backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली): जानें हाथों में 6 उंगलियां होने का कारण

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Priyanka Srivastava द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/04/2021

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली): जानें हाथों में 6 उंगलियां होने का कारण

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) एक डिसऑर्डर है, जिसमें व्यक्ति के हाथ में पांच की जगह छह उंगलियां होती हैं। शायद आप भी कभी किसी ऐसे व्यक्ति से मिले होंगे जिनके हाथ में 6 उंगलियां होंगी। हाथ में 5 उंगलियों की जगह 6 उंगली होने पर लोग उस व्यक्ति को आश्चर्य भरी नजरों से देखते हैं। यह कोई बीमारी नहीं है, पॉलीडेक्टिली को डिसऑर्डर या एक अलग अवस्था कह सकते हैं।

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) क्यों और कैसे होती हैं?

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) की स्थिति हाथ या पैर दोनों में हो सकती है। पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) या उससे अधिक होना कोई बीमारी या बीमारी का लक्षण नहीं है। यह एक नार्मल स्थिति है जो जीन्स में भिन्नता के कारण हो जाती है। अफ्रीकी और अमेरिकी क्षेत्र में अन्य जगहों की तुलना में ऐसे लोग ज्यादा होते हैं जिनकी 6 उंगलियां होती हैं जो कि अनुवांशिक है। पॉलीडेक्टिली कभी-कभी अनुवांशिक रोगों के कारण भी हो सकती है। जिसमें एक बेकार या कम विकसित उंगली उत्पन्न हो जाती है। यह अधिकतर छोटी उंगली के बगल में होती है।  इसमें कभी-कभी हड्डी होती है और कभी नहीं। कुछ मामले तो ऐसे भी देखे गए हैं, जिनमें एक्सट्रा उंगली काम भी करती है।

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) डिसऑर्डर के कारण 

Polydactyly (pol-ee-DAK-tuh-lee) पॉलीडेक्टिली सामान्य तौर पर सबसे छोटी उंगली (pre axial) या अंगूठे (post axial) की तरफ हो सकता है। यह स्थिति बच्चे के जन्म के पहले ही हो जाती है। बच्चे के हाथ या पैर एक तरह के दस्ताने की तरह बनते हैं, जिसके बाद उंगलियां आकार लेना शुरू करती हैं। इसी दौरान हाथ में अतिरिक्त उंगली बन जाती है। बॉस्टन चिल्ड्रन हॉस्पिटल के मुताबिक यह प्रक्रिया भ्रूण के विकास के दौरान शुरू हो जाती है। सामान्यत: इस प्रॉसेस के दौरान पांच अंगुलियां निकलती हैं लेकिन अगर इस प्रॉसेस में किसी तरह की बाधा या बदलाव आता है तो छठी उंगली भी बन जाती है।

कई मामलों में पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) होने के पीछे किसी तरह की वजह नहीं होती। लेकिन कई मामलों में जेनेटिक गड़बड़ी या अनुवांशिक समस्या की वजह से ऐसा हो जाता है। निम्नलिखित डिसऑर्डर/सिंड्रोम पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) का कारण बन सकते हैं।

  • एसफिजिएटिंग थोरैसिक डिस्ट्रोफी
  • कारपेंटर सिंड्रोम
  • एलिस-वैन क्रेवेल्ड सिंड्रोम (कॉन्ड्रोएक्टोडर्मल डिस्प्लेसिया)
  • लॉरेंस-मून-बिडल सिंड्रोम
  • रुबिनस्टीन-टिब्बी सिंड्रोम
  • स्मिथ-लेमली-ओपिट्ज सिंड्रोम
  • ट्राइसॉमी

और पढ़ें : Generalized Anxiety Disorder: क्या है जेनरलाइज्ड एंग्जायटी डिसॉर्डर ? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय.

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) का उपचार क्या है?

वैसे तो 6 उंगली होने से कोई परेशानी नहीं होती है लेकिन, फिर भी अगर आपको छह उंगली नहीं चाहिए तो सर्जरी की मदद से आप इस हटवा भी सकते हैं। उसके लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखना होता है। जैसे- एक्स्ट्रा उंगली को सर्जरी से हटवाने के बाद इस बात का ध्यान रखें कि समय पर ड्रेसिंग के लिए जाएं और जरूरी दवाइयां लें। सर्जरी वाले हिस्से की जांच करवाते रहें ताकि किसी इंफेक्शन का कोई खतरा हो तो पता चल जाए।  

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) कितने लोगों को होती है?

एनसीबीआई में प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) हर हजार में से 1 बच्चे में जन्म के दौरान हो सकती है। रिसर्च में दावा किया गया कि इस विषय पर अब भी काफी कुछ अध्ययन किया जाना चाहिए लेकिन ऐसा जेनेटिक्स में बदलाव और अन्य कारणों से संभव नहीं हो पाता है।

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) से जुड़े रोचक तथ्य

  • लड़कियों के मुकाबले लड़कों में पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) ज्यादा देखी जाती है।
  • पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) सबसे ज्यादा दायीं हथेली और बाएं पैर के पंजे को प्रभावती करती है।
  • अफ्रीकन-अमेरिकन लोगों में पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) आम है। यहां हर 150 में से 1 बच्चे को पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) प्रभावती करती है।

और पढ़ें : HFMD: हाथ, पैर और मुंह की बीमारियां

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) के प्रमुख कारक जीन

नोट : यह जीन आइसोलेटेड पॉलीडेक्टिली का कारण बनते हैं।

  • GLI3
  • GLI1
  • ZNF141
  • MIPOL1
  • PITX1
  • IQCE

और पढ़ें : एक्सरसाइज के बारे में ये फैक्ट्स पढ़कर कल से ही शुरू कर देंगे कसरत

पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) 10 हजार साल पहले से अस्तित्व में

रिपोर्ट्स की मानें पॉलीडेक्टली का उल्लेख प्राचीन कला और चित्रों में पाया गया है। जो इस बात का सबूत हैं कि पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) होना हजारों सालों से जारी है। इसके बाद ये हमारे जींस के जरिए आगे बढ़ता चला गया। साइंटिस्ट्स इस विषय पर और शोध कर रहे, जिससे और नई चीजें निकलकर आएंगे।

पॉलीडेक्टिली का निदान करने के लिए उपयोग किए जाने वाले परीक्षण

छह उंगली वाले लोग हाेते हैं भाग्यशाली

ये तो हो गई साइंस की बात, लेकिन पॉलीडेक्टिली यानी छह उंगली को लेकर धार्मिक मान्यताएं भी है। ज्योतिष शास्त्र में छह उंगलियों वालों को बेहद भाग्यशाली और किस्मत वाला माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो छह उंगली वाला व्यक्ति ज्यादा बुद्धिमान और धन कमाने वाला माना जाता है। ऐसे लोग अपना काम बेहद इमानदारी और लग्न से करते हैं और जल्द सफल भी होते हैं।

और पढ़ें : तेज दिमाग का पासवर्ड है ‘दालचीनी’

तो आप पॉलीडेक्टिली (छह उंगली) के बारे में क्या सीखे?

अब तक तो आप समझ ही गए होंगे कि कुछ लोगों में 6 उंगली क्यों होती हैं? तो अगली बार अगर आप ऐसे किसी भी व्यक्ति से मिले तो उसे हैरानी भरी नजरों से न देखें।  यह स्थिति पूरी तरह से नार्मल है। यह कोई बीमारी नहीं है और इसमें परेशान होने की बात नहीं है।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr Sharayu Maknikar


Priyanka Srivastava द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/04/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement