सेक्स लाइफ पर डायबिटीज का क्या होता है प्रभाव

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 12, 2020
Share now

डायबिटीज का सेक्स लाइफ पर नकारात्मक प्रभाव

डायबिटीज सीधे तौर पर रोगी की सेक्स लाइफ को प्रभावित करता है। इसके नकारात्मक प्रभाव दैनिक जीवन में समस्या पैदा करते हैं। इसके बावजूद लोग डॉक्टर्स से खुलकर इस बारे में बात नहीं करते। साल 2010 में जर्नल ऑफ डायबिटीज केयर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, डायबिटीज होने के बावजूद 50 प्रतिशत पुरुषों और 19 प्रतिशत महिलाओं ने अपनी सेक्स लाइफ में आ रही दिक्कतों का जिक्र तक डॉक्टर से नहीं किया। ऐसे में ये बेहद जरूरी हो जाता है कि इस विषय में डॉक्टर को बेहिचक सच बताएं, जिससे आपका सही वक्त पर इलाज हो सके।

कामेच्छा में कमी

महिलाओं और पुरुषों में डायबिटीज होने के कारण कई तरह की सेक्स समस्याएं होने के साथ-साथ कामेच्छा में कमी आने लगती है।

पुरुषों में कामेच्छा की कमी

इरेक्टाइल डिसफंक्शन (erectile dysfunction)  

डायबिटीज ग्रस्त पुरुषों में इरेक्टाइल डायफंक्शन यानी सेक्स ऑर्गन में इरेक्शन की कमी देखी जाती है। रिसर्च के मुताबिक, डायबिटीज से जूझ रहे  20 से 75 प्रतिशत पुरुषों को ये समस्या होती है। वहीं, डायबिटीक पुरुषों में इरेक्टाइल डायफंक्शन होने की आशंका सामान्य पुरुषों से 2 से 3 गुना तक अधिक होती है। इसका सीधे तौर पर सेक्स लाइफ पर असर पड़ता है। 

यह भी पढ़ें : हर दिन सेक्स करना कैसे फायदेमंद है, जानिए इसके 9 वजह

रेट्रोग्रेड इजेक्युलेशन (Retrograde ejaculation) 

डायबिटीज ग्रस्त पुरुषों को रेट्रोग्रेड इजेक्युलेशन नामक समस्या भी हो सकती है। यह एक ऐसी अवस्था होती है, जिसमें वीर्य निकलने के दौरान लिंग से न निकलर ब्लैडर में चला जाता है। यह वीर्य इसके बाद यूरिन के साथ बाहर निकलता है। यह भी सीधे तौर पर सेक्स लाइफ को प्रभावित करता है। 

महिलाओं में कामेच्छा की कमी

महिलाओं में डायबिटीज की वजह से वजायना और क्लिटोरिस (Vagina & clitoris) में खून का प्रवाह ठीक तरह से नहीं होता है, जिसके वजह से सेक्स लाइफ में दिक्कत आती है। रक्त वाहिकाओं को पहुंची क्षति और हॉर्मोनल बदलाव इसके प्रमुख कारण हैं।

ऑर्गेज्म नहीं होना

डायबिटीज की वजह से महिलाएं ऑर्गेज्म यानि चरमोत्कर्ष तक नहीं पहुंच पाती हैं। हालांकि, पुरुषों के मुकाबले हर महिला को सामान्य तौर पर चरमोत्कर्ष नहीं होता है। लेकिन, डायबिटीज इसके और भी मुश्किल बना देता है।

यह भी पढ़ें : सेक्स ड्राइव बढ़ाने के लिए महिलाएं खाएं ये फूड्स

अन्य लक्षण्

दर्द

सेक्स आपको और आपके पार्टनर को सुख और आत्मसंतुष्टि प्रदान करता है। लेकिन, डायबिटीज के वजह से सेक्स के दौरान दर्द हो सकता है। डायबिटीज की वजह से महिलाएं और पुरुष दोनों ही दर्द का अहसास कर सकते हैं। डायबिटीक पुरुष के लिंग के स्कार टिशू खराब होने से इरेक्शन में तकलीफ और दर्द होता है। वहीं महिलाओं में योनि में सूखापन दर्द का प्रमुख कारण बनता है। ऐसे वक्त में लुब्रीकेशन का सहारा लिया जा सकता है। इसके अलावा डायबिटिक महिलाओं में वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन भी हो सकता है, जिस कारण सेक्स लाइफ तकलीफदेह हो सकती है।

इन टिप्स से डायबिटीज में के बावजूद सुधारें अपनी सेक्स लाइफ

डायबिटीज से इंसान के स्वास्थ्य पर काफी असर पड़ता है। साथ ही इससे लोगों के दैनिक जीवन पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। वहीं सेक्स लाइफ पर भी डायबिटीज का दुष्प्रभाव पड़ता है। ऐसे में कुछ टिप्स को अपनाकर डायबिटीज में सेक्स लाइफ को सुधारा जा सकता है।

महिलाएं अपने पीरियड साइकल को जानें

डायबिटीक महिलाओं को अपनी सेक्स लाइफ सुधारने के लिए पीरियड शुरू होने के पहले, बाद में और पीरियड्स के दौरान अपने ब्लड शुगर लेवल की जांच करते रहनी चाहिए। पिरियड्स के दौरान होने वाले हॉर्मोनल बदलाव आपकी डायबिटिज को कंट्रोल करने की कोशिश में खलल डाल सकते हैं। इसके शुगर लेवल को ट्रेक करने से अगले पीरियड साइकल में भी मदद मिलेगी। साथ ही रोजाना व्यायाम करना भी डायबिटीक महिलाओं के लिए लाभकारी साबित हो सकता है और उनकी सेक्स लाइफ सुधारने में मदद कर सकता है।

डायबिटीज के कारण इरेक्टाइल डायफंक्शन की स्थिति में क्या करें

डायबिटीज के कारण पुरुषों को इरेक्टाइल डायफंक्शन की समस्या होना बहुत आम बात है। ब्लड शुगर लेवल ठीक न होने के कारण यह समस्या होती है और इसमें नसों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान होता है। यह समस्या सीधे तौर पर पुरुषों की सेक्स लाइफ पर बुरा असर डालती है। इस समस्या में किसी डॉक्टर से सलाह लें। इसके अलावा खुद भी अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने की कोशिश करें।

डिप्रेशन से बचने की है जरूरत

डायबिटीज से जूझ रहे लोगों में डिप्रेशन की समस्या होना बहुत आम है। डायबिटीज और डिप्रेशन दोनों मिलकर आपकी सेक्स लाइफ को बर्बाद कर सकते हैं। इसके अलावा कई मामलों में देखा जाता है कि इससे लोग बहुत अधिक चिंता करने लगते हैं और साथ ही उनकी आत्मविश्वास भी काफी कम हो जाता है। एक बात और जान लें कि सेक्स लाइफ और दिमाग का सीधा कनेक्शन है। जिस तरह शरीर के हर अंग के काम करने के लिए दिमाग की जरूरत है उसी तरह सेक्स के लिए भी इसकी जरूरत होती है। ऐसे में डिप्रेशन से बचने के लिए खुद को व्यस्त रखें और हेल्दी लाइफस्टाइल को फॉलो करें। साथ ही ऐसे लोग किसी मनोचिकित्सक की भी मदद ले सकते हैं।

टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने से मिलेगी मदद

पुरुषों के टाइप 2 डायबिटीज से ग्रसित होने पर उनके अंदर टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम हो जाता है। ऐसे में इन पुरुषों में इंसुलिन रेजिस्टेंस और इंसुलिन सेंसिटिविटी प्रभावित होती है। ऐसे में यदि डायबिटीक पुरुष का वजन बढ़ा हुआ है, तो वजन कम करने से डायबिटीज और टेस्टोस्टेरोन दोनों का लेवल ठीक रखने में मदद मिलेगी। इसके अलावा हेल्दी डायट और एक्सरसाइज भी आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। इसके अलावा आप टेस्टोस्टेरोन के लेवल को ठीक रखने के लिए डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं। टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट थेरेपी भी एक अच्छा ऑप्शन साबित हो सकता है।

डायबिटीज से पीड़ित महिलाओं के लिए प्रेग्नेंसी भी कठिन समय साबित होता है। डायबिटीक महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान अपने स्वास्थ्य का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। साथ ही उन्हें समय पर डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और उसी के अनुसार अपनी डायट और लाइफस्टाइल तय करनी चाहिए।

नए संशोधन की समीक्षा डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा की गई

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेना ना भूलें।

और पढ़ें : 

सेक्स और फोरप्ले का क्या है संबंध, आपको है जानकारी ?

प्रेग्नेंसी में सेक्स: क्या आखिरी तीन महीनों में सेक्स करना हानिकारक है?

प्रेग्नेंसी में सेक्स ड्राइव को कैसे बढ़ाएं?

बच्चों को सेक्स एजुकेशन कब और कैसे दें?

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    चरम सुख के साथ ऑर्गेज्म के शारिरिक और मानसिक फायदे

    ऑर्गेज्म यानि कामोत्तेजना, सेक्स के जरिए न केवल अच्छा स्वास्थ्य पाया जा सकता है बल्कि हम मानसिक के साथ शारिरिक रूप से स्वस्थ्य रह सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh

    कामुक स्तनपान (Lactophilia) से क्या सेक्स की इच्छा प्रबल होती है? जानें इसके कारण

    कामुक स्तनपान क्या है, इरोटिक लैक्टेशन इन हिंदी, एडल्ट ब्रेस्टफीडिंग, लैक्टोफीलिया, lactophilia erotic lactation, adult lactation in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    Diabetic Retinopathy: डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?

    डायबिटिक रेटिनोपैथी (Diabetic Retinopathy) की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, डायबिटिक रेटिनोपैथी के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shilpa Khopade

    क्या वेजीटेरियन या वेगन लोगों को स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है?

    वेजीटेरियन लोगों में हार्ट डिजीज का खतरा कम लेकिन स्ट्रोक का जोखिम ज्यादा रहता है, क्यों। शाकाहारी आहार से खाना के फायदे और नुकसान। Vegetarian diet in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel