जानें मधुमेह के घरेलू उपाय क्या हैं?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 31, 2020
Share now

आज के इस आधुनिक परिवेश में जीवन शैली हर करवट बदल रही है। जो शरीर स्वस्थ तन और शांत मन का घर था अब वहाँ नयी-नयी बीमारियाँ दस्तक दे रहीं हैं। मधुमेह को ऐसी ही बीमारियों का मुखिया कहा जा सकता है। आधुनिक जीवनशैली में उपस्थित विसंगतियों ने मधुमेह को जन्म  दिया है। मधुमेह यानी डायबिटीज का पूर्ण रूप से उपचार नहीं किया जा सकता पर उचित सतर्कता और परहेज़ आपको मधुमेह के दुष्प्रभावों से बचा सकते हैं। एलोपैथी यानी मधुमेह के घरेलू उपाय से इससे बचा जा सकता है। वहीं दूसरी तरफ मधुमेह की दवाईयों के लम्बे प्रयोग से कई साइड-इफ़ेक्ट भी देखने को मिलते है। ऐसे में रोगी की चिंता तीन से तेरह हो जाती है। पर आज  भी ऐसे कई मधुमेह के घरेलू उपाय हैं जो आपके ‘शुगर-स्तर‘ को नियंत्रण में ला सकते हैं।     

क्या है मधुमेह और क्या है उसके प्रकार?     

जब हमारे शरीर के पैंक्रियाज में इंसुलिन का पहुँचना कम हो जाता है तो खून में ग्लूकोज का स्तर  बढ़ जाता है। इस स्थिति को मधुमेह कहा जाता है। मधुमेह हो जाने पर शरीर को भोजन से एनर्जी बनाने में कठिनाई होती है। इस स्थिति में ग्लूकोज का बढ़ा हुआ स्तर शरीर के विभिन्न अंगों को  नुकसान पहुँचाना शुरू कर देता है। इसमें वंशानुगत को टाइप-1 और अनियमित जीवनशैली की वजह से होने वाले मधुमेह को टाइप-2 श्रेणी में रखा जाता है।

यह भी पढ़ें :  Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

मधुमेह के घरेलू उपाय      

1.तांबे के बर्तन में पानी पीयें 

मधुमेह के घरेलू उपाय में सबसे पहले मधुमेह को नियंत्रित करने पर ध्यान दें। मधुमेह के घरेलू उपाय सबसे सरल और सटीक उपाय सुझाया जाता है वो है तांबे के बर्तन में पानी पीना। तांबा प्रयोग करने से कई स्वास्थ लाभ है जिसमें से एक मधुमेह नियंत्रण  है। रात को सोने से पहले तांबे के जग या ग्लास में पानी भरकर रखे और प्रातः उठकर उसे पीयें। ऐसे करने से शरीर में मधुमेह के लक्षणों का नाश होता है।     

2.स्वस्थ और पोषक आहार का सेवन करें

कार्बोहाइड्रेट युक्त खाना खाने से ही शरीर में ग्लूकोज का निर्माण होता है। मधुमेह के घरेलू उपाय कार्बोहाइड्रेट के अधिक सेवन से शरीर में शुगर का स्तर बढ़ जाता है। यदि हम कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन खाना कम कर दें इससे भी  मधुमेह के नियंत्रण में बहुत मदद मिलेगी। हमें कार्बोहाइड्रेट की जगह फाइबर युक्त भोजन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : बढ़ती उम्र और बढ़ता हुआ डायबिटीज का खतरा

3.पर्याप्त मात्रा में पानी पीए 

कई वैज्ञानिक अध्ययन में ये पाया गया है कि पानी पीने से खून में शुगर-स्तर को नियंत्रित करने  में सहायता मिलती है। यह मधुमेह के घरेलू उपाय में से एक है। इसके अलावा, पर्याप्त पानी का सेवन डीहाईड्रेशन को रोकने और मूत्र के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में किडनी की मदद भी करता है।     

4.तनाव पर करें नियंत्रण

यदि आप मधुमेह रोगी हैं तो तनाव आपके ब्लड शुगर स्तर को प्रभावित कर सकता है। जब हम तनाव में होते हैं, तो ग्लूकागन और कोर्टिसोल जैसे हॉर्मोन स्रावित होते हैं, जो बदले में, हमारे ब्लड शुगर स्तर को बढ़ाते हैं। यह कई विशेषज्ञों का सुझाव है कि तनाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका व्यायाम या नियमित रूप से ध्यान करना है। 

5. दालचीनी 

दालचीनी मधुमेह के घरेलू उपाय के लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है। यह शरीर में नुकसानदायक कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और खून में मधुमेह शर्करा (DIABETIC  शुगर) को कम करती है। चुटकी भर दालचीनी पाउडर को उबाल कर उसकी चाय बना कर पीने से डायबिटीज को नियंत्रण में रखा जा सकता है। दरअसल दालचीनी में मौजूद 11 प्रतिशत पानी, 81 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 4 प्रतिशत प्रोटीन और 1 प्रतिशत फैट शरीर के लिए लाभकारी माना जाता है। 

6. करेला

करेले को मधुमेह के घरेलू उपाय में सबसे अव्वल रखा जाता है। करेला में मौजूद पोषक तत्व रक्त में मौजूद शुगर के स्तर को कम करने की खूबी रखता है। करेला पूरे शरीर में न केवल ग्लूकोज मेटाबोलिज्म को कम करता है बल्कि यह इंसुलिन को भी बढ़ाता है। रोजाना सुबह एक गिलास करेला का जूस पीना चाहिए। इसके अलावा अपने खाने में करेले से बनी सब्जी शामिल करके आप उसके ज्यादा से ज्यादा फायदे हासिल कर सकते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार करेले के सेवन से खून भी साफ होता है। 

7. मेथी

मेथी को मधुमेह के घरेलू उपाय में बहुत इस्तेमाल किया जाता है। यह मधुमेह को नियंत्रित करने, ग्लूकोज सहनशीलता में सुधार लाने, रक्त शर्करा के स्तर को कम करने और ग्लूकोज पर निर्भर इंसुलिन के स्राव को प्रोत्साहित करने में मदद करती है। शरीर में मौजूद ग्लूकोस लेवल को कम करने के लिए 2 चम्मच मेथी के दाने रात में भिगो कर रख दें और सुबह खली पेट उस पानी को बीज के साथ पी लें। मेथी के दानों एक पाउडर बना कर उसे ठंडे या गरम पानी के अलावा दूध के साथ भी पिया जा सकता है। दरअसल इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। कुछ अध्ययन में पाया गया है कि मेथी का सेवन करने से पेट में शुगर का अवशोषण कम हो जाता है और इंसुलिन उत्तेजित हो जाती है, जिससे डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। मेथी की खास बात यह है कि यह डायबिटीज के टाइप-1 और टाइप-2 दोनों में काम आती है।

8. जामुन के बीज

जामुन के बीज पत्तियां और छाल में भी औषधीय गुण होते हैं। डायबिटीज के मरीजों के लिए इसे वरदान समान माना जाता है। जामुन के बीज भी डायबिटीज कंट्रोल करने में मददगार हैं। जामुन के बीज धो कर अच्छी तरह सूखा लें और अच्छी तरह सूख जाने पर उन्हें बारीक पीस कर पाउडर बना लें। रोजाना सुबह खाली पेट जामुन के बीजों के चूरन को गुनगुने पानी के साथ पीएं। ऐसा नियमित करने से डायबिटीज कंट्रोल में रहेगा। 

9. एलोवेरा

एलोवेरा का नाम सुनते ही हम चेहरे और बालों से जुड़ी खूबसूरती बढ़ाने का बेहतर विकल्प मान लेते हैं लेकिन, यह डायबिटीज के मरीज के लिए भी बेहद फायदेमंद माना जाता है। इसमें विटामिन सी से लेकर कई अन्य नेचुरल लैक्सेटिव पाया जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। एलोवेरा का जूस डायबिटीज के अलावा कब्ज, मसूड़ों की परेशानी और साथ ही पेट के अल्सर जैसी बीमारियों से बचाता है।

मधुमेह के घरेलू उपाय से नियंत्रित करने के लिए इन उपायों का पालन करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:

डायबिटीज के साथ बच्चे के जीवन को आसांन बनाने के टिप्स

मुंह की समस्याओं का कारण कहीं डायबिटीज तो नहीं?

Thyroid Nodules : थायरॉइड नोड्यूल क्या है?

क्या है टीबी का स्किन टेस्ट (TB Skin Test)?

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या वेजीटेरियन या वेगन लोगों को स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है?

    वेजीटेरियन लोगों में हार्ट डिजीज का खतरा कम लेकिन स्ट्रोक का जोखिम ज्यादा रहता है, क्यों। शाकाहारी आहार से खाना के फायदे और नुकसान। Vegetarian diet in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    बच्चों में डायबिटीज के लक्षण से प्रभावित होती है उसकी सोशल लाइफ

    बच्चों में डायबिटीज के कारण और लक्षण क्या हैं? बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज के उपचार क्या हैं? Diabetes in children in Hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

    ओट्स के फायदे अधिक होने के कारण इसे बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक ब्रेकफास्ट में शामिल कर सकते हैं। अस्थमा के साथ ही हार्ट अटैक के खतरे को भी ओट्स कम करता है। जानिए और क्या हैं ओट्स के फायदे ..

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi

    प्रेगनेंसी में मीठा खाने से क्या होता है? जानिए इसके नुकसान

    प्रेगनेंसी में मीठा खाना चाहिए या नहीं और शिशु पर क्या प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा शुगर की सही मात्रा क्या होनी चाहिए। Side effects of sugar in pregnancy.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi