार के साथ-साथ जीवनशैली में भी उचित परिवर्तन करने की आवश्यकता होती है। अगर इस नींद विकार की समस्या लंबे समय तक बनी रहती है, तो यह हार्ट अटैक, ग्लूकोमा, डायबिटीज (मधुमेह), कैंसर और संज्ञानात्मक और व्यवहार संबंधी विकार जैसी गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों के होने का जोखिम भी बन सकता है।

स्लीप एप्निया की समस्या को समझें और ऊपर बताई गई बातों को ध्यान रखें। अगर आप इसे एक आम समस्या समझ के नजरअंदाज करेंगे, तो यह समस्या और बढ़ सकती है। इसलिए, जरूरी है कि इसका समय रहते इलाज करा लें। ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह लेना न भूलें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

अच्छी मेंटल हेल्थ के लिए श्रीकृष्ण से सीख सकते हैं ये बातें

MRI Test : एमआरआई टेस्ट क्या है?

सक्सेसफुल शादी के लिए क्या है बेस्ट एज गैप, स्टडी में हुआ खुलासा

Blood Smear Test: ब्लड स्मीयर टेस्ट क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Coronavirus Lockdown : क्या कोरोना के डर ने आपकी रातों की नींद चुरा ली है, ये उपाय आ सकते हैं आपके काम

    महामारी में अनिद्रा की समस्या ज्यादातर लोगों को सता रही है। महामारी के कारण लोगों में अधिक चिंता बढ़ गई है जिसके कारण नींद न आने की समस्या हो रही है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    स्लीप, स्वस्थ जीवन अप्रैल 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Testosterone Deficiency: टेस्टोस्टेरोन क्या है?

    जानिए स्टोस्टेरोन की कमी क्या है in hindi, स्टोस्टेरोन की कमी के कारण और लक्षण क्या है, Testosterone deficiency के लिए क्या उपचार है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Quiz: मेडिटेशन के बारे में सब कुछ जानने के लिए खेलें मेडिटेशन क्विज

    मेडिटेशन के लाभ, ध्यान लगाने सा सही समय, ध्यान लगाने का तरीका, meditation benefits in hindi, मेडिटेशन के बारे में, ध्यान ...

    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    क्विज फ़रवरी 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Quiz : बच्चों की नींद के लिए क्या है जरूरी?

    बच्चों को अच्छी नींद ऐसे में माता-पिता क्या करें?

    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    क्विज फ़रवरी 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    पेडिक्लोरील

    Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

    बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न

    महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न क्यों होते हैं अलग?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    स्लीप हिप्नोसिस

    क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें