पेट दर्द (Stomach Pain) से बचने के प्राकृतिक और घरेलू उपाय

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

पेट दर्द  कई कारणों से होता है। कई बार खानपान की खराब आदतों से भी पेट की समस्या हो जाती है। घर के बाहर खाना खाने पर भी पेट की समस्या हो जाती है। स्टमक फ्लू की समस्या वायरस और बैक्टीरियां दोनों के कारण हो सकती है। जब दूषित खाना या पानी शरीर के अंदर जाता है तो ये बीमारी को जन्म देता है।

घर मौजूद चीजें करेंगी बचाव

आमतौर पर ये समस्या कुछ समय तक रहती है और फिर अपने आप सही हो जाती है। इस समस्या के लिए कोई निश्चत उपचार नहीं है। अपना चक्र पूरा करने के बाद वायरस या बैक्टीरिया समाप्त हो जाते हैं। हालांकि, पेट की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप घर पर मौजूद कुछ चीजों का सेवन कर सकते हैं, जो आपका बचाव कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : उल्टी रोकने के 8 आसान घरेलू उपाय

स्टमक फ्लू के लक्षण

  •  वॉटरी और नॉन ब्लडी डायरिया
  • पेट में ऐंठन और दर्द
  • जी मिचलाना या उल्टी
  • सिर दर्द और मांसपेशियों में दर्द की समस्या
  • हल्का बुखार आना

अपनाएं ये घरेलू उपाय

अदरक का सेवन

अदरक का सेवन पेट की समस्या से निजात दिलाता है। अदरक में मौजूद तत्व सूजन को कम करने के साथ ही डायजेशन को सही करते हैं। इससे जी मिचलाने या चक्कर आने की समस्या से भी राहत मिलती है। आप अदरक को पानी और शहद के साथ ले सकते हैं। इसे दिन में दो से तीन बार लिया जा सकता है।

तरल पेय का सेवन

स्टमक फ्लू के दौरान खाना खाने का मन बिल्कुल नहीं करता है। इस दौरान वॉमटिंग, स्वेटिंग या मोशन के थ्रू पानी का लॉस होता है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पानी के साथ ही तरल पदार्थों का सेवन करें । जितना हो सके एनर्जी ड्रिंक्स लें, ये आपके शरीर को एनर्जी देने के साथ पानी की कमी को भी पूरा करेगी। जिंगर पाउडर या जिंजर कैप्सूल का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।

पेपरमिंट

स्टमक फ्लू के दौरान कुछ खाने का मन नहीं करता है। ऐसे में पेपरमिंट के प्रयोग से आपके मुख का स्वाद बदलने के साथ ही पेट को राहत राहत मिलेगी। उबकाई से राहत दिलाने के लिए भी मिंट का प्रयोग किया जाता है। मिंट को पानी के साथ उबाल के चाय के रूप में भी लिया जा सकता है।

कैमोमाइल

कैमोमाइल का प्लांट पेट की समस्या से राहत दिलाने के लिए अच्छा उपाय है। पेट को रिलेक्सेशन देने के साथ ही इसमें एंटी इन्फामेट्री गुण होते हैं। जी मिचलाने, चक्कर आने, उबकाई की समस्या से राहत दिलाने के लिए इसका प्रयोग कर सकते हैं।

दालचीनी और हल्दी

हल्दी बहुत गुणकारी होती है। एंटीसेप्टिक गुण के कारण हल्दी का प्रयोग पेट की समस्या से राहत देगा। दालचीनी से पेट के ऐंठन की समस्या सही हो जाती है।

सेब का सिरका

जी मिचलाने की समस्या को दूर करने के लिए इसे प्रयोग किया जा सकता है।

नींबू का रस

नीबूं के रस को काले नमक के साथ लिया जा सकता है। नींबू को पानी के साथ भी ले सकते है। इससे पेट दर्द में राहत मिलेगी।

कॉफी और एल्कोहल से दूरी

चाय, कॉफी या एल्कोहल ऐसे समय में लेना आपके लिए हानिकारक हो सकता है। ये पेट की समस्या को बढ़ा देते हैं और पानी की कमी को पूरा भी नहीं करते हैं।

और पढ़ें : पेट दर्द के सामान्य कारण क्या हो सकते हैं ?

पेट की एसिडिटी को कम करने वाली इस दवा से हो सकता है कैंसर

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख अक्टूबर 3, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 3, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे