home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जब मुझे लगा मैं मोटा होने लगा हूं...एक फैसले ने फिर बदल दी जिंदगी

जब मुझे लगा मैं मोटा होने लगा हूं...एक फैसले ने फिर बदल दी जिंदगी

हमें उम्मीद है कि आपको सीरीज की अब फैट को कहें ‘बाय’और फिटनेस को कहें ‘हाय’ #FatSeFitnessTak फैट से फिटनेस तक से जरूर प्रेरणा मिली होगी। फैट से फिटनेस सीरीज को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपके लिए दूसरी कड़ी लाए हैं। ये स्टोरी केवल वजन को कम करने के लिए नहीं है, बल्कि खुद को हेल्दी रखने के लिए है। कुछ लोगों के मन में शंका रहती है कि वो इंसान पतला है तो स्वस्थ्य होगा, या फिर वो इंसान मोटा है तो बीमार होगा। यकीन मानिए, ऐसा कुछ भी नहीं होता है। आपका साइज इस ओर बिल्कुल इशारा नहीं करता है कि आप पतले हैं या फिर मोटे। हैलो स्वास्थ्य की डॉ. श्रुति श्रीधर ने रोहित अयंगर से बात कर ऐसी कहानी सामने लाई जो इस बात का जीता जागता उदाहरण हैं। रोहित की लाइफ स्टाइल आपको फिट रहने के लिए मोटिवेट कर सकती है।

ऊंचाई: 183 सेमी

अधिकतम वेट: 86 kg

वजन कम किया: 8 kg

वजन कम करने का समय: 2 महीने

अब फैट को कहें ‘बाय’और फिटनेस को कहें ‘हाय’

अपने बारे में बताएं ?

” मैं रोहित अयंगर हूं। मेरी उम्र 30 साल है। मैं अमेरिका में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हूं। मुझे टेक्नोलॉजी और इलेक्ट्राॅनिक्स के बारे में जानकारी रखना अच्छा लगता है। हूं, मुझे स्पोर्ट्स के साथ ही आउटडोर करना अच्छा लगता है। साथ ही मुझे म्युजिक और एल्गोरिथमिक प्रॉब्लम्स को सॉल्व करना अच्छा लगता है”।

फैट से फिटनेस बदलाव के बारे में आपने कब सोचा ?

”मैं हमेशा से ही एक्टिव और स्लिम था। जब मैं छोटा था तो मुझे फुटबाल खेलना पसंद था। कॉलेज के टाइम में भी मैंने इसे जारी रखा। ग्रेजुएशन की स्टडी के लिए जब शहर के बाहर जाना पड़ा तो मुझे महसूस हुआ कि मेरा वजन बढ़ रहा है। बाहर का खाना मेरी आदत बन चुकी थी। और मैं खुद को ज्यादा एक्टिव फील नहीं कर रहा था। 2014 में मास्टर्स के लिए मुझे यूएसए जाना पड़ा। उस दौरान मुझे एहसास हुआ कि मेरा शरीर अब बदल चुका है। यही वो पल था जब मैंने खुद में बदलाव करने का फैसला किया”।

फैट से फिटनेस जर्नी के दौरान नाश्ते में आपने क्या बदलाव किए?

1 कटोरी अनाज / ग्रेनोला, 1 कप चाय /कॉफी, 2 प्रोटीन पैनकेक्स। कभी-कभी मैं 1 कटोरी पोहा / उपमा / 1 प्लेट ढोकला भी लेता हूं। मैंने क्रॉसफिट ओपन प्रतियोगिता के लिए अपने प्रशिक्षण से पहले 1 महीने तक इंटरमिटेंट फास्ट किया। उस 1 महीने के दौरान, दोपहर का भोजन लेता था जिसने मेरा फैट कम किया और बॉडी को भी एक्टिव फील हुआ।

मोटापा छुपाने के लिए पहनते थे ढीले कपड़े, अब दिखते हैं ऐसे

आपका दोपहर का भोजन

2 रोटी, 1 कप सब्जी, 1 कप टोफू।

आपका ईवनिंग स्नैक्स

ग्लास चाय या प्री-वर्कआउट प्रोटीन ड्रिंक

आपका डिनर

2 रोटी / 1 कप चावल, 1 कप सब्जी, 1 ग्लास प्रोटीन स्मूदी

फैट से फिटनेस के लिए आपका वर्कआउट

इंटेंस फंक्शनल फिटनेस पैटर्न: ” मैं क्रॉसफिट का अभ्यास कर रहा हूं जिसमें स्ट्रेथनिंग और कंडीशनिंग एक्सरसाइज शामिल है। स्ट्रेंथ वर्कआउट में स्क्वाट्स, डेडलिफ्ट्स, बेंच और ओलंपिक लिफ्टिंग मूवमेंट्स जैसे क्लीन, जर्क, स्नैच जैसे भारी पॉवरलिफ्टिंग मूवमेंट शामिल हैं। कंडीशनिंग में कम वजन, दौड़ना, रोइंग, बाइकिंग, बॉडीवेट मूवमेंट, जिमनास्टिक आदि के साथ कई मूवमेंट शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: कैसे करें डेडलिफ्ट (deadlift) वर्कआउट ?

प्री-वर्कआउट मील

प्रोटीन स्मूदी या एक कप चाय।

एक्सरसाइज के बाद का भोजन

एक प्रोटीन शेक जिसमें 1.5 स्कूप मट्ठा प्रोटीन, कुछ चिया, फ्लैक्स सीड्स, 1 कप बादाम का दूध और साथ ही जामुन शामिल होते हैं।

यह भी पढ़ें: पीठ को आकर्षक बनाने के लिए एक्सरसाइज

आपका पसंदीदा खाना?

पिज्जा

आपका पसंदीदा कम कैलोरी वाला भोजन?

ढोकला या इडली

आपका फैट से फिटनेस का सीक्रेट?

”आप उस एक्सरसाइज को करें जो आपको सूट करें। इस बारे में सोचे और फिर कोशिश करें। हो सकता है कि शुरुआत के 10 दिन आपको दिक्कतों का सामना करना पड़े, लेकिन बाद में स्थितियां आपके साथ होंगी”।

फैट से फिटनेस के लिए आपको प्रेरणा किससे मिलती है ?

”क्रॉसफिट कम्युनिटी, जिसने मेरा पूरा समर्थन किया। इतने सारे लोगों को डिफरेंट स्किल लेवल में एक साथ वर्कआउट करते देखना मेरे लिए अच्छा अनुभव था। मुझे यहीं से उत्साह मिला और मैंने अपने वर्कआउट को जारी रखा”।

फैट से फिटनेस होने के लिए फोकस कैसे बनाएं ?

” जिस दिन आप अपनी छोटी खुशियों को सेलीब्रेट करना सीख जाएंगे, आपका अपने काम के प्रति फोकस बढ़ जाएगा। जो भी करें, खुशी से करें। जो भी एक्सरसाइज करें, उससे संतुष्ट रहना बहुत जरूरी है”।

मोटापे के दौरान क्या मुश्किल लगा ?

” जब मैं मोटा था तो खुद को एक्टिव फील नहीं करता था। आप उसे मोटापा कह लें ये फिर अनफिटनेस। फुटबाल खेलने के दौरान मैं 30 मिनट से ज्यादा नहीं चल पाता था। जब मैं पतला था तो उस वक्त मेरे लिए सभी चीजें आसान थी”।

फैट से फिटनेस होने पर क्या बेस्ट लग रहा है ?

”अब मुझे अपने बारे में सबकुछ अच्छा लग रहा है। साल बीतने के साथ ही खुद को फिट महसूस कर रहा हूं”।

अब से 10 साल बाद आप खुद को कहां पाते हैं ?

जिन चीजों को मैं पसंद करता हूं, अभी उन्हें मैं एंजॉय कर रहा हूं। आगे भी यहीं चाहता हूं।

लोएस्ट पॉइंट क्या रहा ?

2015 में मैं 9 वीं मंजिल में सीढ़ियों से चढ़ गया। उस दौरान मेरी सांस उखड़ गयी थी। दोस्तों को लगा कि मैं तो गया। वो मेरे लिए वेक अप कॉल था।

इस जर्नी से क्या सीखा ?

रिजल्ट कभी भी तुरंत नहीं मिलता है। आपको थोड़ा इंतजार करना पड़ता है।

पाठकों के लिए सलाह

दूसरों को देखकर खाने का रवैया न बदलें। हेल्दी डायट लें और सकारात्मक सोचें। अगर फिट रहना है तो हेल्दी डायट के साथ वर्कआउट करना भी बहुत जरूरी है। खुश रहें और फिट रहें।

रोहित की जर्नी से आप भी सीखें

  • हेल्दी फूड पर ध्यान दें। सिर्फ पेट भरने के लिए न खाएं।
  • फिट रहने के लिए नियम बनाए और उसका पालन करें।
  • कहीं से सुना और डायट फॉलो करने लग गए, ऐसा बिल्कुल न करें। आहार विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं।
  • डायट के साथ-साथ कोई एक्सरसाइज करना भी बहुत जरूरी है। यह आपको वजन कम करने के साथ एक्टिव बनाने में मदद करती है।

रोहित की फैट से फिटनेस जर्नी जानने के बाद आप इतना तो जान ही गए होगे कि वजन कम करना नामुंकिन नहीं है। यदि आप भी वजन कम करना चाहते हैं तो रोहित की जर्नी से मोटिवेट हो लेकिन उससे आंख बंद करके फॉलो न करें। हर किसी की बॉडी अलग होती है। इसके लिए आप किसी विशेषज्ञ से सलाह लें। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में रोहित की फैट से फिटनेस की स्टोरी बताई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पहुंच सकते हैं। यदि आपके पास भी अपनी फैट से फिटनेस स्टोरी है तो आप हमारे साथ उसे शेयर कर सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं।

और पढ़ें:

नेचुरल रूप से घटाना है वजन तो फॉलो करें इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट, जानिए एक्सपर्ट से

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

इंडियन फूड्स से वजन घटाएं, अपनाएं ये वेट लॉस डायट चार्ट

पुश अप फिटनेस के साथ बढ़ाता है टेस्टोस्टेरॉन, जानें पुश अप्स के फायदे

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 23/09/2019
x